Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



मुंबई। मुंबई की जुहू पुलिस ने 17 साल के नाबालिग चोर को गिरफ्तार किया है। पुलिस की माने तो चोर ने सोना चुराने के बाद उसे मैनहोल के ढक्कन में छिपा कर रख दिया था और खुद दोस्तों के साथ बीयर पार्टी कर रहा था। पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया तो उसके पास से 21 लाख रुपये के जेवरात बरामद हुए। यह घटना मुंबई के जुहू पुलिस स्टेशन की हद में हुई थी। नेहरू नगर इलाके में रहने वाली पूजा अपने परिवार के साथ महाबलेश्वर घूमने गई थीं लेकिन जब वे महाबलेश्वर से लौटीं तो उनके पैरों तले जमीन खिसक चुकी थी। उन्होंने देखा कि घर में रखे हुए लगभग 21 लाख रुपये के सोने के गहने गायब थे। पूजा को यह समझते देर नहीं लगी कि घर में चोरी हो चुकी है।
पूजा ने अपने नजदीकी जूहू पुलिस स्टेशन में जाकर इस मामले की एफआईआर दर्ज करवाई। इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू की। जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि पूजा के परिवार का कोई सदस्य घर पर कोई नहीं था। लिहाजा चोरी का शक आसपास के लोगों पर गया। पुलिस ने इलाके में रहने वाले आपराधिक छवि के लोगों से पूछताछ शुरू की। इस दौरान पुलिस को पता चला की एक लड़के ने दोस्तों के साथ पार्टी करने के लिए बीयर की बोतल के साथ अन्य सामान का ऑर्डर दिया था। बस यहीं से पुलिस को चोर का सुराग मिला।
पुलिस ने जब छानबीन की तो पता चला कि वह लड़का नौवीं फेल है और काम की तलाश में है। उसके पिता एक टेंपो चालक हैं। ऐसी खराब हालात में पार्टी के लिए पैसे कहां से आए? इसी बात की पूछताछ के लिए जब पुलिस ने उसे बुलाया तो उसने चोरी की बात को स्वीकार किया। पुलिस ने उसके शरीर पर चोट के निशान देखकर जब उससे कड़ाई से पूछताछ की तो उसने कहा कि नाले में उतरने की वजह से उसे चोट लग गई थी। बाद में पुलिस ने बताया गए नाले की जांच पड़ताल की तो वहां चोरी किया हुआ सोना बरामद हुआ।

नई दिल्ली। संसद का बजट सत्र जारी है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राज्यसभा में बजट चर्चा पर जवाब देते विपक्ष पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि विपक्ष में कुछ लोगों को लगातार आरोप लगाने की आदत बन गई है। इस देश के गरीबों और जरूरतमंदों की मदद के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। इसके बावजूद सरकार के खिलाफ गलत नेरेटिव बनाई गई है कि यह सरकार केवल क्रोनी कैपिटलिस्ट के लिए काम करती है।  पीएम आवास योजना के तहत 1.67 करोड़ से अधिक घर। क्या यह अमीर के लिए है? 17 अक्टूबर के बाद से प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत 2.67 से अधिक घरों का विद्युतीकरण किया गया।

सीतारमण ने अपनी भाषण के शुरुआत में कहा कि यह एक ऐसा बजट है जो स्पष्ट रूप से अनुभव, प्रशासनिक क्षमताओं और प्रधानमंत्री के लंबे निर्वाचित कार्यकाल के दौरान का एक्सपोजर को दर्शाता है। इस देश के सीएम और पीएम के तौर पर उन्हें विकास, प्रगति और सुधारों के लिए अपनी प्रतिबद्धता के लिए जाना जाता है। उन्होंने कहा कि 80 करोड़ लोगों को मुफ्त खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया। आठ करोड़ लोगों को मुफ्त में रसोई गैस उपलब्ध कराई गई थी और 40 करोड़ लोगों, किसानों, महिलाओं, दिव्यांग, गरीबों और जरूरतमंदों को सीधे नकद राशि दी गई।



सरकार ने कहा कि मामला दर्ज कर लिया गया है और मामले के संबंध में जांच शुरू कर दी गई है। ट्वीट में, स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों से सतर्क रहने का आग्रह किया और उन्हें इस तरह की धोखाधड़ी वाली वेबसाइटों से दूर रहने का आगाह किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की फर्जी वेबसाइट, मूल स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट-mohfw.gov.in जैसी दिखती है।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने भी इस बारे में जानकारी दी और लोगों को सतर्क रहने की अपील की। उन्होंने कहा कि एक नकली टीकाकरण पंजीकरण वेबसाइट का भंडाफोड़ किया गया है, जो COVID19 वैक्सीन के लिए धन एकत्र करती थी। हमारी जांच के आधार पर इसे ब्लॉक कर दिया गया है।  स्वास्थ्य मंत्रालय ने ट्वीट किया, साइट mohfw.xyz को ब्लॉक कर दिया गया है। एक मामला दर्ज किया गया है और जांच की जा रही है। कृपया सतर्क रहें। इस तरह की फर्जी वेबसाइटों के बहकावे में न आएं।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की फर्जी वेबसाइट ने लोगों को बताया था कि अब उनके पास भारत में COVID-19 टीकाकरण के लिए अपॉइंटमेंट बुक करने का विकल्प है। वही, इसी का फायदा उठाते हुए फर्जी वेबसाइट mohfw.xyz ने स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट को लागू किया और 4,000-6,000 रुपये में COVID-19 वैक्सीन की पेशकश करने का दावा किया गया।

मुंबई। मुंबई में पांच महीने की बच्ची एक ऐसी दुर्लभ बीमारी से पीड़ित है, जिसके इलाज का खर्च सुन हर कोई हैरान रह जाएगा। मुंबई के सबअर्बन अस्पताल में पांच महीने की बच्ची तीरा कामत का इलाज चल रहा है, जहां वह वेंटिलेटर पर जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रही है। तीरा कामत एसएमए टाइप 1  यानी स्पाइनल अस्ट्रोफी नामक एक दुर्बल बीमारी से जूझ रही है। इस बीमारी से ठीक होने के लिए बच्ची को एक ऐसे इंजेक्शन की जरूरत है, जिसकी कीमत 16 करोड़ रुपए है। 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इस बीमारी के इलाज में जो इंजेक्शन कारगर है, वह अमेरिका से आने वाला है। इस इंजेक्शन की कीमत 16 करोड़ बताई जा रही है। तीरा कामत के माता-पिता इतने सक्षम नहीं कि वे इतनी महंगे इंजेक्शन को खरीद सके। इसके लिए उन्होंने क्राउड फंडिंग का सहारा लिया। सोशल मीडिया पर पेज बनाकर तीरा का माता-पिता ने क्राउड फंडिंग के जरिए 14 जनवरी तक 10 करोड़ रुपये इकट्ठा कर लिए। मगर यह अब भी नाकाफी था। 

बच्ची की ट्रीटमेंट में सबसे बड़ी बात यह थी कि करीब 6.5 करोड़ टैक्स लगना था। हालांकि, भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के दखल से मोदी सरकार ने इंजेक्शन पर लगने वाले सभी टैक्स ( 23 फीसदी आयात शुल्क और 12 फीसदी जीएसटी) को माफ कर दिया, जिसकी कीमत करीब 6.5 करोड़ है। दरअसल देवेंद्र फडणवीस ने यह मामला सामने आऩे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी थी और यह गुहार लगाई थी।@GI@

 कि अमेरिका से आने वाले इस इंजेक्शन पर लगने वाले सभी टैक्स में छूट दे दी जाए। मोदी सरकार के इस कदम और लोगों की मदद की वजह से बच्ची तीरा के इलाज का रास्ता अब खुल गया है। जल्द ही अमेरिका से इंजेक्शन को मंगाया जाएगा। बताया जा रहा है कि जीन थेरेपी का उपयोग करके बच्चे का उपचार किया जाएगा। उस पर की जाने वाली सर्जरी से उसे वही जीन वापस मिल जाएगा जो उसके जन्म के दौरान गायब था।

 बच्ची के माता पिता के मुताबिक, जन्म के समय तीरा बिल्कुल स्वस्थ थी, मगर बाद में धीरे-धीरे उसकी तबीयत खराब होने लगी। स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी टाइप-1 एक दुर्लभ बीमारी है। जो बच्चे स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी टाइप-1 से पीड़ित होते हैं, उनकी मांसपेशियां कमजोर होती हैं, शरीर में पानी की कमी होने लगती है और स्तनपान करने में और सांस लेने में दिक्कत होती है। इस बीमारी बच्चा पूरी तरह से निष्क्रिय सा हो जाता है।@GI@

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में दिन में तेज धूप निकलने से लोगों को सर्दी से राहत मिली हुई है। वहीं, देश के कई हिस्सों में एक बार फिर मौसम करवट लेने वाला है। उत्तरी हिमालयी क्षेत्रों में एक बार फिर पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो गया है। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के कारण जम्‍मू कश्‍मीर से लेकर हिमाचल प्रदेश और उत्‍तराखंड के कई इलाकों में बर्फबारी और बारिश होने के आसार बने हुए हैं।

स्काई मेट के अनुसार आने वाले दिनों में देश के कई राज्यों में बेमौसम बरसात की शुरुआत होने वाली है। अनुमान जताया गया है कि 15 फरवरी के बाद मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा, झारखंड, महाराष्ट्र, तेंलगाना और तमिलनाडु में बारिश के आसार बने हुए हैं। इन सभी राज्यों में 16 से 20 फरवरी के बीच गरज के साथ  बारिश होने की संभावना बनी हुई है।

दमोह। मध्य प्रदेश में लुटेरी दुल्हन का खौफ लगातार बढ़ता जा रहा है. लोग अपने बच्चों की शादी करते समय काफी सावधानी बरतते हैं लेकिन फिर भी लुटेरी दुल्हनें उन्हें अपना शिकार बनाने में कामयाब हो जा रही हैं. इस बीच ऐसा ही एक केस मध्य प्रदेश के दमोह जिले से सामने आया है. यहां एक दुल्हन ने बहाना बनाया कि उसके जीजा की तबीयत खराब है और ससुराल से फरार हो गई। 

बता दें कि दमोह के रनेह थाना इलाके में रहने वाला एक परिवार लुटेरी दुल्हन का शिकार हो गया है. 25 नवंबर 2020 को रनेह के निवासी पुष्पेंद्र की शादी जबलपुर की प्रीति शर्मा से हुई थी. दोनों का विवाह कटनी के एक मंदिर में हुआ था. पुलिस में दर्ज की शिकायत के मुताबिक, ये शादी राज दुबे, कृष्णा दुबे और सीमा दुबे ने करवाई थी. शादी के बदले तीनों ने पुष्पेंद्र से 2 लाख रुपये भी लिए थे। 

नई दिल्ली। हरियाणवी सिंगर-डांसर सपना चौधरी की आने वाले दिनों में मुश्किलें बढ़ने जा रही हैं, उन्हें दिल्ली पुलिस के दफ्तर के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं। दरअसल, सिंगर-डांसर सपना चौधरी के खिलाफ दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने धोखाधड़ी के एक मामले में एफआईआर दर्ज की है। यह मामला किसकी शिकायत पर दर्ज किया गया है? इसकी जानकारी दिल्ली पुलिस ने मीडिया को नहीं दी है। वहीं, इस एफआईआर के बाद देश-विदेश में रहने वाले करोड़ों लोगों के दिलों की धड़कन सिंगर-डांसर सपना चौधरी को जल्द ही दिल्ली पुलिस के सवालों का सामना करना पड़ सकता है। 
दिल्ली पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, दिल्ली और हरियाणा के रहने वाले 5 लोगों ने सपना के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है। पीड़ितों का कहना है कि डांस प्रोग्राम करने के लिए सपना ने लाखों रुपये लिए, लेकिन उन्होंने आयोजन में शिरकत नहीं की। कुल मिलाकर 6 करोड़ रुपये लिए, लेकिन डांस प्रोग्राम नहीं किया। सपना चौधरी के खिलाफ मामला दर्ज कराने वालों में 3 लोग दिल्ली के हैं, जबकि 2 हरियाणा से हैं। 

बता दें कि इससे पहले 2019 में सपना चौधरी के भाई ने एक इवेंट्स ऑर्गेनाइजर पर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने सपना चौधरी की बकाया राशि को लेकर यह शिकायत दर्ज कराई थी। सपना चौधरी के भाई विकास चौधरी का कहना था कि वह पुलिस के पास इसलिए गए थे, क्योंकि लुधियाना में एक शो के लिए इवेंट्स ऑर्गेनाइजर ने 8 लाख रुपये देने की बात की थी, लेकिन उसने सिर्फ 6 लाख रुपये ही दिए।

सपना चौधरी ने पिछले साल 24 जनवरी को हरियाणवी सिंगर, लेखक और मॉडल वीर साहू के साथ कोर्ट मैरिज की थी। पिछले महीने उन्होंने अपने पति और बच्चे के साथ बेहद सादे माहौल में शादी की सालगिरह का जश्न भी मनाया था। दरअसल, सपना चौधरी अपने साथी कलाकार वीर साहू से तकरीबन 5 साल से रिलेशनशिप में थीं, लेकिन इसकी खबर किसी को नहीं हुई। इसका खुलासा पिछले साल तब हुआ, जब एक बेटा हुआ और फिर शादी का खुलासा भी किया।

ग्वालियर। कुटुंब न्यायालय में एक रोचक मामला आया है। सास की पिटाई के बाद जब पति उससे पूछता है तो पत्नी कहती है कि उसने मम्मी (सास) को नहीं पीटा है। उसके अंदर एक चुड़ैल आ जाती है, वह पिटाई करती है। वह पति के साथ रहना नहीं चाहती है, इसलिए भरण-पोषण दिया जाए। पति-पत्नी की काउसिलिंग भी की गई, लेकिन दोनों एक साथ रहने को तैयार नहीं हैं। लड़की की मां उसे अपने साथ ले जाना चाहती है।

नीलम (परिवर्तित नाम) का विवाह प्रेम सिंह (परिवर्तित नाम) से वर्ष 2017 में हुआ था। उनको एक साल का बच्चा भी है। जब प्रेम सिंह नौकरी करने घर से बाहर जाता था, तब नीलम सास की पिटाई कर देती थी। बहू की इस हरकत को सास अपने बेटे को बताती थी तो वह इन्कार कर देती थी। वह कहती थी कि उसने मम्मी के साथ पिटाई नहीं की है। यह पिटाई उसके अंदर आई चुड़ैल करती है। पिछले एक साल से पति-पत्नी के बीच काफी विवाद बढ़ गए।

 इस झगड़े में नीलम की मां ने दखल देना शुरू कर दिया और वह बेटी को रोजना देखने आने लगी। लाकडाउन में प्रेम भी घर से बाहर नहीं जा सका। झगड़े इतने बढ़ गए कि नीलम घर छोड़कर अपनी मां के पास चली गई। पति से भरण-पोषण की मांग की है। दोनों के बीच में नहीं बनती है। ज्ञात हो कि 9 महीने से कुटुंब न्यायालय में सुनवाई बंद थी। अब जाकर केसों में गवाही व काउंसिलिंग शुरू हुई है।
नीलम व प्रेम सिंह की काउसिलिंग की गई। दोनों के बीच सुलह की कोशिश की गई। पति का कहना था कि दिन में यह सही रहती है। शाम होते ही चुड़ैल व भूतनी का नाटक करने लगती है। जिससे कि इसको कोई काम नहीं करना पड़े। घर में मां के साथ भी मारपीट करती है। नीलम की मां उसके साथ कोर्ट आ रही है। मां का कहना है कि लड़की पर गलत आरोप लगा रहे हैं। यदि दोनों में नहीं बन रही है तो बेटी को अपने साथ रख लूंगी, लेकिन उसके जीवनयापन के लिए भरण-पोषण दिलाया जाए। पत्नी ने भी साथ जाने से इन्कार कर दिया।

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज भारत-चीन सीमा विवाद पर राज्यसभा में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि चीन के साथ सीमा विवाद के लेकर स्थिति अब समाधान के करीब है और पैंगोंग झील को लेकर चीन के साथ समझौता हो चुका है। रक्षा मंत्री ने राज्यसभा में बताया कि पैंगोंग झील के उत्तर और दक्षिण में सैनिकों की वापसी पर चीन के साथ सहमति बन चुकी है और इस संबंध में तनावग्रस्त इलाके से दोनों देशों के सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। साथ ही रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में जोर देकर कहा कि चीन के साथ समझौते में भारत ने एक इंच भी जमीन नहीं खोई है। दोनों पक्षों के बीच अभी भी कुछ मुद्दों पर सैन्य व कूटनीतिक स्तर पर बातचीत जारी है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत ने हमेशा ही द्विपक्षीय संबंधों को बनाए रखने पर जोर दिया है और हम वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांतिपूर्ण स्थिति को बनाए रखने के प्रति जोर दे रहे थे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत और चीन ने समझौते के तहत तय किया है कि अप्रैल 2020 से पहले की स्थिति को लागू किया जाएगा व जो निर्माण अभी तक किया गया उसे तत्काल हटा दिया जाएगा। साथ ही रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत चीन सीमा विवाद के कारण जिन जवानों ने अपनी जान इस दौरान गंवाई है, उन शहीदों को भारत हमेशा सलाम करेगा। मुझे भरोसा है कि पूरा सदन देश की संप्रभुता के मुद्दे पर एक साथ खड़ा है।
रक्षा मंत्री ने सदन को बताया कि सैनिक वापसी की प्रक्रिया के बाद बाकी मुद्दों का निराकरण भी चर्चा के जरिए ही किया जाएगा। समझौते के 48 घंटे के भीतर दोनों देश के कमांडर भी मुलाकात करेंगे। पैंगोंग झील के उत्तर और दक्षिण में सैनिकों की वापसी पर सहमति बन गई है और बुधवार से सीमा पर सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया हो चुकी है।

इसके अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन ने एलएसी पर हथियार और गोला-बारूद और सैनिकों की संख्या बढ़ा दी, लेकिन हमने चीन का मुकाबला करने के लिए स्पष्ट कदम उठाया है। हमारे पास बहादुर जवान हैं, जो रणनीतिक स्थानों पर डटे हैं और हम इन स्थानों पर बढ़त के साथ हैं। देश के बहादुर जवानों ने साबित किया है कि वे राष्ट्र की अखंडता को बनाए रखने के लिए कुछ भी करेंगे। हम चाहते हैं कि दोनों पक्ष वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान करें। एकतरफा एलएसी में किसी भी प्रकार का बदलाव स्वीकार नहीं होगा। हम चाहते हैं कि 2020 की फॉरवर्ड तैनाती को चरणबद्ध तरीके से हटाया जाए।

ग्वालियर। शहर में पिछले 3 महीने में पिस्टल से फायरिंग करते हुए मंगलवार को चौथा वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में आठ 10 युवकों का ग्रुप नजर आ रहा है, जो कि काले रंग की एक्टिवा पर रख केक काटकर जन्मदिन मना रहे हैं। वीडियो में दो युवक पिस्टल से फायर करते हुए नजर आ रहे हैं। यह वीडियो घास मंडी का बताया जा रहा है। क्योंकि काले रंग की एक्टिवा का नंबर एमपी 07 लिखा हुआ साफ नजर आ रहा है।

यह वीडियो संज्ञान में आने के बाद पुलिस इन युवकों की पहचान करने के लिए घास मंडी की गलियों में वीडियो लेकर घूम रही है। इस वीडियो में आठ-दस युवक काले रंग की एक्टिवा के पास नजर आ रहे हैं। इस गाड़ी पर केक रखा हुआ है जबकि एक युवक केक पर लगी मोमबत्ती को जलाता है और उसी समय लाल रंग की टीशर्ट पहने एक युवक हाथ में पिस्टल लेकर दूसरी तरफ आता है।


मुंबई। देश में बर्ड फ्लू का कहर जारी है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित केंद्रीय प्रयोगशाला आईसीएआर-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई-सिक्योरिटी एनिमल डिजीज (एनआईएचएसएडी) ने मंगलवार को महाराष्ट्र के नंदुरबार जिले के नवापुर में 12 और पोल्ट्री फार्मों में बर्ड फ्लू से पक्षियों के मरने की पुष्टि की है। इसी के साथ प्रभावित पोल्ट्री फार्मों की संख्या बढ़कर 16 हो गई।इसके बाद प्रशासन ने नवापुर में मंगलवार को राज्य ने एक लाख से अधिक मुर्गियों को मारने के लिए अलग कर लिया।

राज्य में मंगलवार को  1,291 पक्षियों की मौत बर्ड फ्लू से हुई, जिसमें 1266 पोल्ट्री पक्षी हैं। इसी के साथ बर्ड फ्लू से मरने वाले पक्षियों की संख्या बढ़कर  41,504 पहुंच गई है।बता दें कि नवापुर तहसील के 28 पोल्ट्री फार्म में कुल 9.50 लाख मुर्गियां हैं। बर्ड फ्लू से पोल्ट्री फार्म को भारी नुकसान होगा। प्रशासन ने नवापुर में अंडे और मुर्गियों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। नवापुर में पोल्ट्री फार्म सबसे अधिक हैं। पशुपालन विभाग की 100 टीमें नंदुरबार पहुंच गईं हैं। इससे पहले 2006 में भी नवापुर में बर्ड फ्लू फैला था। वर्ष 2006 की तुलना में इस साल नवापुर में बर्ड फ्लू का असर बहुत कम है।
प्रशासन ने नवापुर में ग्रामीणों को देशी मुर्गी, चिकन, बतख, कबूतर समेत अन्य पक्षियों को घर में इकट्ठा करके न रखने का आदेश दिया है। लोगों को सभी पक्षियों को प्रशासन के हवाले करना होगा। गांव में पालतू पक्षियों को ले जाने के लिए सरकारी ट्रैक्टर और पिकअप आएगा। आदेश का उल्लंघन करने वालों पर डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत कार्रवाई की जाएगी।
नासिक के पशुपालन कमिश्नर ने नवापुर तहसील में दौरा करके पोल्ट्री फार्म का निरीक्षण किया। व्यापारियों और अधिकारियों को बर्ड फ्लू के बारे में जागरूक  किया। वहीं व्यापारियों ने नुकसान की भरपाई करने की मांग की है। राज्य पशुपालन विभाग के अधिकारियों ने कहा कि एनआईएचएसएडी ने पुष्टि की कि नवापुर में मुर्गियों की  मौत H5N8 स्ट्रेन से हुई है। 




युवक शादी का प्रस्ताव लेकर थाने पहुंचा तो पुलिस ने भी पहल की और थाना परिसर स्थित मंदिर में उनकी शादी करा दी। पहले तो लड़के के घरवाले रजामंद नहीं थे, लेकिन जब पुलिस वालों ने कानूनी कार्रवाई समझाई तो वे भी राजी खुशी शादी में शामिल हो गए। जानकारी के मुताबिक, महराजगंज जिले के पनियरा का युवक गुलरिहा इलाके के एक गांव स्थित ननिहाल में रहकर पढ़ाई करता है। इसी बीच पड़ोस की स्वजातीय युवती से उसका प्रेम संबंध हो गया। 

इसकी जानकारी जब युवती के घरवालों को हुई तो वे रिश्ता लेकर लड़के के घर पहुंच गए। मगर लड़के के घरवालों ने शादी से इनकार कर दिया। इसके बाद लड़की की ओर से पिता ने थाने में तहरीर दी और युवक पर शादी का झांसा देकर बेटी से दुष्कर्म का आरोप लगाया। खुद को कानूनी कार्रवाई में फंसता देख युवक समझ गया कि उसे जेल जाना पड़ सकता है। जेल जाने से बचने के लिए उसने घरवालों को समझाया, नहीं माने तो थाने पहुंच गया। फिर पुलिस ने घरवालों को समझाकर मंगलवार को दोनों की थाने में शादी करवा दी।

मुंबई। बॉलीवुड के सुपरस्टार सलमान खान पर काला हिरण शिकार मामले के दौरान आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया था। इस मामले में जब सलमान खान से लाइसेंस मांगा गया तो उन्होंने कोर्ट में एक हलफनामा पेश करते हुए बताया था कि उनका लाइसेंस कहीं खो गया है। अब 18 साल बाद ये शपथ पत्र झूठा निकला है। 9 फरवरी को इस मामले पर जोधपुर कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई हुई। कोर्ट इस मामले पर 11 फरवरी को अपना फैसला सुनाएगा।

सुनवाई के दौरान सलमान के अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत ने कोर्ट में कहा कि 8 अगस्त 2003 को गलत शपथ पत्र दे दिया गया था। ये भूल अनजाने में हुई है। बता दें कि साल 1998 में काला हिरण शिकार मामले मे जब सलमान को गिरफ्तार किया गया तो कोर्ट ने उनसे हथियारों का लाइसेंस मांगा था। साल 2003 में कोर्ट में शपथ पत्र देकर सलमान ने बताया था कि उनका लाइसेंस कहीं खो गया है। 

एफआईआर की कॉपी भी कोर्ट में पेश हुई थी, लेकिन कोर्ट ने ये पाया कि सलमान का लाइसेंस कहीं गुम नहीं हुआ है। उन्होंने खुद लाइसेंस के रिन्यू के लिए हथियार लाइसेंस नवीनीकरण शाखा में पेश किया हुआ था। इसके बाद तत्कालीन लोक अभियोजक भवानी सिंह भाटी ने कोर्ट में सीआरपीसी 340 के अंतर्गत एक अर्जी पेश कर गुहार लगाई कि सलमान खान पर कोर्ट को गुमराह करने का प्रयास करने पर मुकदमा दर्ज किया जाए। इस मामले में जिला एवं सत्र जिला जोधपुर कोर्ट में 9 फरवरी को सुनवाई हुई।

दूसरी तरफ सुनवाई के दौरान सलमान के अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत ने बहस करते हुए ये दलील दी कि सलमान खान एक बड़े सितारे हैं और वो काम के चलते बहुत व्यस्त रहते हैं। इसी वजह से सलमान भूल गए थे कि लाइसेंस नवीनीकरण के लिए पेश हुआ है। सारस्वत ने सलमान खान को उक्त मामले में बरी करने की अपील की। दोनों पक्षों की तरफ से बहस खत्म कर ली गई। कोर्ट में सलमान के अधिवक्ता ने ये स्वीकार किया कि उनसे गलती हुई है, लेकिन ये गलती अनजाने में हुई है। अब 11 फरवरी को कोर्ट इस प्रार्थना पत्र पर अपना आदेश सुनाएगी।

इस मामले मे सलमान खान की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही हैं। बता दें कि झूठे शपथ पत्र न्यायालय में पेश करना या झूठी गवाही देने के मामले में अधिकतम 7 वर्ष की सजा का प्रावधान हैं। वहीं सरकार ने सलमान के खिलाफ प्रार्थना पत्र पेश करते हुए आईपीसी 193 के तहत मुकदमा चलाने की मांग की है। अब सलमान को कोर्ट के फैसला का 11 फरवरी तक इंतजार करना होगा।

भुवनेश्‍वर। ओडिशा में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस ने 15 फरवरी को सात घंटे के ओडिशा बंद का आह्वान किया है। ईंधन की बढ़ती कीमतों के लिए केंद्र और ओडिशा सरकार दोनों को दोषी ठहराते हुए, राज्य कांग्रेस अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने मंगलवार को कहा कि बंद सुबह 7 बजे से शुरू होगा और दोपहर 1 बजे तक जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि इस दौरान सड़कों पर वाहन नहींं चलेंगे, दुकानें और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान भी बंद रहेंगे।  

निरंजन पटनायक ने कहा कि उनकी पार्टी इस बात से अवगत है कि भारत बंद के कारण लोगों को विभिन्न असुविधाओं का सामना करना पड़ेगा, लेकिन ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी की सरकार की आदत के खिलाफ विरोध के अलावा और कोई विकल्प नहीं है। बंद के लिए जनता के समर्थन की मांग करते हुए, पटनायक ने कहा कि राज्य सरकार को उन लोगों को थोड़ी राहत देने के लिए पेट्रोल और डीजल पर कर कम करना चाहिए जो पहले से ही कोरोना महामारी के कारण कठिनाई का सामना कर रहे हैं। 

उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र और राज्य सरकार दोनों पेट्रोल और डीजल पर अनुचित कर लगा रहे हैं, जिससे ईंधन की कीमतों में भारी वृद्धि हुई है जिसके परिणामस्वरूप अन्य आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि हुई है। निरंजन पटनायक का कहना है कि  ईंधन की कीमतों में तेज कटौती से ही आम आदमी को राहत मिलेगी। इसके लिए केंद्र सरकार और  बीजद सरकार को जवाब देना होगा। 

पटनायक ने कहा कि कांग्रेस ओडिशा और पड़ोसी राज्यों के बीच सीमा विवाद, महानदी जल विवाद और राज्य में राजनीतिक हत्याओं के मुद्दों को भी उठाएगी। बीजद सरकार के कारण  हमारे राज्य में जल, जंगल और ज़मीन खतरे में हैं। हाल के वर्षों में, हत्याएं उग्र हो गई हैं। हमारी मां और बहनें सड़कों पर सुरक्षित नहीं हैं। हमें अपनी आवाज उठाने की जरूरत है। उन्होंने कहा मैं लोगों से बंद का समर्थन करने की अपील करता हूं। 

लखनऊ। अभी उत्तर प्रदेश में लोग कानपुर का बिकरू कांड भूले भी नहीं थे कि कासगंज में एक और कांड हो गया। उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले के सिढ़पुरा थाना इलाके के गांव नगला धीमर और नगला भिकारी में पुलिस को अवैध शराब बनाने की सूचना मिली। इसके बाद वहां छापा मारने पहुंचे सिढ़पुरा थाने के दारोगा और एक सिपाही की शराब माफियाओं ने घेरकर पहले तो जमकर पीटा। इसके बाद उनकी वर्दी उतरवा ली और लाठियों से जमकर पिटाई की। दरोगा और सिपाही को मरणासन्न हालत में माफिया ने छोड़ दिया। 


इसके बाद लहूलुहान अवस्था में छोड़कर भाग गए। जानकारी पर सिढ़पुरा थाना सहित अन्य थानों की पुलिस और पीएसी मौके पर पहुंची। करीब डेढ़ घंटे की तलाशी के बाद दोनों खेतों में पड़े मिले। गंभीर अवस्था में उन्हें नजदीकी गंजडुंडवारा चिकित्सालय से अलीगढ़ रेफर कर दिया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना को लेकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिये हैं।


जयपुर। राजस्थान में प्राइवेट स्कूलों की फीस को लेकर अभिभावकों को सुप्रीम कोर्ट से सोमवार को बड़ा झटका लगा है। कोरोना काल के दौरान ऑनलाइन क्लासेज के दौरान अभिभावकों ने फीस में रियायत की मांग की थी, इसपर राजस्थान हाईकोर्ट ने राहत देते हुये फीस में छूट दी थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद अब फीस का 100% भुगतान करना होगा। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने अभिभावकों को पूरे साल की फीस को चुकाने के लिये थोड़ी राहत भी दी है, यह फीस 6 किस्तों में चुकाई जा सकेगी।
      6 किस्तों में दे सकेंगे पूरी फीस
सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार अब अभिभावकों को स्कूल की पूरी फीस चुकानी होगी। 5 मार्च से स्कूल अपनी फीस वसूल सकेंगे। हालांकि अभिभावकों को कोर्ट ने राहत प्रदान करते हुये फीस को 6 किस्तों में चुकाने की छूट भी दी है।
    साल 2019-20 में तय फीस के हिसाब से देनी होगी फीस
कोर्ट के आदेशानुसार अब प्राइवेट स्कूल बढ़ी हुई फीस नहीं ले सकेंगे।5 मार्च 2021 से छात्रों से सत्र 2019-20 में तय फीस के हिसाब से ही वसूली हो सकेगी। हालांकि पूर्व में महज ट्यूशन फीस का 70 फीसदी देना तय हुआ था लेकिन अब पूरी फीस चुकानी होगी।
  दबाव नहीं बना सकेंगे स्कूल, परीक्षा या क्लासेज पर असर नहीं
कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी व्यवस्था दी है कि जो अभिभावक फीस नहीं दे पाये है उनके बच्चों को परीक्षा या क्लासेज से बेदखल नहीं किया जा सकेगा। स्कूल फीस वसूली के लिये उन पर अनावश्यक दबाव नहीं बना सकेंगे। कोर्ट ने स्कूलों को यह भी निर्देश दिये हैं कि किसी छात्र की फीस जमा नहीं होने पर उसे स्कूल से बेदखल नहीं किया जा सकेगा।
     सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक
राजस्थान हाईकोर्ट में चीफ जस्टिस इंद्रजीत महांती की खंडपीठ ने निजी स्कूल फीस विवाद मामले में अभिभावकों को राहत दी थी। कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि जिन निजी स्कूलों ने ऑनलाइन पढ़ाया है, वे ट्यूशन फीस का 70% ही फीस के तौर पर ले सकेंगे। लेकिन प्राइवेट स्कूलों की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुये अब सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के इस फैसले पर रोक लगा दी है।




नई दिल्ली। राज्यसभा में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद समेत 4 सांसदों के विदाई भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भावुक हो गए। आतंकी घटना के बाद गुलाम नबी आजाद से फोन पर हुई बातचीत का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि उन्होंने मुझे फोन किया और अपने परिवार के सदस्य की तरह चिंता की। मेरे लिए वो बड़ा भावुक पल था। एक मित्र के रूप में गुलाम नबी जी का मैं घटनाओं और अनुभव के आधार पर आदर करता हूं

राज्यसभा में पीएम मोदी ने कहा कि गुलाम नबी जी जब मुख्यमंत्री थे, तो मैं भी एक राज्य का मुख्यमंत्री था। हमारी बहुत गहरी निकटता रही। एक बार गुजरात के यात्रियों पर जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों ने हमला कर दिया, क़रीब 8 लोग मारे गए। सबसे पहले गुलाम नबी जी का मुझे फोन आया, वो फोन सिर्फ सूचना देने का नहीं था। उनके आंसू रूक नहीं रहे थे।

पीएम ने बताया कि उस समय प्रणव मुखर्जी जी रक्षा मंत्री थे। मैंने उनसे कहा कि अगर मृतक शरीरों को लाने के लिए सेना का हवाई जहाज मिल जाए तो... उन्होंने कहा कि चिंता मत करिए मैं करता हूं व्यवस्था। लेकिन गुलाम नबी जी उस रात को एयरपोर्ट पर थे, उन्होंने मुझे फोन किया और जैसे अपने परिवार के सदस्य की चिंता करते हैं, वैसी चिंता वो कर रहे थे।


बता दें कि राज्यसभा में मंगलवार को कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, शमशेर सिंह, मीर मोहम्मद फैयाज, नादिर अहमद को निदाई दी जा रही है। पीएम मोदी ने चारों सदस्यों को विदाई देते हुए कहा कि आप चारों महानुभावों को इस सदन की शोभा बढ़ाने, आपके अनुभव, आपके ज्ञान का सदन को और देश को लाभ देने के लिए और आपने क्षेत्र की समस्याओं का समाधान के लिए आपके योगदान का धन्यवाद करता हूं।







नई दिल्ली। 26 जनवरी के दिन दिल्ली के लाल किला पर हुई व्यापक हिंसा मामले में आरोपित पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू गिरफ्तार हो गया है। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने दीप सिद्धू को पंजाब के जिरकपुर से गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस मंगलवार दोपहर में होने पत्रकार वार्ता में दीप सिद्धू की गिरफ्तारी को लेकर अहम खुलासे कर सकती है। बताया जा रहा है कि पूछताछ में दीप सिद्धू लाल किला हिंसा मामले में कई अहम खुलासे कर सकता है। उसने एक वीडियो जारी कर दावा किया था कि अगर उसने मुंह खोला तो कई चेहरे बेनकाब हो जाएंगे।
पिछले सप्ताह ही दिल्ली पुलिस ने दीप सिद्धू का सुराग देने पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। इसी के साथ दिल्ली पुलिस की कई टीमें दिल्ली-एनसीआर के साथ हरियाणा और पंजाब में लगातार छापेमारी कर रही थीं। इससे पहले रविवार को दिल्ली हिंसा में एक और आरोपित सुखदेव सिंह को हरियाणा के करनाल से गिरफ्तार किया था, उस पर 50,000 रुपये का इनाम था। दिल्ली पुलिस ने कुल 8 आरोपितों की गिरफ्तारी पर इनाम का एलान किया था, जिसमें दीप सिद्धू समेत 4 आरोपित 
बता दें कि पिछले दिेनों दिल्ली पुलिस ने बताया था कि फरार दीप सिद्धु का फेसबुक अकांउट उसकी एक महिला मित्र संभाल रही है, जो विदेश में रहती है। दीप वीडियो रिकॉर्ड कर उसे भेज देता है और महिला दोस्त उसे फेसबुक पर अपलोड कर देती है। माना जा रहा है कि पुलिस की नजरों से बचने के लिए दीप सिद्धु ऐसा कर रहा है। दीप सिद्धू पुलिस को भटकाने के लिए ऐसा कर रहा है।
मिली जानकारी के मुताबिक, पंजाबी फिल्मों में काम करने वाला दीप सिद्धू सामाजिक कार्यकर्ता भी है। दीप ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत पंजाबी फिल्म रमता जोगी से की थी। 1984 में पंजाब के मुक्तसर जिले में जन्में दीप सिद्धू ने लॉ की पढ़ाई की है। 17 जनवरी को सिख फॉर जस्टिस से जुड़े केस के सिलसिले में एनआइए ने सिद्धू को तलब भी किया था, लेकिन वह पेश नहीं हुआ था।