Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



दुर्ग। पुलिस महानिदेशक डी.एम.अवस्थी की विशेष पहल पर 1 मई से दुर्ग पुलिस अधिकारियों/कर्मचारियों का कोरोना टेस्ट और हेल्थ चेकअप प्रारम्भ किया गया। वर्तमान में पुलिस अधिकारी/कर्मचारी, लॉकडाउन को प्रभावी तरीके से लागू कराने में फिल्ड पर डटे हुए है तथा आम नागरिकों के सीधे संपर्क में भी है। जिस कारण पुलिसकर्मियों में भी कोरोना के संक्रमण का खतरा बना हुआ है। चूंकि पुलिसकर्मी कोरोना और जनता के बीच एक ढाल के तौर पर खड़े है जिस कारण उन्हें भी संक्रमण मुक्त रहना आवश्यक है, तभी आम नागरिकों की बेहतर सुरक्षा की जा सकती है।

इन्हीं तथ्यों को ध्यान में रखकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय कुमार यादव के दिशा निर्देशन में जिले के पुलिस कर्मियों का चरणबद्ध तरीके से आज पुलिस नियंत्रण कक्ष में जिला चिकित्सालय के टीम ने कोरोना टेस्ट किया जिसमें आम जनता के सीधे संपर्क में आने वाले पुलिस के अधिकारी व जवान, फिक्स प्वाइंट ड्यूटी व पेट्रोलिंग ड्यूटी तथा कुछ थाना प्रभारियों को मिलाकर पहले दिन 21 लोगो का कोरोना टेस्ट किया गया है। 

पुलिस जवानों के साथ ही उप पुलिस अधीक्षक मुख्यालय शौकत अली, नगर पुलिस अधीक्षक दुर्ग विवेक शुक्ला, भिलाईनगर अजीत कुमार यादव, उप पुलिस अपराध प्रवीर चंद तिवारी, निरीक्षक साइबर गौरव तिवारी, थाना प्रभारी भिलाईनगर निरीक्षक सुरेश ध्रुव, थाना प्रभारी भट्टी भूषण एक्का, डीएसबी प्रभारी निरीक्षक त्रिनाथ त्रिपाठी ने स्वयं उपस्थित होकर अपना कोरोना टेस्ट कराया। आज प्रथम दिवस 45 वर्ष या इससे ऊपर के सभी पुलिसकर्मियों का कोरोना टेस्ट कराया गया। यह जाँंच आगामी कुछ दिनों तक लगातार जारी रहेगी और पुलिस के सभी अधिकारी/कर्मचारियों का कोरोना टेस्ट कराया जाएगा।

भिलाई। सरकारी अंग्रेजी माध्यम स्कूल शुरू किए जाने के लिए दुर्ग जिले से छह स्कूलों का चयन किया गया है। पूर्व में कुल नौ स्कूल चिन्हित किए गए थे। शिक्षा सचिव डॉ आलोक शुक्ला ने सभी नौ स्कूलों का निरीक्षण किया था। लेकिन बाद में तीन स्कूलों को अंग्रेजी माध्यम की योजना से बाहर कर दिया गया। इसमें शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला दीपक नगर दुर्ग, जेआरडी विद्यालय दुर्ग तथा शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला वैशाली नगर शामिल है। चयनित स्कूलों में शासकीय जनता उच्चतर माध्यमिक शाला भिलाई-3, शासकीय हाईस्कूल बालाजी नगर खुर्सीपार, शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला सेक्टर-6, भिलाई, शासकीय उ.मा.शाला कुम्हारी तथा शासकीय बालक उ.मा. शाला पाटन है।

इस प्रस्ताव में सबसे पहला नंबर शासकीय जनता उच्चतर माध्यमिक शाला भिलाई-3 है जिसमें भीं इसी सत्र से अंग्रेजी माध्यम में पढ़ाई शुरू हो जाएगी। इसके लिए कक्षा पहली, छठवीं और नवमी में बच्चों को प्रवेश दिया जाएगा। जिला शिक्षा अधिकारी ने इस संबंध में प्रस्ताव बनाकर राज्य शासन को प्रेषित कर दिया है। राज्य शासन ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा और सोंच के अनुरुप चुनिंदा सरकारी स्कूलों को अग्रेजी माध्यम से तब्दील करने का निर्णय लिया है।

पूरब टाइम्स, दुर्ग। दुर्ग जिला, भारत सरकार द्वारा जारी की गई लिस्ट में ग्रीन जोन में है. इस बात से यहां की आम जनता को विशेष छूट मिल रही है. वही जिला प्रशासन कोरोना महामारी से निपटने की अपनी तैयारी पर अपनी पीठ ठोक रहा है. हालात यह है कि जिला प्रशासन धड़ल्ले से अन्य क्षेत्र में आने-जाने की अनुमति दे रहा है. ऐसा लगता है कि इस बात से स्थानीय पुलिस व प्रशासन ने अपने कार्यो में ढीलाई बरतनी चालू कर दी है. इन परिस्थितियों को देख कर दुर्ग जिले में कोरोना, कभी भी दस्तक दे सकता है. इस बात को नकारा नही जा सकता है. 

आज सुबह से ही पूरब टाइम्स की टीम ने नेशनल हाइवे पर बाफना टोल प्लाजा के पास जाकर ट्रकों की आवाजाही की पड़ताल की . इस पर चौकाने वाली बातें सामने आई कि ट्रकों के भीतर व  ऊपर अनेक लोग बिना माक्स व बिना सोशल डिस्टेसिग के दिखे. पता करने पर मालूम चला कि अनेक लोग, महाराष्ट्र बॉर्डर को पार कर यहां तक पहूंचे थे. महाराष्ट्र बॉडर से ड्राइवर व खलासी की अनुमति के साथ ट्रक जांच चौकी को पार कर, छत्तीसगढ़ बॉडर में प्रवेश कर रहे है.

और महाराष्ट्र से उनके साथ आने वाले यात्रीगण अन्य वैकल्पिक रास्ते से घुसपैठ कर, फिर से उसी ट्रक पर आकर बैठ जाते है. जिसमे वे पहले से महाराष्ट्र के भीतर यात्रा कर रहे थे. एक अन्य यात्री ने बताया कि ट्रक ड्राइवर मनमानी पैसा वसूल कर रहे है. वे बता रहे है  कि जगह-जगह पुलिस को पैसा खिलाना पड़ता है. इन हालात में कोरोना मामले में दुर्ग जिले की स्थिति भी विस्पोटक हो सकती है। अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है , जिला प्रशासन व पुलिस उच्च अधिकारी के संज्ञान आने व कड़ाई दिखाने पर सब कुछ नियंत्रित किया जा सकता है। 

पूरब टाइम्स दुर्ग। लाकडाउन में दूसरे राज्यों में फंसे श्रमिकों की जिले में वापसी की स्थिति में उनके स्वास्थ्य परीक्षण, क्वारंटीन एवं क्वारंटीन सेंटर की सुविधाओं के संबंध में पुख्ता तैयारियां शुरू हो गई हैं। जनपद मुख्यालय में एवं पंचायतों में क्वारंटीन सेंटर होंगे। क्वारंटीन के लिए स्कूलों को चुना गया है। सभी क्वारंटीन सेंटर में पानी-बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं को सुनिश्चित कर लिया गया है। जिन केंद्रों को चुना गया है उन्हें सैनिटाइज करने के निर्देश दिए गए हैं। क्वारंटीन सेंटर में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सभी जरूरी निर्देशों के पालन के संबंध में अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। श्रमिकों के आते ही उनका स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा। स्वास्थ्य परीक्षण में किसी तरह के लक्षण नहीं पाए जाने पर उन्हें  चौदह दिन के क्वारंटीन में रखा जाएगा। इस दौरान स्थानीय अमला लगातार इस बात की मानिटरिंग करेगा कि बाहर से आने वाले लोग पूरी तरह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते रहें। बैठक में सीईओ ने अधिकारियों को कहा कि स्थानीय अमला बाहर से आने वाले किसी भी ग्रामीण की सूचना मिलने पर तुरंत उसके क्वारंटीन की और आवश्यक स्वास्थ्य जांच की कार्रवाई करे। सीईओ ने कहा कि सभी ग्राम पंचायतों एवं क्वारंटीन केंद्रों में कोविड आपात सेल से जुड़े अधिकारियों के नंबर चस्पा किए जाएं ताकि किसी भी तरह का फीडबैक देने में ग्रामीणों को आसानी हो और फीडबैक मिलते ही व्यवस्था और बेहतर करने के लिए जुट जाएं। बैठक के दौरान मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत, कार्यक्रम अधिकारी, कार्यपालन अभियंता ग्रामीण यांत्रिकीय सेवा, अनुविभागीय अधिकारी, उपसंचालक कृषि, अनुविभागीय अधिकारी, सिंचाई विभाग, अनुविभागीय अधिकारी ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, उपअभियंता उपस्थित रहे ।
मनरेगा कार्यों की समीक्षा- सीईओ ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में उपयोगी कार्यों का चिन्हांकन करें। साथ ही मनरेगा कार्यों में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें। सैनिटाइजेशन की पर्याप्त व्यवस्था हो। सीईओ ने कहा कि गौठानों में चल रहे कार्यों को भी गुणवत्तापूर्वक एवं नियत समय पर पूरा करें। उन्होंने हितग्राहीमूलक कार्य जैसे मुर्गी पालन, बकरी पालन, कुक्कुट पालन, पशु शेड, बाड़ी के निर्माण कार्य अधिक से अधिक संख्या में कराये जाने के निर्देश भी दिए। बीजाभाट सचिव निलंबित- बैठक में सीईओ ने ग्राम पंचायतों में चल रहे मनरेगा कार्यों की समीक्षा भी की। ग्राम पंचायत बीजाभाठ की समीक्षा के दौरान यहां कार्य स्वीकृत होने के बावजूद आरंभ नहीं कराया गया था। अतएव यहां के सचिव  गिरिजा शंकर वर्मा को निलंबित करने के निर्देश उन्होंने दिये। सीईओ ने कहा कि मनरेगा के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार सृजन और उपयोगी संरचनाओं का निर्माण सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसमें किसी भी तरह की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

पूरब टाइम्स दुर्ग। जिले के एकीकृत बाल विकास परियोजना के अंतर्गत संचालित आंगनबाडी केन्द्रों मंे आंगनबाडी सहायिका के पद हेत आवेदन आमंत्रित किये गये है। उक्त पद भिलाई के वार्ड 64 के सेक्टर 10, वार्ड 34 में सुभाष नगर 03, वार्ड 38 के शहीद वीरनारायण नगर -02, वार्ड 43 के एचएससीएल मरोदा, वार्ड 03 के कोसा नगर -01 व वार्ड 25 के विवेकानंद नगर में निुयक्ति किया जाना है। इस पद हेत आवेदिका की आयु 18 से 44 वर्ष होने के साथ स्थानीय ग्राम की निवासी होना चाहिए। आंगनबाड़ी व मिनी आंगनबाड़ी के कार्यकर्ता पद हेतु 12वी या 11वी उत्तीर्ण तथा आंगनबाड़ी सहायिका पद के लिए 8वीं बोर्ड उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। इसके अलावा आवेदिका जिस ग्राम मंे आंगनबाड़ी केन्द्र स्थित है उसी ग्राम तथा वार्ड निवासी होना चाहिए। इसके अलावा आवेदिका ग्राम व नगरीय क्षेत्र के संबंधित वार्ड के अद्यतन मतदाता सूची मंे नाम शामिल होने के साथ ग्राम पंचायत के सरपंच व उप सरपंच या पटवारी द्वारा जारी प्रमाण पत्र जिस ग्राम में निवासरत रहने का पता स्पष्ट उल्लेखित होना मान्य होगा। आवेदन के साथ समस्त दस्तावेजों की छाया प्रति के साथ दिनांक 4 मई से 28 मई 2020 तक बाल विकास परियोजना कार्यालय भिलाई व जिला दुर्ग के शांतिपारा अटल आवास कन्या विद्यालय रोड भिलाई-03 मे कार्यालयीन समय मे प्रस्तुत कर सकते है।

पूरब टाइम्स भिलाई।  नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग मंत्रालय से आदेश जारी होने के बाद संपत्तिकर तथा विवरणी जमा करने की अंतिम तिथि में 15 दिवस की विशेष छूट प्रदान की गई है और अब यह तिथि 15 मई 2020 हो गई है ! तिथि बढ़ने के बाद आज निगम मुख्यालय में 40 लोगों ने अपना टैक्स जमा किया। आयुक्त  ऋतुराज रघुवंशी ने स्पैरो सॉफ्ट. लिमिटेड भिलाई को टैक्स वसूली में 15 दिवस की छूट से संबंधित आदेश जारी कर दिया है।   उपायुक्त एवं प्रभारी राजस्व अधिकारी तरुण पाल लहरें ने बताया कि वर्ष 2019-20 के कर दाता अपना संपत्तिकर 15 मई 2020 तक जमा कर सकते हैं जिनको कोई अधिभार नहीं देना पड़ेगा! निगम मुख्यालय में संपत्ति कर जमा करने आने वाले करदाताओं के लिए सोशल डिस्टेंस मेंटेन करने की कयावद की जा रही है।  निगम मुख्यालय के अतिरिक्त जोन कार्यालयों में भी संपत्तिकर जमा किए जा सकते हैं इसके लिए स्पैरो सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड ने जोन कार्यालयों में व्यवस्था की हुई है।  घर बैठे ऑनलाइन भी कर सकते हैं संपत्तिकर जमा टैक्स जमा करने वाले करदाता www.cgsuda.com में ऑनलाइन पेमेंट को क्लिक करके भिलाई मुंसिपल कारपोरेशन का चयन कर सकते हैं इसके उपरांत वार्ड एवं अपना आईडी नंबर डालकर डेबिट, क्रेडिट एवं नेट बैंकिंग के माध्यम से ऑनलाइन पेमेंट किया जा सकता है! इस वेबसाइट पर टैक्स की वर्षवार जानकारी भी देख सकते हैं! ऑनलाइन में किसी प्रकार की समस्या होने पर हेल्पलाइन नंबर 18001216505 पर संपर्क कर सकते हैं।  डोर टू डोर कलेक्शन स्पैरो सॉफ्टेक प्राइवेट लिमिटेड भिलाई द्वारा डोर टू डोर जाकर टैक्स कलेक्शन किया जाएगा इसके लिए इनके 52 कर्मचारी की तैनाती की गई है।  वित्तीय वर्ष 2020-21 के टैक्स में छूट राजस्व एवं संपत्तिकर विभाग के कर्मचारी असाटी ने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 का संपत्तिकर 31 मई 2020 तक जमा करने वालों को टैक्स में 6.25% की छूट प्रदान की गई है।   जिसका लाभ लिया जा सकता है! निगम मुख्यालय में आने वाले करदाताओं के सोशल डिस्टेंस मेंटेन करने के लिए अलग से काउंटर बनाए गए हैं!

पूरब टाइम्स भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई के तोड़फोड़ दस्ता टीम को भंग कर दिया गया है, अब तोड़फोड़ दस्ता संबंधी कार्यवाही जोन स्तर से की जाएगी। उच्चाधिकारी के आदेश की अवहेलना करते हुए अशोभनीय आचरण करने पर निगम आयुक्त ने तोड़फोड़ दस्ता प्रभारी प्रकाश अग्रवाल को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। निगम आयुक्त ने तोड़फोड़ दस्ता में संलग्न कर्मचारियों के कार्यस्थल में फेरबदल करते हुए भंग किए गए तोड़फोड़ दस्ता के कर्मियों को अलग-अलग जोन में पदस्थापना हेतु आदेश जारी किए हैं। इसके पूर्व उड़नदस्ता टीम की शिकायतें आने के बाद उड़नदस्ता के गठन को निरस्त किया जा चुका है और इनको प्रदाय किए  गए वाहनों को जमा करा दिया गया है। तोड़फोड़ दस्ता की टीम के प्रभारी प्रकाश अग्रवाल को निगम के उच्चाधिकारी द्वारा अवैध निर्माण पर कार्यवाही किए जाने का आदेश दिए गए थे जिसकी जानकारी मांगे जाने पर अग्रवाल द्वारा अशोभनीय आचरण किए जाने पर निगम आयुक्त ने कारण बताओ नोटिस जारी कर 24 घंटे में सामाधान कारक जवाब मांगा गया है निर्धारित समयावधि में समाधान कारक उत्तर प्राप्त नहीं देने पर एक पक्षीय कार्यवाही का उल्लेख नोटिस में किया गया है। तोड़फोड़ दस्ता में शामिल खेमलाल यादव, कन्हैया सिंह, राजेन्द्र सिंह, विष्णु प्रसाद सोनी, जैतुराम राउत, मंगल जांगड़े व गौकरण कुर्रे सहित कुल 7 कर्मचारियों को भिलाई निगम के अलग-अलग जोन में पदस्थ किया गया है। बता दें कि मॉडल टाउन भिलाई में अवैध निर्माण को लेकर शिकायत प्राप्त हुई थी जिसकी जानकारी उपायुक्त एवं नोडल अधिकारी भवन अनुज्ञा शाखा तरुण पाल लहरें द्वारा पूर्व तोड़फोड़ दस्ता प्रभारी प्रकाश अग्रवाल से मांगी गई परंतु जानकारी देने के बजाय अग्रवाल द्वारा अशोभनीय आचरण किया गया जोकि छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के नियम 3 के नियम (1),(2),(3) के विपरीत है जिस पर कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए जवाब मांगा गया है!

पूरब टाइम्स भिलाई।  नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्र में कोरोना वायरस  एवं पीलिया के रोकथाम हेतु निगम प्रशासन हर संभव प्रयास किया जा रहा है। सभी वार्डों में निगम कर्मी घर घर जाकर क्लोरीन टैबलेट बांट रहे है तथा आमजन को शुद्ध या उबला हुआ पानी पीने की सलाह दे रहे है। जोन कं. 01, 02 एवं 04 के जोन आयुक्त ने अपने अपने क्षेत्र के मितानीनों की बैठक लेकर पीलिया बीमारी से आमजन को बचाने योजनाबद्ध तरीके से काम करने पर चर्चा किए इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। निगम के स्वास्थ्य विभाग व अभियंताओं के साथ मितानीनों का वाटसअप ग्रुप बनाया जा रहा है ताकि पेयजल में दिक्कत होने या किसी व्यक्ति को पीलिया संक्रमण लक्षण होने होने पर तत्काल विस्तृत जानकारी दी जा सके। निगम पाइपलाइन का संधारण, बोरिंग, पावर पंप, पेयजल की जांच, क्लोरीन टैबलेट का वितरण करने के कार्य में लगातार जुटा हुआ है। सभी मितानीनों की बैठक आयोजित की गई जिसमें जलजनित बीमारी पीलिया से बचाव के कार्य में मितानीन भी अपनी भूमिका निभांएगे! मितानीनों को पीलिया के लक्षण से संबंधित जानकारी दी गई। मितानीनों को वाटसअप ग्रुप बनाया जा रहा है जिसमें वे कहीं भी पेयजल से संबंधित जानकारी व किसी व्यक्ति को पीलिया सकंम्रित लक्षण दिखाई देने पर तत्काल विस्तृत जानकारी ग्रुप के माध्यम से भेजेंगे ताकि शीघ्रता से अग्रिम कार्यवाही की जा सके। भिलाई निगम क्षेत्र में विगत माह से क्लोरीन टैबलेट घर-घर बांटे जा रहे है जिसका मितानीनें जानकारी एकत्रित करेंगी और वितरण में छूटे हुए घरों में तत्काल क्लोरीन टेबलेट वितरण करेंगी इसके लिए इन्हें क्लोरीन टेबलेट प्रदान किया गया। भिलाई निगम क्षेत्रांतर्गत अब तक 308384 नग क्लोरीन टेबलेट का वितरण किया जा चुका है इसके साथ ही प्रतिदिन पानी की शुद्धता की जांच की जा रही है। विभिन्न जल स्रोत जैसे कुआं, बोर, टंकी, हस्त पंप आदि के पानी का सैंपल जोन द्वारा लेकर 77 एमएलडी जल शोधन संयंत्र के लैब में भेजकर परीक्षण किया जा रहा है। क्लोरीन टेबलेट के उपयोग की जानकारी बांटे जाने वाले सभी घरों में देने मितानिनो को कहा गया। पीलिया के संभावित मरीज पाए जाने पर तत्काल निकटम स्वास्थ्य केन्द्र से उपचार करवाने के लिए प्रेरित करने कहा गया। बता दें कि क्षेत्रों में मितानिन सक्रियता से कार्य करती है और घर-घर से इनका अच्छा संपर्क होता है!

पूरब टाइम्स दुर्ग।  इस समय देश और दुनिया में कोरोना का संक्रमण सबसे बड़ा खतरा है। इस खतरे को देखते हुए पिछले 40 दिनों से3 देश, प्रदेश में लॉक डाउन है, इस परिस्थिति में समाज का एक जरुरतमंद तबका ऐसा भी है, जिस तक मदद पहुंचाना अनिवार्य है। संकट की इस घड़ी में इस सेवा कार्य में कई संस्थाएं और सेवादार भागीदारी निभा रहे हैं और मानव सेवा में बखूबी भूमिका निभा रहे हैं। इसमें पुलिस, युवा, व्यापारी सहित समाज का हर वर्ग शामिल है।
      दुर्ग जिले में जन समर्पण सेवा संस्था जोकि विगत 3 वर्षों से गरीब, असहाय एवं जरूरतमंदों को प्रतिदिन भोजन खिलाती आ रही, यह संस्था वर्तमान में विश्वव्यापी महामारी के बीच भी अपनी सेवा निरन्तर जारी रखी हुई है, वर्तमान विकट परिस्थिति को देखते हुए जन समर्पण सेवा संस्था, दुर्ग सभी के सहयोग एवं योगदान से इस संकट की घड़ी में जरूरतमंदों को लॉकडाउनब के प्रथम दिवस से आज दिनांक तक विगत 40 दिनों से दो समय का भोजन वितरण कर रही है, जिसमें सुबह 11 बजे एवं शाम 7 बजे लगभग 700 जरूरतमंदों को भोजन वितरण किया जा रहा है, संस्था की ये खास बात है कि संस्था के सभी सदस्य सभी स्थानों में सभी जरूरतमंदों को बैठाकर पका हुआ भोजन वितरण करते है और उनके भोजन करने तक वही रुकते है, ताकि पका हुआ भोजन कोई फेके नही और न खराब हो। 



भिलाई। लॉकडाउन में छोटे अपराध तो कम हुए हैं, लेकिन चोरी जैसे अपराधों पर अंकुश नहीं लगा है। हालांकि चोर जेवर और अन्य कीमती सामानों की चोरी नहीं कर रहे हैं। उनके निशाने पर सिर्फ पान ठेले और किराना आदि की दुकानें ही हैं। पूरे लॉकडाउन की अवधि के दौरान बदमाशों ने सिर्फ ऐसी ही दुकानों को निशाना बनाया है। हालांकि कुछ मामलों में आरोपितों को गिरफ्तार करने में पुलिस को सफलता भी मिली है।

बदमाशों ने जिले भर में करीब दर्जन भर से अधिक पानठेलों और किराना दुकानों में चोरियां की है। ये पूरी चोरी की घटनाएं लॉकडाउन की अवधि के दौरान ही हुई है। आरोपितों ने टाउनशिप, जामुल, खुर्सीपार, वैशाली नगर, सुपेला और दुर्ग एरिया की दुकानों में चोरी की है। भिलाई नगर थाना क्षेत्र के पानठेलों में चोरी करने के मामले में पुलिस ने एक नाबालिग समेत दो आरोपितों को गिरफ्तार भी किया था। इसके अलावा बाकी स्थानों पर चोरी करने वालों की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

दुर्ग। कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन की वजह से शुक्रवार को हेमचंद यादव विश्वविद्यालय की कुलपति ने विवि के सभी अधिकारियों की ऑनलाइन बैठक लीं। इसमें आगामी परीक्षाओं की तैयारी संबंधी बिंदुओं पर अधिकारियों से विस्तार से चर्चा की। केंद्रों में उपलब्ध मुख्य एवं पूरक उत्तर पुस्तिकाओं की संख्या, स्नातकोत्तर परीक्षाओं के लिए प्रश्नपत्रों की रचना, लॉकडाउन अवधि में अधिकारियों एवं दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों के वेतन, विश्वविद्यालय प्रशासनिक भवन के सैनिटाइजेशन की व्यवस्था, मूल्यांकन कार्य सहित अन्य विषयों के संबंध में अफसरों से जानकारी जुटाई।

बैठक के आरंभ में सभी का स्वागत करते हुए दुर्ग विवि के अधिष्ठाता, छात्र कल्याण डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव ने कहा कि लॉकडाउन की अवधि में दुर्ग विश्वविद्यालय द्वारा किए गए उल्लेखनीय कार्यों मेंवीडियो लेक्चर्स की विवि की वेबसाइट में उपलब्धता, खड़गपुर आईआईटी की नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी से विद्यार्थियों के पंजीयन की सुविधा, स्थापना दिवस पर कार्यक्रम आदि आयोजित किया गया है।

पूरब  टाइम्स  दुर्ग।  रूआॅबांधा से दुर्ग, भिलाई एवं चरोदा के 150 फीडर्स पर होती है 24 घंटे निगरानी दुर्ग, 02 मई 2020 - छत्तीसगढ़ स्टेट पावर कंपनी द्वारा ‘‘क्वालिटी पाॅवर फाॅर कंन्ज्यूमर्स’’ को लक्ष्य बनाते हुये उपभोक्ता हित में कार्य किया जा रहा है। यहीं वजह है कि लाॅकडाउन के दौरान दुर्ग-भिलाई-चरोदा शहर में कहीं भी कोई भी बड़ा व्यवधान नहीं आया है। ऐसे विकट दौर में पाॅवर कंपनी के रूआॅबांधा में स्थित स्काडा (सुपरवाईजरी कंट्रोल एण्ड डाटा एक्वीजीषन) सेंटर  कस्मिक आई बिजली गड़बड़ी को जल्द दूर करने में कारगर सिद्ध हो रहा है। छत्तीसगढ़ स्टेट पाॅवर डिस्ट्रीब्यूषन कंपनी लिमिटेड दुर्ग क्षेत्र के कार्यपालकनिदेषक संजय पटेल ने बताया कि  दुर्ग-भिलाई-चरोदा शहर के 33/11 केव्ही के 32 उपकेन्द्रों से निकलने वाले 11 केव्ही के लगभग 150 फीडर्स पर स्काडा सेंटर से ‘‘स्क्रीन’’ पर 24 घंटे नजर रखी जाती है। दुर्ग-भिलाई-चरोदा शहर के किसी भी फीडर में फाॅल्ट आने की स्थिति में तत्काल स्काडा सेंटर को सूचना मिल जाती है। बिजली व्यवधान वाले क्षेत्रों में निकट स्थित अन्य फीडर्स के द्वारा उस क्षेत्र में बिजली आपूर्ति की जा सकती है।  स्काडा सेंटर के इंचार्ज कार्यपालन अभियंता  अनिल कुमार चेल्ला ने बताया कि दुर्ग-भिलाई-चरोदा शहर के विभिन्न क्षेत्रों में स्थापित 33/11 केव्ही उपकेंद्रो, 11केव्ही फीडरों,  तरण ट्रांसफार्मरों को भी आपस में रिंग मेन युनिट (आरएमयू) की सहायता से जोड़ा गया है। स्काडा सेंटर से जुड़े इंजीनियर्स जरूरत पड़ने पर मैदानी अधिकारियों कर्मचारियों से कोआॅर्डिनेषन कर आरएमयू के द्वारा विद्युत फीडरों को बंद चालू करने तथा फीडर में आये व्यवधान की त्वरित जानकारी संबंधित क्षेत्र के अधिकारी को सहजता से दे देते है। फलस्वरूप गड़बड़ी का निराकरण जल्द कर लिया जाता है।  स्काडा इंजीनियर्स की टीम में कु ज्योति येजरला,  पूजा प्रसाद, प्रीति रानी गुप्ता, कु सोनम प्रजापति,  एल.एन.बंछोर, जगतार सिंह भट्ट्ी,  बी वजीत सिन्हा,  भास्कर आनंद,  विवेक पोरवाल एवं  अनुराग ठाकुर विभिन्न पालियों में ड्यूटी दे रहे हैं, जिससे कि आम उपभोक्ताओं को निर्बाध बिजली की आपूर्ति होती रहे और वे घर परिवार के साथ सुरक्षित जीवन जी सके।

पूरब  टाइम्स दुर्ग। कोरोनावायरस कोविड-19 महामारी के संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु ऐसे व्यक्ति जो भिलाई शहर के वार्ड, क्षेत्र, मोहल्ला या आसपास में अन्य शहर, गांव, राज्य से आए हुए हैं उनकी जानकारी हेल्पलाइन नंबर 1100 या 07882210180 पर दे सकते हैं। इसके अलावा इस कार्य के लिए नियुक्त भिलाई निगम के नोडल अधिकारी जोन क्रमांक एक नेहरू नगर के जोन आयुक्त अमिताभ शर्मा मोबाइल नंबर 7000092136, प्रकाश अग्रवाल प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 8109106208, जोन क्रमांक 2 वैशाली नगर के जोन आयुक्त सुनील अग्रहरि मोबाइल नंबर 7050344444, संजय वर्मा प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 9669332966, जोन क्रमांक 3 मदर टैरेसा नगर के जोन आयुक्त महेंद्र पाठक मोबाइल नंबर 9424227177, परमेश्वर चंद्राकर प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 9826947891, जोन क्रमांक 4 खुर्सीपार की जोन आयुक्त प्रीति सिंह मोबाइल नंबर 7697590459, बालकृष्ण नायडू प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 9425245007, सेक्टर क्षेत्र जोन क्रमांक 5 के जोन आयुक्त सुनील जैन मोबाइल नंबर 9425555648, मलखान सिंह सोरी प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 9977421330 पर संपर्क करके जानकारी दे सकते हैं। कोरोनावायरस को हराने और इस कार्य के लिए अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए निगम भिलाई आम जनता से अपील करता है कि ऐसे लोगों की सूचना तत्काल इन नंबरों पर देकर निगम प्रशासन को सहयोग करें। आयुक्त श्री ऋतुराज रघुवंशी ने नोडल अधिकारी का आदेश जारी कर दिया है यह अधिकारी प्रतिदिन अपने जोन क्षेत्रों में बाहर से आए हुए लोगों की जानकारी एकत्रित कर अवगत कराएंगे, आयुक्त  रघुवंशी ने जोन आयुक्तों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि इस कार्य में लापरवाही नहीं होनी चाहिए, अपने-अपने जोन के क्षेत्र में ऐसे लोगों की जानकारी प्राप्त करने सतर्क रहें। जो भी व्यक्ति भिलाई निगम क्षेत्र में बाहर से आए हैं या आ रहे हैं वह भी अपने आने की सूचना तत्काल स्थानीय प्रशासन एवं नियुक्त नोडल अधिकारियों को देंगे अन्यथा जानकारी छुपाने वाले संबंधित के विरुद्ध एफआईआर दर्ज सहित अन्य दंडात्मक कार्यवाही की जावेगी। इस संबंध में बता दें कि जानकारी देने वाले का नाम निगम द्वारा गोपनीय रखा जाएगा।

पूरब  टाइम्स दुर्ग। कोरोनावायरस कोविड-19 महामारी के संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु ऐसे व्यक्ति जो भिलाई शहर के वार्ड, क्षेत्र, मोहल्ला या आसपास में अन्य शहर, गांव, राज्य से आए हुए हैं उनकी जानकारी हेल्पलाइन नंबर 1100 या 07882210180 पर दे सकते हैं। इसके अलावा इस कार्य के लिए नियुक्त भिलाई निगम के नोडल अधिकारी जोन क्रमांक एक नेहरू नगर के जोन आयुक्त अमिताभ शर्मा मोबाइल नंबर 7000092136, प्रकाश अग्रवाल प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 8109106208, जोन क्रमांक 2 वैशाली नगर के जोन आयुक्त सुनील अग्रहरि मोबाइल नंबर 7050344444, संजय वर्मा प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 9669332966, जोन क्रमांक 3 मदर टैरेसा नगर के जोन आयुक्त महेंद्र पाठक मोबाइल नंबर 9424227177, परमेश्वर चंद्राकर प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 9826947891, जोन क्रमांक 4 खुर्सीपार की जोन आयुक्त प्रीति सिंह मोबाइल नंबर 7697590459, बालकृष्ण नायडू प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 9425245007, सेक्टर क्षेत्र जोन क्रमांक 5 के जोन आयुक्त सुनील जैन मोबाइल नंबर 9425555648, मलखान सिंह सोरी प्रभारी सहायक राजस्व अधिकारी मोबाइल नंबर 9977421330 पर संपर्क करके जानकारी दे सकते हैं। कोरोनावायरस को हराने और इस कार्य के लिए अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए निगम भिलाई आम जनता से अपील करता है कि ऐसे लोगों की सूचना तत्काल इन नंबरों पर देकर निगम प्रशासन को सहयोग करें। आयुक्त श्री ऋतुराज रघुवंशी ने नोडल अधिकारी का आदेश जारी कर दिया है यह अधिकारी प्रतिदिन अपने जोन क्षेत्रों में बाहर से आए हुए लोगों की जानकारी एकत्रित कर अवगत कराएंगे, आयुक्त  रघुवंशी ने जोन आयुक्तों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि इस कार्य में लापरवाही नहीं होनी चाहिए, अपने-अपने जोन के क्षेत्र में ऐसे लोगों की जानकारी प्राप्त करने सतर्क रहें। जो भी व्यक्ति भिलाई निगम क्षेत्र में बाहर से आए हैं या आ रहे हैं वह भी अपने आने की सूचना तत्काल स्थानीय प्रशासन एवं नियुक्त नोडल अधिकारियों को देंगे अन्यथा जानकारी छुपाने वाले संबंधित के विरुद्ध एफआईआर दर्ज सहित अन्य दंडात्मक कार्यवाही की जावेगी। इस संबंध में बता दें कि जानकारी देने वाले का नाम निगम द्वारा गोपनीय रखा जाएगा।

पूरब टाइम्स दुर्ग।  देश में कोविड संकट को देखते हुए ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाये रखना सबसे बड़ी चुनौती है। इसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा की सबसे बड़ी भूमिका होती है। मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने बीते महीने के पहले सप्ताह को मनरेगा के काम युद्धस्तर पर कराने के निर्देश दिए थे। इसके साथ ही उन्होंने फिजिकल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन के साथ ही काम कराने के निर्देश भी दिए थे। मुख्यमंत्री के निर्देश के पश्चात एक महीने बाद अब मनरेगा कार्यों को लेकर बहुत सुखद स्थिति है। दुर्ग जिले में लगभग एक हजार कार्य आरंभ हो चुके हैं और यहां पर 63 हजार से अधिक श्रमिक मनरेगा के लिए कार्य कर रहे हैं। जो कार्य आरंभ हुए हैं उनमें सबसे ज्यादा काम जलसंरक्षण से संबंधित हैं। यह ऐसे कार्य हैं जो नरवा योजना के लिए काफी उपयोगी हो सकते हैं। नरवा योजना के माध्यम से उन जलरेखाओं का पुनः चिन्हांकन कर विकास किया जा रहा है जो ऐतिहासिक रूप से थे लेकिन किसी कारण से क्षरित हो गए। इस प्रकार मनरेगा के कार्यों के माध्यम से नरवा योजना को बड़ी सहायता मिलेगी। इसी प्रकार नरवा, गरवा, घुरूवा, बाड़ी योजना के गरवा कंपोनेट के लिए गौठानों में बड़ा काम मनरेगा की मदद से हो रहा है। अब जबकि इतनी बड़ी संख्या में श्रम मनरेगा के लिए लग गया है। यह उम्मीद की जा रही है कि गौठानों में अगले महीने तक मुकम्मल व्यवस्था बन जाएगी। यहां नाडेप, वर्मीकंपोस्ट, शेड आदि निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है। नरवा, गरूवा, घुरूवा, बाड़ी योजना के अंतर्गत जलसंरक्षण बड़ा कार्य है। इसके लिए डबरी, तालाब आदि के निर्माण कार्य भी स्वीकृत किए जा रहे हैं। डबरी और तालाबों से जलसंरक्षण तो होगा ही, मत्स्य पालन के लिए भी बेहतर हालात होंगे। उधर पशु शेड भी विकसित किए जा रहे हैं। इस प्रकार ग्रामीण अर्थव्यवस्थआ को बेहतर करने युद्धस्तर पर काम हो रहा है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री के निर्देश के पश्चात दुर्ग संभाग के सभी जिलों में मनरेगा के कार्यों में तेजी से वृद्धि हुई है। नये कार्यों का चिन्हांकन किया गया है और इन्हें त्वरित स्वीकृत कर इन पर काम आरंभ कराया गया है।

रायपुर। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की रोकथाम के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य में अन्य राज्यों से प्रवेश करने वाले व्यक्तियों-श्रमिकों को प्रदेश के सीमावर्ती जिलों के एन्ट्री प्वाइंट में पहुंचने पर उनके द्वारा प्रवास की जानकारी और स्वास्थ्य परीक्षण के बाद ही आने की अनुमति देने के निर्देश दिए गए हैं. आगामी दिनों में छत्तीसगढ़ में बड़ी संख्या में व्यक्तियों के आगमन की संभावना को ध्यान में रखते हुए छत्तीसगढ़ में अन्य राज्यों से बिना सूचना के प्रवेश करने वाले व्यक्तियों और क्वारेंटीन का उल्लंघन करने वालों पर कड़ी दण्डात्मक कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल ने इस संबंध में प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों, पुलिस अधीक्षकों, जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों और नगर निगम आयुक्तों और मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को निर्देश जारी किया गया है. उन्होंने कहा है कि कोरोना संक्रमण एक वैश्विक स्तर की चुनौती है, जिस पर नियंत्रण के लिए कड़ी निगरानी एवं प्रभावी प्रशासनिक कार्यवाही करनी होगी. शासन के निर्देशों एवं आदेशों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों पर जिला प्रशासन द्वारा यथास्थिति धारा 188 भारतीय दंड संहिता 1860 और धारा 51 से 60 आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों अनुसार कड़ी कार्यवाही की जाए।

मुख्य सचिव ने कहा है कि भारत सरकार गृह मंत्रालय द्वारा 29 अप्रैल को जारी पत्र में लाॅकडाउन के कारण गृह राज्य से भिन्न राज्यों-स्थानों में फंसे हुए श्रमिकों एवं अन्य व्यक्तियों को अपने गृह राज्य में जाने की अनुमति देने संबंधी निर्देश दिए गए हैं. इसके अनुपालन में राज्य सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा अन्य राज्यों से आने वाले व्यक्तियों को अनुमति देने एवं क्वारेंटीन करने के बारे मे दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. उन्होंने कहा है कि अन्य राज्यों से वापस आने वाले व्यक्तियों-श्रमिकों के प्रदेश के सीमावर्ती जिलों में एन्ट्री पाइंट पर पहुंचने के साथ उनके द्वारा प्रवास की जानकारी देने के बाद ही आगे जाने की अनुमति प्रदान की जाए। बिना जानकारी दिए और बिना स्वास्थ्य परीक्षण के निवास स्थान जाने वाले ऐसे व्यक्तियों को चिंहित कर उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जाए। एन्ट्री पाइंट पर जानकारी एकत्रित करने के लिए प्रारूप भी उपलब्ध कराया गया है।