Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



भिलाई। हत्या, हत्या का प्रयास और अन्य 18 गंभीर मामलों में आरोपित रहे एक बदमाश ने जेल से छूटने के दूसरे दिन ही एक व्यक्ति को जान से मारने की कोशिश की। आरोपित ने जिसे मारने की कोशिश की उसने भी आरोपित के खिलाफ एक रिपोर्ट दर्ज कराई है। उसने पहले राजीनामा करने के लिए प्रार्थी पर दबाव बनाया और जब प्रार्थी उसके लिए तैयार नहीं हुआ तो उसने उसे मारने के लिए तलवार लेकर दौड़ाया। पीड़ित वहां से भागकर भिलाई नगर थाने पहुंचा और आरोपित के खिलाफ अपराध दर्ज कराया। पुलिस ने रात में ही आरोपित की पतासाजी कर उसे पकड़ा। पत्रकार वार्ता में मामले की जानकारी देते हुए एएसपी रोहित झा ने बताया कि भिलाई नगर थाना क्षेत्र के पुराना बदमाश अमित जोश मोरिस ने सेक्टर-6 निवासी प्रार्थी सतीश लहरे पर बुधवार की शाम को जानलेवा हमला किया था। प्रार्थी सेक्टर-6 ए मार्केट से अपनी घर की ओर जा रहा था। इसी दौरान आरोपित ने टैंपो स्टैंड के पास उसे आवाज दिया। प्रार्थी ने उसे अनसुना किया और घर की ओर जाने लगा तो आरोपित ने दौड़ाकर उसे पकड़ा और पुराने मामले में राजीनामा करने के लिए दबाव बनाने लगा। इसके बाद आरोपित ने प्रार्थी से मारपीट शुरू कर दी। कुछ देर बाद उसने अपनी गाड़ी से तलवार निकाला और प्रार्थी पर चला दिया, लेकिन प्रार्थी नीचे झुक गया। जिससे उसे तलवार नहीं लगा। इसके बाद आरोपित ने उसे मारने के दौड़ाया तो प्रार्थी झाड़ियों के बीच से भागकर निकला और अपनी जान बचाई।
जेल से छूटते ही कई लोगों को धमकाया एएसपी रोहित झा ने बताया कि प्रार्थी सतीश लहरे ने पूर्व में आरोपित अमित जोश मोरिस के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराया था। आरोपित लंबे समय से जेल में बंद था और मंगलवार की शाम को ही छूटा था। जेल से छूटने के बाद उसने अपने पुराने मामलों से जुड़े प्रार्थियों और गवाहों को धमकाया था। उसका पुराना आपराधिक रिकॉर्ड देखकर कई लोगों ने उसकी बात भी मान ली थी, लेकिन उसने प्रार्थी सतीश लहरे को जान से ही मारने की कोशिश की। कट्टा व पिस्टल समेत दो गिरफ्तार इस मामले के अलावा अवैध रूप से हथियार रखने के दो मामलों का भी पर्दाफाश किया गया। एएसपी रोहित झा ने बताया कि बोरिया मार्केट के पास खुर्सीपार निवासी दीनू उर्फ दिनेश पाल (38) को दो नग देशी कट्टा के साथ गिरफ्तार किया गया। वहीं सुपेला के नेहरू भवन के पास राजकुमार पंडित उर्फ राजू (30) को एक पिस्टल व जिंदा कारतूस के साथ गिरफ्तार किया गया है। दोनों आरोपितों के खिलाफ आर्म्स एक्ट की धाराओं के तहत कार्रवाई की गई है।

दुर्ग । नगरीय निकायों के निर्वाचन के लिए बनाये गए मतगणना केंद्र भारती कालेज में संवीक्षा संपन्न हुई। इसमें राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि एवं निर्वाचन में हिस्सा ले रहे प्रत्याशियों के प्रतिनिधि भी सम्मिलित हुए। प्रेक्षक राजेश सुकुमार टोप्पो, कलेक्टर अंकित आनंद, जिला पंचायत सीईओ कुंदन कुमार, अपर कलेक्टर गजेंद्र सिंह ठाकुर, नगर निगम कमिश्रर इंद्रजीत बर्मन सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। कलेक्टर ने विस्तार से इस संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मतगणना के दिन सुबह आठ बजे से निर्वाचन कर्तव्य मतपत्रों की गणना प्रारंभ होगी। इसके पश्चात नौ बजे से बैलेट पेपर की काउंटिंग होगी। कलेक्टर ने प्रतिनिधियों की जिज्ञासा का भी समाधान किया। प्रेक्षक राजेश सुकुमार टोप्पो ने भी मतगणना की तैयारियों का निरीक्षण किया और इस संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि नगर पालिक निगम दुर्ग के रिटर्निंग आफिसर कलेक्टर दुर्ग अंकित आनंद हैं। वार्ड क्रमांक 1 से 12 तक मतगणना के लिए सहायक रिटर्निंग अधिकारी ऋतुराज रघुवंशी, आयुक्त नगर निगम को बनाया गया है। वार्ड नंबर 13 से 24 तक मतगणना के लिए सहायक रिटर्निंग अधिकारी डॉक्टर ज्योति पटेल, वार्ड क्रमांक 25 से 36 के लिए अरूण वर्मा, वार्ड क्रमांक 37 से 47 तक तुल विश्वकर्मा, वार्ड क्रमांक 48 से 60 तक मनीष साहू को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है। नगर पालिक निगम भिलाई के लिए रिटर्निंग आफिसर कुंदन कुमार, जिला पंचायत सीईओ हैं। सहायक रिटर्निंग आफिसर पार्वती पटेल हैं। निर्वाचन कर्तव्य मतपत्रों की गणना का कार्य सहायक रिटर्निंग आफिसर गजेंद्र सिंह ठाकुर, अपर कलेक्टर के निर्देशन में होगा।

पूरब टाइम्स , दुर्ग . छ.ग. के नगरीय निकाय के चुनाव इस बार भी निर्विघ्न संपन्न हो गये . निर्वाचन की टीम,  जिला प्रशासन व पुलिस प्रशास्न बधाई के पात्र हैं परंतु उससे भी ज़्यादा बधाई के पात्र है दुर्ग निगम क्षेत्र की जनता जिसने पूरी शांति व सौहाद्र बनाते हुए वोट दिये जबकि पूरा देश सीएए के विरोध/समर्थन में संघर्ष कर रहा है . इस चुनाव व पिछले चुनाव का मुख्य फकऱ् यह रहा कि पिछली बार प्रदेश में भाजपा की सरकार थी परंतु इस बार कांग्रेस की सरकार थी . पिछली बार अंतिम समय पर भाजपा के तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह का रोड शो व अन्य बड़े नेताओं का चुनाव मैदान में कूदना , भाजपा के लिये संजीवनी का काम कर गया था . अब देखने वाली बात यह होगी कि इस बार मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का रोड शो, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू जोकि स्थानीय हैं का जनसंपर्क काम करता है या नहीं . पूरब टाइम्स की एक रिपोर्ट .. 

स्थानीय विधायक अरुण वोरा , जोकि दो टर्म से नगरनिगम की गतिविधियों में दखल रखते हैं, की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है 

पिछले चुनावों में स्थानीय विधायक अरुण वोरा ने केवल अपने चहेते पार्षदों का समर्थन किया था . खुद की कहापौर कैंडिडेट नीलू ठाकुर के पक्ष में अंतिम दिनों नदरद थे . कहने वाले तो यह भी कहते हैं कि वे यह सब एक रणनीति के तहत कर रहे थे .पर इस बार कांग्रेस के मुखिया भूपेश बघेल ने उन्हें कड़ाई से ताकीद किया है और विधायक स्वेच्छा से या दबाव में मेहनत कर रहे हैं . अब पहली बार यह चुनाव अरुण वोरा के लिये प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है क्योंकि प्रत्याशियों का चयन भी उन्हीं की इच्छा से हुआ है . यदि इस चुनाव में हार मिलती है तो अरुण वोरा का कद प्रदेश स्तर पर बहुत कम हो जायेगा . 

सरोज पाण्डेय के लिये दुर्ग नगर निगम में वर्चस्व बनाये रखने का अंतिम अवसर है 

दुर्ग निगम के पिछले चार चुनावों में और उसके परिणामों में सरोज पाण्डेय की तूती बोलती रही . अरुण वोरा भी एक तरह से उन्हें वाक ओवर देते रहे . इस बार परिस्थितियां बदल चुकी हैं , सरोज पाण्डेय के राष्ट्रीय व अन्य प्रदेश की राजनीति में व्यस्तता के कारण , स्थानीय स्तर पर पकड़ व वोटरों पर प्रभाव कम हो गया है. ऐसी स्थिति में भी सरोज पाण्डेय ने अंतिम समय में भाजपा के प्रचार में जान फूंक दी . इसके बावजूद भाजपा के कैंडिडेट के व्यक्तिगत प्रभावों के कारण स्थिति बेहतर रहेगी वर्ना भाजपा की लुटिया डूब ही जाती थी . अब अनुमान यह भी लगाया जा रहा है कि इस बार कांग्रेस का महापौर बनते ही साथ सरोज पाण्डेय , दुर्ग निगम की राजनीति से अपने कू पूरी तरह से दूर कर लेंगी . 

कांग्रेस व भाजपा से बगावत कर चुनाव लडऩे वाले भी रहेंगे प्रभावशाली 

इस बार कांग्रेस व भाजपा से बगावत कर चुनाव लड़ॅने वाले निर्दलियों की संख्या में इज़ाफा हुआ है . उनमें से अधिकतर को पार्टियों ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है . फिर भी यह माना जा रहा है कि उनमें से अनेक चुनाव जीतेंगे व अनेक अपनी पार्टी के कैंडिडेट के हारने का कारण बनेंगे . यही बात इस वक्त भाजपा के लिये प्लस पॉइंट है. इस बार भी निर्दलियों की संख्या दहाई में होगी जोकि महापौर चुनाव के लिये बहुत महत्वपूर्ण होगी . 



 


भिलाई।  हाउसिंग बोर्ड स्थित मां मंकिन्नामा देवी के मंदिर में चोरी की घटना हुई है। बदमाशों ने मंदिर का ग्रिल गेट तोड़कर दीवार में छेद किया और वहां से भीतर प्रवेश कर अनुष्ठान का सामान चोरी कर लिया। चोरी गए सामान की कीमत 30 हजार रुपये आंकी गई है। मामले में आंध्र स्वाभिमान एसोसिएशन के अध्यक्ष ने जामुल थाने में चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस ने बताया कि सेक्टर-1 निवासी आंध्र स्वाभिमान एसोसिएशन के अध्यक्ष के उमाशंकर राव ने चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई है। समिति की ओर से पूजापाठ के लिए कनकम्मा और देखरेख के लिए एम पुन्यावती को नियुक्त किया है। 16 दिसंबर की रात को पूजा करने के बाद मंदिर को बंद कर वे दोनों अपने-अपने घर चली गई। इसके बाद वे दोनों बुधवार की सुबह फिर से मंदिर पहुंचीं। वहां पर उन्हें ग्रिल गेट का ताला टूटा मिला। इसके बाद उन्होंने अंदर जाकर देखा तो मंदिर की दीवार में छेद था। मंदिर के अंदर रखे एम्प्लीफायर, पीतल की घंटी, तेल टीना, दो बोरी चावल, स्टील बाल्टी, स्टील का डामा, गिलास, 15 नग साड़ियां और पीतल का त्रिशुल चोरी था। इसके अलावा मंदिर में रखा दानपेटी को भी बदमाशों ने तोड़ दिया था और उसमें जमा नकदी पैसों को चोरी कर खाली दानपेटी को नाले के पास फेंक दिया था। चोरी पर जामुल पुलिस ने अज्ञात आरोपित के खिलाफ चोरी की नीयत से रात में प्रवेश करने और चोरी की धाराओं के तहत अपराध दर्ज किया है।

भिलाई। बढ़ते ठंड ने स्वाइन फ्लू की चिंता बढ़ा दी है। स्वास्थ्य महकमा भी अलर्ट हो गया है। हालांकि स्वाइन फ्लू का कोई मामला अभी तक सामने नहीं आया है, बावजूद डेढ़ साल पहले डेंगू के कहर व स्वाइन फ्लू ने शहरवासियों के मन में काफी डर पैदा किया था। स्वाइन फ्लू जैसे बीमारी न फैले इसके लिए जनता व प्रशासन को अभी से सतर्क रहना होगा। शहर में सूअरों की तादात कम होने का नाम नहीं ले रही है। भिलाई निगम ने टेंडर के माध्यम से एक बार प्रयास जरूर किया, पर दिक्कत इतनी आई कि ठेका एजेंसी को भागना पड़ गया। भिलाई निगम बीच-बीच में ग्लोबल टैंडर जरूर निकाला है, लेकिन कोई हिस्सा नहीं लेता। थक हारकर भिलाई निगम भी चुप बैठ गया। इधर भिलाई के स्लम एरिया में लगातार सूअर बढ़ रहे हैं। उनके साथ स्वाइन फ्लू का खतरा भी। ठंड में फैलने वाली इस बीमारी ने कड़के की ठंड शुरू होते ही जिला स्वास्थ्य महकमे की चिंता बढ़ा दी है। डेंगू को भूला नहीं है शहर अगस्त-सितंबर 2018 में डेंगू ने भिलाई में जमकर कहर बरपाया था। डेंगू से 50 से अधिक मौत हुई थी। सहमे प्रशासन ने पूरे ताकत झोंक दी थी, नतीजा इस साल डेंगू का ज्यादा असर नहीं रहा। खतरा अब स्वाइन फ्लू से है। बीते साल स्वाइन फ्लू के दो मामले आए थे। इस साल वैसी स्थिति न बने इसका प्रयास भिलाई निगम, बीएसपी प्रबंधन व जिला प्रशासन तीनों कर रहे हैं।

पूरब टाइम्स, दुर्ग। पुलिस चेकिंग के नाम पर एक बुजुर्ग गुरुवार सुबह दुर्ग में ठगी का शिकार हो गया। बाइक सवार युवकों ने मोर्निंग वॉक पर निकले बुजुर्ग को सिंधी कॉलोनी भीड़-भाड़ वाले इलाके में सोने की चैन और कीमती अंगूठी उतरवा लिया। जब तक बुजुर्ग को ठगी का एहसास हुआ तब तक युवक मौके से फरार हो गए। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर मोहन नगर पुलिस पहुंची। पुलिस ने बताया कि पीड़ित मालवीय नगर दुर्ग का निवासी है. फिलहाल मामले की जांच की जा रही है। बंद मिले मार्केट के सीसीटीवी कैमरे सुबह-सुबह बुजुर्ग के साथ हुई ठगी की जांच करने पहुंची पुलिस घटना स्थल के आस-पास के लगभग चार से अधिक सीसीटीवी कैमरे बंद मिले। आरोपियों की तलाश के लिए पुलिस ने जब दुकानदारों से पूछा तो उन्होंने बताया कि कैमरा लगा तो रहा है, लेकिन बंद है पुलिस अब अज्ञात आरोपियों के खिलाफ अपराध पंजीकृत जांच में जुट गई है।

पूरब टाइम्स, दुर्ग। भारतीय जनता पार्टी से राज्यसभा सांसद सरोज पांडे बुधवार को पार्टी के नगरीय निकाय चुनाव प्रत्याशियों के पक्ष में रोड शो के लिए दुर्ग की सड़कों पर निकली थीं। इसी बीच रोड शो के दौरान दो गुट आपस में भिड़ गए। देखते-देखते दोनों गुटों के बीच हिंसक झूमाझटकी शुरू हो गई। इसके बाद मौके पर मौजूद पुलिस बल को इस विवाद को रोकने के लिए हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। पुलिस के लाठी भांजने के बाद हंगामा कर रहे लोग वहां से भाग खड़े हुए। इस घटना में कुछ लोगों को मामूली चोटें आई हैं। भाजपा प्रत्याशियों के लिए वोट अपील करते हुए राज्यसभा सांसद सरोज पांडे बुधवार की दोपहर रोड शो के लिए निकली थीं। इस रोड शो के दौरान ही दो गुटों के बीच विवाद शुरू हो गया। बताया जा रहा है कि इसमें से एक गुट भाजपा प्रत्याशी और दूसरा गुट एक निर्दलीय प्रत्याशी के समर्थकों का था। दोनों गुटों में मुहजबानी बहस के बाद हिंसक झड़प होने लगी। इसी बीच पुलिस को हस्तक्षेप करते हुए लाठियां भांजनी पड़ी। तब जाकर हंगामा शांत हुआ। बताया जा रहा है कि जिस वक्त यह रोड शो चल रहा था उसी दौरान दूसरी ओर से वार्ड क्रमांक 21 के निर्दलीय प्रत्याशी अरुण सिंह की रैली निकल रही थी। रैली को रास्ता देने के नाम पर दोनों पक्षों में विवाद हुआ और यह विवाद हिंसक झड़प में तब्दील हो गया। घटना में घायल हुए लोगों को अस्पताल भेजा गया है। इस विवाद के बाद क्षेत्र में तनाव का माहौल है।

भिलाई। शादी के बाद से विवाहिता से मारपीट कर दहेज की मांग करने वाले पति समेत पांच आरोपितों के खिलाफ महिला थाना पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज किया है। प्रार्थिया का आरोप है कि शादी के पहले उससे बताया गया था कि उसका पति प्राइवेट नौकरी करता है और 15 हजार रुपये मासिक वेतन लेता है, लेकिन शादी के बाद जब वो ससुराल गई तो उसे पता चला कि पति निठल्ला है। वह कोई काम नहीं करता और नशा करने का आदि है। इसके अलावा ससुराल के सदस्य दहेज की मांग कर उससे मारपीट करते थे। लगातार की प्रताड़ना से परेशान होकर पीड़िता ने महिला थाने में शिकायत की और काउंसलिंग के बाद पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ अपराध दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि ग्राम भीमाटोला बालोद निवासी प्रार्थिया ने ग्राम सिलोदा रसमड़ा निवासी अपने पति धनंजय निषाद, सास प्रमिला निषाद, जेठ गोविंद निषाद, जेठानी लक्ष्मी निषाद और मामा ससुर दिनेश निषाद के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया है। बीते पांच मई 2019 को प्रार्थिया की शादी आरोपित से हुई थी। शादी के समय उसके परिजनों ने प्रार्थिया को सभी घरेलू सामान दिए थे। शादी के पहले प्रार्थिया के मामा ससुर दिनेश निषाद ने प्रार्थिया के घर वालों को बताया था कि उसका होने वाला पति प्राइवेट नौकरी करता है और कोई नशा नहीं करता है। शादी के बाद जब प्रार्थिया अपने ससुराल पहुंची तो उसे पता चला कि आरोपित पति धनंजय निषाद कोई काम नहीं करता है॥ वह शराब के नशे में पीड़िता से मारपीट करता था। वहीं ससुराल वाले भी दहेज में कम सामान लाने की बात कहकर प्रार्थिया से मारपीट करते थे। प्रार्थिया ने अपनी शिकायत में पुलिस को बताया कि उसके पति का किसी दूसरी महिला से अवैध संबंध है। जिसके चलते उसका पति उसे ज्यादा ही प्रताड़ित करता था। पीड़िता के हवाले से पुलिस ने बताया कि पीड़िता गर्भवती हुई तो भी उससे मारपीट की जाती थी। जब वो डेढ़ माह की गर्भवती थी तो ससुराल वालों ने उसे खीर में मिलाकर कुछ खिलाया। जिसके बाद उसका गर्भपात हो गया। महज पांच महीनों में ही आरोपितों ने पीड़िता को इतना प्रताड़ित किया कि वो काफी ज्यादा परेशान हो गई। इसके बाद आरोपितों ने उसे घर से निकाल दिया। पीड़िता अपने मायके गई और आरोपितों के खिलाफ महिला थाने में शिकायत की।

पूरब टाइम्स, भिलाई। मोबाइल टावर लगाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। खुर्सीपार की एक बुजुर्ग महिला से इस गिरोह ने ठगी की। पिछले तीन साल में अलग- अलग कहानी व किस्से गढ़ते हुए बुजुर्ग महिला से इस गिरोह ने 62 लाख 2500 रुपए की भारी रकम ऐठ ली थी। 2015 में शुरू हुआ यह किस्सा 2019 तक चलता रहा। कभी बीमा पॉलिसी के रुपए निकालने, तो कभी चालान बनाने तो कभी रुपए जारी कराने के नाम पर बुजुर्ग महिला से ठगी होती रही। इस मामले में पीड़ित महिला ने एक मीडिया कर्मी की मदद से एसपी के समक्ष जुलाई माह में शिकायत की थी। शिकायत पर कार्यवाही करते हुए पुलिस काफी सजगता के साथ अलग-अलग शहरों से सात आरोपियों को गिरफ्तार किया है। वही 8 आरोपी अब भी फरार है जिनकी तलाश की जा रही है। मामले का खुलासा करते हुए एसपी अजय यादव ने बताया कि दिल्ली के ठग गिरोह ने खुर्सीपार बुजुर्ग महिला को अपने जाल में फंसाया की उसने कई किस्तों में उनके बताए बैंक खातों में मुंहमांगी रकम जमा कराती रही। जबतक महिला को समझ मे आया कि वह बड़ी ठगी की शिकार हो गई तो उन्होंने अपने परिचित मीडिया कर्मी कमल शर्मा से संपर्क किया। पत्रकार कलम शर्मा की सहायता से मनोरमा जैन ने एसपी व आईजी के मसक्ष शिकायत कर गुहार लगाई। शिकायत के बाद जब पुलिस ने जांच शुरू की और आरोपियों तक पहुंची। आरोपियों में अपूर्व गुप्ता नोएडा, मंजेश कुमार गाजियाबाद उत्तर प्रदेश, सैय्यद मोहम्मद जामिया नगर नईदिल्ली, ज्ञानसुदद्दीन अशोक नगर नईदिल्ली, कुंदन कुमार गाजियाबाद, सानू पाण्डेय गौतम बुद्ध नगर नोएडा, अर्जुन वर्मा नोएडा, शामिल है। वही फरार आरोपियों में सोना उर्फ स्वर्णलता चौधरी, अंकित कुमार, कृष्णकांत गौतम, आदिल परवेस, मुस्तकीन, विजय कुशवाहा व विपिन शामिल है। एसएसपी ने बताया कि खुर्सीपार निवासी बुजुर्ग महिला मनोरमा जैन के मोबाइल नंबर पर दिल्ली से देवेंद्र जैन नाम के एक व्यक्ति का फोन आया। उसने कहा कि घर की छत पर भारती और रिलायंस कंपनी का मोबाइल टावर लगवाने पर हर महीने 45 हजार रुपए किराया मिलेगा। लेकिन इसके लिए एचडीएफसी कंपनी का इंश्योरेंस प्लान भी लेना होगा। पहली बार 96 हजार 890 रुपए भारती कंपनी और 88 हजार 435 रुपए रिलायंस कंपनी के नाम पर देवेंद्र ने खाते में जमा करवाया। वर्ष 2015 में ठगी का यह सिलसिला शुरू हुआ जो चार साल तक चलता रहा। दिल्ली के यह ठग पूरी कंपनी चला रहे थे। आरोपियों के पास से बड़ी संख्या में लैड लाइन फोन, मोबाइल फोन,बीमा प्लान,एटीएम कार्ड, आईकार्ड, मोबाइल डेटा व लेखाजोखा जब्त किया गया।

पूरब टाइम्स, दुर्ग। नगरीय निकाय चुनाव के बीच जहां प्रत्याशी जनता को लुभाने के लिए कई वादे कर रहे है, वही कई प्रत्याशी ऐसे है जो प्रचार-प्रसार के लिए अनोखा तरीका अपनाकर सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर रहे है, जी हा दुर्ग के भाजपा पार्षद प्रत्याशी अजय वर्मा भी है. जो वोटरों को लुभाने के लिए  अपने वार्ड के बुथ कार्यलय  में बैठ कर नगाड़ो व गानों के साथ मस्ती में नजर आ रहे है। पार्षद प्रत्याशी अजय वर्मा अपने समर्थकों के बीच छत्तीसगढ़ी गाने के माध्यम से लोगों का मनोरंजन भी कर रहे हैं और साथ ही लोगों के बीच अपनी छाप भी छोड़ रहे हैं। सोशल मीडिया में उनका यह वीडियो काफी पसंद किया जा रहा है। I

दुर्ग।  मानसिक रूप से अस्वस्थ पीड़िता के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपित मुहबोले चाचा को न्यायालय ने 17 साल कारावास की सजा सुनाई है। घटना 15 मार्च 2018 की है। परिजन सुबह खाना बनाकर काम करने खेत चले गए। इस दौरान पीड़िता घर में अकेली थी। दोपहर करीब एक बजे पीड़िता की मां घर पहुंची तब देखा कि उसकी बेटी (पीड़िता) रो रही है। पूछने पर पीड़िता ने बताया कि दोपहर करीब 12 बजे पड़ोस में रहने वाला टोमन चाचा आया था। जिसने उसके साथ जबरदस्ती की। मां ने घटना की जानकारी पीड़िता के पिता को दी और उसके बाद पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराया। मामले में पुलिस ने आरोपित टोमन दास के खिलाफ अपराध दर्ज कर प्रकरण न्यायालय में पेश किया। न्यायालय ने आरोपित को धारा 450 में सात वर्ष सश्रम कारावास और दो हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई है। धारा 376(2) में दस वर्ष सश्रम कारावास एवं दो हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई है। अर्थदंड अदा नहीं करने पर आरोपित को दो माह अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। दोनों सजाएं साथ-साथ चलेगी।

पूरब टाइम्स, भिलाई. प्रदेश में नगरीय निकाय के चुनाव ज़ोरों पर हैं परंतु भिलाई नगर निगम के चुनाव साल 2020 के दिसंबर में ही होंगे . दुर्ग नगर निगम के चुनाव में जहां पहली बार कांग्रेस के विधायक  अरुण वोरा पूरी तरह से भाजपा की राज्य सभा सांसद सरोज पाण्डेय के सामने ताल ठोकते प्रतीत हो रहे हैं (? ) , वहीं भिलाई निगम के उपचुनावों में सरोज पाण्डेय ने अपने करीबियों को टिकिट देकर अपनी ताक़त दिखाने का श्रीगणेश कर दिया है. इससे सबसे ज़्यादा चौकन्ने होने की आवश्यकता भिलाई नगर के युवा महापौर व विधायक देवेन्द्र यादव को हो गई है क्योंकि उनके एक तरफा साम्राज्य में घुसपैठ ना हो जाये. भिलाई निगम के वार्ड 3 कोसा नगर से देवेन्द्र यादव के खास अतुल श्रीवास्तव प्रत्याशी हैं , वहीं सरोज पाण्डेय गुट के युवा नेता जय प्रकाश यादव भी अपना भाग्य आजमा रहे हैं . यहां सबसे दिलचस्प बात यह है कि दोनों पार्टियों के असंतुष्ट ज़ोर शोर से भीतराघात की रणनीति बनाते हुए दिख रहे हैं.
युवा महापौर देवेंद्र यादव और दुर्ग की पूर्व की युवा महापौर रही सरोज पांडेय के करीबी लोग भिलाई निगम चुनाव में आमने सामने हैं . उल्लेखनीय है कि दोनों राजनेता अपने-अपने शहर के चर्चित और लोकप्रिय व्यक्तित्व है . दोनों की एक खासियत समान है,  वह यह कि दोनों ने अपने युवा अवस्था में स्वयं के लिए सम्मान जनक राजनीतिक ओहदा हासिल किया और अपने समकालीन दिग्गजों को हाथ मलने पर मजबूर किया . भिलाई को इन दोनों राजनीतिज्ञो पर नाज है क्योंकि ये दोनों हो अविभाजित भिलाई निगम के रहवासी है . उल्लेखनीय है कि सरोज पाण्डेय ने, स्व ताराचंद साहू को भाजपा से हटकर नई राजनीतिक पार्टी बनाने की परिस्थिति का सामना करवाया तो देवेंद्र यादव ने प्रेम प्रकाश पाण्डेय को नगर निगम और विधानसभा क्षेत्र से बाहर का रास्ता दिखलाने में सफलता हासिल की .  इतना ही नहीं देवेंद्र यादव ने बदरुद्दीन कुरैशी की विधानसभा को अपना राजनीतिक अखाड़ा बनाया तो बदरुद्दीन कुरैशी को वैशाली नगर में अपनी राजनीतिक जमीन तलाशने का निर्णय लेना पड़ा  और पूर्व में स्थापित राजनेता ,भजन सिंह निरंकारी,  बृज मोहन सिंह, वशिष्ठ नारायण मिश्रा, रिकेश सेन, राजेंद्र अरोरा, नीरज पाल और लक्ष्मी पति राजू जैसे नाम भिलाई राजनीति के ठंडे बस्ते में अपनी जगह तलाशने को मजबूर हो गए है . आज भिलाई का सबसे बड़ा नाम है देवेंद्र यादव और उसका करीबी निगम उप चुनाव के बहाने भाजपा की वरिष्ठ महिला नेत्री सरोज पांडेय के करीबी समझे जाने वाले पार्षद प्रत्याशी को अपना चुनौती दे रहा है . अब आगामी निगम चुनाव की मतगणना का निर्णय यह संकेत दे देगा कि सरोज या देवेंद्र ,किसका राजनीतिक सूर्य अस्त होगा और किसका राजनीति सूर्य चमकेगा ? 

भिलाई के उपचुनाव में भाजपा के रणनीतिकारों ने युवा मोर्चा को एक सांत्वना देते हुए  युवा पार्षद प्रत्याशी दिया.   जिसके बाद उत्साहित भाजपा का युवा मोर्चा अपने प्रत्याशी के लिए संघर्ष करने मैदान में जोर शोर से उतर गया तो कांग्रेस आलाकमान ने अपने पत्ते खोलें और मंगा सिंह जैसे अग्रणी पार्षद प्रत्याशी को चुनाव मैदान से बाहर खींच लिया और  जवाबी कार्यवाही करते हुए एक युवा पार्षद प्रत्याशी ,  वार्ड तीन में उतार दिया इसके बाद भाजपा और कांग्रेस दोनों की लड़ाई में एक तीसरा पक्ष सक्रिय हो गया जोकि भाजपा और कांग्रेस का असंतुष्ट घटक है ,अब त्रिकोणीय और दिलचस्प मुकाबला इन तीन घटकों के बीच में है . पार्टी के प्रत्याशी , तीसरे पक्ष अर्थात असंतुष्ट लोगों से परेशान हैं . यह तीसरा पक्ष जो कि भाजपा और कांग्रेस का असंतुष्ट मिश्रण है ये एक ऐसी परिस्थिति निर्मित करने वाले हैं जो कि आगामी भिलाई निगम चुनावों में नया दृष्टिकोण प्रतिस्थापित कर देंगे . भाजपा , वैसे अभी राजनीतिक गलियारे से बाहर है लेकिन यह वार्ड शुरुआत से भाजपा के लिये अजेय रहा है . सो जीत के लिये आश्वस्त दिख रही है .  और उधर कांग्रेस का पार्षद अपनी जीत सुनिश्चित नहीं कर पाया तो इसका दुष्परिणाम कांग्रेस को आगामी भिलाई निगम चुनाव में झेलना पड़ेगा,  अभी तो विशेषज्ञ यही मान रहे हैं . लेकिन हो सकता है देवेंद्र यादव के पास जादू की छड़ी हो जो परस्थिति पर काबू कर ले .  जैसे बदरुद्दीन कुरैशी प्रेम प्रकाश पाण्डेय के बिना अपनी जीत दर्ज कराने में विफल हुए हैं वैसे ही देवेंद्र क्या करेंगे यह आने वाला समय बताएगा ? क्योंकि इस बार उनके आदमी की टक्कर सीधे सरोज पाण्डेय के आदमी से है.


पूरब टाइम्स, दुर्ग।   नगर निगम का चुनाव जैसे जैसे परवान चढ़ रहा है रोज़ नई नई बातें सामने आ रही है, इस बार  दुर्ग नगर निगम के वार्ड क्रमांक 23 दीपक नगर की निर्दलीय प्रत्याशी  मीना सिंह पर उसी वार्ड की एक अन्य महिला प्रत्याशी, जो कि इस चुनाव से  अपना नाम वापस ले चुकी है, पर गंभीर आरोप लगाए  उक्त महिला ने मीना सिंह पर जान से मारने की धमकी जैसे गंभीर आरोप लगाए थे, जिसे  शनिवार को एक प्रेस वार्ता लेते हुए मीना सिंह ने सिरे से खारिज किया और बताया कि उक्त महिला से उसका इस तरह का कोई विवाद नहीं है,  ना ही उसने किसी भी प्रकार की धमकी उसे दी है,  इसके विपरीत उक्त महिला उसी वार्ड के चुनिंदा लोगों के दबाव में आकर मीना सिंह पर यह गंभीर आरोप लगा रही है, वार्ड के  संजय बिहारी, व  राजेश सिंह, रंजय  उनकी छवि को धुमिल कर रहे हैं मीना सिंह का कहना है वार्ड में उसे चुनाव प्रचार करने में भी कई प्रकार से बाधा डाली जा रही है एवं वार्ड वासियों को भी उक्त महिला द्वारा बहकाया जा रहा है, मीना सिंह का वार्ड में अच्छी पैठ होने के कारण उक्त महिला द्वारा एवं वार्ड के ही कुछ निवासियों के द्वारा यह कृत्य किया जा रहा है, इस पूरे मामले की शिकायत मीना सिंह ने एसपी से की है एवं जांच कर आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई करने का आग्रह भी पुलिस अधीक्षक से किया है, साथ ही मीना सिंह इसकी शिकायत निर्वाचन आयोग से भी करने की तैयारी में है, उनके अनुसार उनके  बढ़ते वर्चस्व को देखते हुए इस प्रकार के हथकंडे कुछ लोगों के द्वारा अपनाए जा रहे हैं। प्रेस वार्ता में मीना सिंह के अलावा वार्ड 23 की दर्जनों महिलाएं पहुंची एवं मीना सिंह की बात का समर्थन किया। अब देखने वाली बात होगी चुनाव प्रचार में इस प्रकार से बाधा डाल एवं मीना सिंह की छवि को धूमिल करने की इस कोशिश में उक्त महिला व अन्य कितने कामयाब होते हैं या आम जनता का इसकी सच्चाई पर क्या रुख रहता है, इसका जवाब तो मतगणना वाले दिन ही मिलेगा।

तकियापारा वार्ड 8 में कांग्रसियों की आपसी टकराहट कहीं भाजपा को पार्षद पद न दिलवादे ?

जब-जब भी किसी पार्टी में अंदरूनी कलह होती है तो दूसरे पार्टी को इसका फायदा मिलता है . तकियापारा में भी ऐसा कई बार हो चुका है . कांग्रेस को उसके अधिकृत प्रत्याशी से निगम राजनीति में प्रवेश पाने का जनादेश नहीं मिला है . उल्लेखनीय है कि अंदरूनी कलह के कारण ही कांग्रेस एक लंबे समय तक प्रदेश सरकार से भी बाहर रही . कांग्रेस के अंदरूनी टकराहट ने ही रमन सरकार को लंबी पारी खेलने का अवसर दिया . वोरा परिवार से आने वाले नेता इसी कारण अनेक बार चुनाव हारे और स्व हेमचंद यादव को दुर्ग का विधायक पद हासिल करने में सफलता मिली . तकियापारा वार्ड में वर्तमान स्थिति भी कुछ ऐसी ही है कि कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में आक्रोश और आपसी मनमुटाव है इसलिए यह स्थिति बन सकती है कि इसका फायदा किसी निर्दलीय को मिलेगा या भाजपा इस बार अपने प्रत्याशी को यहां से जीत दिलवाने में सफल हो जाएगी .

विंसेंट डिसूजा ने सरोज पांडेय का जमकर विरोध किया और न्यायालय में उसे चुनौती दी क्या इसलिए वोरा परिवार को खटक गया यह कर्तव्यनिष्ठ कार्यकर्ता ?

इस बार तकीयपारा वार्ड दुर्ग निगम चुनाव में खासा चर्चा का केंद्र बना हुआ है क्योंकि इस वार्ड में कांग्रेस के तीन वरिष्ठ कार्यकर्ता आपस में चुनावी जोर आजमाईश कर रहे हैं . जिसमें विंसेंट डिसूजा एक ऐसा नाम है जोकि विगत 10 वर्षों में पूरे समय चर्चा में रहा क्योंकि उसने पूर्व महापौर सरोज पांडे का खुलकर विरोध किया और उसे न्यायालय में चुनौती दी है . जानकारों के अनुसार यह मामला अभी भी न्यायालय में प्रक्रियाधीन है और अभी भी ऐसी स्थिति में है कि पूर्व दुर्ग महापौर को कभी भी चुनौती देने का आधार बन सकता है . भाजपा नेता भी इस वार्ड में विवादित है क्योंकि वार्ड में बाहर का प्रत्याशी थोप कर एक बार पुन: इस वार्ड के भाजपा कार्यकर्ताओं को निराश करने का आरोप भी खासा चर्चा में है . जो लोग निगम में भ्रष्टाचार से मुक्ति चाहते हैं वे भी अपनी व्यथा कांग्रेस और भाजपा के विरोध में प्रचार करके व्यक्त कर रहे हैं क्योंकि उनका मानना है कि पार्टियों  ने भ्रष्टाचार का विरोध लोकतांत्रिक तरीके से करने वालो को नहीं बनाया है .

कांग्रेस ने किस आधार पर तकियपारा वार्ड का प्रत्याशी चयन किया और क्या यह आधार पुन: विफल होगा ?

गौरतलब रहे कि कांग्रेस ने तकिया पर वार्ड में एक ऐसे प्रत्याशी का चयन किया है जिसके कारण वार्ड में कांग्रेस कार्यकर्ता आपस में टकरा रहे हैं . सूत्रों के अनुसार वार्ड प्रत्याशी का चयन कांग्रेस ने एक विशेष आधार पर किया है जिस पर आचार संहिता लागू होने के बाद चर्चा कराना विधि अपेक्षित कार्य व्यवहार नहीं है लेकिन जिला कांग्रेस का यह निर्णय मतदाताओं को कितना गवारा रहेगा यह विषय आगामी मतगणना परिणाम स्पष्ट कर देगा . उल्लेखनीय हैं कि कांग्रेस द्वारा किया गया प्रत्याशी चयन  यह संकेत दे रहा है कि संकुचित मानसिकता से यह निर्णय लिया गया है परन्तु तकियापरा वार्ड के मतदाताओं ने पूर्व में दो बार विंसेंट डिसूजा को जीत दिलवाकर शहर सरकार में अपना जनादेश देकर भेजा था और यह साबित किया था तकियापारा वार्ड का मतदाता संकुचित विचारधारा से बंधा नहीं है . वह वार्ड को प्रगति दिलवाने वाले को पहचानता है और केवल जाति बिरादरी के आधार पर प्रत्याशी चयन करने वालों के निर्णय को अपना समर्थन देने के लिए मजबूर नहीं है .




भिलाई। बॉलीवुड अभिनेत्री राखी सावंत के खिलाफ अपराध दर्ज करने ट्रक एशोसिएशन ने पुलिस विभाग से गुहार लगाई है। दरअसल हैदराबाद में डॉक्टर दिशा के साथ गैंगरेप और हत्या के बाद देश भर में गुस्से की लहर है, देश की राजधानी दिल्ली से लेकर हर राज्य में इस जघन्य हत्याकांड को लेकर धरना प्रदर्शन हुआ हर किसी ने अपनी-अपनी बात रखी, जिसे मीडिया के सामने बोलने का मौका नही मिला उसने सोशल मीडिया के जरिये अपनी आवाज उठाई ऐसे में विवादों की क्वीन राखी सावंत कैसे चुप बैठती लिहाजा उन्होंने भी अपना एक वीडियो जारी कर दिया अपने इस विवादास्पद वीडियो में राखी ने सभी ट्रक ड्राइवरों के खिलाफ अभद्र, विवादास्पद और शर्मनाक टिप्पणी कर दी, जिससे कि ट्रांसपोर्ट व्यवसाय से जुड़े हुए लोग आक्रोशित हो गए और उन्होंने सुपेला थाना में टीआई को ज्ञापन सौप कर राखी सावंत के खिलाफ FIR दर्ज करने की मांग की है,

पूरब टाइम्स, दुर्ग। कसारीडीह  सिविल लाईन स्थित प्रसिद्ध श्रीसाई बाबा मंदिर में 43 वें वार्षिक महोत्सव के अंतिम दिन बुधवार को मंदिर में महाप्रसादी भंडारा ग्रहण करने करीब 20 से 25 हजार की संख्या में साई भक्त उमड़े। महाप्रसाद ग्रहण करने कांग्रेस व भाजपा समेत विभिन्न राजनीतिक पार्टी के नेतागण भी मंदिर पहूंचे थे। दुर्ग शहर विधायक अरुण वोरा ने साई बाबा के दर्शन कर शहर की सुख समृद्धि के लिए कामना की। महोत्सव के अंतिम दिन होने से दर्शन के लिए सुबह से ही मंदिर में साई भक्तो की भीड़ जुटनी शुरू ही गई थी। साई भक्त भजनों की धुन में नाच-गाकर अपना उत्साह प्रगट करते रहे। इससे मंदिर परिसर श्रद्धाभाव से सराबोर रहा। आम भंडारा उपरांत पूजा की थाली सजाओं एवं रंगोली प्रतियोगिता के परिणाम घोषित किये गए । यह दोनों प्रतियोगिता तीन आयु वर्गो में आयोजित की गई थी। पूजा की थाली सजाओ के ए वर्ग में प्रथम भारती नामदेव, द्वितीय  किरण शर्मा, सी ग्रुप में प्रथम गायत्री यादव, द्वितीय ओजस्वी ठाकुर, तृतीय यामिनी ठाकुर रही। इसी प्रकार रंगोली प्रतियोगिता के ए वर्ग में प्रथम अंबिका चंदेल, द्वितीय तृप्ति राउत, तृतीय मनाली वर्मा, सांत्वना पुरस्कार सविता देशलहरे, बी वर्ग में प्रथम वर्षा,द्वितीय एकता साहू, तृतीय छाया कौशल, सांत्वना पुरुस्कार सोनिया यादव, सी वर्ग में प्रथम धारणा चंदेल, द्वितीय वेदिका साहू, तृतीय मनप्रित कौर सांत्वना नेहा निषाद, डी वर्ग में प्रथम प्रियांषु देशमुख, द्वितीय हर्षित ठाकुर, तृतीय विशाल साहू, सांत्वना प्रतियोगिता में समाजसेवी रोहिणी पाटनकर, सीमा देवांगन, सोनाश्री शर्मा, सुनीता मुरकुटे, शीतल भाटे ने अपना योगदान दिया। विजयी प्रतिभागियों को मंदिर समिति के पदाधिकारियों द्वारा 12 दिसंबर गुरुवार की शाम 6:30 बजे पुरस्कृत किया जाएगा। शाम को श्री साई बाबा की महाआरती की गई। महाआरती के बाद मंदिर परिसर से साई बाबा की भव्य शोभायात्रा का पूरे रास्तेभर श्रद्धालुओं ने पुष्पवर्षा व आतिशबाजी के साथ स्वागत किया। इस दौरान यह शोभायात्रा सिविल लाईन, मुक्त नगर, कन्हैयापुरी, आजाद चौक,कसरीडीह चौक, होते हुए अंत मे वापस मंदिर परिसर पहुंची । जिसके बाद वार्षिक महोत्सव का समापन हुआ। शोभायात्रा में समिति के अध्यक्ष श्रीकांत समर्थ, सचिव धनेन्द्र सिंह चंदेल, उपाध्यक्ष संजय सिंह, रविन्द्र भटनागर, सहसचिव संतोष यदु कोषाध्यक्ष धीरेन्द्र शर्मा, प्रचार सचिव मुरलीधर राऊत, शिवाकांत तिवारी, कार्यकारिणी सदस्य अरविंद वोरा, सुधीर वाघ, कौशल किशोर सिंह, संतोष खिरोडकर, डॉ. सुधीर हिशीकर, सुजीत गुप्ता, राम पांडे, सुरेश साहू, विनय चंद्राकर, अतुल मढ़रिया, अजय सुरपाम,प्रभाकर राव पाटने, अलताफ अहमद, प्रकाश गीते, प्रकाश जोशी, दीपक साहू, राधेश्याम शर्मा, संजय डहरवाल,मधुकर राऊत, प्रकाश शिवणकर, संतोष देवांगन, अरुण मिश्रा,अरविंद लोखंडे, हनुमान यादव, अशोक राठी, अजय मिश्रा,गणेश निरमलकर, राजू भाटिया, दामोदर चंद्राकर, गिरजानंद झा. रत्ना नारमदेव, रंजना गुप्ता, भगवती ठाकुर, अन्नपूर्णा मढ़रिया, अकुंर चंद्राकर, राजू साहू, मोनू यादव, श्रीमंत नाग, प्रशांत यादव, राजा मारकंडेय, अभिषेक निर्मलकर एवं बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। इसके पहले महोत्सव के दूसरे दिन छत्तीसगढ़ी सांस्कृतिक कार्यक्रम की श्रृंखला में लोकरंग अर्जुन्दा के कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति दी। लोकरंग के निर्देशक दीपक चंद्राकर के साथी कलाकारों ने अपने गीत संगीत व नृत्य की प्रस्तुति से देर रात तक शमां बांधी। जिसका श्रद्धालुओं ने भरपूर आनंद उठाया। कार्यक्रम में शहर विधायक अरुण वोरा शामिल हुए। उन्होने श्रद्धालुओं को वार्षिक महोत्सव की बधाई दी।

भिलाई।  सुपेला की एक शातिर महिला ने महिलाओं का समूह बनाकर बैंक से लोन लेकर अपने पति का बिजनेस स्टैंड किया। उक्त महिला ने कई समूह बनाए और 200 से अधिक महिलाओं को जोड़ा। उक्त समूहों का लोन पास होते ही महिला ने सारे पैसे निकालकर खर्च कर दिए। जब पति को बिजनेस में नुकसान होने लगा और बैंक वालों ने समूह की महिलाओं से ऋण वसूली शुरू की तो आरोपित महिला फरार हो गई। करीब डेढ़ महीने बाद पुलिस ने आरोपित महिला को नागपुर से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि शंकर पारा सुपेला निवासी आरोपित महिला प्रतिमा सिंह ने सुपेला क्षेत्र की आर्थिक रूप से कमजोर महिलाओं का समूह बनाकर विभिन्ना बैंकों जना बैंक, इंसाफ बैंक, बंधन बैंक, एसएस बैंक, उज्ज्वला बैंक से ग्रुप लोन लिया। हर ग्रुप में आरोपित महिला ही लीडर बनती थी। समूह बनाने के बाद समूह की हर महिला के नाम से खाता खोला गया। आरोपित महिला ने समूह की सभी महिलाओं के बैंक का पासबुक और एटीएम अपने पास रख लिया। जब समूह का लोन पास हुआ तो महिला ने सभी महिलाओं के हिस्से की राशि उनके एटीएम की मदद से निकाल ली। लोन के पैसों से आरोपित महिला ने अपने पति राकेश सिंह के लिए चार कॅमर्शियल गाड़ियां खरीदी और कुछ पैसे जमीन में निवेश किए थे। कुछ महिलाओं ने आरोपित महिला प्रतिमा सिंह से रुपये निकालने के संबंध में जानकारी मांगी तो उसने पति के इलाज का बहाना बनाया। वहीं अधिकांश महिलाओं को तो यह पता भी नहीं था कि उनके हिस्से की राशि को आरोपित प्रतिमा सिंह ने बैंक से निकाल लिया है। जब बैंक के अधिकारियों ने लोन की रिकवरी के लिए समूह की महिलाओं से संपर्क किया तो उन्हें आरोपित महिला की करतूत के बारे में जानकारी हुई। कुछ महिलाएं आरोपित के पास पैसे मांगने पहुंची तो वो चुपके से फरार हो गई थी। पीड़ित महिला पूनम तांडी, सुमन रैकवार, पिंकी तांडी, सलमा बेगम, शबनम खातून, पूनम विश्वकर्मा, रेश्मा, नीलम, सरीता, सकीना बेगम, खतीजा, नगमा बेगम, मंजू प्रसाद, कविता और किरण सहित अन्य महिलाओं ने दीपावली के पहले घटना की शिकायत की थी। जिस पर पुलिस ने आरोपित महिला को नागपुर से पकड़ा और उसके खिलाफ धोखाधड़ी की धारा के तहत कार्रवाई की है।

दुर्ग। स्वतंत्रता दिवस पर जिले के प्रभारी मंत्री के हाथों बेस्ट थाना प्रभारी का अवार्ड पाने वाले कुम्हारी थाना में पदस्थ उप निरीक्षक चार हजार रुपये रिश्वत लेने का आरोप लगा है। राशि लेते कैमरे में कैद वीडियो वायरल किया गया है। ट्रांसपोर्टर ने उप निरीक्षक का पैसा लेते हुए वीडियो बनाया है। मामले की शिकायत एसपी से की गई है। एसपी ने जांच के निर्देश दिए हैं। सुपेला थाना अंतर्गत कोहका भिलाई निवासी सुखवंत सिंह ने गुरुवार को पत्रकार वार्ता में इस मामले का खुलासा किया।

भिलाई।बीएसपी सेक्टर-वन मैदान में  अपने कर्मयोगियों के बीच क्रिकेट लीग का आयोजन कराया।  कर्मयोगी क्रिकेट लीग की इस साल की विजेता खुर्सीपार के कर्मयोगियों की टीम रही। जिन्होंने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए पावर हाउस के कर्मयोगियों को पटकनी दी। खुर्सीपार की टीम ने अपने दोनों ही मैच में शानदार प्रदर्शन किया। क्रिकेट प्रतियोगिता के मुख्य अतिथि नईदुनिया के मेन एजेंट नरेंद्र अग्रवाल व दीपक ठक्कर रहे। इसके अलावा नईदुनिया प्रसार विभाग के छत्तीसगढ़ हेड अशोक शर्मा, योगेश परासर, दिलीप लालपूरी, प्रवीण अवस्थी, सीताराम मीणा उपस्थित थे।

कर्मयोगी लीग का पहला मैच खुर्सीपार व सेक्टर-6 की टीम के बीच खेला गया। सेक्टर-6 की टीम ने टॉस जीतकर खुर्सीपार की टीम को बेटिंग के लिए बुलाया। खुर्सीपार की टीम ने चुम्मन (17 गेंद पर 44 रन) की धुआंधार पारी की बदौलत 8 ओवर में 89 रन बनाए। प्रकाश ने 17 रन बनाए। रनों का पीछा करने उतरी सेक्टर-6 की टीम 77 रन पर सिमट गई। सेक्टर-6 के करन ने लक्ष्‌य का पीछा करने की भरपूर कोशिश की, लेकिन उनके 34 रन में आउट होते ही टीम की उम्मीद भी खत्म हो गई। मैन ऑफ द मैच चुम्मन लाल को चुना गया।

भिलाई।भिलाई के दो वार्डों में होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने तीन नंबर वार्ड से अपना अधिकृत प्रत्याशी घोषित कर दिया है। वहीं एक वार्ड के प्रत्याशी को लेकर मंथन जारी है। हालांकि दो वार्डों में टिकट वितरण को लेकर कांग्रेस में भी बवाल की खबर आ रही है।

बता दें कि भिलाई नगर निगम के दो वार्ड नेहरु नगर वार्ड तीन तथा शांति नगर वार्ड दस में उपचुनाव होना है। भाजपा ने गुटीय संतुलन बनाते हुए वार्ड तीन से जेपी यादव तथा वार्ड दस से प्रमिला दुबे को टिकट दिया है। वहीं वार्ड तीन से कांग्रेस ने मंगा सिंह को उम्मीदवार बनाया है। वार्ड दस के टिकट को लेकर चर्चा जारी है। कांग्रेस में भी टिकट वितरण को लेकर रायपुर में खासी गहमागहमी की खबर है।