Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



खेल टेक्स। आइसीसी की ताजा टेस्ट रैंकिंग में न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के कप्तान केन विलियमसन पहले स्थान पर हैं। पाकिस्तान के खिलाफ दूसरे टेस्ट में 238 रन की पारी खेलने के बाद टेस्ट रैंकिंग में उनके 919 अंक हो गए हैं और ये किसी भी कीवी बल्लेबाज द्वारा टेस्ट रैंगिक में हासिल किया गया अब तक का सबसे बेस्ट रेटिंग प्वाइंट है। वहीं भारत के खिलाफ सिडनी टेस्ट मैच की दोनों पारियों में 131 और 81 रन की पारी खेलने वाले स्टीव स्मिथ दूसरे स्थान पर आ गए हैं। 

उन्होंने अपनी इस पारी से विराट कोहली को पीछे छोड़ दिया जो तीसरे स्थान पर खिसक गए हैं।  भारतीय बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने सिडनी टेस्ट मैच की पहली पारी  में 50 रन और दूसरी पारी में 77 रन बनाए थे। इस पारी के दम पर उन्हें फायदा हुआ है और वो दसवें नंबर से आठवें स्थान पर आ गए हैं। वहीं इस टेस्ट मैच की पहली पारी में 36 और फिर दूसरी पारी में 97 रन की पारी खेलने वाले भारतीय बल्लेबाज रिषभ पंत 26वें स्थान पर आ गए हैं। वहीं भारतीय बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे को रैंकिंग में एक स्थान का नुकसान हुआ है और वो सातवें स्थान पर पहुंच गए हैं।  


गेंदबाजों की रैंकिंग की बात करें तो आर अश्विन को दो स्थान का नुकसान हुआ है और वो दूसरे स्थान पर आ गए हैं तो वहीं जसप्रीत बुमराह एक स्थान के नुकसान के साथ दसवें पोजीशन पर आ गए हैं। पैट कमिंस पहले स्थान पर बने हुए हैं तो वहीं स्टुअर्ट ब्रॉड दुसरे नंबर पर हैं। गेंदबाजों की रैंकिंग में सबसे ज्यादा फायदा जोस हेजलवुड को हुआ है तो तीन पायदान ऊपर आ गए हैं और पांचवें नंबर पर पहुंच गए हैं।  

खेल टेक्स। भारतीय क्रिकेट टीम के सामने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार मैचों की सीरीज के आखिरी टेस्ट में उतरने से पहले मुश्किल खड़ी हो गई है। पिछले दौरे पर भारत को सीरीज में जीत दिलाने वाले चारों प्रमुख तेज गेंदबाज चोटिल होकर सीरीज से बाहर हो चुके हैं। इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, उमेश यादव के बाद अब जसप्रीत बुमराह भी चोटिल होकर भारत लौटेंगे।

भारतीय टीम के लिए ब्रिसबेन में खेला जाने वाला सीरीज का आखिरी मुकाबला गेंदबाजी के लिहाज से मुश्किल चुनौती होने वाला है। मोहम्मद सिराज इस वक्त टीम के पास सबसे अनुभवी गेंदबाज हैं। इस गेंदबाज ने इसी दौरे पर टेस्ट डेब्यू किया था और अब तक महज 2 मैच ही खेला है। सिराज के साथ नवदीप सैना और शार्दुल ठाकुर होंगे जिनके पास एक-एक टेस्ट में खेलने का अनुभव है। शार्दुल तो अपने टेस्ट डेब्यू पर महज 10 गेंद करने के बाद ही चोटिल होकर बाहर हो गए थे।
भारत ने पिछले दौरे पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में ऐतिहासिक जीत दर्द की थी। इसमें इशांत, शमी, उमेश और बुमराह का बड़ा योगदान रहा था। इशांत टेस्ट सीरीज शुरू होने से पहले ही बाहर हो गए थे। शमी पहला टेस्ट मैच खेलने के बाद चोटिल हो गए तो उमेश को मेलबर्न में खेले गए दूसरे टेस्ट में चोट लगी थी। अब तीसरा मैच खेलने के बाद टीम के साथ बने आखिरी अनुभव गेंदबाज बुमराह भी चोटिल हो गए।
चार मैचों की टेस्ट सीरीज में बुमराह ने 21 विकेट हासिल किए थे और पहले स्थान पर रहे थे। ऑस्ट्रेलिया के स्पिनर नाथन लियोन ने भी 21 विकेट हासिल किए थे लेकिन बुमराह ने ज्यादा किफायती गेंदबाजी की थी। मोहम्मद शमी ने 4 मैचों में कुल 16 चटकाए थे। इशांत ने तीन मैच खेलर 11 विकेट हासिल किए थे जबकि उमेश यादव ने 1 मैच में दो विकेट अपने नाम किया था।  

खेल टेक्स। ऑस्ट्रेलिया के धुरंधर सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर को इस बात का अफसोस है कि सिडनी में भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज और कुछ अन्य खिलाड़ियों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं हुआ और उन्होंने इसके लिए माफी भी मांगी है। साथ ही वार्नर ने उम्मीद जताया कि उनके गृहनगर ब्रिसबेन के गाबा में होने वाले मैच में दर्शक अच्छा व्यवहार करेंगे।

सिडनी टेस्ट के दौरान दर्शकों की ओर से दो बार भारतीय खिलाड़ियों के खिलाफ नस्लीय टिप्पणी की गई। एक घटना शनिवार को हुई थी, जिसमें मोहम्मद सिराज और जसप्रीत बुमराह के खिलाफ कुछ दर्शकों ने आपत्तिजनक शब्द कहे थे। वहीं, एक घटना रविवार को हुई जब मोहम्मद सिराज के खिलाफ फिर से दर्शकों द्वारा टिप्पणी की गई। हालांकि, उन दर्शकों को उसी समय बाहर निकाल दिया गया था।

दुनिया भर के क्रिकेटरों ने इन घटनाओं की निंदा की है। आइसीसी ने भी इसे लेकर आपत्ति व्यक्त की है और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने जांच की मांग की है। वहीं, वार्नर ने सिडनी टेस्ट के बाद अपने इंस्टाग्राम पर लिखा, नस्लवाद और अपशब्द किसी भी माहौल में और किसी भी समय स्वीकार्य नहीं हैं। सिडनी में मोहम्मद सिराज के साथ जो हुआ मैं उसके लिए उनसे माफी मांगता हूं और उम्मीद करता हूं कि गाबा में हमारे दर्शक अच्छा व्यवहार करेंगे।

डेविड वार्नर ने चोट से उबरने के बाद सिडनी टेस्ट मैच में वापसी की थी और अपनी वापसी पर भी उन्होंने कहा है कि उनकी ये वापसी ज्यादा अच्छी नहीं रही। चार मैचों की सीरीज फिलहाल 1-1 की बराबरी पर है। एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया ने जहां आठ विकेट से जीत हासिल की थी। वहीं, मेलबर्न में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 8 विकेट से हराया था, जबकि सिडनी में खेले गए मैच का नतीजा ड्रॉ के रूप में निकला। ये मैच भी रोमांचक रहा था।


खेल।भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज टी. नटराजन को नए साल का बड़ा गिफ्ट मिला है। भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने उन्हें ऑस्ट्रेलिया के साथ होने वाले तीसरे टेस्ट मैच के लिए टीम में जगह दी है। गौरतलब है कि भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी गेंदबाज उमेश यादव चोट की वजह से चार मैचों की टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए हैं और इस कारण से टी. नटराजन के टीम में शामिल किया गया है। शुक्रवार को BCCI ने नटराजन को उमेश की जगह टीम में शामिल करने की घोषणा की है, इसके अलावा बीसीसीआई ने टीम इंडिया में एक और बदलाव किया है। मोहम्मद शमी की जगह शार्दुल ठाकुर को टेस्ट टीम में शामिल किया गया है।
गौरतलब है कि टी नटराजन ने IPL में अपने शानदार प्रदर्शन करके सबको चौंका दिया था। नेट गेंदबाज के तौर पर टी. नटराजन को ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर जाने के लिए चुना गया था। वरुण चक्रवर्ती के घायल होने के बाद उनको टी-20 टीम में जगह मिली जबकि नवदीप सैनी के वैकअप के तौर पर नटराजन को टीम में शामिल किया गया था। गौरतलब है कि नटराजन ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे सीरीज के आखिरी मुकाबले से इंटरनेशनल डेब्यू किया था और बाद में टी-20 में शानदार खेल दिखाते हुए हर किसी को अपना दीवाना बना लिया था। तब 3 मैचों की टी-20 सीरीज में नटराजन ने 6 विकेट चटकाए थे। अपने पहले ही मैच में टी. नटराजन से प्रभावित होकर ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने उनको अपना मैन ऑफ द सीरीज का अवार्ड दे दिया। हार्दिक ने कहा था कि नटराजन उनसे ज्यादा इस अवार्ड को पाने के हकदार हैं।

खेल। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरे टेस्ट मैच लिए प्लेइंग इलेवन टीम में दो बदलाव किए गए हैं। बीसीसीआई ने ट्विट कर यह जानकारी दी। मिली जानकारी के मुताबिक सिडनी में 7 जनवरी को होने वाले टेस्ट मैच के लिए टीम इंडिया में दो बड़े बदलाव किए गए हैं। इस मैच के लिए नवदीप सैनी को डेब्यू करने का अवसर दिया गया है। ओपनिंग में रोहित शर्मा मयंक अग्रवाल की जगह लेंगे, वहीं गेंदबाजी में उमेश यादव के स्थान पर युवा नवदीप सैनी को मौका दिया गया है। नवदीप सैनी अपना यह डेब्यू मैच खेलेंगे। गौरतलब है कि मयंक अग्रवाल बीते कुछ समय से लगातार खराब प्रदर्शन कर रहे हैं। पहले 2 टेस्ट की 4 पारियों में वो मयंक ने सिर्फ 31 रन ही बनाए हैं, जबकि सबसे ज्यादा 17 रन हाईएस्ट स्कोर रहा है।
भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा टेस्ट मैच 7 जनवरी से सिडनी में होगा। सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर सिर्फ 25 फीसदी दर्शकों में स्टेडियम में अंदर जाने की इजाजत होगी। साथ ही सभी को मास्क पहनना अनिवार्य होगा। इस नियम के हिसाब से सिडनी क्रिकेट स्टेडियम में सिर्फ 9500 क्रिकेट प्रेमी ही प्रवेश कर पाएंगे। सिडनी क्रिक्रेट स्टेडियम की कुल क्षमता 48000 है। ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि सिडनी टेस्ट देखने के लिए मास्क पहन कर जाना अनिवार्य है। दर्शकों को सिर्फ खाना खाने और पानी पीने के दौरान मास्क हटाने की छूट दी गई है। गौरतलब है कि कोरोना महामारी का प्रकोप सिडनी में भी बढ़ते जा रहा है। मास्क नहीं पहनने का नियम तोड़ने पर 155 डॉलर का जुर्माना लगाने का प्रावधान है। भारतीय करेंगी में देखें तो यह जुर्माना करीब 56000 रुपए होता है।
दरअसल न्यू साउथ वेल्स सरकार ने मास्क पहनना इसलिए अनिवार्य किया है क्योंकि मेलबर्न में भारत-ऑस्ट्रेलिया बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच के दौरान एक क्रिकेट फैन कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि वो तब पॉजिटिव नहीं था, जब वो मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर गया था। इस घटना से सबक लेकर न्यू साउथ वेल्स सरकार ने मास्क को अनिवार्य बनाने का फैसला किया है और इस फैसले को सख्ती से पालन भी कराया जा रहा है।

खेल। ऑस्ट्रेलिया दौर पर गई भारतीय क्रिकेट टीम पर लगातार दूसरे दिन नस्लभेदी टिप्पणी की गई। शनिवार को मैच के चौथे दिन दर्शकों के बीच से अभद्र टिप्पणी की गई। इसके कारण खेल करीब 15 मिनट रुका रहा। जानकारी के मुताबिक, रविवार को जब मोहम्मद सिराज बाउंड्री पर फिल्डिंग कर रहे थे, तब दर्शकों के बीच से उनके खिलाफ टिप्पणी की गई। सिराज ने पहले इसकी जानकारी अपने कप्तान अजिंक्य रहाणे को दी, जिन्होंने अम्पायर को बताया। बता दें, शनिवार को मैच के तीसरे दिन भी जसप्रित बुमराह और मोहम्मद सिराज के खिलाफ एक दर्शक न नस्लीय टिप्पणी की थी।

इसके बाद आरोपी दर्शक को बाहर भेज दिया गया था। रविवार को भी ऐसा ही हुआ। वहीं शनिवार के घटनाक्रम को लेकर टीम प्रबंधन की ओर से इसकी शिकायत कर दी गई है। BCCI ने ICC के मैच रेफरी डेविड बून के सामने अपने दो खिलाड़ियों जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद सिराज के साथ एक शराबी दर्शक द्वारा दुर्व्यवहार किए जाने की औपचारिक शिकायत दर्ज कर दी है। टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने सुरक्षा अधिकारियों से लंबी बात की। वहीं, सिडनी में हुए इन घटनाक्रम पर क्रिकेट जगत की हस्तियों की तीखी प्रतिक्रिया आई है। सभी ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है।

पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने ट्वीट किया, यह देखना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि SCG में क्या हो रहा है। इस तरह की हरकतों के लिए क्रिकेट में कोई जगह नहीं है। खेल के मैदान पर खिलाड़ियों के साथ दुर्व्यवहार करने की आवश्यकता को कभी नहीं समझा गया। यदि आप खेल को देखने के लिए यहां नहीं हैं और खेल का सम्मान नहीं कर सकते हैं तो pls न आएं और माहौल को खराब करें। टीम इंडिया को जीत के लिए 407 रन का टारगेट इस बीच, ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी 312 रन (6 विकेट खोकर) पर घोषित कर दी है। इस तरह टीम इंडिया को सिडनी टेस्ट जीतने के लिए 407 रनों की दरकार है।

खेल डेस्क। भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज लाला अमरनाथ ने आज से ठीक 87 साल पहले वो कमाल करके दिखाया था, जो महीनों तक किसी भी बल्लेबाज से नहीं हुआ था। जी हां, भारतीय टीम के लिए लाला अमरनाथ ने वो कमाल किया था जो उनसे पहले कोई भी भारतीय बल्लेबाज नहीं कर सका था। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ मुंबई के मैदान पर भारत की ओर से पहला टेस्ट शतक ठोका था। ये उनका डेब्यू मैच था। हालांकि, भारत की टीम ने कुछ ही समय पहले टेस्ट क्रिकेट खेलना शुरू किया था, लेकिन उस समय भारत अखंड भारत के नाम से जाना जाता था। ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ स्टार्क पड़ रहे टीम इंडिया पर भारी, चेतेश्वर और मयंक क्रीज पर दाएं हाथ के बल्लेबाज लाला अमरनाथ भारत की ओर से पहला शतक जड़ने वाले पहले खिलाड़ी तो बने ही थे। 

साथ ही साथ वे डेब्यू टेस्ट मैच में भी भारत की तरफ से शतक जड़ने वाले खिलाड़ी बने थे। हालांकि, भारतीय टीम ये मुकाबला 9 विकेट से हार गई थी, लेकिन बल्लेबाज लाला अमरनाथ ने दूसरी पारी में जो 118 रन बनाए, उसने साबित कर दिया था कि ये बल्लेबाज थोड़ा अलग है। हैरान करने वाली बात ये है कि फिर अमरनाथ से कभी भी टेस्ट क्रिकेट में शतक नहीं जड़ा गया था।मैच की दूसरी गेंद पर ही शॉ हुए बोल्ड आजाद भारत के पहले कप्तान भी थे अमरनाथ 11 सितंबर 1911 को पंजाब के कपूरथला में जन्मे लाला अमरनाथ का नाम पहले नानिक अमरनाथ भारद्वाज था। लाला अमरनाथ ने पहला शतक जड़ने का ही कमाल नहीं किया था, बल्कि आजाद भारत के पहले कप्तान के तौर पर भी उनको जाना जाता है।

खेल डेस्क। भारत ने गुरुवार से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में शुरू हो रहे पहले टेस्ट मैच के लिए ओपनर के रूप में प्लेइंग इलेवन में पृथ्वी शॉ को शामिल करने का फैसला किया है। टीम इंडिया ने मैच की पूर्व संध्या पर अपनी प्लेइंग इलेवन की घोषणा की। टीम में रिद्धिमान साहा, रविचंद्रन अश्विन और उमेश यादव को भी शामिल किया गया है। टीम इंडिया के सामने सबसे बड़ी दुविधा यह थी कि पृथ्वी शॉ का अभ्यास मैचों में प्रदर्शन खराब रहा था जबकि युवा शुभमन गिल ने दूसरे अभ्यास मैच में शानदार प्रदर्शन किया था। 

इसके बावजूद भारतीय टीम प्रबंधन ने इस डे-नाइट टेस्ट मैच में पृथ्वी को मौका देते हुए मयंक अग्रवाल के साथ पारी की शुरुआत की जिम्मेदारी सौंपी। टीम इंडिया ने विकेटकीपर के रूप में रिद्धिमान साहा पर भरोसा जताया। इस पद के एक अन्य दावेदार रिषभ पंत ने अभ्यास मैच में आक्रामक शतक लगाया था, लेकिन उन्हें मौका नहीं दिया गया। इसी तरह स्पिनर के रूप में अनुभवी रविचंद्रन अश्विन पर भरोसा जताया गया। पिछले कुछ समय में जब भी टीम ने एक स्पिनर को प्लेइंग इलेवन में उतारा उस वक्त रवींद्र जडेजा को ज्यादा मौके मिले थे। 

उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने मंगलवार को ही संकेत दे दिया था कि टीम अश्विन के साथ मैदान में उतरेगी। इसी तरह जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद के साथ तीसरे तेज गेंदबाज की भूमिका अनुभवी उमेश यादव निभाएंगे। नवदीप सैनी और मोहम्मद सिराज को अपने मौके के लिए अभी इंतजार करना होगा। रन बनाने का दायित्व सलामी बल्लेबाजों के अलावा कप्तान विराट कोहली, उपकप्तान अजिंक्य रहाणे के अलावा टेस्ट स्पेशलिस्ट चेतेश्वर पुजारा और हनुमा विहारी के कंधों पर रहेगा। विराट कोहली इस टेस्ट के बाद भारत लौटने वाले हैं। भारत (प्लेइंग इलेवन) : मयंक अग्रवाल, पृथ्वी शॉ, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे, हनुमा विहारी, रिद्धिमान साहा, रविचंद्रन अश्विन, उमेश यादव, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह।

बलरामपुर ।  बलरामपुर जिले के सामरी थाना क्षेत्र से 12 दिन पहले अपहृत तीनों कर्मचारियों को नक्सलियों ने छोड़ दिया है । अपहरण के बाद तीनों कर्मचारियों को नक्सली सीधे छत्तीसगढ़ व झारखंड की सीमा पर स्थित बूढ़ापहाड़ ले गए थे। यहां घने जंगल में तीनों कर्मचारियों को रखा गया था। गुरुवार की शाम नक्सलियों ने अपहृत कर्मचारियों को जंगल से बाहर निकाला। पैदल तीनों को सबाग- चुनचुना मार्ग पर ग्राम पीपरढाबा के पास लाकर छोड़ दिया था। यहां से तीनों कर्मचारी पैदल ही अपने अपने घर लौट गए हैं। अभी तक पुलिस की ओर से इन कर्मचारियों से पूछताछ नहीं की गई है। अपहृत कर्मचारियों के वापस लौट आने से स्वजनों ने राहत की सांस ली है।पूरे मामले को लेवी वसूली से जोड़कर देखा जा रहा है।

बीते 28 नवंबर की रात सशस्त्र नक्सलियों ने बलरामपुर जिले के नक्सल प्रभावित सरईडीह में रामधनी यादव के यहां दबिश दी थी। रामधनी यादव हिंडालको के राजेंद्रपुर माइंस में बतौर सुपरवाइजर ठेका कंपनी का काम देखता था। नक्सलियों ने उसे घर से उठा लिया था। यहां से छत्तीसगढ़ व झारखंड की सीमा पर स्थित हिंडालको के कुकूद माइंस से पहले कांटा घर में पहुंचे थे। कांटा घर के सुरक्षा में लगे दो कर्मचारी सूरज सोनी व अजय यादव को भी कब्जे में कर लिया था। नक्सलियों ने ग्राम जलजली में मनोज यादव व शिवबालक यादव की पिटाई की थी। गंभीर हालत में इन दोनों को छोड़कर नक्सलियों ने तीनों कर्मचारियों का अपहरण कर लिया था। पिछले 12 दिनों से अपहृत कर्मचारियों के स्वजन चिंतित थे। न तो कर्मचारियों का कोई सुराग लग रहा था और न ही स्वजनों तक नक्सलियों की ओर से कोई संदेश पहुंच रहा था।

छत्तीसगढ़- झारखंड की सीमा पर लगातार गश्त और सर्चिंग का दावा करने वाली पुलिस इस मामले में बार- बार यही दोहराती रही कि स्वजनों की ओर से किसी प्रकार की कोई मौखिक अथवा लिखित सूचना पुलिस को नहीं दी गई है इसलिए पुलिस ने नक्सलियों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध नहीं किया है।शुरुवाती दिनों में तो पुलिस नक्सलियों द्वारा अपहृत किए जाने की संभावना से ही इनकार कर दिया था। पुलिस अधिकारी यही बोल रहे थे कि जब तक स्वजन सामने नहीं आएंगे तब तक कैसे माना जाए कि नक्सलियों ने अपहरण किया है। बाद में पुलिस पर दबाब बढ़ने पर पुलिस अधिकारी यह दावा जरूर कर रहे थे कि कर्मचारियों की खोजबीन अपने स्तर से की जा रही है।

पूर्व में इस इलाके में ऐसी घटनाएं हो चुकी थी इसलिए उन्ही अनुभव के आधार पर पुलिस की रणनीति चल रही थी। पूरे मामले में पुलिस खुद को पीछे रख कर हिंडालको प्रबंधन, ठेका कंपनी के माध्यम से ही नक्सलियों के चंगुल से अपहृत कर्मचारियों को मुक्त कराने का प्रयास करने में लगी थी। घटना के बाद से अपहृत कर्मचारियों के स्वजनों द्वारा लगातार नक्सलियों से गुहार लगाई जा रही थी कि उन्हें रिहा कर दिया जाए क्योंकि उनके परिवार में कोई दूसरा कमाऊ सदस्य नहीं है। उनके समक्ष आजीविका का बड़ा संकट खड़ा हो गया है। यदि अपहृत कर्मचारी कामकाज के लिए वापस नहीं लौटे तो उनका जीवन कष्टकर हो जाएगा। शुक्रवार की सुबह अपहृत कर्मचारियों के स्वजनों के लिए नई खुशी लेकर आया जब तीनों अपने-अपने घर वापस लौट गए।

शाम को अचानक जंगल से बाहर निकाला कर्मचारियों को

अपहृत कर्मचारियों को भैया पता नहीं था कि गुरुवार शाम को उन्हें जंगल से बाहर निकाला जाएगा।अचानक शाम लगभग छह बजे उन्हें बूढ़ा पहाड़ से सुरक्षित तरीके से बाहर निकाल दिया गया। चार- पांच नक्सली अपहृत कर्मचारियों को साथ लेकर पैदल ही जंगल से रवाना हुए। मध्य रात्रि के बाद तीनों अपहृत कर्मचारियों को ग्राम पीपढाबा के पास लाकर छोड़ दिया। पीपरढाबा, सबाग से चुनचुना मार्ग पर पड़ता है। यहां से पक्की सड़क से चलते हुए सीधे सामरी पहुंच जाने की जानकारी देकर तीनों कर्मचारियों को नक्सलियों ने छोड़ दिया।सुबह तक तीनों कर्मचारी अपने- अपने घर पहुंच चुके थे।

मंशा पूरी नहीं हुई इसलिए की मारपीट

जिन दो कर्मचारियों के साथ नक्सलियों द्वारा मारपीट की गई थी, वे सामरी क्षेत्र के बॉक्साइट खदान में मुंशी का काम करते थे। सूत्रों के मुताबिक मनोज यादव व शिवबालक यादव तक पूर्व में नक्सलियों द्वारा कुछ संदेश पहुंचाया गया था। नक्सलियों की मंशा पूरी नहीं हो पाने के कारण इन दोनों की बेदम पिटाई की गई थी। दोनों को अंबिकापुर के एक निजी अस्पताल में दाखिल कराया गया था। इनके स्वास्थ्य में सुधार है। तीन कर्मचारियों के अपहरण की घटना के बाद से सामरी क्षेत्र में संचालित हिंडालको के बॉक्साइट खदानों में भय का माहौल है। दूरस्थ व नक्सल प्रभावित इलाकों के खदानों में जाने से सुपरवाइजर सहित अन्य बाहरी अधिकारी सतर्कता बरत रहे है हालांकि पुलिस यह दावा कर रही है कि समूचे क्षेत्र में फोर्स लगातार मूवमेंट कर रही है।

खेल। ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 26 ओवर के बाद 133/4 एलेक्स कैरी 1 गेंदों पर 1 रन और कैमरून ग्रीन 16 गेंदों पर 12 रन बनाकर खेल रहे हैं. भारत ने मनुका ओवल मैदान पर खेले जा रही तीसरे और अंतिम वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया के सामने 303 रनों का लक्ष्य रखा है. ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 25 ओवर के बाद 122/3 आरोन फिंच 81 गेंदों पर 75 रन और कैमरून ग्रीन 11 गेंदों पर 3 रन बनाकर खेल रहे है। 

फिंच 75 रन बनाकर आउट भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज का आखिरी मुकाबला कैनबरा में खेला जा रहा है, जिसमें भारत ने कंगारू टीम के सामने 303 रन का लक्ष्य रखा है। इसके जवाब में लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलिया की टीम ने खबर लिखे जाने तक 30 ओवर में 4 विकेट के नुकसान पर 151 रन बना लिए हैं। इस समय कैमरन ग्रीन और एलेक्स कैरी बल्लेबाजी कर रहे हैं।

खेल। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के मुख्य कार्यकारी वसीम खान का मानना है कि भारत में अगले साल होने वाले टी-20 विश्व कप को कोविड -19 महामारी के कारण संयुक्त अरब अमीरात में स्थानांतरित किया जा सकता है। कोविड-19 महामारी के कारण अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने इस साल अगस्त में 2020 के टी-20 विश्व कप को 2022 में स्थानांतरित कर दिया जबकि इसने यह सुनिश्चित किया कि भारत 2021 के आयोजन को 17 अक्टूबर से 14 नवंबर, 2021 तक सहमत विंडो में आयोजित करेगा। 

खान ने हाल ही में कहा कि भारत में कोविद -19 मामलों की बढ़ती संख्या एक स्वास्थ्य जोखिम पैदा करती है, जो आईसीसी को भारत से यूएई में मेगा इवेंट को स्थानांतरित करने के लिए मजबूर कर सकती है। खान ने कहा- अभी भी भारत में होने वाले वल्र्ड टी-20 को लेकर कुछ अनिश्चितता है। यह कोविड-19 की स्थिति के कारण है। टूर्नामैंट यूएई में हो सकता है। उन्होंने आईसीसी से आश्वासन मांगने के अपने रुख को दोहराया कि पाकिस्तान के खिलाडिय़ों को भारत में आयोजित होने वाले 2021 के कार्यक्रम के लिए वीजा प्राप्त करने में कोई समस्या नहीं होगी।

खेल,नई दिल्ली। विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे मैच में भारत के लिए 63 रन की पारी खेली और वनडे फॉर्मेट में सबसे तेज 12 हजार रन पूरे करने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने। इसके अलावा साल 2008 में डेब्यू करने वाले विराट कोहली ने अपने 13 साल के वनडे करियर में दूसरी बार एक साल में कोई शतक नहीं लगा पाए। विराट ने साल 2008 में भी कोई शतक वनडे में नहीं लगाया था और उसके बाद अब यानी साल 2020 में भी वो एक भी शतक लगाने में कामयाब नहीं रहे। 

विराट कोहली ने दिसंबर 2019 में कोलकाता में श्रीलंका के खिलाफ ईडन गार्डन में अपने वनडे करियर का पहला शतक लगाया था। उसके बाद वो हर साल वनडे में शतक लगाते रहे, लेकिन इस साल वो ऐसा नहीं कर पाए। साल 2020 में उनकी बेस्ट पारी 89 रन की रही जो उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में दूसरे वनडे मैच के दौरान खेली थी। 2020 में विराट कोहली ने पूरे साल में 9 वनडे मैच खेले जिसमें उन्होंने 6 मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तो 3 मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले। इन मैचों में उन्होंने 47.88 की औसत से कुल 431 रन बनाए। 

विराट कोहली के वनडे करियर की बात करें तो 2008 में इस फॉर्मेट में उनका बेस्ट स्कोर 54 रन था तो वहीं 2020 में ये 89 रन रहा। इसके अलावा हर साल उन्होंने शतक लगाया और उन्होंने अपने वनडे करियर की बेस्ट पारी साल 2012 में खेली थी और 183 रन बनाए थे। वनडे करियर की दूसरी सबसे बेस्ट पारी उन्होंने साल 2018 में खेली थी और इस साल नाबाद 160 रन बनाए थे। वहीं साल 2016 में उन्होंने अपने करियर की तीसरी सबसे बेस्ट पारी अब तक की खेली और नाबाद 154 रन बनाए। 

खेल। भारतीय क्रिकेट टीम एक तीन मैचों की वनडे सीरीज में ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगी। कोरोना वायरस महामारी के बीच भारत की ये पहली सीरीज होगी। क्रिकेट की दो भयंकर प्रतिद्वंदी टीमों के बीच ये सीरीज काफी रोमांचक होने वाली है। इसी बीच ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने इस सीरीज को वर्ष की सबसे बड़ी क्रिकेट सीरीज करार दिया है। टिम पेन कंगारू की वनडे टीम का हिस्सा नहीं हैं।

आधिकारिक प्रसारणकर्ता सोनी स्पोर्ट्स नेटवर्क द्वारा जारी किए गए एक टीजर में टिम पेन ने भारतीय प्रशंसकों से पूछा कि क्या वे इस दमदार द्विपक्षीय सीरीज के लिए अपनी राष्ट्रीय टीम का समर्थन करने के लिए तैयार हैं? पेन ने कहा है, हेलो इंडिया, क्या आप साल की सबसे बड़ी क्रिकेट सीरीज के लिए तैयार हैं यह भारतीय खिलाड़ियों के लिए मैदान पर वास्तव में कठिन होने वाला है। 27 नवंबर से सोनी स्पोर्ट्स पर इस सीरीज को लाइव देंखें।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बहुप्रतीक्षित बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी से पहले 3 एकदिवसीय और इतने ही मैचों की टी20 सीरीज खेली जाएगी। पहला एकदिवसीय मैच 27 नवंबर को होगा। इससे पहले कप्तान टिम पेन सहित ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को सेल्फ-आइसोलेशन में रखा गया है, क्योंकि एक कोरोना का केस सामने आया था। हालांक, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने दावा किया कि एडिलेड में 17 दिसंबर से टेस्ट सीरीज शुरू हो जाएगी।

यूएई में इंडियन प्रीमियर लीग यानी आइपीएल के 13 वें सीजन में हिस्सा लेने वाले भारत और ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी 12 नवंबर को सिडनी पहुंच गए थे, जहां उनका14-दिन का क्वारंटाइन शुरू हुआ था। वे एससीजी में 27 नवंबर से शुरू होने वाली एकदिवसीय सीरीज से एक दिन पहले आइसोलेशन पूरा कर लेंगे। सिडनी में पहले दो मैच खेले जाएंगे और फिर कैनबरा में अगले मुकाबलों की मेजबानी कंगारू टीम करेगी। एडिलेड में पहला टेस्ट मैच खेला जाएगा, जो कि डे-नाइट मैच होगा।

खेल। क्रिकेट फैंस की नजरें अब भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर हैं, जहां दोनों देशों के बीच तीनों फॉर्मेट की सीरीज खेली जानी है। ऐसे में शायद ही किसी को इस बात पर शक होगा कि भारतीय टीम का गेंदबाजी आक्रमण किसी बल्लेबाजी क्रम को परेशान न कर पाए। पिछली बार 2018-19 में जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया था तो जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और इशांत शर्मा की तेज गेंदबाजी तिगड़ी ने 48 विकेट चटकाए थे, लेकिन इस बार भारतीय टीम को एक कमी खल सकती है।

भारत ने जब पिछली बार ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में 2-1 से हराया था तो उसमें चेतेश्वर पुजारा की बल्लेबाजी कमाल रही थी। यहां तक कि भारत ने 4 मैचों की आठ पारियों में से सात बार ऑस्ट्रेलिया को ऑल आउट किया था। हालांकि, भारत को बाएं हाथ के तेज गेंदबाज की कमी कमी खल सकती है। पिछले करीब दो दशकों में भारतीय टीम के लिए बाएं हाथ के तेज गेंदबाजों ने अहम योगदान दिया है। इसमें जहीर खान, इरफानपठान, आरपी सिंह और आशीष नेहरा जैसे दिग्गज गेंदबाजों का नाम शामिल है, लेकिन इस बार टीम के पास कोई ऐसा खिलाड़ी नहीं है।

भारतीय टीम में इस समय सभी दाएं हाथ के तेज गेंदबाज हैं। इसी विभाग में भारतीय टीम मेजबान ऑस्ट्रेलिया से पीछे रह जाती है। खासकर तब जब स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर की वापसी हुई है और मार्नस लाबुशाने बेहतरीन फॉर्म में चल रहे हैं। इसी पर चिंता व्यक्त करते हुए इरफान पठान ने कहा है, जब तेज गेंदबाजी की बात आती है तो इसमें कोई शक नहीं है कि दोनों टीमें बराबरी की हैं। भारत के पास विश्व स्तरीय तेज गेंदबाजी आक्रमण है, लेकिन मुझे लगता है कि ऑस्ट्रेलिया थोड़ी सी आगे है, क्योंकि वह घर में खेल रही है और मिशेल स्टार्क के रूप में उनके पास बाएं हाथ का तेज गेंदबाज है।

पठान ने आगे कहा, बाएं हाथ का गेंदबाज विविधता प्रदान करता है, साथ ही दाएं हाथ के बल्लेबाज को एक्रॉस एंगल से गेंद डालता है। हालांकि, मुझे लगता है कि यह बहुत थोड़ा सा फायदा है, लेकिन फायदा तो निश्चित तौर पर है। वहीं, जब आंकड़ों की बात आती है तो दोनों आक्रमणों ने अच्छा किया है। एक जनवरी 2018 से इशांत ने 18 टेस्ट मैचों में 71 विकेट लिए हैं। वहीं, शमी ने 22 टेस्ट मैचों में 85 विकेट चटकाए हैं। बुमराह ने 14 टेस्ट मैचों में 68 विकेट अपने नाम किए हैं।

खेल। विराट कोहली के नेतृत्व वाली भारतीय क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया पहुंचने के बाद शनिवार को पहली बार सिडनी में आउटडोर ट्रेनिंग शुरू की। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, भारतीय टीम के सभी खिलाड़ियों की Covid-19 टेस्ट निगेटिव आने के बाद इन खिलाड़ियों ने अभ्यास सत्र में हिस्सा लिया। आईपीएल फाइनल के बाद भारतीय टीम 12 नवंबर को ऑस्ट्रेलिया पहुंची थी।

टीम इंडिया के खिलाड़ियों को 14 दिनों तक क्वारंटाइन में रहना होगा, लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इस दौरान भी भारतीय क्रिकेटरों के लिए ट्रेनिंग की व्यवस्था की है। बीसीसीआई ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कई फोटोज पोस्ट किए जिनमें हार्दिक पांड्या, पृथ्वी शॉ, कुलदीप यादव, हनुमा विहारी, मोहम्मद सिराज सिडनी ओलिंपिक पार्क में स्थित ब्लेकटाउन इंटरनेशनल स्पोर्ट्स पार्क में ट्रेनिंग करते नजर आ रहे हैं।

स्पिनर कुलदीप यादव, तेज गेंदबाज उमेश यादव, शार्दुल ठाकुर, ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा और बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा वार्मअप करते हुए दिख रहे हैं। आउटडोर ट्रेनिंग सेशन के बाद भारतीय क्रिकेटरों ने जिम में पसीना बहाया। शार्दुल ठाकुर, दीपक चाहर और टी नटराजन जिम में पसीना बहाते हुए नजर आए।भारत को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर 3 वनडे, 3 टी20 और 4 टेस्ट मैचों में हिस्सा लेना है। 

बायो सिक्योर बबल की वजह से तीनों फॉर्मेट की टीमें एक साथ ऑस्ट्रेलिया पहुंची है। 27 नवंबर से वनडे सीरीज शुरू होगी। इसके बाद 4 दिसंबर से टी20 सीरीज का आगाज होगा। 17 दिसंबर से डे-नाइट टेस्ट के साथ चार टेस्ट मैचों की सीरीज आरंभ होगी। लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने साथी स्पिनर कुलदीप यादव के साथ फोटो ट्विटर पर शेयर की। उन्होंने इसका कैप्शन दिया, अपने भाई कुलदीप के साथ भारतीय टीम में वापसी।

खेल। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के लिए भारतीय क्रिकेट टीम की तैयारियां इन दिनों सिडनी में जबर्दस्त तरीके से चल रही है। ऑस्ट्रेलिया की तेज और उछाल वाली पिचों पर लगने वाली बाउंसरों की झड़ी का सामना करने के लिए केएल राहुल अनोखे अंदाज में प्रैक्टिस कर रहे हैं। आईपीएल 2020 में ऑरेंज कैप जीतने वाले केएल राहुल को बाउंसरों का सामना करने के लिए अनुभवी स्पिनर रविचंद्रन अश्विन खास अंदाज में प्रैक्टिस करवा रहे हैं।


नई दिल्ली। भारतीय टीम के बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर ने बताया है कि उन्होंने कभी अपर कट खेलने की प्रैक्टिस नहीं की थी न ही उन्होंने कभी जानबूझकर यह शॉट खेलने की योजना बनाई थी।100 एमबी के यूट्यूब वीडियो में तेंडुलकर ने बताया कि 2002 के दक्षिण अफ्रीका दौरे पर उन्होंने यह शॉट खेलने की कोशिश की। सवाल-जवाब सत्र में अनुराज आंदे के प्रशंसक ने सचिन से सवाल पूछा कि क्या आपने अपर कट का अभ्यास किया या फिर आप जब खेल रहे थे तो यह शॉट आपने अचानक से खेल दिया।

जवाब में तेंडुलकर ने कहा, यह दक्षिण अफ्रीका में 2002 में हुआ। हम ब्लएमफोनटेन में टेस्ट मैच खेल रहे थे। हम पहले बल्लेबाजी कर रहे थे और मखया नतिनी ऑफ स्टम्प के पास उसी शॉर्ट ऑफ लैंग्थ पर गेंदबाजी कर रहे थे जो वह आमतौर पर करते हैं। वह बहुत कम लैंग्थ डिलेवरी डालते हैं। चूंकि वह क्रीज के बाहरी कोने से गेंदबाजी करने आ रहे थे तो मैं लाइन के बारे में अंदाजा लगा सकता था। उन्होंने कहा, साउथ अफ्रीका की पिचों पर ज्यादा उछाल होती है। इस तरह की बाउंसरों से निपटने का तरीका यही होता है कि आप गेंद के ऊपर जाएं और अगर गेंद फिर भी आपकी लंबाई से ज्यादा उछाल लेती है तो क्यों न उसके नीचे रहकर भी आक्रामक हुआ जाए।

उन्होंने कहा, मैंने यही सोचा कि गेंद पर ऊपर चढ़ने और उसे जमीन पर रखते हुए मारने के बजाए उसके नीचे आकर, गेंद की तेजी का इस्तेमाल करते हुए उसे थर्डमैन बाउंड्री की तरफ खेला जाए। तेंडुलकर ने कहा, इस शॉट ने कई तेज गेंदबाजों को परेशान किया है क्योंकि वह बाउंसर खाली गेंद निकालने के लिए फेंकते थे, लेकिन मैंने उन्हें बाउंड्रीज में तब्दील किया। मैं किसी तरह की रणनीति नहीं बनाता। कई बार आपको अपनी स्वाभाविक भावना को मानना होता है। मैंने यही किया।

खेल। क्रिस गेल की रिकॉर्ड बल्लेबाजी के बावजूद किंग्स इलेवन पंजाब को अबू धाबी में शुक्रवार को इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में राजस्थान रॉयल्स के हाथों 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। क्रिस गेल ने इस मैच के दौरान टी 20 क्रिकेट में 1000 छक्के पूरे किए। क्रिस गेल मात्र 1 रन से शतक चूके, लेकिन आउट होने के बाद झुंझलाहट में बल्ला फेंकने की वजह से उन पर जुर्माना लगाया गया।

क्रिस गेल के लिए राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ खेला गया मैच यादगार बन गया जब वे टी20 क्रिकेट में 1000 छक्के लगाने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने। गेल ने जैसे ही पारी में कार्तिक त्यागी की गेंद पर अपना सातवां छक्का लगाया, उन्होंने यह ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल कर ली। गेल दुर्भाग्यशाली रहे और 99 रनों के निजी स्कोर पर जोफ्रा आर्चर द्वारा बोल्ड कर दिए गए। गेल ने 63 गेंदों पर 6 चौके और 8 छक्के लगाए। वे शतक चूकने से झुंझला गए और गुस्से में उन्होंने बल्ला फेंक दिया।


जोफ्रा आर्चर की यॉर्कर पर गेल बोल्ड हुए। गेल को शतक चूकने पर इतना गुस्सा आया कि उन्होंने जोर से बल्ला फेंका जो मिडविकेट की तरफ चला गया। गेल ने पैवेलियन लौटते हुए जोफ्रा आर्चर से हाथ मिलाया। पारी के बाद क्रिस गेल ने कहा कि उन्हें पता नहीं था कि उन्होंने टी 20 क्रिकेट में 1000 छक्के लगाने की दुर्लभ उपलब्धि हासिल की थी। उन्होंने कहा कि उन्होंने फैंस को वादा किया था कि वे शतक लगाएंगे लेकिन 1 रन से चूक गए

खेल। पहलवान से मिश्रित मार्शल आर्ट फाइटर बनी भारत की रितु फोगाट ने शुक्रवार को सिंगापुर में अपना लगातार तीसरा एमएमए चैंपियनशिप खिताब जीता। फाइटर बनी भारत की रितु फोगाट ने शुक्रवार को सिंगापुर में अपना लगातार तीसरा एमएमए चैंपियनशिप खिताब जीता। 26 वर्षीय भारतीय खिलाड़ी ने तकनीकी नॉकआउट के आधार पर कंबोडिया की नाउ स्रे पोव को दूसरे दौर में ही हरा दिया।

मैच के बाद रितु ने मीडिया से बातचीत में कहा, इस जीत के साथ एमएमए करियर में हैट्रिक के साथ मैं काफी रोमांचित महसूस कर रही हूं। उन्होंने अपनी सफलता के लिए अपने परिवार को श्रेय दिया और विश्व चैंपियन बनने के अपने इरादे को फिर से जाहिर किया। बता दें कि फोगाट ने नवंबर 2019 में एमएमए और वन चैंपियनशिप में पदार्पण किया था, जहां उन्होंने पहली जीत दर्ज की थी। इसके बाद उन्होंने फरवरी 2020 में चीनी ताइपे के वू चियाओ चेन के खिलाफ एक शानदार जीत हासिल की।