Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



पूरब टाइम्स, दुर्ग। रविवार से दुर्ग वनमंडल में बेमेतरा जिले के अंतर्गत गिधवा-परसदा में पक्षी उत्सव का आगाज हो जाएगा। तीन दिनों तक चलने वाले इस बर्ड फेस्टिवल में देश भर से आई पक्षी विज्ञानी अपने अनुभव साझा करेंगे और अपने ज्ञान से बर्ड वाचर्स को समृद्ध करेंगे। इस कार्यक्रम में शिरकत करने पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, कनार्टक के पक्षी विज्ञानी एवं बर्ड वाचर जुट रहे हैं।

कार्यक्रम के संबंध में जानकारी देते हुए डीएफओ धम्मशील गणवीर ने बताया कि गिधवा-परसदा में होने वाला बर्ड फेस्टिवल अपने तरह का अनोखा बर्ड फेस्टिवल है। छत्तीसगढ़ की धरती पक्षियों की अनेक प्रजातियों से समृद्ध रही है। छत्तीसगढ़ी भाषा में पक्षियों के अनेक तरह के नाम एवं उनके गुणधर्म से जुड़े हुए किस्से शामिल हैं। प्रवासी पक्षियों की भी अनेक किस्म यहाँ आती है। गिधवा-परसदा के बड़े सरोवरों में भी यह प्रवासी पक्षी जुटते हैं।@GI@

इस धरोहर को सहेजने, इसके बारे में ज्ञान को साझा करने एवं इस बाबत और भी जानने बर्ड फेस्टिवल मनाने का निर्णय लिया गया। आयोजन में पक्षियों के सुंदर संसार के बारे में दिलचस्प बातें साझा की जाएंगी। साथ ही देश के जाने-माने पक्षी विज्ञानी अपने अनुभव साझा करेंगे। इस फेस्टिवल के माध्यम से इनके संरक्षण के संबंध में भी लोग अधिक जागरूक हो सकेंगे। 

उल्लेखनीय है कि उत्सव के पहले दिन क्रो फाउंडेशन के रवि नायडू पक्षी दर्शन और उसका महत्व विषय पर व्याख्यान देंगे। नोवा नेचर वेल्फेयर सोसायटी के एम सूरज आर्द्र भूमि संरक्षण एवं जीविकोपार्जन विषय पर अपना व्याख्यान देंगें। शाम को डाक्यूमेंट्री दिखाई जाएगी और सांस्कृतिक कार्यक्रम कराए जाएंगे। स्थानीय ग्रामीणों की सहभागिता से यह कार्यक्रम होंगे। आयोजन समिति के सदस्य राजू वर्मा ने बताया कि गिधवा-परसदा बर्ड वाचिंग की

अपनी इस धरोहर के बारे में नई पीढ़ी के लोग जानेंगे और इस संबंध में आने वाले बर्ड वाचर्स को भी अवगत कराएंगे तो उनके लिए भी आय का रास्ता खुलेगा। एक फरवरी सोमवार को पक्षी विशेषज्ञ एमके भरोस का संबोधन होगा। इसके बाद ग्रामीणों के साथ पक्षियों के संरक्षण पर परिचर्चा होगी। पक्षी किसानी के लिए किस तरह से उपयोगी होते हैं। इस विषय पर कुरुद कालेज के असिस्टेंट प्रोफेसर हितेंद्र टंडन का व्याख्यान होगा। 

सेनि पीसीसीएफ  केसी बेबर्ता पक्षी एवं जल संरक्षण विषय पर अपना व्याख्यान देंगे। बर्ड फ्लू पर मानव जीवन का प्रभाव विषय पर वैज्ञानिक डाॅ. जसमीत सिंह अपना व्याख्यान देंगे। सुश्री नम्रता, सीईओ एसआरटी गिधवा परसदा जलाशय संरक्षण के लिए जैविक खेती विषय पर अपना व्याख्यान देंगी। शाम को नुक्कड़ नाटक का आयोजन होगा। दूसरे दिन बच्चों के लिए चित्रकला जैसी प्रतियोगिताओं का आयोजन होगा।@GI@


जिसके बाद त्वरित कार्यवाही की गई और गेट को तोड़ दिया गया लेकिन जिन ने गेट लगवाया था इस परिवार ने पुलिस और निगम अधिकारियों पर एक तरफ कार्यवाही करने का आरोप लगाकर इस मामले को नया रंग दे दिया है। पीड़ित फौजी परिवार ने प्रेस वार्ता करके निगम अधिकारी और पुलिस वालों के दबाव और निगम अधिकारियों की कार्यवाहीं को प्रताड़ना पूर्ण बताया।@GI@

वार्ड 21 सुंदर नगर के निवासी विजय कुमार सिंग प्रेसवार्ता में आरोप लगाया कि, नगर निगम के द्वारा दुर्भावना पूर्वक कार्यवाही की गई। अपनी व्यथा बताते हुवे कहा कि असामाजिक  तत्वों द्वारा उनके घर के सामने जमावड़ा लगा रहता है, इसी से छुटकारा पाने के लिए उन्होंने यह गेट लगवाया, बताया जा रहा है इस मामले में पुलिस वाले के परिवार और फौजी परिवार में गत दिनों माह पहले किसी बात पर झगड़ा हुआ था।




पूरब टाइम्स, दुर्ग। नगर निगम के अंतर्गत आने वाले पटरी पार क्षेत्र में कोरोना काल के दौरान विकास कार्यों में लगा विराम अब खत्म होने जा रहा है जिसकी शुरुआत आज वार्ड क्रमांक 17 औद्योगिक नगर, शक्ति नगर एवं कादंबरी नगर को धमधा मुख्य मार्ग से जोड़ने वाली 18 लाख की सड़क का भूमि पूजन कर विधायक अरुण वोरा व महापौर धीरज बाकलीवाल ने की। साथ ही वार्ड 19 में 40 लाख की लागत से बनने वाली सड़क एवं नाली का कार्य जिसे एक वर्ष पूर्व भाजपा सरकार द्वारा अटका कर रखा गया था विधायक वोरा से आमजनों द्वारा मांग किए जाने पर उसकी भी स्वीकृति दे दी गई। 

नगर क्षेत्र के बुनियादी सुविधाओं के अंतर्गत विभिन्न विकास कार्यों के लिए लगातार भूमिपूजन का सिलसिला जारी है जिससे विकास को आगे बढ़ाया जा सके। उसी कड़ी में श्री राम जानकी मंदिर के पास 10 लाख का वाचनालय एवं सिविल लाइन में सामुदायिक भवन का भूमिपूजन भी किया गया। वोरा ने नई गंज मंडी मार्ग पर भी छत्तीसगढ़ लोक कला मार्ग की तर्ज पर किसान मजदूर मार्ग बनवाने की भी घोषणा की।

उन्होंने कहा कि शहर के विकास को लगातार गति दी जाएगी एवं शासन स्तर पर राशि की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। अधिकारियों से कहा कि निर्माण गुणवत्ता युक्त कराया जाए एवं समयावधि का विशेष ध्यान रखते हुए वर्षा ऋतु आने के पूर्व कार्य पूर्ण कर लिया जाए। महापौर धीरज बाकलीवाल ने अधिकारियों से लगातार समीक्षा करने एवं शहर में चल रहे सभी विकास कार्यों को समय सीमा में पूर्ण करवाने का निर्देश दिया।@GI@

इस दौरान एमआईसी अब्दुल गनी, दीपक साहू, मनदीप सिंह भाटिया, अल्ताफ अहमद, अजय मिश्रा पूर्व पार्षद राजेश शर्मा, एल्डरमैन रत्ना नारमदेव, अंशुल पांडेय, जगमोहन ढीमर, अजय गुप्ता, वार्ड पार्षद निर्मला साहू, देवनारायण चंद्राकर निगम के कार्यपालन अभियंता मोहन पूरी गोस्वामी, जितेंद्र समैय्या, जगदीश केशरवानी, उप अभियंता अपर्णा शेलारे मौजूद थे।@GI@

पूरब टाइम्स, भिलाई। रिसाली बस्ती से निकलने वाले गंदा पानी को सीधे नहर में छोड़ा जाएगा। इसके लिए छोटी नहर नाली के ऊपर पाइप लगाया जाएगा। पाइप के लगाने से गंदा पानी घुमावदार रास्ता के बजाय सीधे नहर से होते निकासी होगा। उल्लेखनीय है कि पानी की अधिकता और कचरा जाम होने की वजह से छोटी नहर में बार-बार ओवर फ्लो की स्थिति हो रही थी। 


पूरब टाइम्स, भिलाई। नगर निगम आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी के निर्देश पर निगम की प्रशासनिक व्यवस्था में कसावट लाने के लिए निगम के कुछ अधिकारियों/कर्मचारियों के कार्य क्षेत्र में बदलाव किया है। निगम उपायुक्त अशोक द्विवेदी ने आयुक्त की अनुशंसा के उपरांत आदेश जारी कर दिया है। 29 कर्मचारियों के कार्यरत विभाग में फेरबदल करते हुए नए विभाग में कार्य करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। 

इसमें आरएस राजपूत सहायक अभियंता को जोन 02 से जोन 05, केके गुप्ता सहायक अभियंता को जोन 05 से जोन 02 में, कृष्ण कुमार सुपैत पम्प सहायक को स्टेशनरी से जोन 02 राजस्व विभाग, वामन राव डाटा एन्ट्री ऑपरेटर को सचिवालय से योजना शाखा, चंद्र कुमार चंद्राकर राजस्व उप निरीक्षक को स्थापना शाखा से जोन 01 राजस्व विभाग, सागर दूबे स्वच्छता पर्यवेक्षक को जोन 02 से डाटा सेंटर विभाग, जमीर अहमद सहायक राजस्व निरीक्षक को 

गरीबी उपशमन एवं पेंशन शाखा से जोन 05, प्रहलाद लहरे सहायक राजस्व निरीक्षक को प्रधानंमत्री आवास योजना जोन 03 से सचिवालय, मन्नूलाल जांगड़े पम्प सहायक को जोन 01 से जोन 04, विजय कुमार यादव पम्प सहायक को जोन 03 से 77 एमएलडी नेहरू नगर, कोमल बघेल भृत्य को शिक्षा विभाग से जोन 04, रिखीराम चंदेल चैकीदार को जोन 03 से 77 एमएलडी नेहरू नगर, डी. देवदानम हेल्पर/क्लीनर को जोन 05 से लेखा शाखा,  मनटोरा बाई फिल्ड वर्कर को गरीबी उपशमन एवं सामाजिक कल्याण से योजना शाखा, 

मेहत्तर सोनी प्रोसेस सर्वर को असंगठित कर्मकार विभाग से योजना शाखा, सावित्री रजक सफाई कामगार को भवन संधारण जोन 01 से जोन 04, श्रीमती फिरंतीन बाई सफाई कामगार को काउन्टर शाखा से जनसंपर्क विभाग, ई.व्योहान सफाई कामगार को जोन 04 से जोन 05, पद्मा/अपन्ना सफाई कामगार को जोन 01 से जोन 03, टूमन लाल सफाई कामगार को सचिवालय से राजस्व विभाग, भागीरथी वर्मा सहायक ग्रेड 03 को सचिवालय से प्रधानमंत्री आवास योजना जोन 03, 

शकुन पवार भृत्य को सचिवालय से सम्पदा विभाग, धनसिंह सोनवानी सफाई कामगार को सचिवालय से डाटा सेंटर विभाग, तोष कुमारी सफाई कामगार को सचिवालय से भविष्य निधि शाखा, रामकुमार माडल सफाई कामगार को सचिवालय से रिकार्ड रूम, सामेल राजू सफाई कामगार को सचिवालय से काउन्टर शाखा, इतवारी राम प्रोसेस सर्वर/भृत्य को अधीक्षण अभियंता कक्ष से सामान्य प्रशासन विभाग, पुष्पांजलि भृत्य को काउन्टर शाखा से योजना शाखा, राजदीप वैष्णव पम्प अटेण्डेंट को सचिवालय से योजना शाखा में स्थानांतरित कर पदस्थ किया गया है।



पूरब टाइम्स,दुर्ग। नगर पालिक निगम दुर्ग द्वारा पुलगांव स्थित गौठान में वर्मी खाद तैयार किया जा रहा है। खाद की क्वालिटी का परीक्षण कार्यालय सहायक मिट्टी परीक्षण प्रयोग शाला रुआबांधा से परीक्षण कराकर विक्रय किया जा रहा है। अब तक 2.54 क्वींटल खाद का विक्रय किया गया। जो खेती किसानी में धान सहित अन्य फसल के लिए की जाने वाली खाद से कई गुना बेहतर 10 रु. की दर से विक्रय किया जा रहा है। उतई गांव के निवासी प्रमोद कुमार, आर.एस.राजपूत, ए.के. मिश्रा ने 50 से 100 किलोग्राम वर्मी खाद खरीद कर ले गये। 

उन्होनें बताया दुर्ग निगम का वर्मी खाद अच्छा क्वालिटी का है इसका अच्छा परिणाम मिल रहा है। हम अपने घर के किचन गार्डन में इस वर्मी खाद का उपयोग कर रहे हैं । इसके अलावा दुर्ग की सरिता द्विवेदी, विशाल देखमुख ने भी गौठान से वर्मी खाद खरीदे। इसके अलावा आयुक्त इंद्रजीत बर्मन के निर्देशानुसार शहर के मुख्य मार्ग नेहरु नगर चैक के पास से लेकर पुलगांव मिनी माता चैक तक डिवाईडरों में पौधे लगाये गये हैं।

डिवाईडरों में लगे पौधों के विकास के लिए निगम द्वारा निर्मित वर्मी खाद डाला जा रहा है इसके लिए उद्यान विभाग द्वारा गौठान से 300 किलोग्राम वर्मी खाद लिया गया है। आयुक्त बर्मन ने शहर वासियों से अपील कर कहा कि घरों का किचन उद्यान, बाग-बगीचा के लिए वर्मी खाद बेहतर साबित होगा। केवल 10 रु. किलो में  विक्रय किया जा रहा है आईये अधिक से अधिक मात्रा में वर्मी खाद लेकर जाईये।@GI@

पूरब टाइम्स,दुर्ग। ग्रीष्म ऋतु के आगमन के पूर्व आम जनता के पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था एवं 24 व 42 एमएलडी फ़िल्टर प्लांट में चल रहे रेनोवेशन के कार्यों का निरीक्षण करने विधायक अरुण वोरा फ़िल्टर प्लांट पहुंचे। जहां 34 वर्ष पुराने 24 एमएलडी प्लांट में क्लोरीन गैस प्लांट व क्लेरिफायर लगाने का कार्य किया जा रहा है। वोरा ने अधिकारियों को तलब कर रेनोवेशन के कार्यों में तेजी लाने एवं अमृत मिशन के कार्यों को मार्च तक सौ प्रतिशत पूर्ण करने का निर्देश देते हुए कहा कि शहर में 10 टंकियों का निर्माण एवं जीर्णोद्धार किया जा रहा है किंतु अभी तक कोई भी काम पूरा नहीं हो सका है।

पाइप लाइन बिछाने एवं सड़क मरम्मत के साथ ही घर घर में कनेक्शन देने का कार्य भी बेहद धीमी गति से चल रहा है। टैंकर मुक्त शहर की दिशा में आगे बढ़ने के लिए अतिशीघ्र एजेंसी ओवरहेड टैंक निर्माण एवं कनेक्शन देने का कार्य पूर्ण करे। गौरतलब है कि अमृत मिशन के अंतर्गत सभी कार्य मार्च 2020 तक पूर्ण कर लिया जाना था किन्तु एक वर्ष बीत जाने के बाद भी अभी तक पाइप लाइन बिछाने का कार्य भी पूरा नहीं हुआ है। निरीक्षण के दौरान नंदू महोबिया, पूर्व नेता प्रतिपक्ष राजेश शर्मा, एल्डरमैन अंशुल पांडेय निगम अभियंता ए आर राहंगडाले, भीम राव, एजेंसी के मनोज सिंह व कपीश दीक्षित मौजूद थे।

24 एमएलडी फ़िल्टर प्लांट के पीछे स्थित ओवरहेड टैंक में पिछले डेढ़ वर्षों से लीकेज है एवं मरम्मत की आवश्यकता है किंतु लगातार लीकेज बढ़ने के बावजूद अब तक मरम्मत नहीं कराया गया है व लाखों लीटर शुद्ध पेयजल रोजाना व्यर्थ बह रहा है जबकि उसी टंकी के नीचे नगरीय निकाय के जॉइंट डायरेक्टर का कार्यालय स्थित है। वोरा ने नाराजगी जताते हुए मरम्मत कार्य तत्काल करवाने के निर्देश दिए हैं।




पूरब टाइम्स, रायपुर. इन दिनों ज़मीनों के राजस्व रिकॉर्ड में सुधार, सीमांकन , बटांकन, नामांतरण इत्यादि कार्य करवाना बेहद जटिल हो गया है. जबकि माना यह जा रहा था कि छ.ग. शासन के राजस्व रिकॉर्ड के ऑनलाइन प्रोग्राम ‘ भुइयां’ के बाद सबकुछ बेहद सरलता व तरलता से चलेगा . शासन द्वारा नये नियमों व  बार बार नये निर्देश के कारण भू स्वामी बेहद असहज हो गये हैं . नियमानुसार राजस्व के ऑनलाइन रिकॉर्ड में सभी खसरे व रजिस्ट्रियों और ऋण पुस्तिकाओं के अनुसार सभी खसर व नाम चढ़ जाने चाहिये थे परंतु अभी तक अनेक राजस्व सर्कल में ऐसा नहीं हो पाया है. अभी भी बी 1 व खसरा नक्शा , ऑन लाइन में अपडेट नहीं हैं , इस कार्य को करने के लिये पटवारी अपने सहयोगियों के माध्यम से बड़ी रकम की घूस की मांग करने लगे हैं. पूरब टाइम्स की एक रिपोर्ट ( भाग-1) .. 

आजकल ज़मीनों की कीमतें आसमान को छूने लगी हैं , इसके अलावा अवैधिक रूप से कब्ज़े भी होने लगे हैं . जब किसी भूमि का मालिक बहुत दिनों तक अपनी ज़मीन की सुध नहीं लेता है तो कुछ ज़मिन दलाल व माफिया सक्रिय हो जाते हैं . कई बार वे उस खाली ज़मीन को दिखाकर किसी ग्राहक की रजिस्ट्री करवा देते हैं और उस खाली ज़मीन का पज़ेशन भी दे देते हैं . जब उस ज़मीन पर यह ग्राहक किसी तरह की गतिविधि करने लगता है तब उसके असली मालिक को खबर लगती है तो वह आकर अपनी ज़मीन के लिये झगड़ा करता है . ऐसे समय में दोनों दावा करने वालों का फैसला राज्स्व रिकॉर्ड के हिसाब से पटवारी व आरआई मौके पर नाप लेकर करते हैं . यह नापने की प्रक्रिया इतनी जटिल है कि अलग अलग लैंड मार्क से नाप करने पर , उस ज़मीन की स्थिति अलग अलग आ सकती है. इस बात का लाभ राजस्व के कर्मचारी उठाकर , अपनी सेटिंग व पसंद वाले की तरफ पलड़ा झुका देते हैं. फिर शुरू होता है पैसों का खेल व कानूनी प्रक्रिया . अनेक बार सही समाधान निकलने में बरसों लग जाते हैं तब तक मौके पर काबिज आदमी , अनेक केस में उस जगह पर पक्का निर्माण तक कर लेता है . बाद में समाधान में बेहद मुश्किल आ जाती है . 
ऐसा करने से ज़मीन का मालिक थक हार कर निराश होकर , दलाल ढूंढने लगता है जोकि मनमानि राशि वसूल कर , राजस्व विभाग के कर्मचारियों से सेटिंग कर काम को अंजाम दिलवाता है. कई बार इस प्रकार के संशोधन में थोड़ी जटिलताएं भी होती हैं उस केस में लाखों रुपये की मांग करना भी आजकल आम बात होने लगी है . इन बातों का लाभ अविधिक ज़मीन व्यापार करने वाले बहुत अधिक लेते हैं और वे राजस्व के कर्मचारियों के संरक्षण में लगातार जालसाज़ी कर लंबा चौड़ा पैसा बना लेते हैं. मूल मालिक को इस तरह से अलग अलग तरह के सीमांकन दिखाकर फंसा दिया जाता है कि वह भी सिविल कोर्ट में केस लगाने के बाद भी बरसों तक सही रिकॉर्ड नहीं प्राप्त कर पाता है. इस बात के कारण वह भी दलालों के चक्कर में पड़कर शॉर्ट कट पाने के लिये लाखों रुपये खर्च करने तैयार हो जाता है 
पटवारी व आरआई को ज़मीन के नाप , नक्शे व मौके की इतनी ज़्यादा जानकारी होती है कि वे किसी भी ज़मीन मालिक को गुमराह कर सकते हैं. अनेक बार चौहद्दी को दो चांदे से वैरीफाई किये बगैर किया गया सीमांकन , सही नहीं होता है. जब बदली होने के बाद दूसरे आरआई पटवारी आते हैं तो वे उसी ज़मीन को किसी दूसरी जगह दिखाकर सीमांकन रिपोर्ट दे देते हैं. अब यह तो फैक्ट होता है कि उनमें से कम से कम एक सीमांकन रिपोर्ट गलत है परंतु पुनः जांच होने के बाद जो रिपोर्ट गलत थी उसको बनाने वाले आरआई पटवारी पर किसी तरह की बड़ी कार्यवाही नहीं होने से , वे अपनी कार्यशैली में सुधार नहीं ला रहे हैं . केवल इतना ही नहीं कई बार एक ही पटवारी बिना सेमांकन रिपोर्ट दिये , ज़मीन मालिक को गलत मौका दिखा देता है जोकि बाद में उक्त मालिक के गले की हड्डी बन जाता है . ( खबर अगले अंकों मे ज़ारी रहेगी )





पूरब टाइम्स , दुर्ग. दुर्ग जिले और छत्तीसगढ़ का सहकारिता आन्दोलन , चन्द राजनेताओं व कतिपय रसूखदार लोगों की अगुवाई के कारण मृतप्राय हो चुका है . प्रदेश का सबसे नामी सहकारी  बैंक , जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक दुर्ग  सबसे बड़ी सहकारी हाउसिंग सोसाइटी , स्मृति नगर को ऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी , दोनो अपने सर्वोच्च  नेतृत्व ,  कार्यशैली व भ्रष्टाचार के आरोपों के कारण लगातार , खबरों की सुर्खियों में रहे परंतु सोसाइटी पर नियंत्रण रखने वाले कोई भी सरकारी तंत्र इनका बाल भी बांका नहीं कर पाया . सूत्रों के अनुसार , यह सब उन पर राजनैतिक संरक्षण के कारण ऐसा नहीं हो पाया . अब फिर से ये मामले सुर्खियों में हैं . जिसका प्रमुख कारण है कि दुर्ग जिले की सोसाइटियों के चुनाव होने हैं और अनेक वर्षों से अध्यक्ष पद पर काबिज प्रीतपाल बेलचंदन अब भाजपा से इस्तीफा देकर पार्टी विहीन होकर चुनाव लड़ेंगे . पूर्व में दुर्ग ग्रामीण विधानसभा से चुनाव हारे हुए बेलचंदन , कांग्रेस में प्रवेश की आस लगाये बैठे थे पर ऐसा नहीं होने से वह दोनो पार्टियों के समर्थित उम्मीदवारों से दो-दो हाथ करने के लिये मजबूर हो गये हैं . वहीं स्मृति नगर सोसाइटी भी नगर निगम भिलाई की शहर सरकार के कार्यकाल के खत्म होते ही , पुरानी जांच के आधार पर फिर से सरकारी शिकंजे में कसे जाने की संभावना है . पूरब टाइम्स की एक रिपोर्ट ....



भाजपा शासन के पंद्रह सालों में छत्तीसगढ़ राज्य ने बहुत प्रगति की लेकिन इस कार्यकाल की विफलताओं कई विषय आते हैं .  उसमे सबसे अग्रणी स्थान,  सहकारिता आंदोलन का है क्योंकि इसी कालखंड में महाराष्ट्र और गुजरात का सहकारी आंदोलन अपनी नई ऊंचाइयां तय करके राष्ट्रीय स्तर पर सबसे आगे बना रहा है . गौर तलब रहे कि छत्तीसगढ़ के सहकारिता आंदोलन , बीस वर्ष पहले बहुत विस्तृत स्वरूप मे था और राष्ट्रीय स्तर पर इसकी पहचान थी . इसकी गवाही आज भी बनकर संघ के टूटे फुटे भवन और धूल मिट्टी खाती हथकरघा मशीन दे रही है और अपनी बंद अवस्था का वास्ता देकर यह पूछ रहीं हैं कि छत्तीसगढ़ के सहकारी आंदोलन के पीठ में आखिर किसने छूरा भोंका है ?



छत्तीसगढ़ का सहकारी आंदोलन विगत कई वर्षों से दिशा विहीन हो गया है . जिसके कारण का अंदाजा लगाना तब बेहद मुश्किल नहीं है ,  जब सहकारिता क्षेत्र के भ्रष्टाचार की खबरें अपनी जगह सुर्खियों में बना लेती है और इसका नतीजा नहीं निकलता है तथा सहकारिता क्षेत्र के नेता इस मामले को अदालतों मे ले जाकर उलझा देते है और अंतहीन कानूनी प्रक्रिया के हवाले कर देते है . विडंबना यह भी है कि जब छत्तीसगढ़ का सहकारिता आंदोलन न्यायालय की गलियों में भटकर भ्रष्टाचार नामक घाव की समस्या का समाधान खोजने की मशक्कत कर रहा होता है तब सहकारिता आंदोलन के नेता कानूनी मामले को गंभीरता से सुलझाने के लिए कोई प्रयास करते नजर नहीं आते हैं . जबकि होना यह चाहिए कि सहकारिता की प्रक्रिया अनुसार सर्व सम्मति और पारदर्शिता के साथ सभी समस्याओं और आरोपों का विधि सम्मत समाधान खोजा जाना चाहिए क्योंकि सहकारिता का मूल मंत्र है सहकारिता और आपसी सहमति है . 


भाजपा की रमन सरकार सहकारिता आंदोलन को दबाने और कुचलने वाले घटकों से मुक्त नहीं करवा पाई इसका उदाहरण छत्तीसगढ़ का सहकारिता आंदोलन बैंकिग और निर्माण दोनों ही क्षेत्र में विफल होकर साबित कर रहा है . इससे भी एक कदम आगे चलकर छत्तीसगढ़ की गृह निर्माण समितियां भारी गड़बडिय़ों मे फंसकर ध्वस्त हो गई हैं . चिट फंड कंपनियां भी सहकारिता आंदोलन को बदनाम करके,  सहकारिता के प्रति आम आदमी के विश्वास को खत्म करने के कगार पर लाकर खड़ा कर चुकीं है लेकिन छत्तीसगढ़ की विगत भाजपा सरकार सहकारिता आंदोलन को बचाने में पूरी तरह विफल रही . अब वर्तमान भूपेश बघेल सरकार से सहकारिता आंदोलन को बहुत सी आशाएं है लेकिन आने वाला समय बताएगा कि प्रीतपाल बेल चंदन का वर्चस्व सहकारिता क्षेत्र में रहेगा कि भूपेश सरकार की उपस्थिति सहकारिता क्षेत्र में नजर आएगी






 भिलाई। किसी दूसरी लड़की से अवैध संबंध के चलते पति ने अपनी पत्नी को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। परिवार वालों को इसकी जानकारी हुई, तो वे भी आरोपित पति का ही साथ देने लगे। जब आरोपितों ने हद से अधिक प्रताड़ित करना शुरू कर दिया, तो शिकायतकर्ता ने सखी सेंटर में शिकायत की। वहां से मामला महिला थाना के पास भेजा गया। इसके बाद पुलिस ने दोनों पक्षों के बीच काउंसलिंग की, लेकिन समझौता न होने पर आरोपितों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

पुलिस ने बताया कि परियापारा भिलाई निवासी शिकायतकर्ता ने गौरव पथ रोड नारायणपुर निवासी आरोपित पति ओमप्रकाश गुप्ता, ससुर रविंद्र गुप्ता और सास देवंता गुप्ता के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। शिकायतकर्ता की शादी 17 अप्रैल 2019 को आरोपित से हुई थी। शादी के बाद वो अपने ससुराल गई, तो वहां आरोपित सास व ससुर ने दहेज में कम सामान लाने की बात कहकर उसे प्रताड़ित करना शुरू कर दिया।

शिकायतकर्ता को कुछ दिन बाद जानकारी हुई कि उसके पति का किसी दूसरी लड़की से अवैध संबंध है। उसने अपने पति से इस बारे में बात की, तो आरोपित ने उल्टे उससे ही गाली-गलौज किया। शिकायतकर्ता ने अपने पति के मोबाइल से उसकी प्रेमिका का नंबर निकालकर उससे बात की तो उसकी प्रेमिका ने कहा कि ओमप्रकाश उससे शादी करना चाहता था, लेकिन परिवार वालों के दबाव के कारण उसने कहीं और शादी की है।

शिकायतकर्ता ने ससुराल वालों को इसके बारे में बताया तो वे भी अपने बेटे का ही साथ देने लगे और उससे कहा कि अब उसे इन्हीं परिस्थितियों में रहना होगा। अगस्त 2020 में शिकायतकर्ता रक्षाबंधन पर अपने मायके आई और त्योहार के बाद वापस गई, तो आरोपित ससुराल वालों ने उसे घर में घुसने नहीं दिया। इसके बाद उसने नारायणपुर के ही सखी सेंटर में शिकायत की।

पूरब टाइम्स, दुर्ग। ग्यारह बजे जैसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन समाप्त हुआ और वैदिक मंत्र सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया के साथ ही वैक्सीनेशन के लिए डॉ. सुगम सावंत को ले जाया गया। यह बहुत भावुक माहौल था। हेल्थ स्टाफ और डॉ. सुगम सावंत भी बड़ी भावुक थीं। इन्होंने लगभग दस महीनों से कोरोना का दंश लगातार झेला था और अब वैक्सीन के रूप में आशा की किरण आ गई थी।@GI@

पहला टीका जब लगा तो डॉ. सावंत, विधायक  अरुण वोरा, महापौर धीरज बाकलीवाल, सीएमएचओ डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर सहित सभी अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों ने विक्ट्री साइन दिखाया। ये उमंग का क्षण था। इसके बाद आधे घंटे के लिए डॉ. सावंत को आब्जर्वेशन में रखा गया। सब कुछ सही तरह से हुआ। किसी तरह का साइड इफेक्ट नहीं देखा गया। डॉ. सुगम के तुरंत बाद डॉ. केडी  तिवारी को टीका लगाया गया।

इस दौरान वैक्सीन के प्रोटोकाल के पूरे प्रोसीजर का पालन किया गया। किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए जिला अस्पताल में पूरी तैयारियाँ रखी गई थीं। जिला अस्पताल के साथ ही चार अन्य केंद्रों में भी टीकाकरण आरंभ हुआ। शंकराचार्य हास्पिटल जुनवानी, पाटन स्वास्थ्य केंद्र, नगपुरा स्वास्थ्य केंद्र और बैकुंठपुर में भी टीकाकरण हुआ।@GI@

इस मौके पर सिविल सर्जन डॉ. पी. बालकिशोर, आरएमओ डॉ.अखिलेश यादव जीवनदीप समिति के सदस्य दिलीप ठाकुर, पुरुषोत्तम कश्यप, भूषण देवांगन भी उपस्थित थे। कलेक्टर ने की मानिटरिंग- कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने आज पांच केंद्रों में आरंभ हुई वैक्सीनेशन की मुहिम की मानिटरिंग की। इसके लिए सभी केंद्रों में नोडल अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई थी।@GI@

पूरब टाइम्स, दुर्ग। महापौर धीरज बाकलीवाल मौन तोड़े एवं बाजार विभाग प्रभारी ऋषभ जैन बाबू से इस्तीफा मांगे- भाजपा पार्षद दल गौरतलब है कि नगर निगम दुर्ग के दो प्रमुख पार्किंग स्थलों से मुख्य आय होती है। इन दोनों पार्किंग को  बिना ठेका दिए पिछले 1 वर्ष से दुर्ग शहर की जनता से अवैध वसूली होती रही है। इस विषय की जांच की मांग भाजपा पार्षद दल ने आयुक्त से की थी ,आयुक्त महोदय ने पार्किंग घोटाले की जांच के लिए जांच दल बनाकर 15 दिन में रिपोर्ट मांगी थी।

नेता प्रतिपक्ष अजय वर्मा ने बताया कि जांच अधिकारी राजेश पांडे (कार्यपालन अभियंता) एवं प्रकाश थवानी (भवन अधिकारी) ने  जांच पूर्ण कर जो रिपोर्ट जमा की है ,उसके अनुसार पिछले वर्ष भर तक दुर्ग शहर की जनता से इंदिरा मार्केट एवं बस स्टैंड में पार्किंग की अवैध वसूली हुई है ,किंतु जांच दल अवैध वसूली करने वाले ठेकेदार का नाम नहीं बता पाए। निगम को हुए नुकसान के लिए दोनों बाजार अधिकारी दुर्गेश गुप्ता एवं थान सिंह यादव को जिम्मेदार बताते हुए प्रकरण को पुलिस विभाग को प्रेषित करने की अनुशंसा की है।

भाजपा पार्षद दल के नेता प्रतिपक्ष अजय वर्मा सहित पार्षद गण गायत्री साहू, काशीराम कोसरे, चंद्रशेखर चंद्राकर, नरेंद्र बंजारे, देवनारायण चंद्राकर, चमेली साहू, लीना दिनेश देवांगन, मनीष साहू, नरेश तेजवान, ओम प्रकाश राकेश सेन, पुष्पा गुलाब वर्मा, शशि द्वारिका साहू,कुमारी साहू एवं हेमा जगदीश शर्मा ने महापौर से कहा  है, कि शहर की जनता से हुई अवैध पार्किंग वसूली आपके एक वर्षीय कार्यकाल की सबसे बड़ी उपलब्धि है। 

भाजपा पार्षद दल ने कहा कि महापौर परिषद के सदस्यों की जिम्मेदारी अपने-अपने विभागों की देखरेख एवं नियंत्रण होता है। चूंकि  महापौर जी की रुचि निगम कार्य में नहीं है, अतः उनके एमआईसी मेंबर भी उदासीन रहते हैं, निगम में बाजार विभाग में इतना बड़ा पार्किंग घोटाला हुआ है, दुर्ग शहर की जनता के साथ अवैध वसूली एवं ठगी हुई है।

अतः माननीय महापौर को अपने एमआईसी मेंबर एवं बाजार विभाग प्रभारी ऋषभ जैन से तत्काल इस्तीफा मांगना चाहिए। और प्रकरण को पुलिस विभाग के हवाले करना चाहिए, ताकि दुर्ग शहर की जनता से हुई अवैध वसूली की राशि जप्त हो सके। भाजपा पार्षद दल ने महापौर को चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक शहरवासियों से हुई ठगी की राशि वापस निगम में नहीं आएगी एवं बाजार विभाग प्रभारी का इस्तीफा नहीं लेंगे तब तक हम चुप नहीं बैठेंगे।



दोनों गलियों में लगभग 35 लोग सामने से लेकर पुराना कैलाश होटल तक सड़क पर पसरा लगाकर व्यवसाय कर रहे थे । सभी को हटाकर दोबारा पसरा नहीं लगाने की हिदायत दी गई है। बाजार क्षेत्र के निवासियों, तथा स्थायी दुकानदारों से अनुरोध है कि वे अपने दुकानों के सामने किसी भी प्रकार से सड़क पर पसरा न लगने देवें, कोई भी ठेला आदि खड़ा न होने देवें।

पूरब टाइम्स, दुर्ग। नगर पालिक निगम दुर्ग बाजार विभाग की टीम द्वारा शनीचरी बाजार के पास सरदार पटेल प्राथ0शाला के सामने से एक अवैध होर्डिंग्स को हटाकर जप्त किया गया। राजस्व प्रभारी ऋषभ जैन द्वारा इस संबंध में सूचना देकर शिकायत की गई थी। आयुक्त इंद्रजीत बर्मन के निर्देशानुसार बाजार विभाग द्वारा कार्यवाही की गई। इस दौरान बाजार प्रभारी थान सिंग यादव, सहा. राजस्व निरीक्षक शशी यादव, ईश्वर वर्मा, भुवनदास साहू व अन्य उपस्थित थे।

उल्लेखनीय है कि नगर पालिक निगम दुर्ग द्वारा शहर में विज्ञापन हेतु प्रचार-प्रसार के लिए 6 जोन का निर्माण किया गया है। जहाॅ निर्धारित होर्डिंग्स बोर्ड लगाये गये हैं जिसमें ही फ्लैक्स आदि लगाकर विज्ञापन आदि के लिए उपयोग किया जाता है। इस प्रकार से किसी भी स्थान पर सड़क किनारे, नाली के ऊपर या रिक्त जगह पर होर्डिंग्स बोर्ड नहीं लगाया जा सकता। 

पूरब टाइम्स, दुर्ग। राज्य शासन द्वारा ठगड़ाबांध के रहवासी जो कि वर्षो से निवासरत् थे। जिन्हे बोरसी हनोदा रोड स्थित गैलेक्सी हाइट के निकट मोर मकान मोर चिन्हारी के अंतर्गत निर्मित पक्के मकानों में शिफ्ट किया गया। किन्तु 252 मकानों में से कुछ मकानों में अपूर्ण कार्यो के कारण यहां की जनता अपनी समस्या लेकर निगम कार्यालय पहुंच रही है। वही इसकी शिकायत बस्तीवासियों ने विधायक अरुण वोरा से भी की। 


ठगड़ाबांध के विस्थापितों को पानी की कमी के साथ ही सिवरेज सिस्टम, साफ-सफाई एवं प्रकाश व्यवस्था पर भी अधिकारी मॉनिटरिंग कर समस्या का समाधान करें। वही पुलगांव स्थित वृद्धा आश्रम में निवासरत् वृद्धजनों के लिए मूलभूत सुविधा के अंतर्गत बनने वाले 17 लाख के उद्यान व कमरो के संधारण, नवीन किचन भवन एवं बढ़ती ठंड के समय वृद्धजनों को मिलने वाला गर्म भोजन एवं ठंड से बचाव पर विशेष ध्यान दे। 

पूरब टाइम्स,दुर्ग। निगम स्वास्थ्य प्रभारी हमीद खोखर ने आज शासन की स्वच्छता श्रृंगार योजना के तहत् शहर की 21 सामुदायिक शौचालयों का देख-रेख करने वाली महिला स्व सहायता समूहों की बैठक लेकर आवश्यक निर्देश दिये । बैठक में पार्षद श्रद्धा सोनी, स्वास्थ्य अधिकारी दुर्गेश गुप्ता के अलावा महिला स्व-सहायता समूह के सभी संचालक उपस्थित थे ।  

बैठक में स्वास्थ्य प्रभारी खोखर ने कहा महापौर धीरज बाकलीवाल की मंशा के अनुरुप शहर को स्वच्छ करना है । कार्य के प्रति लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। आप लोगों को शौचालयों की जिम्मेदारी दी गई है। अब आपकी जवाबदारी है कि जिसे-जिसे, जहाॅ-जहाॅ सामुदायिक शौचालय का काम मिला है वहाॅ-वहाॅ वे नियमानुसार और अनुबंध के अनुसार पूरी सुविधा और व्यवस्था बनाकर रखेगें। 

उन्होनें कहा शहर में स्वच्छता सर्वेक्षण 2021लागू है और सफाई में दुर्ग निगम को अव्वल लाना है इसके लिए आप सभी अच्छे से स्वच्छता माप दण्डों के अनुरुप शौचालयों में साफ-सफाई रखेगें। बैठक में शिफा स्व. सहायता समूह रामनगर सिकोला भाठा, त्रिशक्ति ममत्व महिला स्व सहायता समूह जैन मंदिर के पास नाला किनारे आमदी मंदिर वार्ड, धनलक्ष्मी स्व सहायता समूह बांधा तालाब आंगनबाड़ी के पास रामदेव मंदिर वार्ड, वाहे गुरु स्व सहायता समूह न्यू गंजमंडी के पीछे सिकोला बस्ती उत्तर, 


नवीन महिला स्व सहायता समूह रेल्वे क्रासिंग कके आगगे राम पैलेस के पास उरला, सुनंदा स्व सहायता समूह बाॅम्बे आवास के पास उरला, आदर्श स्व सहायता समूह इंदिरा नगर एवं अटल आवास उरला, माॅ चण्डिका एजुकेशन वेलफेयर फाउण्डेशन बांसपारा आंगनबाड़ी के पास पचरीपारा, नारी शक्ति स्व सहायता समूह आईएचएसडीपी कालोनी के अंदर महिला शौचालय उरला

जय अम्बे महिला स्व सहायता समूह नरेन्द्र ट्रेडर्स के आगे मठपारा उत्तर, स्व. बिन्देश्वरी देवी बघेल मेमोरियल स्व सहायता समूह टप्पा तालाब राजीव नगर रोड मठपारा, एवं शिवपारा चंडीमंदिर वार्ड, विकल्प सामाजिक कल्याण समिति देवारपारा सिकोला बस्ती दक्षिण, नूर फातिमा स्व सहातया समूह कंडरा भवन के आगे कंडरापारा शिवपारा, ओर एकता स्व सहायता समूह अटल आवास के पास जवाहर नगर औद्योगिक नगर वार्ड के संचालक उपस्थित थे।@GI@