हाइवे गाडिय़ों के मालिकों की और भारी वाहन मालिकों की बढ़ रही समस्याऐ

Posted on: 07-08-2019

पूरब टाइम्स दुर्ग/ भिलाई। सरकार एवं कंपनियों ने 15 साल पुरानी हाइवे गाडिय़ों पर रोक लगाते हुए मालिकों की परेशानियों को बढा दिया मालिक पुरानी ट्रको के बिगडऩे व दुर्घटना होने से मिस्त्री से बनवा लिया करते थे । कंपनियों मे हाइवे गाडिय़ों को सुधारने के लिए भेज दिया जाता था । टाटा कंपनियों की नई हाइवे गाडियों (ट्रको)के आने से दुर्ग भिलाई के मालिक की परेशानिया बढ़ गई है ट्रको के मालिक ने बताया कि पहले पुरानी गाडियाँ लोहे की बनी होती थी । आज कल नई तकनीकी की गाडियाँ मे प्लास्टिक का सामान लगाया जा रहा है । जिससे कि प्लास्टिक सामान के टूटने से मिस्त्री बना नहीं सकता । टायर 5 महीने मे ही फटने लगता है। एक साल से ज्यादा की कोई भी गाडी ह्यद्गह्म्1द्बष्द्बठ्ठद्द नहीं दी जाती । कंपनियों ने हाइवे गाडिय़ों को पांच साल की वारंटी देती हैं जबकि वारंटी एक साल की भी नहीं दी जाती । मालिक का कहना है हम रोड़ टैक्स जमा कर रहे है।हमारी ट्रको के कागजात भी सही होने पर रोड़ के चौडीकरण होने से माल भरी गाड़ी को रोक दिया जाता हैं माल समय पर नहीं पहुंच ने से रास्ते में ही खराब होने लगता है हमें बहुत नुकसान होता हैं परिवहन विभाग रोड़ खराब होने पर ध्यान नहीं दे रहे हैं । ड्राइवर व हेल्पर को रोड़ की खराबी के कारण बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं।