Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए मुख्यमंत्रियों के साथ रणनीति बना रहे हैं। इस मीटिंग में कई राज्यों के मुख्यमंत्री भाग ले रहे हैं। कोरोना के दोबारा संक्रमण को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर रहे हैं। प्रधानमंत्री आज मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना प्रभावित राज्यों में इस वायरस से निपटने की कार्ययोजना पर भी चर्चा करेंगे। 


खास बात ये है कि इस बैठक में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नहीं शामिल हुए हैं। ममता बनर्जी ने इस बैठक में शामिल ना होने के लिए राजनीतिक रैली में व्यस्त रहना बताया है। गौरतलब है कि देश के कई राज्यों में कोरोना का संक्रमण फिर से पांव पसार रहा है।


महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना के दोबारा बढ़ते संक्रमण को देखते हुए केंद्र सरकार काफी गंभीर है। इसको देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ होने जा रही यह बैठक बेहद अहम मानी जा रही है। प्रधानमंत्री राज्यों के टीका करण की प्रगति और इसमें आने वाली दिक्कतों की भी आज की बैठक में समीक्षा करेंगे। इस बैठक में कई अहम फैसले भी लिए जा सकते हैं।

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों ने केंद्र सरकार की टेंशन बढ़ा दी है। आगे की रणनीति पर चर्चा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई है। पीएम मोदी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि हमें हर हाल में कोरोना महामारी को हराना होगा और इसके लिए मांस्क को लेकर गंभीरता अभी भी बहुत जरूरी है। इस बैठक में पीएम मोदी ने देश में कोरोना की स्थिति का जायजा लिया और दो महीने पहले शुरू हुए देश के टीकाकरण अभियान की प्रगति का आकलन किया।


मुख्यमंत्रियों संग बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ देश की लड़ाई को एक साल से ज्यादा हो रहा है। भारत के लोगों ने कोरोना का जिस प्रकार सामना हो रहा है, उसे लोग उदाहरण के रूप में प्रस्तुत करते हैं। आज देश में 96 प्रतिशत से ज्यादा मामले रिकवर हो चुके हैं। मृत्यु दर में भी भारत सबसे कम दर वाले देशों में है। कुछ राज्यों में केसों की संख्या बढ़ रही है। देश के 70 जिलों में ये वृद्धि 150 प्रतिशत से ज्यादा है। उन्होंने कहा कि हमें कोरोना की इस उभरती हुई दूसरी लहर को तुरंत रोकना होगा। इसके लिए हमें त्वरित और निर्णायक कदम उठाने होंगे।


पीएम ने कहा कि कोरोना की लड़ाई में हम आज जहां तक पहुंचे हैं, उससे आया आत्मविश्वास, लापरवाही में नहीं बदलना चाहिए। हमें जनता को पैनिक मोड में भी नहीं लाना है और परेशानी से मुक्ति भी दिलानी है। टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट को लेकर भी हमें उतनी ही गंभीरता की जरूरत है जैसे कि हम पिछले एक साल से करते आ रहे हैं। हर संक्रमित व्यक्ति के कॉन्टैक्ट को कम से कम समय में ट्रैक करना और आरटी-पीसीआर टेस्ट रेट 70 प्रतिशत से ऊपर रखना बहुत अहम है।

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता दिलीप गांधी की दिल्ली के निजी अस्पताल में निधन हो गया है। दिलीप गांधी की कोरोना जांच में रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, जिसके बाद से उनका इलाज चल रहा था। बता दें कि दिलीप गांधी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में मंत्री रह चुके थे। सूत्रों ने बताया कि हाल ही में वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए 

दिल्ली। देश में एक बार फिर से कोरोना वायरस तेजी से पांव पसारने लगा है। इसकी रोकथाम की रणनीति बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। प्रधानमंत्री ये बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लेंगे। इस बैठक में महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक, छत्तीसगढ़ और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री शामिल हो सकते हैं। 


आज दोपहर साढ़े 12 बजे मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक करेंगे। गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है। महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में कोरोना वायरस तेजी से अपने पांव पसार रहा है। प्रधानमंत्री इस बैठक में कोरोना से निपटने की रणनीति पर मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा करेंगे।


वह कोरोना टीकाकरण को लेकर भी मुख्यमंत्रियों से चर्चा करेंगे। प्रधानमंत्री राज्यों के टीकाकरण की प्रगति का जायजा लेंगे और इसमें आने वाली दिक्कतों की भी समीक्षा करेंगे। इस बैठक में कई अहम फैसले भी लिए जा सकते हैं। इस बैठक म़े स्वास्थ्य मंत्रालय के अलावा आईसीएमआर और अन्य एजेंसियों के शीर्ष अधिकारी भी बैठक में मौजूद रह सकते हैं।

नई दिल्ली। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आज जोर देकर कहा कि भारतीय रेलवे का कभी भी निजीकरण नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोई यह नहीं कहता कि सड़क पर सिर्फ सरकारी गाड़ियां ही चलेंगी क्योंकि प्राइवेट और सरकारी दोनों तरह की गाड़ियां आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण हैं। रेलवे के कामकाज को सुचारु बनाने के लिए निजी निवेश को प्रोत्साहित किया जाएगा।


रेलवे के लिए अनुदान मांग पर लोकसभा में हुई बहस का जवाब देते हुए गोयल ने कहा कि हम पर रेलवे के निजीकरण का आरोप लग रहा है। देश की प्रगति तभी होगी जब सरकारी और निजी सेक्टर मिलकर काम करेंगे। उन्होंने कहा कि भारतीय रेलवे का कभी भी निजीकरण नहीं होगा। यह हर भारतीय की संपत्ति है और रहेगी। उन्होंने कहा कि भारतीय रेलवे सरकार के हाथों में ही रहेगी। रेल मंत्री ने कहा कि पिछले 2 साल में रेल दुर्घटना में किसी भी यात्री की जान नहीं गई है। यात्रियों की सुरक्षा के लिए रेलवे काफी ध्यान दे रही है।


गोयल ने कहा कि मोदी सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 में रेलवे में निवेश बढ़ाकर 2.15 लाख करोड़ रुपये कर दिया है जो 2019-20 में 1.5 लाख करोड़ रुपये था। रेल मंत्री ने कहा, हमारा जोर यात्रियों की सुरक्षा पर है। मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि पिछले दो साल में किसी भी यात्री की जान नहीं गई है। ट्रेन दुर्घटना के कारण आखिरी मौत मार्च 2019 में हुई थी।


महाराष्ट्र सरकार ने संक्रमण को देखते हुए फिर सख्ती बरतते हुए पुणे, नागपुर और औरंगाबाद ने नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। गुजरात सरकार ने भी अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत और राजकोट में नाइट कर्फ्यू की घोषणा की है। वहीं, पंजाब सरकार ने 12वीं और 10वीं कक्षाओं की बोर्ड परीक्षाएं टालने का फैसला किया है। जबकि मध्य प्रदेश में नाइट कर्फ्यू पर आज फैसला आ सकता है। देश में बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को मुख्‍यमंत्रियों के साथ बातचीत करेंगे। स्वास्थ्य मंत्री कह चुके हैं कि कोरोना से बचाव के उपायों के प्रति लापरवाही से ये मामले बढ़ रहे हैं।

गुजरात में करोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने सख्त कदम उठाया है 17 मार्च से 31 मार्च के बीच चार महानगरों- अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत और राजकोट में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लागू करने का फैसला किया है। 16 मार्च रात 12 बजे से सुबह 6 बजे तक इन चार महानगरों में प्री-नाइट कर्फ्यू सिस्टम बना रहेगा। इससे पहले अहमदाबाद में कोरोना के मामलों के मद्देनजर, गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन ने भारत- इंग्लैंड टी 20 अंतर्राष्ट्रीय मैचों का आयोजन बिना दर्शकों के करने का फैसल किया है।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की महामारी फैले एक साल से ज्यादा हो गया। वैक्सीन बना ली गई और व्यापक अभियान चलाकर करोड़ों लोगों को दी भी जाने लगी। जब धीरे-धीरे आम जिंदगियां पटरी पर आने लगनी चाहिए थीं, एक बार फिर यह महामारी सिर उठाने लगी है। हालात कुछ यूं बिगड़ रहे हैं कि कई जगहों पर फिर से लॉकडाउन लगाने की नौबत आ गई है।

महाराष्ट्र के कई शहरों में लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू का सहारा लिया जा रहा है। पंजाब के आठ जिलों में भी नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है। राज्य और जिला प्रशासन कड़े नियम लागू कर रहे हैं और वैक्सिनेशन को तेज करने की जरूरत पता लगने लगी है। शायद यही कारण हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ एक बैठक बुलाई है जिसमें हालात पर चर्चा की जाएगी।
देश में पिछले कुछ हफ्तों में सबसे ज्यादा हालात महाराष्ट्र में बुगड़ रहे हैं। पिछले एक हफ्ते में देश में सामने आए कुल मामलों में से 61% महाराष्ट्र के हैं। सोमवार को देश भर में 24,458 मामले सामने आए जो रविवार को मिले 26,386 मरीजों से कुछ कम रहा। हालांकि, आमतौर पर सोमवार को नए मामलों की संख्या में गिरावट देखी जाती है जो इस सोमवार नहीं हुआ। पिछले हफ्ते सोमवार को इस हफ्ते से 9000 कम केस सामने आए थे।

नई दिल्‍ली। आयुर्वेद से स्नातकोत्तर करने वाले डॉक्टरों को सर्जरी करने की इजाजत देने वाले आदेश के खिलाफ आईएमए की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। मालूम हो कि भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद ने आयुर्वेद से मास्‍टर डिग्री लेने वाले डॉक्टरों को सर्जरी करने की इजाजत दी थी। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने भारतीय चिकित्सा परिषद के इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था।

मुख्‍य न्यायाधीश एसए बोबडे न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामसुब्रमण्यन की पीठ ने आयुष मंत्रालय सीसीआईएम और राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करके आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी करने की अनुमति देने वाले नियमों को खारिज या रद करने की गुजारिश की है।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का कहना है कि राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग को पाठ्यक्रम में एलोपैथी को शामिल करने का अधिकार नहीं है। भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद की अधिसूचना के तहत, भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (आयुर्वेद शिक्षा स्नात्कोत्तर) नियम 2016 में संशोधन किया गया है। इसमें 39 सामान्य सर्जरियों और आंख, कान, नाक, गले से जुड़ी 19 सर्जरियों को शामिल किया गया है।




भारतीय स्टेट बैंक और केनरा बैंक समेत कई सरकारी बैंकों ने पहले ही अपने ग्राहकों को जानकारी दे दी है कि सोमवार और मंगलवार को हड़ताल के चलते उनके कार्यालय और शाखाओं में कामकाज पर असर पड़ सकता है। इसके बावजूद बैंकों ने कहा है कि प्रस्तावित हड़ताल के दिन बैंकों और शाखों में बेहतर तरीके से कामकाज करने के लिए आवश्यक कदम उठा जा रहे हैं।  वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में एलान किया था कि सरकार ने इस साल दो सरकारी बैंकों और एक बीमा कंपनी के निजीकरण का फैसला किया है।

सरकार इससे पहले आईडीबीआई बैंक में अपनी ज्यादातर हिस्सेदारी भारतीय जीवन बीमा निगम को बेच चुकी है। पिछले चार साल में सार्वजनिक क्षेत्र के 14 बैंकों का विलय किया जा चुका है। वेंकटचलम ने कहा कि 4, 9 और 10 मार्च को मुख्य श्रम आयुक्त के साथ हुई बैठक में कोई सकारात्मक परिणाम नहीं निकला। इसलिए 15 और 16 मार्च को लगातार दो दिन हड़ताल का फैसला लिया गया है। बैंकों के करीब 10 लाख कर्मचारी और अधिकारी इसमें हिस्सा लेंगे। हड़ताल में यूनाइटेड फ्रंट और बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) में ऑल इंडिया बैंक इम्प्लॉइज एसोसिएशन (एआईबीईए), ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कंफेडरेशन (एआईबीओसी) नेशनल कंफेडरेशन आफ बैंक इम्प्लॉइज (एनसीबीई), ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन (एआईबीओए) और बैंक इम्प्लॉइज कंफेडरेशन आफ इंडिया (बीईएफआई) शामिल हैं।

नई दिल्ली। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा कि हमारी कोशिश यह होनी चाहिए कि वनवासी आधुनिक विकास प्रक्रिया के अंतरंग हिस्सा बने रहें और अपनी सांस्कृतिक विरासत और पहचान अक्षुण्ण बनाए रखें। वह सेवा कुंज आश्रम के नवनिर्मित भवनों के उद्घाटन के अवसर पर उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के चापकी में एक जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर भगवान बिरसा मुंडा को याद करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि बिरसा मुंडा अंग्रेजों के शोषण से वन संपदा और संस्कृति की रक्षा के लिए निरंतर संघर्ष करते रहे। 


उनका जीवन न केवल जनजातीय समुदायों के लिए बल्कि सभी नागरिकों के लिए भी प्रेरणा और आदर्श का स्रोत रहा है। राष्ट्रपति ने कहा कि सेवा कुंज संस्थान के नवनिर्मित भवनों का उद्घाटन कर प्रसन्न हैं। उन्होंने कहा कि एनटीपीसी द्वारा स्कूल और छात्रावास भवनों का निर्माण किया गया था। उन्होंने इस सामाजिक कल्याण कार्य के लिए एनटीपीसी की सराहना की। उन्होंने विश्वास जताया कि नवनिर्मित भवन और अन्य सुविधा केन्द्र इस संस्था के छात्रों के सर्वांगीण विकास में योगदान देंगे। राष्ट्रपति ने कहा कि उनका मानना है कि देश की आत्मा ग्रामीण और वन क्षेत्रों में बसती है। यदि कोई भारत की जड़ों से परिचित होना चाहता है, तो उसे सोनभद्र जैसे स्थान पर कुछ समय व्यतीत करना चाहिए। 


उन्होंने कहा कि ग्रामीण/वनवासी समुदायों के विकास के बिना देश के समग्र विकास की कल्पना नहीं की जा सकती है। वास्तव में, उनके विकास के बिना देश का विकास अपूर्ण है। इसलिए, केंद्र सरकार और राज्य सरकारें ग्रामीण और वनवासियों के समुदायों के समग्र विकास के लिए विभिन्न योजनाओं को कार्यान्वित कर रही हैं। राष्ट्रपति ने इस तथ्य की सराहना की कि वनवासी अपने पूर्वजों से प्राप्त सहज ज्ञान की परंपरा को जीवित रखे हुए हैं और इसे आगे बढ़ा रहे हैं। कृषि से लेकर कला और शिल्प तक, प्रकृति के साथ उनकी समरसता प्रत्येक व्यक्ति को प्रभावित करती है। 


राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि पूर्वी उत्तर प्रदेश को झारखंड, छत्तीसगढ़, बिहार और मध्य प्रदेश से जोड़ने वाला सोनभद्र क्षेत्र आधुनिक विकास का एक प्रमुख केंद्र बन जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश यह होनी चाहिए कि वनवासी आधुनिक विकास प्रक्रिया का हिस्सा बने रहें और अपनी सांस्कृतिक विरासत और पहचान अक्षुण्ण बनाए रखें। राष्ट्रपति ने यह जानकर प्रसन्नता जताई कि सेवा सम्मान संस्था क्षीण हो रही लोक कलाओं को पुनर्जीवित करने और लोक भाषाओं और गीतों को संरक्षित करने के लिए प्रयास कर रही है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल समेत देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हैं। सभी राजनीतिक पार्टियां चुनाव प्रचार में जी जान से लगीं हुईं हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कथित हमले में घायल होने के बाद आज यानी रविवार को पहली बार व्हील चेयर पर बैठकर रोड शो करेंगी। इसके बाद कोलकाता में एक सभा भी करेंगी। वहीं आज से गृह मंत्री अमित शाह असम और पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी असम में तीन रैलियों को संबोधित करेंगे।
पश्चिम बंगाल समेत देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हैं। सभी राजनीतिक पार्टियां चुनाव प्रचार में जी जान से लगीं हुईं हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कथित हमले में घायल होने के बाद आज यानी रविवार को पहली बार व्हील चेयर पर बैठकर रोड शो करेंगी। इसके बाद कोलकाता में एक सभा भी करेंगी। वहीं आज से गृह मंत्री अमित शाह असम और पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी असम में तीन रैलियों को संबोधित करेंगे।

मुंबई। महाराष्ट्र में एक बार फिर से कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। इससे देश में एक बार फिर से कोरोना संकट गहराता जा रहा है। महाराष्ट्र में कल एक दिन में करीब 16 हजार नए कोरोना मामले सामने आए जिससे हालात बिगड़ते नजर आ रहे हैं। इस बीच, महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे सरकार ने लॉकडाउन को लेकर आखिरी चेतावनी दी है। 
राज्य सरकार ने चेतावनी भरे लहजे में कहा है कि राज्य सरकार को लॉकडाउन जैसे कठोर उपायों को लागू करने के लिए मजबूर नहीं करें। बता दें कि महाराष्ट्र के नागपुर, अकोला और औरंगाबाद समेत कई इलाकों में लॉकडाउन लागू है। अगर कोरोना के मामले ऐसे ही बढ़ते रहे और लापरवाहियां सामने आती रहीं तो उद्धव सरकार महाराष्ट्र के अन्य जगहों पर भी लॉकडाउन का ऐलान कर सकती है।
देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इनमें सर्वाधिक मामले महाराष्ट्र में सामने आए हैं। महाराष्ट्र और केरल के साथ ही अब पंजाब, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और तमिलनाडु में भी मामले बढ़ने लगे हैं। महाराष्ट्र में तो 16 हजार के करीब नए मामले मिले हैं। महाराष्ट्र में शनिवार को कोरोना वायरस के 15,602 नये मामले दर्ज किये गए जिससे मामलों की संख्या बढ़कर 22,97,793 पर पहुंच गई जबकि इस महामारी से 88 और मरीजों की मौत से यहां कुल मौत का आंकड़ा 52,811 हो गया है। 
महाराष्ट्र में एक बार फिर से कोरोना वायरस लॉकडाउन लौट आया है। फिलहाल, नागपुर, अकोला और परभनी में लॉकडाउन है। वहीं औरंगाबाद में वीकेंड लॉकडाउन लगाया गया है। इसके अलावा पुणे में नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। अमरावती, नासिक, ठाणे, औरंगाबाद समेत कई जिलों में स्‍कूल बंद हैं। साथ ही इन जिलों में सख्‍त पाबंदियां लगाई गई हैं। 

पंजाब में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच कई जगहों पर नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। लुधियाना, पटियाला, मोहाली और फतेहगढ़ साहिब सहित आठ जिलों में नाइट कफ्र्यू लगाया गया है। यह कर्फ्यू रात 11 बजे से लेकर सुबह पांच बजे तक लागू रहेगा। राज्य में एक बार फिर स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया गया है। 13 मार्च से ये आदेश लागू होगा।
मध्य प्रदेश में भी कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए भोपाल और इंदौर में नाइट कर्फ्यू लगाया जा सकता है। इसके मद्देनजर रविवार या सोमवार से भोपाल और इंदौर में नाइट कर्फ्यू लगाया जा सकता है।

जबलपुर। एमपी में झूठी शान के लिए एक युवक ने खौफनाक वारदात को अंजाम दिया है। बहन की शादी से नाराज युवक ने अपने जीजा का सिर काट दिया है। वहीं, कटा हुआ सिर लेकर वह थाने में सरेंडर करने पहुंचा था। पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है। सदमे बहन ने भी फांसी लगा ली है।पुलिस ने बताया कि 35 वर्षीय एक युवक ने कुल्हाड़ी वार कर जीजा का सिर काट दिया है, जिसमें उसकी मौत हो गई है। मृतक ने आरोपी की बहन से भागकर शादी की है। 

उसके बाद उसने थाने में आकर सरेंडर कर दिया है। इस घटना की जानकारी मिलने पर आरोपी की 19 वर्षीय बहन ने भी घर में फांसी लगाकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली है। तिलवारा पुलिस थाने के निरीक्षक सतीश पटेल ने बताया कि मिंटू शिवराम शुक्ला उर्फ धीरज तिलवारा थाने में एक बोरी लेकर आया। उन्होंने बताया कि बोरी में विजेत कश्यप का कटा हुआ सिर था। पटेल ने आरोपी के हवाले से बताया कि तीन माह पहले कश्यप उसकी बहन के साथ भाग गया था और दोनों ने शादी कर ली थी। 

उन्होंने बताया कि पुलिस ने आरोपी की सूचना पर मृतक का बिना सिर का शव रामनगर इलाके के एक खेत से बरामद किया है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस घटना की जानकारी मिलने पर आरोपी की बहन ने भी घर में फांसी लगाकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। उन्होंने कहा कि पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि क्या आरोपी ने अपनी बहन की भी हत्या की या उसे आत्महत्या के लिये उकसाया था। पुलिस मामला दर्ज कर विस्तृत जांच कर रही है।@GI@

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गुजरात के अहमदाबाद में आजादी के 75वें साल के जश्न की शुरुआत की। जश्न के इस कार्यक्रम का नाम रखा गया है आजादी का अमृत महोत्सव देश की स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में मनाए जाने वाले आजादी का अमृत महोत्सव के तहत सात जगहों पर डिजिटल तरीके से प्रदर्शनियों का उद्घाटन किया गया। 

अहमदाबाद में मुख्य कार्यक्रम का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। इस मौके पर उन्होंने प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। उन्होंने आजादी का अमृत महोत्सव वेबसाइट भी लांच की। पीएम मोदी ने अभय घाट पर बापू को नमन कर अमृत महोत्सव का शुभारंभ किया। इसी के साथ-साथ गुजरात के छह अन्य स्थानों पर कई कार्यक्रम भी आयोजित किए जा रहे हैं। 


प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आपको याद होगा मेरे लिए क्या क्या कहा गया है। कभी रावण कहा गया, कभी दानव, कभी दैत्य तो कभी गुंडा कहा गया। दीदी, इतना गुस्सा क्यों? प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भाजपा की स्थापना के मूल में ही बंगाली चिंतन है। भाजपा वो पार्टी है जिसकी स्थापना की प्रेरणा, बंगाल के महान सपूत डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी हैं। भाजपा वो पार्टी है जिसके विचारों में बंगाल की महक है। भाजपा वो पार्टी है जिसके संस्कारों में बंगाल की परंपरा है।

कोलकाता। भारतीय सिनेमा के मशहूर अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती (बचपन का नाम गौरांग चक्रवर्ती) का जन्म जून 16, 1952 को कोलकाता में हुआ। कोलकाता के ही विख्यात स्कॉटिश चर्च कॉलेज से उन्होंने रसायन विज्ञान में बीएससी स्नातक की डिग्री हासिल की। उसके बाद वे भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान, पुणे से जुड़े और वहीं से स्नातक भी किया। भारत के राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्राप्त कर चुके  किवदंती फिल्म अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती सामाजिक कार्यकर्ता, उद्यमी और पूर्व राज्यसभा सदस्य हैं। मिथुन ने अपने अभिनय की शुरुआत कला फिल्म मृगया (1976) से की, जिसके लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए पहला राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार प्राप्त हुआ।  
1980 के दशक के अपने सुनहरे दौर में एक डांसिंग स्टार के रूप में उनके बहुत सारे प्रसंशक बने और खुद को उन्होंने भारत के सबसे लोकप्रिय प्रमुख अभिनेता के रूप में स्थापित किया, विशेष रूप से 1982 में बहुत बड़ी हिट फिल्म डिस्को डांसर में स्ट्रीट डांसर जिमी की भूमिका ने उन्हें लोकप्रिय बनाया।
कुल मिलाकर बॉलीवुड की 350 से अधिक फिल्मों में अभिनय के अलावा उन्होंने बांग्ला, ओड़िया और भोजपुरी में भी बहुत सारी फिल्में की। मिथुन मोनार्क ग्रुप के मालिक भी हैं जो होस्पिटालिटी सेक्टर में कार्यरत है।
यह बहुत ही कम लोगों को ज्ञात है कि मिथुन फिल्म उद्योग में प्रवेश करने से पहले एक कट्टर नक्सली थे। लेकिन उनके परिवार को कठिनाई का सामना तब करना पड़ा जब उनके एकमात्र भाई की मौत दुर्घटनावश बिजली के करंट लगने से हो गयी। इसके बाद मिथुन अपने परिवार में लौट आये और नक्सली  आंदोलन से खुद को अलग कर लिया, हालांकि ऐसा करने के कारण नक्सलियों से उनके जीवन को खतरा उत्पन्न हो सकता था, क्योंकि नक्सलवाद को वन-वे रोड माना जाता रहा। यह उनके जीवन का एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हुआ और जीवन में उन्हें एक आइकोनिक दर्जा प्रदान करने में प्रमुख कारण बना। यह बात भी कम लोग ही जानते हैं कि उन्होंने मार्शल आर्ट में महारत हासिल की है।
मिथुन ने भारतीय अभिनेत्री योगिता बाली से शादी की और वे चार बच्चे, तीन बेटे और एक बेटी के पिता हैं। ज्येष्ठ पुत्र, मिमो चक्रवर्ती, जिन्होंने 2008 में बॉलीवुड फिल्म जिमी से अपने अभिनय जीवन की शुरुआत की। उनका दूसरा बेटा, रिमो चक्रवर्ती जिसने फिल्म फिर कभी में छोटे मिथुन की भूमिका में अभिनय किया। मिथुन के अन्य दो बच्चे नमाशी चक्रवर्ती और दिशानी चक्रवर्ती अभी पढाई कर रहे हैं।

नई दिल्ली। रेल यात्रियों के लिए अच्छी खबर है। डिजिटल इंडिया की तरफ एक बड़ा कदम बढ़ाते हुए भारतीय रेल जल्द ही ट्रेन के अंदर डेबिट और क्रेडिट कार्ड से लेन-देन की सुविधा शुरू करने वाला है। इस सुविधा के बाद बिना टिकट पकड़े गए यात्री कार्ड से जुर्माने का भुगतान कर पाएंगे और यात्रा जारी रखने के लिए आगे की टिकट भी ले सकेंगे। इससे यात्रियों और टीटीई को सहूलियत होगी। हालांकि, नकदी का लेन-देन पहले की तरह जारी रहेगा।

जानकारी के अनुसार, मार्च माह के अंत तक यह सुविधा पूर्वोत्तर रेलवे में ट्रायल के तौर पर शुरू हो जाएगी। दिल्ली में भी इसके शुरू करने की कार्ययोजना बन रही है। जल्द ही इसे यहां भी लागू किया जाएगा। इसके लिए रेलवे ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से करार किया है। जल्द ही रेलवे कर्मियों को पीओएस मशीनें उपलब्ध करवा दी जाएंगी। किराया या जुर्माने के रूप में वसूली के पैसे सीधे रेलवे के खाते में जाएंगे। यात्रियों को भी डिजिटल भुगतान से सहूलियत होगी।

कोरोना की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन के कारण 24 मार्च 2020 से ही ट्रेनों का संचालन ठप था। हालांकि, बाद में सिलसिलेवार तरीके से देशभर में ट्रेनों की सेवा बहाल की जा रही है। ट्रेनों के परिचालन के दौरान यात्रियों को मास्क पहनना और सोशल डिस्टेसिंग मेंटेन करना जैसे कोविड-19 दिशानिर्देशों का पालन करना जरूरी है। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि कोरोना दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए परिचालन फिर से शुरू करने के लिए सभी आवश्यक तैयारियां की जा रही हैं। 

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निर्देश दिया गया कि कोरोना वायरस के मद्देनजर सभी प्राइवेट अस्पताल वरिष्ठ नागरिकों को दाखिल करने को प्राथमिकता दें। वरिष्ठ नागरिकों के कोरोना से प्रभावित होने की अधिक आशंका को देखते हुए यह निर्देश दिया गया है। इससे पहले 4 अगस्त 2020 को सुप्रीम कोर्ट  ने सरकारी अस्पतालों को यह निर्देश दिया था। मामले की सुनवाई जस्टिस अशोक भूषण और आर एस रेड्डी ने अपने 4 अगस्त 2020 के आदेश में संशोधन किया। 

मामले पर सीनियर एडवोकेट अश्विनी कुमार ने याचिका दायर की। उन्होंने वृद्धावस्था पेंशन को लेकर कोर्ट में अपनी याचिका दी थी जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने आज यह निर्देश जारी किया। अश्विनी कुमार ने यह भी बताया कि ओडिशा और पंजाब को छोड़ किसी और राज्य ने पहले दिए गए निर्देश पर कोई कदम नहीं उठाया है।शीर्ष कोर्ट ने इसके लिए अन्य राज्यों को तीन सप्ताह का समय दिया और जवाब देने का निर्देश जारी किया है।

पिछली सुनवाई में कोर्ट ने कहा था कि वृद्धावस्था पेंशन के पात्र सभी बुजुर्ग लोगों को समय पर पेंशन दी जानी चाहिए और कोविड-19 महामारी के दौरान राज्यों को उन्हें आवश्यक दवायें, सैनिटाइजर, मास्क और अन्य आवश्यक वस्तुयें प्रदान करनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि बुजुर्ग लोगों के कोरोना वायरस संक्रमण से ग्रस्त होने की ज्यादा संभावना को देखते हुए  सरकारी अस्पतालों में इन्हें प्राथमिकता के आधार पर भर्ती करना चाहिए। 

अस्पताल के प्रशासन इनकी परेशानियों के निदान के लिये तत्काल कदम उठाएं। देश में 1 मार्च से  कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे चरण की शुरुआत हुई है। इस चरण में 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों और गंभीर बीमारियों से पीड़ित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। वैक्सीनेशन के लिए लोग कोविन टू-पाइंट जीरो पोर्टल या आरोग्‍य सेतु जैसे एप पर रजिस्ट्रेशन करा रहे हैं। 


मामला अंबेडकरनगर के टांडा कोतवाली के अजीमनगर थाना क्षेत्र का है। इसकी चर्चा पूरे जिले में हो रही है। मिली जानकारी के अनुसार लड़की का कन्‍फ्यूजन इतना बढ़ा कि बाकायदा पंचायत बैठी। फिर पर्ची डालकर फैसला किया गया। पांच दिन पहले लड़की इन चार लड़कों के साथ घर से भाग गई थी। लड़कों ने लड़की को दो दिन अपनी रिश्तेदारी में छिपाए रखा लेकिन उसके बाद पकड़े गए।