Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



प्रयागराज।  संगमनगरी प्रयागराज  में एक अनोखी शादी  का मामला सामने आया है. यहां एक युवक ने अपनी दो प्रेमिका के साथ मंदिर में एक साथ रचा डाली शादी. इस शादी में मौजूद लोगों ने वीडियो बनाकर सोशल साइट्स पर पोस्ट कर दिया. यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल  हो रहा है. यह बताया जा रहा है कि शादी से पहले युवक की एक प्रेमिका ने धमकाया था कि अगर उसने शादी नहीं की तो वह जहर खाकर जान दे देगी. एक प्रेमिका ने भेजवाया था जेल पूरा मामला कर्नलगंज थाने के ढरहरिया इलाके का है, जहां पुलिस ने कुछ दिन पहले ही युवक को उसकी प्रेमिका को थप्पड़ मारने के आरोप में गिरफ्तार किया था. बताया जा रहा है कि युवक अपने इलाके की एक लड़की से प्रेम करता था. कई साल से उसकी प्रेम कहानी चल रही थी. 4 दिन पहले उसकी पहली प्रेमिका ने उसे दूसरे के साथ देख लिया तो हंगामा करने लगी. मामला इतना बढ़ा कि पूर्व प्रेमिका को थप्पड़ जड़ दिया. 

इस पर उसने पुलिस से शिकायत की, पुलिस ने मारपीट के आरोप में गिरफ्तार कर उसका शांति भंग में चालान कर दिया. जमानत पर रिहा होने पर रचाई शादी जमानत पर रिहा होने के बाद उसने सोमवार की देर शाम नई प्रेमिका से शादी करने की बात की तो पूर्व प्रेमिका भी वहां पहुंच गई. जिसके चलते वहां काफी हंगामा मच गया. इसके बाद घर के पास ही एक मंदिर में सबके सामने युवक ने अपनी दोनों प्रेमिकाओं के साथ शादी की और मंगलसूत्र भी पहनाया. इसके बाद दोनों को वह अपने साथ घर ले जाने की बात कह कर कहीं निकल गया. लेकिन बताया जा रहा है कि युवक को उसके घर वालों ने घर में घुसने नहीं दिया है. युवक कहां गया है, इसकी खबर अभीतक पता नहीं चल पाई है. अब इस शादी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और आसपास में यह शादी चर्चा का विषय बनी हुई है.

नई दिल्ली।  भारतीय दवा कंपनियों की निगाह चीन में करॉना वायरस की वजह से ऐक्टिव फार्मास्युटिकल्स एनग्रेडिएंट्स (सक्रिय औषधि अवयवों) की आपूर्ति पर पड़ने वाले असर पर है। वित्त वर्ष 2018-19 में चीन की दवा अवयवों के कुल भारतीय आयात में 67.56 प्रतिशत हिस्सेदारी थी। मूल्य के हिसाब से यह 240.54 करोड़ डॉलर बैठता है। यदि चीन में हालात में जल्द सुधार की शुरुआत नहीं हुई तो घरेलू दवा उद्योग पर इसका असर पड़ सकता है। इंडियन फार्मास्यूटिकल्स अलायंस के महासचिव सुदर्शन जैन कहा, सभी कंपनियां स्थिति की निगरानी कर रही हैं। सरकार भी मामले से अवगत है और सभी पक्ष स्थिति से निपटने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि चीन में स्थिति में हो रही प्रगति, 

महत्वपूर्ण सक्रिय अवयवों के भंडार आदि पर कड़ी निगाहें रखी जा रही हैं तथा उन वैकल्पिक स्रोतों को तलाशा जा रहा है, जहां से चुनिंदा अवयवों को मंगाने के लिए नियामकीय मंजूरियां मिल सकती हैं। जैन ने कहा भारत एंटिबायोटिक्स और विटामिन जैसे अवयवों को लेकर आयात पर निर्भर है। कंपनियां इन अवयवों का दो-तीन महीने का भंडार बनाकर रखती हैं। दवा कंपनी सनोफी इंडिया के प्रवक्ता ने कहा, अभी करॉना वायरस के पड़ सकने वाले असर का अनुमान लगा पाना जल्दबाजी होगा। हम आपूर्ति में कोई बाधा न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए स्थिति की करीबी से निगरानी कर रहे हैं।

दिल्ली। देश की जानी मानी बाइक निर्माता कंपनी हीरो मोटर्स अपनी कई सारी मोटरसाइकिल्स के वैरिएंट को बंद करने वाली है। इसके पीछे भारत छह के मानकों क़ो वजह बताया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक हीरो मोटोकॉर्प अपनी बीएस फोर बाइक्स के 50 वैरियंट्स को बंद करने की तैयारी कर रही है। कंपनी इन गाड़ियों की जगह अब बीएस सिक्स माडल की बाइक लांच करेगा। इसी कड़ी में कंपनी ने अपनी मशहूर बाइक स्पलेंडर का आई स्मार्ट वर्जन बाजार में उतारा है। कहा जा रहा है कि स्पलेंडर आई स्मार्ट देश की पहली BS6 उत्सर्जन मानक वाली बाइक है। कंपनी की योजना है कि धीरे-धीरे BS4 बाइक्स के प्रोडक्शन में कमी लाई जाए। जिसकेे तहत कंपनी विभिन्न बाइकों के लगभग पचास वैैैरिएंंट को बंद कर देगी। वहीं BS4 मानक वाली जिन वेरियंट्स को कंपनी बंद करने की योजना बना रही है उन्हें स्प्लेंडर, एचएफ डीलक्स, ग्लैमर और प्लीजर स्कूटर शामिल हैं।

पुणे। महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने बुधवार को एक कार्यक्रम में कहा कि कम विधायकों के साथ कैसे सरकार बनाई जा सकती है, यह बात हमें शरद पवार ने सिखाई है। उद्धव ने महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर चुटकी लेते हुए कहा, शरद पवार ने हमें सिखाया कि कैसे खेती में पैदावार बढ़ाई जा सकती है। उन्होंने ही यह भी सिखाया कि कैसे कम विधायकों के बाद भी सरकार बनाई जा सकती है।

बीजेपी के नेता और पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस पर तंज कसते हुए ठाकरे ने कहा कि वह कहते थे कि बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी है। लेकिन हमने कम विधायक होने के बाद भी बहुमत की सरकार बना ली। पुणे में वसंतदादा शुगर इंस्टिट्यूट में आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए ठाकरे ने सूबे के सभी किसानों का कर्ज पूरी तरह से माफ करने का भी भरोसा दिया।

साथ लड़े थे बीजेपी-शिवसेना, बाद में टूटा गठबंधन
कुछ दिनों पहले ही उनकी सरकार ने 1 अप्रैल, 2015 से 31 मार्च, 2019 के दौरान लिए गए दो लाख रुपये तक के कृषि ऋण माफ करने का ऐलान किया था। बता दें कि बीजेपी और शिवसेना ने साथ मिलकर महाराष्ट्र में विधानसभा का चुनाव लड़ा था, लेकिन बाद में शिवसेना के सीएम पद पर अड़ने को लेकर गठबंधन टूट गया था।

एक महीने से ज्यादा के नाटकीय घटनाक्रम के बाद सीएम बने थे उद्धव

24 अक्टूबर को चुनाव के नतीजे आए थे, लेकिन महीने भर से ज्यादा वक्त तक चलते नाटकीय घटनाक्रम के बाद आखिरकार शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार का गठन किया था। 28 नवंबर को शिवसेना के चीफ उद्धव ठाकरे ने सीएम पद की शपथ ली थी। महाराष्ट्र और ठाकरे परिवार के इतिहास में यह पहला मौका है, जब फैमिली का कोई सदस्य सीएम या फिर किसी संवैधानिक पद पर आसीन हुआ हो।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह कहना कि 2014 में केंद्र की सत्ता में आने के बाद से अब तक नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस (NRC) को देशभर में लागू करने की बात तक नहीं हुई, यह बताता है कि बीजेपी इस अतिसंवेदनशील मुद्दे पर आगे नहीं बढ़ने जा रही है। इसी महीने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के अस्तित्व में आने के बाद असम और मेघालय में विरोध की ज्वाला फूट पड़ी थी जिसने धीरे-धीरे पूरे देश को अपनी चपेट में ले लिया। पश्चिम बंगाल से लेकर केरल तक हुए प्रदर्शनों में लगातार हिंसा होती रही, आगजनी की गई और संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया।

प्रधानमंत्री ने रविवार को दिल्ली की एक रैली में सीएए को एनआरसी से बिल्कुल अगल बताते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी दोनों मुद्दों पर अफवाह फैलाकर मुस्लिमों को भड़काने में जुटी है। हालांकि, हकीकत यह है कि गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पूरे देश मे एनआरसी लागू करने की बात कही थी।
शाह और नड्डा ने क्या कहा था?
शाह ने 9 दिसंबर को नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) पर चर्चा के दौरान लोकसभा में कहा था कि मोदी सरकार घुसपैठियों की पहचान कर उन्हें देश से बाहर निकालने के लिए देशभर में एनआरसी निश्चित रूप से लागू करेगी। वहीं, नड्डा ने पिछले हफ्ते प्रदर्शनों के दौरान कड़ा रुख अपनाते हुए कहा था कि देशभर में सीएए के साथ-साथ एनआरसी भी लागू होगी। शाह ने झारखंड में चुनावी रैली के दौरान भी कहा था कि 2024 में अगले लोकसभा चुनाव से पहले देशभर में एनआरसी लागू कर दी जाएगी।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर आयोजित बीजेपी की विशाल रैली के कुछ घंटे बाद ही नेताजी सुभाषचंद्र बोस के पोते और राज्‍य में बीजेपी के उपाध्‍यक्ष चंद्र कुमार बोस ने सीएए को लेकर सवाल उठाया है। उन्‍होंने सवाल किया कि सीएए में मुस्लिमों को क्‍यों शामिल नहीं किया गया है?

चंद्र कुमार बोस ने ट्वीट कर कहा, यदि सीएए 2019 किसी धर्म से जुड़ा नहीं है तो क्‍यों हम हिंदू, सिख, बौद्ध, ईसाइयों, पारसियों और जैन लोगों पर ही जोर दे रहे हैं। क्‍यों मुस्लिमों को शामिल नहीं किया जाता? हमें पारदर्शी बनना चाहिए। यदि मुस्लिमों के साथ उनके गृह देश में उत्‍पीड़न नहीं होगा तो वे नहीं आएंगे, इसलिए उन्‍हें शामिल करने में कोई नुकसान नहीं है। बता दें कि बीजेपी की यह मेगा रैली सोमवार को हुई थी।
मैं बीजेपी नहीं छोड़ रहा हूं
बोस ने कहा, हालांकि यह पूरी तरह से सच नहीं है। बलूचों के बारे में क्‍या जो पाकिस्‍तान और अफगानिस्‍तान में रहते हैं? पाकिस्‍तान के अहमदिया लोगों के बारे में क्‍या? उन्‍होंने कहा कि भारत की तुलना या उसकी बराबरी किसी अन्‍य देश से मत करिए क्‍योंकि यह देश सभी धर्मों और समुदायों के लिए खुला है। बोस के इस ट्वीट के बाद उनके बीजेपी छोड़ने की अटकलें शुरू हो गईं। हालांकि खुद बोस ने इसका खंडन किया है।

नई दिल्ली। ऐसा नहीं है कि बीजेपी नेतृत्व को झारखंड की सियासी हवा का अंदाज नहीं था। आलाकमान को पता था कि इस बार का चुनाव बहुत कठिन होने जा रहा है और कोई चमत्कार ही हार को टाल पाएगा। हालांकि, सूबे में पहली बार नंबर वन पार्टी का ताज भी छिन जाएगा, इससे शायद नेतृत्व को हैरानी हुई होगी। बीजेपी नेतृत्व का यह आकलन सीएम रघुबर दास के बारे में मिले फीडबैक पर आधारित था। विकास के मोर्चे पर अच्छे कामों पर दास का अहंकारी, अड़ियल और चिड़चिड़ा रवैया भारी पड़ गया और उनका यही रवैया सूबे में पार्टी को एक साथ लेकर चलने के संबंध में उनकी अक्षमता का सबब बन गया।

मुख्यमंत्रियों के सशक्तीकरण की नीति पर फिर से विचार मुमकिन
एक और राज्य में शिकस्त से बीजेपी अबतक अपने मुख्यमंत्रियों को लेकर अपनी रणनीति पर पुनर्विचार के लिए मजबूर हो सकती है। हाल के वर्षों में बीजेपी की यही रणनीति रही है कि संबंधित राज्यों में मुख्यमंत्रियों को एक तरह से फ्री हैंड दे दिया जाता है। सरकार चलाने से लेकर चुनाव में टिकट देने, न देने से लेकर संभावित गठबंधन पर फैसले तक में संबंधित मुख्यमंत्रियों की ही चलती है। हालांकि, हार के बाद बीजेपी मुख्यमंत्रियों को ज्यादा ताकत देने की अपनी नीति पर फिर से मंथन कर सकती है।

जींद। हरियाणा के नरवाना में सड़कों पर बुलेट मोटरसाइकल से पटाखे बजाकर इलाके में दहशत फैलाना दो युवकों को भारी पड़ गया। यातायात पुलिस ने चालक का 32 हजार रुपये का चालान काटकर मोटरसाइकल को जब्त कर लिया। यातायात सिपाहियों ने तेजी से भाग रहे चालकों का दूर तक पीछा किया और पकड़े जाने पर उनका चालान काट दिया।
यातायात पुलिस के प्रभारी एएसआई सुशील कुमार ने बताया कि बुलेट मोटरसाइकिल सवार दो युवक शहर के अंदर काफी समय से बुलेट मोटरसाइकिल से पटाखे जैसी आवाज निकाल रहे थे। यातायात पुलिस से लोगों ने इसकी शिकायत की।

सुशील ने बताया कि बुलेट मोटरसाइकिल चालक तेजी से बाइक भगाते हुए पुराना बस स्टैंड की ओर गए। इसके बाद उन्होंने सिपाही संजय कुमार को साथ लेकर उनका पीछा करना शुरू कर दिया। पुलिस ने दोनों युवकों को पकड़कर 32 हजार रुपये का चालान काट दिया और मोटरसाइकल भी जब्त कर ली।

लखनऊ। यूपी में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हुए प्रदर्शनों के बाद सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ सूबे की योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने कार्रवाई शुरू कर दी है। यूपी पुलिस ने ऐसे लोगों को चिन्हित कर उन पर जुर्माना लगाकर, उन्हें वसूली नोटिस भेजना शुरू कर दिया है। जुर्माना नहीं चुकाने पर संपत्ति को कुर्क करने की बात हो रही है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, 19 दिसंबर को हुई हिंसा के बाद पुलिस ने उपद्रवियों को सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से चिन्हित किया है और इसी के आधार पर उन पर कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है। उधर, लखनऊ में हुई हिंसा के मामले में पकड़े गए आधा दर्जन से ज्यादा लोगों का पश्चिम बंगाल से कनेक्शन सामने आया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, लखनऊ में हिंसा के दौरान इन्हें पश्चिम बंगाल से बुलाया गया था।

लखनऊ में 218 लोग गिरफ्तार: डीजीपी
पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने बताया कि उग्र प्रदर्शन मामले में सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया गया है। लखनऊ में ही करीब 218 लोग गिरफ्तार हुए हैं। डीजीपी ने कहा, मामले की जांच जारी है। प्रदर्शन में एनजीओ और बाहरी तत्व शामिल हो सकते हैं। हम जांच करा रहे हैं और किसी को छोड़ा नहीं जाएगा। निर्दोष को कोई परेशानी नहीं होगी।
डीजीपी ने कहा, अब तक प्रदेश में 9 लोगों की मौत हुई है। जिन लोगों की मौत हुई है, वे क्रॉस फायरिंग में मारे गए हैं। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में स्थिति साफ हो जाएगी। मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने संशोधित नागरिकता कानून को लेकर फैलाए जा रहे बहकावे में नहीं आने की अपील करते हुए कहा था कि उपद्रव और हिंसा की छूट किसी को नहीं दी जा सकती।

नई दिल्ली। उन्नाव रेप केस में आरोपी कुलदीप सेंगर को दिल्ली के तीस हजारी अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई है. साथ ही अदालत ने 25 लाख रुपए जुर्माना भी लगाया है, पीड़िता की बड़ी बहन ने फैसले को न्यायोचित बताते हुए खुशी जताई है, भारतीय जनता पार्टी के निष्कासित विधायक कुलदीप सेंगर को उन्नाव रेप केस में तीस हजारी अदालत ने सुनवाई के बाद 17 दिसंबर को दोषी करार दिया था. इसके बाद सजा पर बहस होने के बाद शुक्रवार को अदालत ने अपना फैसला सुनाया है. सेंगर को 120 बी (आपराधिक साजिश)  363 (अपहरण) 366 (शादी के लिए महिला का अपहरण या उत्पीड़न) 376 बलात्कार और अन्य संबंधित धाराओं और POCSO के तहत दोषी ठहराया गया है, मामले में अदालत पहले ही उनके साथ आरोपी बनाई गईं शशि सिंह को बरी कर दिया है। 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में धारा-144 लागू होने के बावजूद नागरिकता कानून के विरोध में कई जिलों में जबरदस्त प्रदर्शन हुआ। लखनऊ में उप्रदवियों ने मदेयगंज चौकी के बाहर खड़ी तीन बाइक फूंक दी। वहीं, संभल जिले में रोजवेज की बस में आग लगा दी। पथराव करके 10 से ज्यादा वाहनों को तोड़ दिया। दोनों ही जगहों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और लाठीचार्ज करके उप्रदवियों को खदेड़ा। नागरिकता कानून के विरोध में समाजवादी पार्टी और कई संगठनों ने प्रदर्शन का आह्वान किया था। इसे देखते हुए पूरे प्रदेश में धारा-144 लागू कर दी गई थी। संवेदनशील इलाकों में आरएएफ, पीएसी, क्विक रिस्पांस टीम तैनात की गई। उपद्रवियों ने की फायरिंग राजधानी लखनऊ में मदेयगंज, खदरा और ठाकुरगंज में हिंसक प्रदर्शन हुआ। खदरा में भीड़ और पुलिस में गुरिल्ला युद्ध की तरह झड़प जारी है। उपद्रवी छतों से पथराव कर रहे हैं। मदेयगंज में भीड़ की ओर से भी फायरिंग हुई। पुलिस ने जवाब में हवाई फायरिंग की और आंसू गैस के गोले दागे। भीड़ गलियों में से निकलकर बार-बार पथराव कर रही है। मदेयगंज पुलिस चौकी के बाहर खड़ी तीन बाइकों को भी उपद्रवियों ने फूंक दिया। प्रदर्शनकारी हजरतगंज की ओर बढ़ रहे हैं। 


रास्ते में परिवर्तन चौक पर बस समेत कई गाड़ियों में तोड़फोड़ व आगजनी की गई है। वहीं, परिवर्तन चौक से कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को पुलिस ने हिरासत में लिया है। डीएम अभिषेक प्रकाश ने कहा- आरएएफ तैनात की गई है। माहौल शांत है। स्थिति काबू में है। चार मेट्रो स्टेशन बंद लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन ने प्रदर्शन को देखते हुसैनगंज से लखनऊ विश्वविद्यालय के बीच चार मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए गए हैं। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया। इनके नाम फवाद, सदन अली और अली मुल्ला खान हैं। संभल में बस फूंकीं, वाहनों में तोड़फोड़ संभल: यहां सदर इलाके में उप्रदवियों ने रोडवेज बस में आग लगा दी। पुलिस और प्रशासन की 10 से ज्यादा गाड़ियों में तोड़फोड़ की। पुलिस ने लाठीचार्ज कर उपद्रवियों को खदेड़ा। आंसू गैस के गोले दागे हैं। हालात तनावपूर्ण हैं। भीड़ ने मीडियाकर्मियों को भी निशाना बनाया। इसमें कई लोग घायल हुए।

नई दिल्ली। नैशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल (NCLAT) ने साइरस मिस्त्री को टाटा सन्स के एग्जिक्युटिव चेयरमैन के पद पर बहाल करने का आदेश दिया है। NCLAT ने कहा कि मिस्त्री फिर से टाटा संस के एग्जिक्युटिव चेयरमैन नियुक्त किए जाएं। साथ ही, उसने एन. चंद्रशेखरन के इस पद पर नियुक्ति को गैरकानूनी बताया। हालांकि, न्यायाधिकरण ने कहा कि बहाली आदेश चार सप्ताह बाद अमल में आएगा। टाटा संस को अपील करने के लिए यह समय दिया गया है।

NCLAT के दो सदस्यीय बेंच ने यह फैसला सुनाया है। NCLAT में यह याचिका मिस्त्री और दो इन्वेस्टमेंट फर्म की तरफ से दाखिल की गई थी। जुलाई में अपीलेट ने फैसला सुरक्षा रख लिया था। साइरस मिस्त्री टाटा सन्स के छठे चेयरमैन थे और उन्हें इस पद से अक्टूबर 2016 में हटा दिया गया था। रतन टाटा के बाद उन्होंने 2012 में चेयरमैन का पदभार ग्रहण किया था।
एनसीएलएटी के फैसले पर साइरस मिस्त्री ने कहा, न्यायाधिकरण ने आज जो फैसला दिया है, वह न सिर्फ मेरी व्यक्तिगत जीत है, बल्कि गुड गवर्नेंस के सिद्धांतों तथा अल्पांश हिस्सेदारों (माइनॉरिटी शेयरहोल्डर) के अधिकारों की जीत है। मेरी अपील पर न्यायाधिकरण का फैसला मेरे रुख की पुष्टि करता है।

पटना। बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के परिवार में फिलहाल कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। लालू यादव की बहू ऐश्वर्या ने रविवार को ससुरालवालों पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए पांच लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। अब लालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी ने अपनी बहू ऐश्वर्या के खिलाफ पुलिस में शिकायत दी है। राबड़ी ने अपनी शिकायत में कहा है कि उन्हें बहू ऐश्वर्या से जान का खतरा है। राबड़ी ने अपनी शिकायत में यह भी कहा है कि उनकी बहू ने अक्टूबर में उन पर जानलेवा हमला किया था।

बता दें कि ऐश्वर्या ने अपने पति तेज प्रताप, अपनी सास और बिहार की पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी और अपनी ननद मीसा भारती सहित पांच लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। पटना के 10 सर्कुलर रोड स्थित राबड़ी के आवास के बाहर रविवार देर शाम ऐश्वर्या ने आरोप लगाया कि राबड़ी देवी ने अपनी महिला सुरक्षाकर्मियों के साथ मिलकर उनका बाल खींचा और मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया।
पुलिस अभी इस मामले की जांच में जुटी थी कि इसी बीच राबड़ी देवी ने भी अब बहू के खिलाफ शिकायत दर्ज करा दी है। रविवार रात ही राबड़ी देवी ने सचिवालय पुलिस थाने में इसकी शिकायत दी। शिकायत की एक कॉपी बाद में महिला थाने में भेज दी गई।
बहू ने मुझे पर हमला किया, अपशब्द कहे
अपनी शिकायत में राबड़ी ने कहा है, जब मैं पार्टी विधायक शक्ति सिंह यादव के साथ कमरे में बैठी थी। उसी वक्त ऐश्वर्या अचानक कमरे में आईं और मुझ पर हमला बोल दीं। ऐश्वर्या ने बिना किसी उकसावे के मुझे अपशब्द भी कहे।राबड़ी ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि वह किसी भी तरह से कमरे से बाहर भागने में सफल रहीं और अपने बचाव के लिए चिल्लाईं। राबड़ी ने कहा है कि इसके बाद सुरक्षाकर्मी मौके पर पहुंचे और उन्हें बचाया।

मुंबई। महाराष्ट्र में शिवसेना ने कांग्रेस के समर्थन से सरकार भले ही बना ली हो, दोनों पार्टियों के बीच वैचारिक मतभेद पटते नहीं दिख रहे हैं। ताजा विवाद कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के उस बयान पर हो गया है कि वह राहुल सावरकर नहीं हैं। दरअसल, बीजेपी के रेप इन इंडिया बयान पर राहुल ने कह दिया कि उनका नाम राहुल सावरकर नहीं है, वह कभी माफी नहीं मांगेंगे। इस पर शिवसेना के सीनियर नेता संजय राउत ने नसीहत दे डाली कि नेहरू-गांधी की तरह सावरकर भी देश के गौरव है, उनका अपमान नहीं होना चाहिए।

शिवसेना सांसद संजय राउत ने ट्वीट कर कहा है कि सभी महानायकों का सम्मान होना चाहिए। उन्होंने सावरकर को सिर्फ महाराष्ट्र नहीं, पूरे देश के लिए गौरव बताया है। राउत ने कहा है कि नेहरू-गांधी की तरह सावरकर ने भी देश के लिए बलिदान दिया था। उन्होंने ट्वीट किया- वीर सावरकर सिर्फ महाराष्ट्र के ही नहीं, देश के देवता हैं, सावरकर नाम में राष्ट्र अभिमान और स्वाभिमान है। नेहरू-गांधी की तरह सावरकर ने भी देश की आजादी के लिए जीवन समर्पित किया। इस देवता का सम्मान करना चाहिए। उसमें कोई भी समझौता नहीं होगा। जय हिंद।

बेंगलुरु। भारतीय राजनेताओं पर ज्योतिष विद्या के असर के बारे में अनेक किस्से प्रचलित हैं। चुनाव में सफलता के लिए नाम की स्पेलिंग बदलने समेत कई ऐसे टोटके नेताओं द्वारा इस्तेमाल किए गए हैं। हालिया घटनाक्रम में देखें तो कर्नाटक के चौथी बार सीएम बनने के बाद येदियुरप्पा ने अपने नाम की स्पेलिंग बदल ली थी और कथित रूप से उन्हें इसका फायदा भी मिला है।

बता दें कि जुलाई में मुख्यमंत्री बनने के साथ ही येदियुरप्पा ने अपने नाम की अंग्रेजी स्पेलिंग बदल दी थी और इसे वाईईडीडीवाईयूआरएपीपीए (YEDDYURAPPA) की जगह वाईईडीआईवाईयूआरएपीपीए (YEDIYURAPPA) कर दिया था। ऐसा माना गया कि यह बदलाव उन्होंने अंक ज्योतिष से प्रभावित होकर किया। मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण से ठीक पहले अपने नाम की स्पेलिंग में बदलाव करने के बाद येदियुरप्पा शक्ति परीक्षण में पास हो गए।

इतना ही नहीं, इसके बाद बीजेपी ने उनके नेतृत्व में 5 दिसंबर को 15 सीटों पर हुए उपचुनाव में 12 सीटों पर जीत दर्ज कर ली। इससे उनकी सरकार को बहुमत के साथ आवश्यक स्थिरता प्राप्त हो गई। बीजेपी के एक पदाधिकारी से इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह इस तरह से चुनाव में उनका भाग्य हो सकता है या फिर महज एक संयोग हो सकता है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि कौन किस चीज को किस तरह से लेता है। बता दें कि येदियुरप्पा से पहले एआईएडीएमके की दिवंगत नेता और पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता समेत कई नेता ऐसा कर चुके हैं।

चेन्नैं। तमिलनाडु के चेन्नै में सोमवार को आठ महीने की एक बेटी बिल्डिंग के पांचवें फ्लोर से नीचे जा गिरी। चमत्कारिक ढंग से बच्ची की जान बच गई। हालांकि, बच्ची के पैर में एक फ्रैक्चर आया है और एक निजी अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। बताया गया कि जिस बिल्डिंग से बच्ची गिरी उसके पांचवें फ्लोर की ऊंचाई लगभग 50 फीट है।

घटना सोमवार सुबह 10:30 बजे की है। सॉकरपेट इलाके में रहने वाली बच्ची जिनिशा अपनी मां के बेडरूम की बालकनी में खेल रही थी। खेलने के दौरान ही बालकनी में लगी स्टील की रेलिंग से फिसल गई। जिस दौरान यह हादसा हुआ उस समय बच्ची की मां और उसकी बुआ खाना बना रही थी। उन दोनों को बच्ची के गिरने का पता तब चला, जब किसी पड़ोसी ने आकर दरवाजा खटखटाया।

जिनिशा को तुरंत अस्पताल ले जाया गया। शुरुआती जांच के बाद डॉक्टर ने बताया कि उसके दिमाग और रीढ़ की हड्डी में कोई चोट नहीं आई है। उसके पैर में फ्रैक्चर जरूरी हो गया है। इस कारण कुछ हफ्तों के लिए वह पैर का इस्तेमाल नहीं कर सकेगी। डॉक्टरों ने बताया कि बच्ची को अब कोई और समस्या नहीं है और वह खाना (बच्चों का) भी खा रही है।
घटना के दौरान वहां मौजूद एक आदमी ने बताया, मैं खड़ा होकर अखबार पढ़ रहा था तो मैंने देखा कि वहीं खड़ी स्कूटी पर कुछ गिरा। पहले मुझे लगा कि कोई गुड़िया है। कुछ देर तक बच्ची वहीं पड़ी रही फिर फिसल गई। तब मुझे लगा कि वह बच्ची है। मैं बच्ची को पकड़ता तब तक वह नीचे गिर गई।

रास्ते से गुजर रहे ऑटो रिक्शा वाले ने अपनी सवारियों को वहीं उतार दिया, जिससे वह बच्ची को बचा सके। कुछ चश्मदीदों ने बताया कि खून बहने के बावजूद कुछ देर तक बच्ची कोई हरकत नहीं कर रही थी। थोड़ी देर बाद बच्ची ने रोना शुरू किया। आसपास के दुकानदार बच्ची को लेकर अस्पताल गए और बाकी के लोग ढूंढने लगे कि बच्ची किसकी है। 20 मिनट बाद बच्ची की मां को इसकी जानकारी मिली। बच्ची की बुआ ने कहा, हमें लगा कि बच्ची बेडरूम में खेल रही होगी। भगवान की कृपा से हमारी बेटी बच गई।

भुवनेश्वर। केंद्र सरकार राज्यों में स्वच्छता अभियान के तहत शौचालयों का निर्माण करवा रही है ताकि महिलाओं को खुले में शौच के लिए ना जाना पड़े। वहीं गरीबों को घर भी दे रही है ताकि उनके सिर पर छत हो। लेकिन ओडिशा में एक ऐसी बुजुर्ग महिला है जिसके पास सिर पर छत के नाम पर एक शौचालय है जिसमें वो पिछले तीन साल से रह रही है। मामला ओडिशा के मयूरभंज का है। यहां एक 72 साल की बुजुर्ग महिला जिनका नाम द्रौपदी बेहरा है वो शौचालय में रहने के लिए मजबूर हैं। द्रौपदी ने शैचालय में ही किचन बना लिया है और वहीं सोती भी हैं। वो अकेली नहीं हैं, उनके साथ उनका पूरा परिवार जिनमें उनका पोता और बेटी भी हैं वो शौचालय के बाहर सोते हैं। यह शौचालय कनिका गांव के प्रशासन द्वारा बनवाया गया है। द्रौपदी के अनुसार उन्होंने घर देने की मांग की थी तो अधिकारियों ने उन्हें आश्वासन दिया था लेकिन अब तक कुछ नहीं हुआ। वहीं गांव के सरपंच बुधुराम पुट्टी के अनुसार मेरे पास कोई पावर नहीं है कि मैं उनके लिए घर बनाकर दे दूं। जब भी कोई स्कीम के तहत मकान बनाने का अधिकार मिलेगा तो सबसे पहले मैं उन्हीं को घर बनाकर दूंगा हालात की जानकारी मिलने पर मानवाधिकार आयोग के वकील, सत्या मोहंती ने केंद्र और राज्य सरकार से अपील की है कि इस मामले में संज्ञान लें।

कोलकाता।  भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ कोलकाता में अजीब वाकया हो गया। नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय विमानतल पर धोनी का लगेज कोई दूसरा व्यक्ति लेकर चला गया। लगेज स्वैप होने की जानकारी जैसे ही धोनी को लगी, वे परेशान हो गए। उधर इस मामले में एयरलाइंस ने अपनी गलती स्वीकार की है। बता दें कि धोनी सोमवार को कोलकाता पहुंचे थे। यहां धोनी ने एक बैग उठाया और आगे बढ़ गए। तब उन्हें पता चला कि उनके हाथ में जो बैग है वो किसी दूसरे व्यक्ति का है। तुरंत ही एयरलाइंस कंपनी के कर्मचारी धोनी के पास पहुंचे और उन्हें इस बात की सूचना दी कि कोलकाता एयरपोर्ट पर उनके सामान की अदला-बदली हो गई है। धोनी ये सुनकर चौंक गए। दरअसल उनके साथ कभी ऐसा नहीं हुआ। लेकिन एक जैसे बैग होने के कारण लगेज की अदला-बदली हो गई। एयरलाइंस कर्मचारियों ने बताया कि धोनी का लगेज गलती से किसी दूसरे व्यक्ति के साथ स्वैप हो गया। धोनी नई दिल्ली से कोलकाता पहुंंचे थे। एयरलाइंस ने अपनी गलती स्वीकार करते हुए धोनी से माफी मांगी। इसके अलावा एयरलाइंस की ओर से आश्वासन दिया गया कि जल्द ही धोनी का लगेज उन्हें दोबारा पहुंचा दिया जाएगा। अपनी गलती सुधारने के लिए एयरलाइंस के अधिकारियों ने उस पैसेंजर से भी संपर्क किया जो गलती से एयरपोर्ट से धोनी का सामान ले गया था। अधिकारियों ने उक्त यात्री से धोनी का लगेज लेकर उसे उसका बैग दिया। बताया जा रहा है कि एयररलाइंस ने धोनी को उनका लगैज कुछ घंटों बाद सौंप दिया। एयरपोर्ट के संबंधित अधिकारियों का कहना है कि ये अदला-बदली ऑपरेटर की खराबी के कारण हुई। मिस मैनेजमेंट की वजह से दो यात्रियों को थोड़ी परेशानी उठानी पड़ी क्योंकि उनके लगेज आपस में बदल गए थे। हालांकि बाद में माफी के साथ दोनों यात्रियों को उनके लगेज सुरक्षित लौटा दिए गए।

अधीर रंजन चौधरी ने कहा, हिंदुस्तान में कठुआ से उन्नाव तक हर दिन एक के बाद एक सामूहिक रेप की घटना और पीड़िताओं को जलाने की घटनाएं घटती हैं। रोजाना 106 रेप की घटनाएं होते हैं। 10 में से 4 नाबालिग होती हैं। 4 घटनाओं में से सिर्फ में 1 सजा मिलती है। हमारे सदन में उन्नाव पर चर्चा हुई है, लेकिन झुलसी हुई उस महिला की मौत हो गई। हम सब शर्मिंदा हैं।

उन्होंने आगे कहा, चौधरी ने मंगलवार को लोकसभा में चर्चा के दौरान कहा, दुर्भाग्यपूर्ण है प्रधानमंत्री जो हर मुद्दे पर बोलते हैं, इस मुद्दे (महिलाओं के खिलाफ अपराध) पर चुप हैं। भारत धीरे-धीरे मेक इन इंडिया से रेप इन इंडिया की ओर बढ़ रहा है।

बरही (झारखंड)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झारखंड विधानसभा चुनाव के तीसरे दौर के मतदान से पहले सोमवार को बरही में चुनावी रैली को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने भाषण में कर्नाटक उपचुनावों के नतीजों के रुझानों में बीजेपी की मजबूत स्थिति का जिक्र किया। उन्होंने जनता से अपील की कि अगर वे झारखंड का विकास चाहते हैं तो बीजेपी को पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने दें।

मोदी ने कर्नाटक के राजनीतिक संकट का जिक्र करते हुए झारखंड की जनता को आगाह किया और कहा, अगर त्रिशंकु परिणाम आता है तो कर्नाटक की तरह तबाह करने वाले मैदान में आ जाते हैं। इसलिए हम तय करें कि हम झारखण्ड को बर्बाद नहीं होने देंगे। गौरतलब है कि कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों के लिए हुए उपचुनाव के लिए वोटों की गिनती जारी है। अभी तक के रुझानों में जनादेश स्पष्ट रूप से बीजेपी के पक्ष में है। उधर महज दो सीटों पर आगे चल रही कांग्रेस ने हार मान ली है।
कर्नाटक की कांग्रेस सरकार की याद दिलाई
इससे पहले मोदी ने कर्नाटक की कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार पर तंज कसते हुए कहा, बीजेपी को रोकने के लिए इन्‍होंने जो सीएम बनाया था उसे भी रोज बंदूक दिखाई जाती थी। वह सीएम जनता के बीच रोता, गिड़गिड़ाता था। कर्नाटक के सीएम का हाल किडनैप होने वाले से भी बुरा कर दिया था।