सचमुच, एक निराला आइडिया आपकी जि़ंदगी बदल सकता है

Posted on: 24-02-2019

लगभग 35 साल पहले की बात है . एक बड़े पहाड़ के ऊपर के पठार में मेटल अयस्क के बोल्डर निकल रहे थे . उसे प्रोसेसिंग के लिये पहाड़ की तराई पर लाना था. इस ट्रांस्पोर्टेशन पर लाखों रुपये का खर्च आना था . तभी एक इंजीनियर ने आइडिया दिया कि गुरुत्वाकर्षण से यदि लुढ़काया जाये तो बिना खर्च के पत्थर नीचे गिर जायेगा. इस आइडिये को देने वाले इंजीनियर को बहुत प्रशंसा मिली . फिर एक स्लोप में चैनलनुमा स्ट्रक्चर बनाया गया . उस पर से बोल्डर लुढ़काया गया . नीचे पहुंचते पहुंचते पत्थर की रफ्तार इतनी तेज़ हो जाती थी कि नीचे लगाया गया स्टॉपर के ऊपर से उछलकर पत्थर दूर जा गिरता था . फिर तय किया गया कि चैनल का स्लोप कम करें . अब दूसरे चैनल में वे बोल्डर बीच में कहीं भी रुक जाते फिर ऊपर के पत्थर नीचे नहीं आ पाते . यह सब एक साधारण सा दिखने वाला सुपरवाइजऱ देख रहा था . उसने कहा , यदि मेरे आइडिये को माने तो यह समस्या हल हो जायेगी . सब उसकी हंसी उड़ाने लगे पर एक समझदार अधिकारी बोला, यदि कामयाब हुए तो बड़ा प्रमोशन और यदि नुकसान हुआ तो नौकरी से बरखास्त . ठीक है कह कर , उस सुपरवाइजऱ ने ज़्यादा स्लोप वाली चैनल में पहले बारीक रेत डलवाई , थोड़ी दूर बाद उसपर छोटे गोल पत्थर डलवाये फिर अंत में जिन बोल्डर को ट्रांस्पोर्ट करना था, वे डलवाये . उसके बाद उसने धीरे धीरे नीचे से रेत निकालने व सबसे ऊपर बोल्डर डालने कहा . एक समय आ गया कि बोल्डर से पूरा चैनल भर गया . अब जितने बोल्डर नीचे से निकालते उतने ऊपर डाल दिये जाते . यह सच्ची घटना मुझे एक बैलाडिला माइंस में काम करने वाले एक अंकल ने एक बहुत सफल व्यक्ति के बारे में बताई , जिनके एक आइडिये ने उनकी जि़ंदगी बदल दी . एक मिस्त्री ज़मीन से सैंकड़ों फीट ऊपर प्लास्टर करता है , दूसरा व्यक्ति नीचे से ठेकेदारी कर ज़्यादा आजीविका कमा लेता है. एक अच्छा खाना बनाने वाला व्यक्ति , किसी रेस्टॉरेंट में नौकरी करता है तो दूसरा ऐसा ही व्यक्ति सड़क किनारे ठेला लगा ज़्यादा कमा लेता है . किसी का जीवन चलाने का आइडिया एक अच्छा सेल्समैन होना होता है तो किसी का अपने परिवारिक व्यापार को जॉइन कर उद्यमी बनने का होता है . हमें यह समझना होगा कि सबसे बड़े औद्योगिक घराने भी एक दिन किसी आइडिये से शुरू हुए होंगे. साथियों, इसलिये मैं कहना चाहता हूं कि जिस आइडिये के चलने का समय आ चुका है , आज उससे शक्तिशाली क्या हो सकता है ? इसीलिये मैं सबसे आव्हान करता हूं कि आप खुलकर अपने विचारों में आये अनोखे आइडिया का उपयोग करें. शायद यही अनूठापन आपको जि़ंदगी को अद्वितीय बना दे ,मेरी शुभकामनाएं ।