Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



बिलासपुर। जिले के सीपत क्षेत्र के देवरी पंधी में उस वक्त सजावत में लगा चाइनीज हैलोजन लाइट ब्लास्ट हो गया, जब बड़ी संख्या में लोग रामायण सुन रहे थे. हैलोजन के ब्लास्ट होने से वहां बैठे करीब 150 से अधिक ग्रामीणों के आंखों में सीधा प्रभाव पड़ा है. आंखों में संक्रमण का शिकार होने की वजह से 26 ग्रामीणों की हालत गंभीर है. घटना के बाद से अफरा-तफरी का माहौल हो गया. अब स्वास्थ्य विभाग पीड़ितों का कैंप लगाकर इलाज कर रही है.दरअसल देवरी पंधा में 23 दिसंबर से नवधा रामायण का आयोजन किया गया था. आज पांचवा दिन था. बड़ी संख्या में श्रोता नवधा रामायण सुनने गए हुए थे उसी दौरान चाइनीज हैलोजन ब्लास्ट हो गया. आनन-फानन में मस्तूरी स्वास्थ्य एवं सीपत स्वास्थ्य केंद्र से अमला पहुंचा और प्राथमिक उपचार कर सिम्स रिफर किया गया. जिसके बाद कैम्प लगाकर ग्रामीणों का उपचार किया जा रहा है.जानकारी के अनुसार 26 ग्रामीणों की हालत गम्भीर बताई जा रही हैं. जिसकी सूचना मिलते ही पूरा स्वास्थ्य विभाग राहत और उपचार के कार्यो में जुट गया है. मौके पर कैम्प लगाने के अलावा सीएचएमओ, बीएमओ सहित अन्य अधिकारी पहुँच कर स्थिति का जायजा ले रहे हैं. चाइनीज हैलोजन लाइट के फटने से आंखों में संक्रमण की शिकायत आ चुकी है. जिसके बाद भी ऐसे उत्पाद बाज़ार में बिक रहे है, लोगों को भी इसकी जानकारी है. बावजूद इसके ऐसे हानिकारक लाईट पर प्रतिबंध नहीं लगाया जा सका है.मस्तूरी एसडीएम मोनिका वर्मा का कहना है कि हैलोजन से निकलने वाली गैस की वजह से ब्लास्ट हुआ है. लगातार वहां दौरा किया जा रहा है. स्वास्थ विभाग की टीम निगरानी में इलाज जारी है, जो ज्यादा गंभीर है उन्हें सिम्स रिफर किया गया हैं.मस्तूरी बीएमओ नंदराज कवर ने बताया कि जितने भी श्रद्धालु आये थे उनका आंखों का चेकअप किया जा रहा है. 26 लोगों को सिम्स भेजा गया. उनका इलाज किया जा रहा है. ये घटना वोलटेज के कम ज्यादा होने की वजह से हुआ है. कैम्प लगाकर इलाज किया जा रहा हैं. स्थिति सामान्य हो चुका है।



रायपुर। जनवरी-2020 में नई दिल्ली में नन्हीं सी उम्र में अपने साहस का परिचय देने वाले देश के बच्चों को जब भारतीय बाल कल्याण परिषद नई दिल्ली द्वारा आयोजित राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2019 से सम्मानित किया जाएगा, तब उस पंक्ति में छत्तीसगढ़ की दो बच्चियां भी खड़ी होंगी। दोनों साहसी बच्चियों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार देने के लिए छत्तीसगढ़ राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा अनुशंसा की गई थी।ये बच्चियां हैं धमतरी जिले की भामेश्वरी निर्मलकर और सरगुजा जिले की कांति सिंग। इन्होंने अपनी सूझबूझ से न केवल किसी की जान बचाई, बल्कि छोटी सी उम्र में ही अपने साहस का परिचय देकर अपने परिवार, राज्य और देश का नाम रौशन किया है। इन बच्चियों ने अपने अदम्य साहस से साबित कर दिखाया कि इंसानियत को समझने के लिए उम्र नहीं, बल्कि मन में कुछ कर दिखाने का जज्बा होना चाहिए फिर चाहे अपनी जान ही जोखिम में क्यों न डालनी पड़े।धमतरी जिले के कानीडबरी गांव में रहने वाली भामेश्वरी निर्मलकर (पिता श्री जगदीश निर्मलकर) ने 12 साल की उम्र में ही अपनी बहादुरी का परिचय देकर गांव की दो बालिकाओं को तालाब में डूबने से बचाया। कक्षा सातवीं की छात्रा भामेश्वरी ने 17 अगस्त 2019 में यह साहसिक कारनामा कर दिखाया। यह घटना उसे अक्षरश: याद है और बात करते समय पूरा घटनाक्रम जैसे उसकी आंखों के सामने से गुजरता चला जाता है।वह बताती है कि गांव की दो बालिकाएं सोनम और चांदनी स्कूल से छुट्टी होने के बाद गांव के तालाब में नहाने गई थीं। वे दोनों खेलते-खेलते तालाब की गहराई से अंजान आगे बढ़ती गई और डूबने लगी। भामेश्वरी ने बताया कि वह तालाब में कपड़ा धोने के लिए पहुंची थी। दोनों बच्चियों को तालाब में न देखकर उसका मन आशंका से भर उठा और बिना इस बात की परवाह किए कि उसे तैरना तक नहीं आता है, उसने तालाब में छलांग लगा दी। किसी तरह वह उन्हें खींचकर बाहर ले आई।जिस वक्त ये हादसा हुआ उस वक्त तालाब के आस-पास कोई और नहीं था। भामेश्वरी कहती है कि उस समय उसे कुछ सूझा नहीं, उसके मन में केवल दोनों बच्चियों की जान बचाने का ख्याल आया था। बाद में गांव की ही एक महिला की मदद से भामेश्वरी अचेत पड़ी उन बच्चियों की जान बचाने में सफल हो गई। गांव वालों की सहायता से सोनम और चांदनी को सुरक्षित उनके परिजनों को सौंप दिया गया।भामेश्वरी के इस साहस के लिए गांव वालों से लेकर स्कूल के प्राचार्य, शिक्षकों और अन्य बच्चों ने भी उसकी जमकर तारीफ की। घटना की जानकारी मिलने पर जिले के कलेक्टर ने खुद राज्य वीरता पुरस्कार और राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए भामेश्वरी के नाम की अनुशंसा की। आखिरकार भारतीय बाल कल्याण परिषद, नई दिल्ली ने भामेश्वरी को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए चुन लिया गया है। इस बात से पूरे गांव में खुशी का माहौल है।

कोरबा। एक और हाथी की जान सांसत में है जो पिछले 36 घंटे से दलदल में फंसा है  गुरुवार की ग्रामीणों की नजर उस पर पड़ी। इसके बाद देर शाम तक जेसीबी की मदत से उसे बाहर निकालने की कोशिश की गई पर सफलता नही मिली। बताया जा रहा कि केन्दई वनपरीक्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत कुल्हरीया के आश्रित मोहल्ला बनखेता पारा में एक दलदल नुमा खेत मे मंगलवार से एक हाथी फंसा है। ग्रामीणों को गुरुवार को इसकी जानकारी लगी और पुलिस चौकी व वन विभाग कोरबी को सूचित किया गया । मौके पर पहुंची उड़नदस्ता की टीम ने फंसे हुए हाथी को निकालने का प्रयास किया गया । कटघोरा वन परिक्षेत्र के कुल्हरिया गाँव के डूबान के दलदल में एक हाथी बीते 36 घंटे से अधिक समय से फंसा हुआ है. हाथी को निकालने में अभी तक जो प्रयास वन अमला की ओर से किया गया वह नाकाम साबित हुआ है. वन विभाग की टीम मौके पर हर तरह से हाथी को बाहर निकालने की कोशिश कर रही है, लेकिन विपरीत परिस्थियों के बीच कामयाबी नहीं मिल रही है, इस बीच थक हारकर हाथी बेहोश हो गया है. हाथी घायल अवस्था में पहुँच गया है. लिहाजा उसे बचाने डाक्टरों की टीम को बुला लिया गया है. डाक्टर हाथी को बेहोशी से बाहर लाने में जुट गए हैं. वन विभाग स्थानीय लोगों की मदद भी ले रहा है. सभी मिलकर हाथी दल-दल से जल्द-जल्द बाहर लाने में जुटे हुए हैं, जानकारी के मुताबकिक 12 वर्षीय हाथी अपने दल से बिछड़ गया और दल-दल में जाकर गिर गया था. वहीं 5 दिन पहले सलाई पहाड़ से गिरने एक हाथी की मौत हो गई थी.


रायपुर। छत्तीसगढ़ में आज से राष्ट्रीय आदिवासी लोकनृत्य महोत्सव का आगाज हुआ। इस महोत्सव में शामिल होने के लिए देश के 25 राज्यों सहित 6 देशों के आदिवासी लोक नर्तक दल यहां आए हैं। कांग्रेस सरकार के इस गरिमामयी आयोजन का शुभारंभ पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने किया। राहुल गांधी ने इस महोत्सव को लोगों को एक-दूसरे से जोड़ने वाला शानदार आयोजन बताया। उन्होंने कहा कि अब, जब देश में संप्रदायिकता और अराजकता के जरिए भाई को भाई से लड़ाने का प्रयास हो रहा है, ऐसे में इस तरह का आयोजन अलग-अलग संस्कृति के लोगों को एकजुट करने के लिए एक बेहद सकारात्मक कदम है।राहुल गांधी जैसे ही मंच से अपना भाषण देकर उतरे, उनके सामने छत्तीसगढ़ के गौर माड़िया नर्तक दल प्रस्तुति दे रहे थे। मांदर की मधुर थाप से राहुल मुग्ध हो उठे और खुद को रोक नहीं पाए। बायसन मुकुट पहने राहुल ने मांदर लटकाया और नर्तक दल के साथ नृत्य में शामिल हो गए। उनके साथ-साथ सीएम भूपेश भी मांदर की थाप पर थिरकने लगे। राहुल नर्तक दल की भाव-भंगिमाओं और उनके डांस स्टेप को ध्यान से देखते रहे और उसे अपने अंदाज में करते दिखाई पड़े। उन्होंने नर्तक दलों का जमकर उत्साह वर्धन भी किया। महोत्सव के उद्धाटन कार्यक्रम में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार समेत कांग्रेस के कई आला-नेता मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने की। महोत्सव के पहले दिन 11.45 बजे से विवाह एवं अन्य संस्कार, पारंपरिक त्योहार एवं अनुष्ठान, फसल कटाई व कृषि और अन्य पारंपरिक विधाओं पर नृत्य प्रतियोगिता होगी। इस महोत्सव में असम, तेलंगाना, झारखंड, ओडिशा, गुजरात, राजस्थान, जम्मू, हिमाचल प्रदेश, लद्दाख, उत्तराखंड, केरल, महाराष्ट्र, तेलंगाना, मध्यप्रदेश, अस्र्णाचल प्रदेश, आंध्रप्रदेश, उत्तरप्रदेश के नर्तक दल शामिल हैं। आज रात आठ बजे से पांच देशों थाईलैंड, बांग्लादेश, बेलारूस, मालदीव और युगांडा के कलाकार प्रस्तुति देंगे।

धमतरी। ग्राम संबलपुर स्थित कृषि केन्द्र के संचालक से एक युवक और युवती 26 हजार रुपए नगद लूटकर फरार हो गए। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। अर्जुनी पुलिस ने बताया कि संबलपुर निवासी शुभम पवार (24) पिता शशि पवार भाजपा जिला अध्यक्ष धमतरी का कृषि केन्द्र है। सोमवार की शाम एक युवक वहां पहुंचा और दवाईयों के संबंध में जानकारी लेने लगा। इस बीच 35-40 वर्ष की युवती भी अचानक आ पहुंची। इस दौरान कृषि केन्द्र संचालक दोनों को ग्राहक समझकर दवाई दिखाने के लिए अपने गल्ला से उठकर आगे बढ़ा। इस बीच युवती ने शुभम की आंख में लेजर लाईट दिखाई और वहां मौजूद युवक ने गल्ला में रखे 70 हजार रूपए उठा लिया। इस दौरान शुभम की नजर पड़ गई और उसने स्थिति भॉपकर तत्काल आरोपी से नगदी रकम छिन लिया। इस बीच दोनों के बीच छीना झपटी हुई। आरोपी 26 हजार रुपए लूटकर वहां से कार में बैठकर फरार हो गए। अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धारा 392 के तहत मामला दर्ज कर विवेचना में लिया है। वही अर्जुनी टीआई उमेंद्र टंडन ने बताया की दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में दोनों आरोपी की छवि कैद हो गई है वही दोनों आरोपी की तलाश की जा रही है और जल्द ही उनकी गिरफ्तारी हो जाएगी।

रायपुर। कीमतें बढ़ने के कारण प्याज की ग्राहकी में आई सुस्ती को देखते हुए इन दिनों प्याज कारोबारी भी प्याज मंगाने से तौबा करने लगे हैं। अब तक आवक कमजोर होने के बाद भी रोजाना आ रही सात गाड़ियां प्याज भी सोमवार को चार गाड़ियों में सिमट गई है। आवक कमजोर होने के साथ ही प्याज की खपत भी कम हो गई है। प्याज थोक में सोमवार को 65 रुपये किलो तक और चिल्हर में 80 से 100 रुपये किलो ही बिक रहा है।

सस्ती नहीं हो रही प्याज तो मांग घटी

कारोबारियों का कहना है कि इसकी कीमत में किसी भी प्रकार से गिरावट की संभावना नजर नहीं आ रही है। ऊपरी मार्केट से ही कीमतों में बढ़ोतरी है। प्याज के साथ ही आलू की कीमतों में भी तेजी बनी हुई है और चिल्हर में यह 25 से 30 रुपये किलो ही बिक रहा है। कारोबारियों के अनुसार भी यह पहला मौका है, जब ग्राहकी इतनी कम होने के बाद प्याज की कीमत सस्ती नहीं हो रही है।लहसुन की कीमतें भी कम नहीं हुई

लहसुन की कीमतों में भी किसी भी प्रकार से कमी नहीं आ रही है। चिल्हर मार्केट में यह 200 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। कारोबारियों का कहना है कि लहसुन की आवक में भी काफी कमी आ गई है। कीमतों में इसका प्रभाव ही देखा जा रहा है। इसकी कीमतों में भी किसी प्रकार से कमी की संभावना नहीं है। इसके अलावा आलू सहित कुछ अन्य सब्जिोयों की कीमत भी उफान पर है। ऐसे में सब्जी व्यापारियों का भी मानना है कि जब तक प्याज की नई फसल नहीं आ जाती, कीमत में राहत मिलने की उम्मीद कम है।

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नगरीय निकाय चुनाव के प्रचार का शोर गुस्र्वार को थम गया। उम्मीदवारों ने रात 10 बजे तक गाजे-बाजे के साथ प्रचार किया। अब उम्मीदवार शुक्रवार तक घर-घर दस्तक देकर वोट की अपील कर सकते हैं। दूसरी तरफ सभी जिलों से नगरीय निकायों के लिए मतदान दल चुनाव सामग्री लेकर रवाना हो रहे हैं। इस बार के चुनाव मतपत्रों के साथ होने वाले हैं। राज्य में 10 नगर निगमों, 38 नगर पालिकाओं और 103 नगर पंचायतों समेत कुल 151 निकायों के लिए शनिवार को मतदान होगा। कुल पांच हजार 406 मतदान केंद्रों में 39 लाख 82 हजार 601 मतदाता मताधिकार का प्रयोग करेंगे। शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न् कराने के लिए बस्तर से लेकर राजधानी रायपुर और सरगुजा तक सुरक्षा और प्रशासनिक व्यवस्था को चाकचौबंद रखा गया है। रायपुर के सेजबहार स्थित शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज से शुक्रवार की सुबह चुनाव सामग्री लेकर मतदान दल विभिन्न् नगरीय निकायों के लिए रवाना हुए। नगरीय निकाय चुनाव में राज्य भर के 2840 वार्डों में 10 हजार 161 अभ्यर्थी मैदान में हैं। एक हजार 458 अभ्यर्थियों ने अपने नाम वापस लिए हैं। इनमें सबसे ज्यादा 936 अभ्यर्थी जांजगीर जिले में हैं। राजधानी रायपुर में 836 उम्मीदवार मैदान में है। कांग्रेस, भाजपा, बसपा और जकांछ उम्मीदवारों के साथ बड़ी संख्या में बागी और निर्दलीय चुनाव मैदान में ताल ठोंक रहे हैं। अधिकांश नगर निगम में बागियों ने दलों की चिंताएं बढ़ा रखी है। सरकार ने 21 दिसंबर को मतदान के मौके पर अवकाश घोषित किया है। मतदान के दौरान मतदाताओं द्वारा मतदान केंद्र के भीतर मोबाइल फोन ले जाने पर प्रतिबंध रहेगा। नगर निगम अम्बिकापुर के 48 वार्डों में पार्षद चुनाव के लिए कल 137 केंद्रों में मतदान होगा। शुक्रवार को कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर की उपस्थिति में पॉलीटेक्निक कॉलेज मैदान से मतदान दलों को सामग्री वितरण आरम्भ किया गया।

रायपुर। राजधानी के खमतराई इलाके में रेलवे कर्मचारी के घर देर रात लाखों रुपए की चोरी की वारदात हुई है. अज्ञात चोरों ने सूने मकान में धावा बोलकर सोना-चांदी उड़ा ले गए. घटना उस वक्त हुई जब घर के सभी सदस्य 10 दिन से पारिवारिक काम से हैदराबाद गए हुए हैं, घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची खमतराई पुलिस सीसीटीवी कैमरा खंगाल रही है, खमतराई थाना प्रभारी रमाकांत साहू का कहना है कि देर रात मकान में चोरी हुई है, सुबह पड़ोसियों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी।  सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल की गई फिलहाल मकान मालिक बाहर हैं उनको चोरी की सूचना दे दी गई है, घर से कितने का चोरी हुआ है उसका खुलासा परिजनों के आने के बाद ही होगा उनका कहना है कि घटना स्थल के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाले जा रहे हैं. जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. फिलहाल पूरे मामले की जांच की जा रही है। 

 कोरबा। जिले के वार्ड क्रमांक 53 के नदिया खड़ में पार्षद पद के लिए चुनाव लड़ रही महिला प्रत्याशी के पति ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है. पुलिस को सुसाइड नोट भी मिला है. हलाकि सुसाइड नोट में किस बात का जिक्र है ये स्पस्ट नहीं हो पाया है. आत्महत्या करने वाले अधेड़ बुर्जुग का नाम कोमल पटेल है, वार्ड क्रमांक 53 से दो पत्ती छाप में चुनाव लड़ रही राम बाई पटेल के पति कोमल पटेल की लाश आज सुबह बबूल के पेड़ पर झूलते मिली है, घर से काफी दूर डैम के ऊपर कोमल पटेल ने फांसी लगाई हैं, सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतक की जेब से कागज और पेन बरामद किया गया। इस घटना की खबर मिलते ही डैम में लोगों की भीड़ जमा हो गई।  मृतक के परिजनों ने बताया है कि वार्ड में चुनाव लड़ रहे पार्टी के प्रत्याशी उस पर दबाव बना रहे थे। और कोमल पटेल को लगातार धमकी भी दी जा रही थी।  फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।  


रायपुर। शनिवार यानी 21 दिसंबर को राज्य में 10 नगर निगमों सहित 134 नगरीय निकायों के लिए चुनाव होने वाले हैं। लोकतंत्र के इस महापर्व में शहरी सरकार को चुनने के लिए मतदाता भी आतुर हैं। वे अपना अमूल्य वोट देकर अपने जनप्रतिनिधि का चुनाव करेंगे, लेकिन बहुत से मतदाता ऐसे हैं, जिनका किसी कारणवश मतदाता परिचय पत्र नहीं बन पाया है या फिर गुम हो गया है। ऐसे मतदाता भी अपना अमूल्य वोट डाल सकते हैं, बशर्ते उन्हें इसके लिए मतदान केंद्र में अपने परिचय का पुख्ता प्रमाण प्रस्तुत करना होगा। निर्वाचन आयोग ने मतदान के लिए मतदाता परिचय पत्र के अलावा 18 तरह के दस्तावेजों को व्यक्तिगत पहचान पत्र के रूप में मान्यता दी है। इनमें से कोई भी दस्तावेज अपने साथ मतदान केंद्र ले जाकर आप वोट दे सकते है। नगर पालिका आम निर्वाचन के तहत 21 दिसम्बर को आयोजित हो रहे मतदान के दौरान निर्वाचकां के प्रतिरूपण को रोकने और पहचान सुगम बनाने के लिए छत्तीसगढ़ राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा 18 प्रकार के दस्तावेजों को मान्य किया है। मतदाता को मतदाता केन्द्र पर अपना वोट डालने के लिए इनमें से किसी एक दस्तावेज को पीठासीन अधिकारी या प्राधिकृत मतदान अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करना होगा।

मतदाता परिचय के लिए यह दस्तावेज हैं मान्य भारत निर्वाचन आयोग द्वारा प्रदाय किया गया मतदाता परिचय पत्र, बैंक/डाकघर फोटोयुक्त पासबुक,पासपोर्ट पेन कार्ड, आधार कार्ड,राज्य/केन्द्र सरकार/ सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम या स्थानीय निकाय द्वारा उनके अधिकारी एवं कर्मचारियों को जारी किया गया फोटोयुक्त सेवा पहचान-पत्र,फोटोयुक्त पेंशन दस्तावेज,मनरेगा जॉब कार, फोटोयुक्त स्वास्थ बीमा योजना (स्मार्ट) कार्ड,ड्रायविंग लायसें, स्वतंत्रता सेनानी फोटोयुक्त पहचान-पत्र,केन्द्रीय अथवा राज्य माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा जारी दसवीं एवं बारहवीं की फोटोयुक्त अंकसूची,बार कौसिंल द्वारा अधिवक्ताओं को जारी फोटोयुक्त परिचय पत्र,फोटोयुक्त विकलांगता प्रमाण-पत्र,छत्तीसगढ़ शासन द्वारा जारी वैध फोटोयुक्त राशन कार्ड,महाविद्यालय अथवा विद्यालय द्वारा जारी फोटोयुक्त छात्र पहचान-पत्र ,फोटोयुक्त शस्त्र लायसेंस,छत्तीसगढ़ राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा तैयार सॉफ्टवेयर एस.ई.सी.-ई.आर. द्वारा आनलाइन जनरेटेड मतदाता पहचान पर्ची

रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव के लिए आज रात में प्रचार अभियान थम जाएगा। उम्मीदवारों को 19 दिसम्बर की रात 12 बजे तक प्रचार की अनुमति रहेगी। निकाय चुनावों में प्रचार समाप्ति की समय सीमा लोकसभा और विधानसभा निर्वाचन से अलग है। प्रदेश में आगामी 21 दिसम्बर को होने वाले नगरीय निकाय निर्वाचन के लिए उम्मीदवार 19 दिसम्बर की रात 10 बजे तक सक्षम अधिकारी की अनुमति से नियमानुसार लाउडस्पीकर सहित प्रचार कर सकते हैं। रात 10 बजे के बाद लाउडस्पीकर का इस्तेमाल प्रतिबंधित है। इस वजह से उम्मीदवार रात 10 से 12 बजे तक सक्षम अधिकारी की अनुमति से ही लाउडस्पीकर के बिना प्रचार कर सकेंगे। राज्य निर्वाचन आयोग ने सभी कलेक्टरों और जिला निर्वाचन अधिकारियों को पत्र लिखकर प्रचार अवधि की समाप्ति के संबंध में निर्देश दिए हैं। निर्वाचन नियमावली के अनुसार मतदान के दिन तथा उसके एक दिन पूर्व सार्वजनिक सभाओं की मनाही है।  नगरीय निकाय चुनाव का शोर-शराबा आज देर रात 12 बजे थम जाएगा। शाम 5 बजे के बाद तेज आवाज में प्रचार करने की अनुमति नहीं होगी । नगर के  वार्डों में राजनीतिक दलों ने पूरी ताकत झोंक दी है।

रायपुर। नगरीय निकाय चुनावों में राज्य में चुनाव खर्च प्रस्तुत नहीं करने वाले 459 अभ्यर्थियों को नोटिस दिया गया है। सबसे ज्यादा बिलासपुर जिले में 109 अभ्यर्थियों को नोटिस प्रदान किये गये हैं । रायपुर जिले में 91 अभ्यर्थियों को नोटिस दिया गया हैं । राज्य केे बलरामपुर, सरगुजा, सुकमा , महासमुन्द और बेमेतरा ऐसे जिले हैं जहा के सभी अभ्यर्थियों ने अपना व्यय लेखा व्यय संपरीक्षकों को प्रस्तुत कर दिया है । राज्य निर्वाचन आयुक्त ठाकुर रामसिंह ने बताया कि राज्य के 151 नगर निकायों के 2840 वार्डो एवं 2 नगरीय निकायों के 3 वार्डो में उप निर्वाचन संपन्न किये जा रहे हैं । महापौर और अध्यक्ष का निर्वाचन अप्रत्यक्ष प्रणाली से होने एवं पहली बार पार्षद पद के लिए व्यय सीमा का निर्धारण किये जाने से यह कार्य काफी चुनौतीपूर्ण हो गया है। इस कार्य के लिए पहली बार व्यय संपरीक्षकों की व्यवस्था की गयी हैं जो इस चुनौतीपूर्ण कार्य को काफी मुस्तैदी से कर रहे हैं ।


उन्होंने बताया कि राज्य के 151 नगर निकायों के 2840 वार्डो में 10 हजार 162 उम्मीदवाद चुनाव मैदान में है और इनमें से 9 हजार 694 उम्मीदवारों ने अपने चुनाव खर्च का ब्यौरा प्रस्तुत किया हैं । शेष 459 उम्मीदवारों को नोटिस दिया गया हैं । उन्होेंने बताया हैं कि राज्य के बिलासपुर जिले में 109, मुंगेली में 6, जांजगीर चांपा में 34, कोरबा में एक , रायगढ़ में 4, सूरजपूर में 12, कोरिया में 9, जशपुर में 12, बलौदाबाजार में 20, गरियाबंद में 9, धमतरी में 31, दुर्ग में 3, बालौद में 12, राजनांदगांव में 28, कबीरधाम में 32, कोण्डागांव में 22, बस्तर में 3, कांकेर में 3, दंतेवाड़ा में 16 और बीजापुर में 2 अभ्यर्थियों को व्यय लेखा प्रस्तुत नहीं करने पर नोटिस दिया गया हैं ।

कोरबा। अगर आप यात्री ट्रेन पर सफर कर रहे हैं तो रहिए सावधान क्योंकि इन दिनों ट्रेन पर साथी गिरोह सक्रिय है, कोरबा आरपीएफ की टीम ने यात्री ट्रेन में उठाईगिरी करने वाले शातिर युवक को धरदबोचा है, पकड़ा गए युवक जांजगीर-चांपा जिले के नैला निवासी टिकेश्वर खिलाफ रेलवे एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है, जांजगीर-चांपा जिला नैला निवासी टिकेश्वर सिंह ने पूछताछ में अपना गुनाह कबूल करते हुए बताया कि वो छत्तीसगढ़िया और हिंदी भाषा का ज्ञान बहुत अच्छा है, और वो ट्रेन में ऐसे लोगो से वो पहले बातों हो बातों में दोस्ती करता था, उनके साथ घुल मिल जाने के बाद उसके ही सामान को शातिरा अंदाज में पार कर देता था, ऐसे कई लोगों का वो समान पार कर चुका है. खासकर भोले-भाले छत्तीसगढ़ियों को अपना निशाना बनाया करता था, आरपीएफ थाना प्रभारी वीरेंद्र सिंह ने बताया कि यात्री ट्रेनों पर सामान की चोरी होने की शिकायत मिल रही थी, आरोपी युवक बड़े ही शातिराना अंदाज में घटना को अंजाम दिया करता था. चांपा जीआरपी और कोरबा आरपीएफ की संयुक्त टीम बनाई गई थी और उसे सरगबुंदिया स्टेशन के पास पकड़ा गया. पकड़े गए युवक के खिलाफ रेलवे टिकट तहत कार्यवाही की गई है।

पूरब टाइम्स।  देशभर में फास्टैग की शुरुआत हो चुकी है | इसके साथ ही टोल टेक्स बैरियर में हंगामा और घंटों जाम का दौर भी शुरू हो गया है | केंद्रीय परिवहन मंत्रालय के निर्देश के बाद 12 बजे के बाद यानी 15 दिंसबर से फास्टैग अनिवार्य कर दिया गया है, इसके बिना अगर आप नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा पर फास्टैग लेने में ऐंट्री करते है तो जुर्माना देना पड़ सकता है यह जुर्माना टोल टैक्स का दोगुना होगा ऐसे में जरूरी है, कि आप गाड़ी पर फास्टैग लगवाकर तमाम झंझटो से फ्री रहे | अगर आपने छोटी या बड़ी वाहनों पर फास्टैग नहीं लगवाया है,तो आपकी परेशानी बढ़ने वाली है | फास्टैग को गाड़ी की विंडस्क्रीन पर लगाना होगा  इसके बाद अगर आप नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा से गुजरते है तो रुकने की जरूरत नहीं होगी ,टोल प्लाजा पर लगे कैमरे इसे स्कैन कर लेंगे और रकम आपने अकाउंट से अपने आप कट जाएगी ये प्रक्रिया चंद सेकेंड में पूरी हो जाती है। छत्तीसगढ़ में सभी आठ टोल नाकों में ऑनलाइन फास्टैग सुविधा एक साथ शुरू हुई।  बैरियर में शुरुआती दौर में नगद अदाएगी वाले एक या दो लेन ही मुहैया कराई गई है | शेष सभी लेन फास्टैग युक्त रखी गई है।  महाराष्ट्र सीमा से ओडिशा सीमा तक एनएच 6, एनएच 53 में 5 टोल नाके | राजनांदगांव, दुर्ग बाइपास, रायपुर में आरंग लखोली , महासमुंद जिले, में नदी मोड़ से सरायपाली के बीच 2 नाके | बिलासपुर से जगदलपुर तक एनएच 30 में 3 टोल नाके | नांदघाट बाइपास में एक और धमतरी से जगदलपुर तक हाईवे में दो नाके | इसके अलावा रायपुर में मंदिर हसौद एक और रायपुर-बिलासपुर हाईवे में एक टोल नाका सभी शुरू नहीं हुआ है |  

फास्टैग पर स्कैनर के जरिए पेमेंट होगा | ऑनलाइन टोल शुल्क पटाने के लिए रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईटी) वाला टेग बनाया गया है, जिसे फास्टैग नाम दिया गया है | यह टेन गाड़ी की विंडस्क्रीन पर लगेगा जो बैंक अकाउंट या एनएचएआई के पेमेंट वॉलेट से जुड़ा होगा | इससे गाड़ी मालिकों को टोल प्लाजा से गुजरते हुए रुकने की जरूरत नहीं होगी | टोल प्लाजा के सेंसर फास्टैग को रीड कर पैसा अकाउंट या फिर पेमेंट वॉलेट से अपने आप काट लेगा | फास्टैग लगाने के बाद टोल नाकों में बिना रुके आगे निकल सकेंगे | इसमें 24 घंटे से पहले वापसी पर बकाया रकम भी कट जाएगी | इस सिस्टम का सबसे अच्छा फायदा ये है कि अगर 24 घंटे में आप वापसी करते हुए टोल नाके को पार कर रहे हो तो 24 घंटे में दोनों तरफ का तय शुल्क ही आपके खाते से निकलेगा | दरअसल, ऐसा सिस्टम तय किया गया है, कि जाते वक़्त वन साइन का शुल्क कटेगा | अगर आप 24 घंटे से पहले वापस आ रहे हो तो बकाया राशि कटेगी |अब तक ये होता था कि 24 घंटे में वापसी के लिए दोनों तरफ का शुल्क एक साथ ही जमा किया जाता था, लेकिन अगर 24 घंटे से पहले वापस नहीं आए, तो नुकसान उठाना पड़ता था | अब फास्टैग होने पर ऐसे नुकसान से बचा जा सकेगा | फ़िलहाल नया सिस्टम कितना कारगर होगा इस ओर वाहन चालकों और सरकारी महकमे की निगाहें लगी हुई है | बताया जाता है कि देशभर से मिलने वाले फीडबैक के बाद इस सिस्टम में भी सुधार की गुंजाइस है |  

रायपुर। पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वर्गीय पुरूषोत्तम लाल कौशिक के बेटे दिलीप कौशिक से चार करोड़ स्र्पये की धोखाधड़ी करने का मामला प्रकाश में आया है। घटना 24 अक्टूबर 2013 से 27 जुलाई 2016 के बीच की है। आरोपी मनीष शाहा और ऋचा शाहा ने अपनी कंपनी में शेयर होल्डर बनाने और रकम पर 30 प्रतिशत फायदा होने का प्रलोभन देकर दिलीप कौशिक पिता स्वर्गीय पुरूषोत्तम लाल कौशिक से अपनी कंपनी में करीब चार करोड़ स्र्पये इन्वेस्ट कराया। इसके एवज में उन्होंने न तो अपेक्षित शेयर दिया और न ही लाभांश दिया। इसकी लिखित शिकायत दिलीप कौशिक ने थाने में की थी। जिसकी जांच में प्रथम दृष्टया मामला भादवि की धारा 420,34 के तहत धोखाधड़ी का अपराध पाए जाने पर एफआइआर दर्ज कर विवेचना में लिया गया है। दिलीप के पिता स्वर्गीय पुरूषोत्तम कौशिक समाजवादी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री थे। बहरहाल पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। आरोपी पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं। इन आठ कंपनियों में कराया इन्वेस्टमेंट पुलिस में दर्ज एफआइआर के अनुसार दिलीप कौशिक निवासी 6-बी ईस्ट चौबे कालोनी रायपुर खेती किसानी करते हैं और कौशिक ग्रुप के प्रमुख हैं। मनीष शाहा और ऋचा शाहा ने अपनी आठ कंपनियों लक्ष्य नेचुरल फुडस प्राइवेट लिमिटेड, सी.जी. सोया प्रोडक्ट प्राइवेट लिमिटेड, सी.जी. न्यूट्रीवेट प्राइवेट लिमिटेड, सी.जी. न्यूट्रास्यूटिकल प्राइवेट लिमिटेड, इन्द्रावती ग्रेन्स प्राइवेट लिमिटेड, हैल्दी स्नैक्स प्राइवेट लिमिटेड, सी.जी. फर्मेन्टेड फूडस प्राइवेट लिमिटेड, और लक्ष्य टेक्नोक्रेट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड में दिलीप की कम्पनी कौशिक ग्रुप को शेयर होल्डर बनने एवं रकम इन्वेस्ट करने पर 30 प्रतिशत का लाभांश प्रतिवर्ष हर हाल मे मिलने की गारंटी देते हुए प्रलोभन देकर झांसा दिया।

झांसे मे आकर अपनी कम्पनी कौशिक ग्रुप की ओर से करीब चार करोड़ स्र्पये उनके कंपनियों में जमा कर दिया। दोनों ने न कोई शेयर दिया और न ही कोई लाभांश की राशि दिया। दिलीप का कहना है कि मनीष शाहा एवं ऋचा शाहा ने मिलकर षडयंत्र पूर्वक धोखाधड़ी की है। ऐसे फंसा धोखाधड़ी के गिरफ्त में दिलीप ने पुलिस को किए रिपोर्ट में बताया है कि वह किसान होने और आर्थिक रूप से सक्षम होने से मनीष शाहा से प्रभावित हुआ। मनीष शाहा का व्यवसाय कृषि उपकरणो  और कृषि उत्पादो पर आधारित था । मनीष शाहा और उसकी पत्नी ऋचा शाहा ने दिलीप की अच्छी आर्थिक स्थिति का बेजा लाभ उठाकर अपने व्यवसाय को चमकाने की नीयत से उसे उत्प्रेरित किया। कम से कम 30 प्रतिशत लाभ प्रतिवर्ष हर हाल मे मिलने का झांसा दिया। व्यवसाय मे निवेश करोगे तो आपकी संपत्ति बहुत तेजी से बढ़ेगी कहकर अपनी आठ कंपनी में इन्वेस्ट कराया। साथ ही इन कंपनियो मे भागीदार बनने के लिए दिलीप ने नगद निवेश किया। रकम को 604 रायल एक्जटिका अनुपम नगर के कंपनी ऑफिस मे दिया जो खम्हारडीह थाना क्षेत्र मे आता है। मनीष शाहा एवं ऋचा शाहा ने इसके एवज मे दिलपी को लक्ष्य नेचुरल फुडस प्रा.लि. सी.जी. सोया प्रोडक्ट प्रा.लि. लक्ष्य टेक्नोक्रेट इंडिया प्रा.लि. में  संचालक बनाया और शीघ्र ही भागीदार बनाने का आश्वासन दिया । निवेश की गई रकम को मनीष शाहा और ऋचा शाहा ने लक्ष्य नेचुरल फूडस प्रा.लि. एवं सी.जी. सोया प्रोडक्टस प्रा.लि. मे उपयोग किया ।

रायपुर। नवा रायपुर के जंगल सफारी में शेर की मौत हो गई। बीते 25 नवंबर से इस डेढ़ साल के बब्बर शेर गुना को खाने में तकलीफ हो रही थी। डॉक्टरों ने जांच में पाया कि शेर के पेट में हड्‌डी फंसी थी। इसे निकालने के लिए शेर का इलाज भी किया गया। उसकी सेहत में सुधार की खबरें भी आईं थीं। अब शेर की मौत के बाद वन विभाग का अमला पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है, ताकि कारणों का पता चल सके। गुना बिलासपुर के कानन पेंडारी चिड़ियाघर के बब्बर शेर वासु और वसुधा का बच्चा था। पिछले दिनों पांच डॉक्टरों की टीम के 14 दिनों तक गुना का इलाज किया। गुना के पेट में हड्डी फंस गई थी। इसके कारण वह खाना नहीं खा पा रहा था। उसे मटन सूप पिलाया जा रहा था। चेन्नई के डॉक्टर की सलाह के बाद गुना को अंजोरा वेटनरी इंस्टीट्यूट दुर्ग लाया गया। यहां एक्सरे और रेडियोलॉजी कराई गई थी। रायपुर के रामकृष्ण हॉस्पिटल के डॉक्टर निहाल की मदद से  हड्‌डी निकाल ली गई थी मगर गुना की जान नहीं बचाई जा सकी।

बीजापुर । छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के जांगला में 14 अप्रैल 2017 को पीएम नरेंद्र मोदी ने आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ किया था, तब मंच पर उन्होंने तेंदूपत्ता संग्राहकों को चरण पादुका का वितरण किया था। नंगे पांव चलने वाले आदिवासियों के लिए यह बड़ी सौगात थी। जांगला की बुजुर्ग महिला रत्नी बाई जब मंच पर आईं तो पीएम मोदी सामने आए और उसे खुद अपने हाथों से चप्पल पहनाई। पीएम मोदी की यह तस्वीर दुनियाभर में छा गई थी। गरीब रत्नी बाई के लिए चप्पल सबसे बड़ी संपत्ति थी।बुजुर्ग रत्नी बाई की झोपड़ी में एक ही कमरा है, जिसमें वह पीएम मोदी के द्वारा दी गई चप्पल को हमेशा सहेज कर रखती थी। खास मौकों पर उसे निकालती और पहनती। दो महीने पहले गांव में किसी आयोजन में जाते वक्त उसकी चप्पल टूट गई। अब वह टूटी चप्पल सहेजे हैं।चप्पल की बात करने पर रत्नी दुखी हो जाती है। झोपड़ी में उसने वह तस्वीर लगा रखी है, जिसमें पीएम मोदी उसे चप्पल पहना रहे हैं। वह तस्वीर दिखाते हुए वह गोंडी में बुदबुदाती है। मेरे मरने से पहले क्या फिर पीएम मुझे चप्पल दे पाएंगे।

रायपुर। हैदराबाद और उन्नााव की घटना के बाद छत्तीसगढ़ में भी महिलाओं पर हमले की वारदात लगातार बढ़ रही है। राजधानी रायपुर के टिकरापारा इलाके में मंगलवार को अज्ञात हमलावर ने दो युवतियों पर चाकू और लोहे के तवे से हमला कर दिया। युवतियों पर चाकू और लोहे के तवे से कई वार किए इसके बाद हमलावर वहां से भाग निकला। लहूलुहान युवतियों को तड़पते देख कर आस-पास के लोगों ने एंबुलेंस की मदद से उन्हें अम्बेडकर अस्पताल अस्पताल भेजा जहां दोनों युवतियों ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। अब पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी है। टिकरापारा थाना इलाके के मोतिनगर के गोदावरी नगर में दो युवतियों की धारदार हथियार से ताबड़तोड़ वार कर हत्या कर दी गई। घटना की जानकारी लगते ही हड़कंप मच गया। आनन-फानन में दोनों युवतियों को अम्बेडकर अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया है। बताया जा रहा है कि घटना सोमवार की रात 12 बजे की है। दोनों युवतियां किराए के एक मकान में रहती थीं। जिस दौरान उनके ऊपर हमला हुआ है उस दौरान वो दोनों घर में ही मौजूद थीं। मृतक एक लड़की की शिनाख्त मनीषा साहू के रुप में की गई। वह रायगढ़ जिले की रहने वाली थी और यहां पिछले दो साल से किराए के मकान में रहकर नर्सिंग की पढ़ाई कर रही थी। दूसरी युवती की शिनाख्त अभी नहीं हो पाई है। बताया जा रहा है कि वह कल ही मृतिका से मिलने पहुंची थी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। इसके बाद ही दोहरे हत्याकांड से पर्दा उठ पाएगा कि दोनों युवतियों की हत्यों क्यों की गई है और हत्यारे कौन हैं, बताया जा रहा है कि चाकू से हमले के साथ ही दोनों युवतियों के गले पर जख्म के गहरे निशान भी थे। दोनों की उम्र 20 से 22 वर्ष के बीच बताई जा रही है। दूसरी युवती की शिनाख्त अभी की जा रही है।

बिलासपुर । छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार को बड़ा झटका दिया है। प्रमोशन में आरक्षण के राज्य सरकार के फैसले पर हाईकोर्ट ने ब्रेक लगा दिया है। हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच एक ने इसकी सुनवाई की और इस फैसले पर स्टे दे दिया है। मामले में राज्य सरकार को 20 जनवरी की तारीख़ दी गई है। 20 जनवरी को इस मसले पर फिर से बहस होगी। यह वही प्रकरण है, जिसमें राज्य सरकार को बीते 2 दिसंबर को कोर्ट को कहना पड़ा था कियह नियम बनाने में नियमों और सुप्रीम कोर्ट तथा हाईकोर्ट के निर्देशों का ध्यान अधिकारियों ने नहीं दिया है, हम माफ़ी चाहते हैं और एक सप्ताह में गलती सुधारेंगे

सोमवार को इस मामले में चीफ जस्टिस पीआर रामचंद्रन और जस्टिस पीपी साहू ने सुनवाई की। राज्य की ओर से आए जवाब से कोर्ट संतुष्ट नहीं थी और हाईकोर्ट ने राज्य सरकार के आदेश पर रोक लगा दी है।

राज्य सरकार ने 22 अक्टूबर को नोटिफिकेशन जारी कर प्रमोशन में आरक्षण लागू कर दिया था, जिसके अनुसार एसटी को 32 प्रतिशत और एससी वर्ग को 13 प्रतिशत आरक्षण दिया गया था। इस आदेश के खिलाफ विष्णु प्रसन्न तिवारी और गोपाल सोनी ने याचिका दायर करते हुए इस नोटिफिकेशन को गलत बताते हुए इसे रद्द किए जाने की मांग की है।

बिलासपुर।भाजपा की नामांकन रैली युवा सदन से कलेक्टोरेट के लिए निकली। इस दौरान पार्टी के स्थानीय नेताओं के अलावा प्रत्याशी और उनके समर्थक भी बड़ी संख्या में मौजूद थे। इस रैली का जगह-जगह जमकर स्वागत हुआ। इससे उत्साहित भाजपाई रैली में ही डटे रहे और कलेक्टोरेट शाम चार बजे पहुंचे। तब तक नामांकन दाखिल करने का समय बीत चुका था। अब उनके पास शुक्रवार का समय ही शेष है। इस बार नामांकन की प्रक्रिया जटिल करने के कारण प्रत्याशी दस्तावेज तैयार करने देर रात तक भटकते नजर आए।

भाजपा की नामांकन रैली तय परंपरा के अनुसार पुराने युवा सदन के पास से ही निकली। इस दौरान रैली में पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल,बिल्हा विधायक धरमलाल कौशिक,मस्तूरी विधायक कृष्णमूूर्ति बांधी,बेलतरा विधायक रजनीश सिंह, हर्षिता पांडेय आदि पार्टी के बड़े नेता भी मौजूद थे। पार्षदों को भी अपने वार्ड के अनुसार अलग-अलग रैली में शामिल किया गया था ताकि उनकी पहचान हो सके और कार्यकर्ताओं की ताकत दिखा सके। रैली युवा सदन से सबसे पहले गांधी चौक, गोल बाजार, सदर बाजार, देवकीनंदन चौक, तिलक नगर होते हुए कलेक्टोरेट पहुंची।