गुस्ताखी माफ

Posted on: 11-01-2019

टीम ऑस्ट्रेलिया ने रखी मांग , मणिशंकर अय्यर को टीम इंडिया का कोच बना दिया जाये 

ऋषभ पंत के साथ टिम पेन ने अपने ऑस्ट्रेलियाई अंदाज़ में स्लेजिंग ( भद्दे शब्द का इस्तेमाल )  करने पर , उलट ऋषभ पंत ने शतक लगा दिया . टेस्ट सीरीज़ हार से टीम ऑस्ट्रेलिया परेशान तो है ही परंतु अपनी विश्व प्रसिद्ध स्लेजिंग के फेल हो जाने से और ज़्यादा परेशान है . विराट कोहली के धुरंधरों के आगे टीम ऑस्ट्रेलिया के समर्पण के बाद कप्तान टिम पेन और कोच जस्टिन लैंगर ऑस्ट्रेलियाई मीडिया के निशाने पर आ गए हैं। मीडिया यह कहकर आलोचना कर रहा है कि उनके खिलाड़ी पंगु हो गए हैं। स्लेजिंग करना ही भूल गए हैं। इससे अच्छा तो यह होगा कि वे क्रिकेट छोड़कर मछली पकड़ने चले जायें । इन कड़ी आलोचनाओं के बीच क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के मैनेजमेंट ने टीम के खराब प्रदर्शन के कारणों और आगामी रणनीति पर चर्चा करने के लिए आपात बैठक बुलाई। बैठक में सभी लोग इस बात पर एक राय थे कि अगर  खिलाड़ियों को तुरंत नई तरह की स्लेजिंग नहीं सिखाई गई तो आगे के वन डे मैच जीतना भी मुश्किल हो जाएगा। अब वे इस तरह की स्लेजिंग चाहते हैं जिससे टीम इंडिया पर  मानसिक दबाव बढ़ सके और जिसका वे फायदा उठा वे टीम इंडिया का प्रदर्शन खराब करवा पायें . इसके लिये  टीम ऑस्ट्रेलिया आगामी वन-डे सीरीज के लिए नये तरह के स्लेजिंग कोच नियुक्त करने जा रही है। मीटिंग में सभी ने इस बात पर सहमति जताई कि ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को तुरंत और इंडियन स्टाइल में स्लेजिंग सिखाने के लिए भारतीय नेता ही उचित रहेंगे।  इसके लिए ऑस्ट्रेलिया ने भारतीय नेताओं से संपर्क साधने का निश्चय किया । इस पोस्ट के लिए भारतीय राजनीतिक दलों के कई नेताओं पर ऑस्ट्रेलियाई मैनेजमेंट ने बातचीत की है । भारतीय राजनीति में अपनी खास पहचान रखने वाले औवेसी ने पहले ही साफ कर दिया है कि ऑस्ट्रेलियाई बंदों में उनकी स्लेजिंग सीखने का दम नहीं है। इसी तरह की बात गिरिराज सिंह ने भी कही है। जब किसी ने कांग्रेस के मणिशंकर अय्यर का नाम लिया तो उनके सूत्रों ने उन्हें  बताया कि अय्यर को  अपनी टीम की जगह टीम इंडिया का कोच बनवा दो , जिस तरह से वे अपनी स्लेजिंग से खुद की कांग्रेस को हरवाते हैं , उसी तरह टीम इंडिया को भी हरवा देंगे .

मधुर चितलांग्या, संपादक, पूरब टाइम्स, भिलाई