बिजली बिल हाफ करने पर आज हो सकता बड़ा फैसला

Posted on: 19-01-2019

पूरब टाइम्स रायपुर। प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं का बिल हाफ करने पर आज बड़ा फैसला हो सकता है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सामने प्रदेश का ऊर्जा विभाग एक से ज्यादा तरह के प्रस्ताव रखेगा। इनमें जो प्रस्ताव मुख्यमंत्री को ठीक लगेगा,उस पर मुहर लग जाएगी। इसके बाद प्रस्ताव को कैबिनेट की बैठक में मंजूरी देकर अमल में लाया जाएगा । प्रदेश में करीब 55 लाख बिजली उपभोक्ता हैं। इनमें 45 लाख के आसपास घरेलू उपभोक्ता बीपीएल को मिलाकर हैं। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में बिजली बिल हाफ करने का वादा किया है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि यह बिजली बिल घरेलू उपभोक्ता का ही होगा। दिल्ली सरकार के साथ मप्र सरकार ऐसा पहले कर चुकी है। इन दोनों राज्यों में हालांकि चार सौ यूनिट तक की खपत करने वालों को इस योजना का लाभ मिल रहा है, लेकिन छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के घोषणापत्र में ऐसी कोई शर्त नहीं लिखी गई कि इतने तक की खपत करने वालों को ही इसका लाभ मिलेगा, लेकिन किसी भी तरह का फैसला सरकार को करना है । प्रदेश के ऊर्जा विभाग ने बिजली बिल हाफ को लेकर एक से ज्यादा प्रस्ताव बनाए हैं। विभाग को इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि दरअसल मुख्यमंत्री और कांग्रेस सरकार क्या चाहती है। विभाग ने देश के दूसरे राज्यों की तरह एक सीमा का निर्धारण भी किया है। इसमें चार से पांच सौ यूनिट तक की खपत करने वालों का बिल हाफ करने का प्रस्ताव है। इसे लेकर आंकलन किया गया है कि कितना भार पड़ेगा। इसी के साथ बिजली खपत की कोई सीमा न रखते हुए भी प्रस्ताव बना है। इसमें सरकार पर कितना भार पड़ेगा,इसका लेखा-जोखा तैयार है। इसी के साथ टैरिफ को भी कम करने का एक प्रस्ताव है। जानकारों के मुताबिक घरेलू उपभोक्ताओं के साथ गैर घरेलू और उद्योगों को भी कुछ राहत का प्रस्ताव है। इन सभी प्रस्तावों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सामने आज विभाग की समीक्षा बैठक में रखा जाएगा। इसमें से जिस प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री की सहमति मिलेगी,उसे अंतिम रूप देकर प्रस्ताव कैबिनेट में रखा जाएगा।