Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



कोरबा। छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी कोरबा जिले के उपभोक्ताओं को मार्च के बाद स्मार्ट मीटर की सुविधा से जोड़ने की तैयारी कर रही है। उपभोक्ताओं के घरों में स्मार्ट मीटर लगाने के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। अभी जिले के विद्युत उपभोक्ताओं का बिजली कनेक्शन सामान्य मीटर के माध्यम से दिया गया है। बिजली की खपत सामान्य मीटर में दर्ज की जाती है। इस कार्य में मीटर रीडिंग के लिए मैदानी कर्मचारी काम करते हैं। मीटर में दर्ज खपत के आधार बिजली के बिल तैयार कर उपभोक्ताओं के पास भेजा जाता है। इसके बाद उपभोक्ता बिलिंग के आधार पर बिजली खपत राशि का भुगतान विद्युत कंपनी में करता है। नए साल में छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी उपभोक्ताओं को सामान्य मीटर के स्थान पर स्मार्ट मीटर उपलब्ध कराएगी। छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी की स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं को बिजली की बचत के लिए भी प्रेरित करेगा। छत्तीसगढ़ में दो जिलों कोरबा और राजनांदगांव में पायलट के रूप में इसे प्रारंभ किया जा रहा है। यहां इसकी सफलता के बाद राज्य के दूसरे जिलों में भी इस सिस्टम को लागू किया जाएगा। विद्युत कंपनी ने स्मार्ट मीटर के संबंध में टेंडर आमंत्रित किया है। स्मार्ट मीटर की खासियत यह है कि उपभोक्ताओं को मोबाइल की तरह मीटर का रिचार्ज कराना पड़ेगा। रिचार्ज की अनुपात राशि व्यय होते ही बिजली आपूर्ति ठप हो जाएगी। इस स्थिति में उपभोक्ताओं को मीटर में रिचार्ज करना होगा, उसके बाद पुन: बिजली आपूर्ति होगी।

रायपुर। पूर्व सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री लता उसेंडी के घर चोरी का मामला सामने आया है. बोरियाकला स्थित बेनियान ट्री सोसाइटी के मकान में ये चोरी की वारदात हुई है. शातिर चोर लाकर तोड़कर 10 हजार नगदी और सोने का झुमका जिसकी कीमत 30 हजार रूपए बताई जा रही है उसे पार कर ले गए है. इस दौरान चोरों ने घर में रखी एक- एक चीज को खंगाल डाला ये पूरा मामला 31 दिसंबर की रात 8:30 से एक जनवरी की रात 2:15 की बीच  है. उस वक्त  पूर्व मंत्री लता उसेंडी घर में मौजूद नहीं थी. उनका पीएसओ घर में सोया हुआ था.इसी बीच अज्ञात आरोपियों ने पूर्व मंत्री के घर पर धावा बोल दिया. चोरी की घटना के बाद  लता उसेंडी के भतीजे अंकुश उसेंडी ने सेजबहार थाने में शिकायत दर्ज कराई है जिसके बाद पुलिस मामला दर्ज कर अज्ञात चोरों की पतासाजी में लगी हुई है. इस मामले में ग्रामीण एएसपी तारकेश्वर पटेल ने बताया कि पूर्व मंत्री लता उसेंडी के घर चोरी होने की सूचना मिली थी. उनके भतीजे ने थाने में शिकायत की है. घटना के वक्त पूर्व मंत्री मौजूद नहीं थी.घर मे उनका पीएसओ मौजूद था.बीच में उनके पीएसओ की नींद खुली थी उसने घर से दो तीन लोगों को भागते देखा है.

दिल्ली।.सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने मंगलवार को कहा कि अगर पाकिस्तान ने प्रायोजित आतंकवाद बंद नहीं किया तो हम पहले ही खतरे की जड़ पर वार करेंगे और यह हमारा अधिकार है। उन्होंने कहा कि हमारे पास प्रायोजित आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई के लिए विकसित रणनीति है। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ पर नवनियुक्त आर्मी चीफ ने कहा- जिस तरह से हम अभी ऑपरेट कर रहे हैं, सीडीएस निश्चित तौर पर उसमें बड़ा बदलाव लाएंगे। वे पूरे सैन्य तंत्र में आमूलचूल सुधार लाएंगे। मूलभूत सुधार क्षमता को बढ़ाना और किसी भी समय तैयार रहना है। पाकिस्तानी सेना की हर कोशिश नाकाम साबित हुई नरवणे ने न्यूज एजेंसी को दिए साक्षात्कार में कहा कि प्रायोजित आतंकवाद से हमारा ध्यान भटकाने की पाकिस्तान की सेना हर कोशिश विफल साबित हुई है। आतंकवादियों के सफाए और आतंकी नेटवर्क के खात्मे से पाकिस्तान के प्रॉक्सी वार के ढांचे को काफी नुकसान पहुंचा है सेना को हर वक्त तैयार रखना मेरा मकसद उन्होंने बताया, अब हम पश्चिमी सीमा से उत्तरी सीमा पर अपना फोकस कर रहे हैं। यह प्राथमिकताओं के संतुलन की प्रक्रिया है। हम उत्तरी सीमा पर पर अपनी क्षमताओं क बढ़ाने के काम को जारी रखेंगे ताकि जब आवश्यकता हो तब हम पूरी तरह से तैयार रहें। मेरा पूरा जोर सेना को किसी भी समय किसी भई खतरे के लिए पूरी तरह तैयार रखना है।

रायपुर. रायगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का हेलीकाप्टर उड़ान भरने से पहले खराब हो गया. इस वजह से मुख्यमंत्री को सड़क मार्ग से रायपुर लौटना पड़ रहा है. विमान में कुछ तकनीकी खामी आने की बात कही जा रही है. जानकारी के मुताबिक, भूपेश बघेल ओडिशा दौरे से वापस रायपुर लौट रहे थे. इस दौरान उन्हें रायगढ़ में रुकना था. यहां उनका कार्यक्रम पूर्व में प्रस्तावित था. साथ ही हेलीकाप्टर में फ्यूल भराना था.इस कारण रायगढ़ के जिंदल हेलीपैड में लैंडिंग कराई गई. यहां फ्यूल भराने के बाद मुख्यमंत्री वापसी के लिए तैयारी कर रहे थे. तभी हेलीकाप्टर में अचानक तकनीकी खराबी आ गई. जिस वजह से हेलीकाप्टर उड़ान नहीं भर सका. वहीं मुख्यमंत्री के हेलीकाप्टर की तकनीकी खराबी की बात सुनकर जिले में हड़कंप मच गया. मुख्यमंत्री के लिए दूसरी हेलीकाप्टर भेजने की बात कही गई, जिसे उन्होंने मना कर दिया. उन्होंने सड़क मार्ग से ही रायपुर लौटने का फैसला किया.

रायपुर !आबकारी मंत्री कवासी लखमा को फोन पर फर्जी सीबीआई अफसर बनकर धमकी देने वाला आरोपी गिरफ्तार हो गया है. आरोपी अंकुश शर्मा पिता रामदत्त गांव कुर्फद तहसील चौपाल चनपडली हिमाचल प्रदेश का रहने वाला है.इस मामले में सोमवार को मंत्री के पीएसओ नोने सिंह बागरी ने सिविल लाइन थाने में शिकायत दर्ज कराई थी. उसके बाद आरोपी को गिरफ्तार करने रायपुर से टीम भेजी गई थी. लोकेशन के ट्रेस कर पुलिस आरोपी तक पहुंची.बता दें कि आरोपी अंकुश शर्मा ने सीबीआई में मामला होने की बात कहते हुए उसे रफा-दफा करने के नाम पर दो लाख रुपए की मांग की थी. इसके बाद मंत्री कवासी लखमा के पीएसओ नोने सिंह बागरी ने थाने में शिकायत की. उन्होंने पुलिस को बताया कि नगरीय निकाय के चुनाव में मंत्री कवासी लखमा सुकमा गए हुए थे. 20 दिसंबर को मंत्री के नंबर पर एक कॉल आया, जिसमें अपने आप को दिल्ली से सीबीआई इंस्पेक्टर अंकुश शर्मा बताते हुए मंत्री के खिलाफ सीबीआई में शिकायत होने की बात कहते हुए मामले को रफा-दफा करने के लिए दो लाख रुपए की मांग की!

कवर्धा। जिले के सहसपुर लोहारा थाना अंतर्गत ग्राम बिरोडा में पांच दिन पहले लापता 9 साल के मासूम डोनेश राणा का पुलिस अब तक कोई सुराग नहीं ढूंढ पाई है. बच्चा कहां है किस हाल में किसी को नहीं पता. परिजन भी किसी प्रकार की फीरौती और आपसी दुश्मनी से भी इंकार किया है. ऐसे में बच्चे के पिता भी अब पुलिस कार्रवाई पर सवाल उठा रहे हैं. परिजन उच्च स्तरीय टीम से जांच की मांग परिजन कर रहे हैं.पुलिस की टीम बच्चे की तलाश में गांव में ही कैंप लगाई हुई है. इसके अलावा सायबर एक्सपर्ट से भी मदद ली जा रही है. इस बीच पुलिस जल्द ही बच्चे को सकुशल वापस लाने का दावा कर रही है. लेकिन सवाल तो यही है कि अब तक कोई सुराग नहीं मिला है, तो कब तक सकुशल वापस ला पाएगी.दरअसल ग्राम बिरोडा निवासी कुशल राणा शिक्षक है, उनकी पत्नी भी ग्राम बीजा बैरागी के प्राथमिक शाला में शिक्षिका है. दोनों के दो बच्चे हैं. इन दिनों शीतकालीन की छुट्टी चल रही है ऐसे में बच्चे घर पर ही थे. 26 दिसंबर को 9 साल का डोनेश राणा घर के पास ही खेल रहा था. लेकिन देर शाम तक घर नहीं लौटा. जिसके बाद परिजनों ने आसपास पता किया पर उसकी कोई जानकारी नहीं मिली.जिसके बाद परिजनों ने सहसपुर लोहारा पुलिस को सूचना दी. लेकिन आज भी पुलिस बच्चे के बारे में कोई सुराग तक पता नहीं लगा पाई है. उधर परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो चुका है. अब तो लोहार पुलिस से भी विश्वास उठ चुका है. ऐसे में परिजन किसी अन्य उच्च स्तरीय टीम से लापता बच्चे का पता लगाने की गुहार लगा रहे हैं. वहीं दूसरी ओर परिजनों ने किसी प्रकार की फीरौती व आपसी दुश्मनी से इंकार किया है. हालांकि पुलिस जल्द ही बच्चे को सकुशल वापस लाने की बात कह रही है.डीएसपी नरेंद्र बेंताल का कहना है बच्चा घर से बैडमिंटन खेलने निकला था उसी दौरान से वह लापता है. परिजन ने गुमशुदा की रिपोर्ट लोहारा थाना में लिखवाई है. पुलिस पांच दिन से लगातार ढूंढने का प्रयास कर रही है 

कोटा। भनवारटंक स्थित मरहीमाता मंदिर दर्शन करने गए बिलासपुर डिप्टी कलेक्टर के साथ चार युवकों ने मारपीट का मामला सामने आया है. ये आदतन बदमाश जबरदस्ती रुपये की मांग कर रहे थे. इसके बाद डिप्टी कलेक्टर ए आर टंडन से युवक मारपीट करने लगे. पुलिस ने चारों युवकों के खिलाफ जुर्म दर्ज कर किया गया. जिसके बाद आरोपियो को गिरफ्तार किया गया है. आरोपियों के नाम रामकुमार गिलहरे, अमित गिलहरे, दीपक गिलहरे, गोलू गिलहरे हैं.मंदिर से कुछ दूर प्रसाद के रूप में बकरा की सब्जी बना रहे थे दोपहर करीब 3:30 बजे उनके पास चार युवक पहुंचे और पैसे की मांग करने लगे. डिप्टी कलेक्टर ने पैसा मांगने का कारण पूछा तो चारों गालियां देने लगे और धमकाया भी. इसके बाद पैसा देने से मना करने पर युवकों ने पिटाई शुरू कर दी. वहां मौजूद दर्शनार्थियों ने बीच बचाव किया, तब चारों वहां से भाग निकले.मारपीट करने वाले आरोपी हमेशा मंदिर आकर दर्शनार्थियों से मारपीट गुंडागर्दी करते हैं बेलगहना चौकी पुलिस ने अपराध पंजीबद्ध किया गया. जिसके बाद चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. मारपीट करने वाले आरोपियों के नाम रामकुमार गिलहरे, अमित गिलहरे, दीपक गिलहरे, गोलू गिलहरे हैं। .

लोरमी। साल का आखिरी दिन 61 वर्षीय उमा महोबिया के लिए अंतिम दिन होगा, ऐसा किसी ने सोंचा तक नहीं था. दरअसल मुंगेली जिले के लालपुर थाना अंतर्गत अज्ञात चोरों ने एक घर में धावा बोलकर गहने चुरा ले गए और महिला के विरोध करने पर हत्या कर दी. घटना के बाद गांव में दहशत का माहौल है. वहीं पुलिस मामला दर्ज आरोपियों की तलाश में जुट गई है. जानकारी के मुताबिक मनोहरपुर गांव के एक घर में बुजुर्ग दंपत्ति रहते थे. बुजुर्ग महिला अपने घर में सोना और नगदी रखी हुई थी. जिस पर किसी की पहले से ही नजर थी. यही वजह है कि बीती रात अज्ञात चोरों ने घर में घुसकर सोना-नगदी लेकर फरार हो गए. जाते-जाते महिला की हत्या कर फरार हो गए. घटना की सूचना पर मुंगेली जिले के एसपी सीडी टंडन, एडिश्नल एसपी सीडी तिर्की, एसडीओपी कादिर खान सहित अन्य पुलिस स्टाफ के साथ डॉग स्कॉट और फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम मौके पर पहुँचकर जांच कर रही है.मृतिका के पति राम मनोहर महोबिया ने बताया कि घटना की जानकारी उन्हें सुबह तब हुई, जब गांव के राउत पंचराम के आने पर वे दरवाजा खोलने उठे. उन्होंने देखा कि उसकी पत्नी जमीन पर खून से लथपथ पड़ी थी. उन्होंने बताया कि बुजुर्ग पत्नी घर में अपने कमरे पर अकेली सोती थी. उसी दौरान अज्ञात लूटेरों ने इस घटना को अंजाम दिया होगा. आरोपी घर में दीवाल फांदकर घुसे थे.आशंका जताई जा रही है कि लूटपाट का विरोध करने पर आरोपियों द्वारा बुजुर्ग महिला के सिर पर धारदार हथियार से हमला कर मौत के घाट उतार दिया गया. वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गए. जिनकी पतासाजी मुंगेली पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है।  .

कोरबा। जिले की एक ग्राम पंचायत ऐसी है जहां पंच और सरपंच का निर्विरोध चयन किए जाने की परंपरा कई वर्षों से चली आ रही। चुनाव से ठीक पहले गांव में चौपाल लगाई जाती है। यहां सभी 11 वार्ड के लिए निर्विरोध पंच चुनते हैं। इसके साथ ही सभी पंच निर्विरोध सरपंच का चुनाव करते हैं। इस बार भी ऐसा ही हुआ है। आदिवासी महिला के लिए ग्राम पंचायत आरक्षित होने से गांव की महिला सुमरित नेताम को सरपंच चुना गया है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनााव का बिगुल बज चुका है। सोमवार से नामांकन दाखिले की प्रक्रिया शुरू होगी। एक ओर सरपंच और पंच बनने ग्राम पंचायतों में गलाकाट प्रतिस्पर्धा चल रही है, वहीं दूसरी ओर जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर पाली विकासखंड के ग्राम पंचायत पुटा के ग्रामीणों ने सभी पद के लिए निर्विरोध चयन कर एकता की मिसाल पेश की है।

 रायपुर। भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लेकर दिये गए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बयान ने सर्दियों के इस मौसम में राजनीति का तापमान बढ़ा दिया है. रायपुर सांसद सुनील सोनी ने इसे साधु संतों का अपमान बताते हुए बयान पर आपत्ति जताई है. उन्होंने सीएम से माफी मांगने की मांग की है.सुनील सोनी ने कहा कि देश की संस्कृति में भगवा रंग को त्याग और तपस्या का मानते है. भूपेश बघेल ने जो बयान दिया है पूरे देश के साधु-संतों का अपमान किया है. मुख्यमंत्री को पूरे देश के साधु संतों और जनता से माफी मांगनी चाहिए. वे इस प्रकार की भाषा का उपयोग करके छत्तीसगढ़ को निंदा के कटघरे में खड़े कर रहे हैं. लोग निंदा कर रहे हैं.सोनी ने आगे कहा, भूपेश बघेल प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं इस बात का उन्हें ध्यान देना चाहिए. उन्हें ये शोभा नहीं देता कि वे अनर्गल बयान दें और अशोभनीय भाषा का प्रयोग करें. ऐसा करके वे छत्तीसगढ़ की जनता का अपमान कर रहे हैं इसलिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को देश की जनता और साधु संतों से माफी मांगनी चाहिए.

रायपुर। राजधानी रायपुर में महापौर की खुर्सी के लिए कांग्रेस-बीजेपी में जद्देजहद जारी है. इसी बीच बीजेपी के पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी ने बीजेपी का महापौर बनाने का दावा किया है. उन्होंने कहा कि निर्दलीयों के साथ ही कांग्रेस पार्षद भी हमारे संपर्क में हैं. कांग्रेस पहले अपने पार्षद तो बचा ले.पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी का कहना है कि अपना महापौर बनाने के लिए बीजेपी आखिरी दम तक लड़ेगी. पार्टी के नेता सभी 7 निर्दलीयों के संपर्क में है. रायपुर नगर निगम में बीजेपी के पास 29 पार्षद है. बाकी 5 भाजपा के विचारधारा के पार्षद है. अन्य दो निर्दलीय पार्षदों से बातचीत चल रहा है.उन्होंने कहा कि कांग्रेस आंतरिक गुटबाजी से जूझ रही है. उन्हें महापौर का प्रत्याशी तो घोषित करने दीजिए. हम लड़ेंगे और रायपुर में महापौर बनाएंगे. कांग्रेस पहले अपने 34 पार्षदों को तो बचा ले, क्योंकि कांग्रेस से ही कुछ पार्षद टूटेंगे.बता दें कि रायपुर नगर निगम की 70 सीटों में से बीजेपी के पास 29, कांग्रेस के 34 और अन्य 7 सीटें है. महापौर बनाने के लिए किसी भी पार्टी को 36 सीट की जरुरत है। .

रायपुर। पूरे प्रदेश में इस समय कड़ाके की ठंड की वजह से ठिठुरन पैदा हो गई है. शीतलहर और कई जिलों में बर्फ तक जम रही है. इसी बीच कड़ाके की ठंड शीतलहर को देखते शिक्षा अधिकारियों ने स्कूल खुलने के समय में बदलाव किया है. अब दो पाली स्कूल संचालित होगा. यह नियम पूरे छत्तीसगढ़ के स्कूलों में 31 दिसंबर 2019 से 10 जनवरी 2020 तक लागू होगा.जारी आदेश के अनुसार स्कूल का पहला पाली सुबह साढ़े 8:30 बजे से दोपहर 12.30 तक खुलेगा. दूसरे पाली की शुरुआत 12.45 से 5 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है. वहीं एक पाली में संचालित सभी स्कूल सुबह 10 बजे से शाम 4 तक संचालित होगी. यह आदेश समस्त शासकीय और अशासकीय, अनुदान प्राप्त शाला, मदरसा और अन्य स्कूलों पर लागू होगा.प्रदेश के सभी जिलों के स्कूल के खुलने का समय निर्धारित किया है. सोमवार सुबह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी शीतलहर से बचाव के लिए सभी जिलों के कलेक्टर और नगरीय निकायों को आवश्यक व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए थे. महत्वपूर्ण जगहों पर अलाव, रैन बसेरों में आवश्यक समाग्री, शीतलहर के कारण किसी प्रकार की जनहानि ना हो, इसके लिए  व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए थे।

बता दें कि एयरपोर्ट की पार्किंग का ठेका दिल्ली की कंपनी को दिया गया था, जिसने रायपुर के एक निजी ट्रेवल्स के मालिक को संचालित करने के लिए दे दिया है. वहीं एयरपोर्ट में कुछ ड्राइवरी करने वाले कई अनाधिकृत व्यक्तियों के द्वारा मारपीट की जाती है, जिसकी वजह से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है. देखिए किस तरह से एयरपोर्ट में महिला यात्री को परेशानी का सामना करना पड़ा. इस पर विमानपत्तन निवेशक राकेश सहाय ने बताया कि यह वीडियो बहुत सारे सोशल मीडिया में प्रसारित किया जा रहा है, लेकिन इसकी सच्चाई कुछ और है. मैं कुछ पोस्टर के माध्यम से जो एयरपोर्ट में लगे हुए हैं यह बताना चाहता हूं कि अनाधिकृत गाड़ियों को बुलवाया गया इसलिए यह समस्याएं आई हैं. उबर अनाधिकृत रूप से एयरपोर्ट में प्रवेश किया था. एयरपोर्ट द्वारा ओला एवं डब्लू टी आई कैब को ही अधिकार दिया गया है. इसके अलावा किसी भी दूसरी एजेंसी को यह अधिकार नहीं किया गया है. अगर इसके अलावा कोई भी दूसरा आता है तो एयरपोर्ट अथॉरिटी उसकी जिम्मेदारी नहीं लेता है. लोगों को जागरूक होने की जरूरत है.आने जाने वाले गाड़ी की शिकायतों पर भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण की  नवीनतम पार्किंग पॉलिसी के तहत अविलंब कार्रवाई की जाएगी. सभी गाड़ियों के चालकों से निवेदन है कि वह बिल्डिंग के सामने 3 मिनट से ज्यादा गाड़ी को खड़ा नहीं करें, ताकि बिल्डिंग के सामने जाम की स्थिति उत्पन्न ना हो. 3 मिनट से ज्यादा गाड़ी खड़ी किए जाने की स्थिति में उन्हें 500 पेनाल्टी का भुगतान करना होगा.

रायपुर। मंत्री कवासी लखमा को ब्लैकमेल करने का मामला सामने आया है. सीबीआई में मामला होने की बात कहते हुए अंकुश शर्मा नाम के व्यक्ति ने रफा-दफा करने के नाम पर दो लाख रुपए मांग की है. मामले में कवासी लखमा के पीएसओ नोने सिंह बागरी ने सिविल लाइन थाना में मामला दर्ज कराया है. पुलिस मामला दर्ज करने के बाद जांच में जुट गई है.मंत्री कवासी लखमा के पीएसओ नोने सिंह बागरी ने बताया कि नगरीय निकाय के चुनाव में मंत्री कवासी लखमा सुकमा गए हुए थे. 20 दिसंबर को मंत्री के नंबर पर एक कॉल आया, जिसमें अपने आप को दिल्ली से सीबीआई इंस्पेक्टर अंकुश शर्मा बताते हुए मंत्री के खिलाफ सीबीआई में शिकायत होने की बात कहते हुए मामले को रफा-दफा करने के लिए दो लाख रुपए की मांग की.थाने में शिकायत दर्ज कराने पहुंचे मंत्री कवासी लखमा के पीएसओ पीएसओ ने बताया अंकुश शर्मा ने कुछ दस्तावेज होने की बात कही और कहा आप चाहे तो मैं उसको आपको व्हाट्सएप कर सकता हूं. चूंकि मंत्री के नंबर पर व्हाट्सएप चलता नहीं है तो मेरा नंबर दिया गया. उसने मेरे नंबर पर कुछ 2-3 दस्तावेज इंग्लिश में भेजा. वह क्या है, मुझे समझ में नहीं आया. तब से मंत्री और मेरे नंबर पर लगातार फोन कर पैसे की मांग कर रहा है. उन्होंने बताया कि इस संबंध में शिकायत दर्ज कराया हूं.
इस मामले पर एडिशनल एसपी प्रफुल्ल ठाकुर ने बताया कि मंत्री कवासी लखमा के कॉल आया था, जिसमें एक व्यक्ति ने पूर्व विधायक मनीष कुंजाम द्वारा सीबीआई में की गई शिकायत का हवाला दिया था. मामले को डीलिंग की बात करते हुए 2 लाख रुपये की मांग की गई थी. इसकी शिकायत पर थाना सिविल लाइन में आईपीसी की धारा 384 के तहत अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया गया है. विवेचना क्रम में एक पार्टी तैयार की जा रही है. कुछ सस्पेक्ट नंबर का लोकेशन मिला है जल्द पार्टी उन जगहों पर पहुंच कर आरोपी को गिरफ्तार कर लेगी.

रायपुर। निर्दलीय कांग्रेस-भाजपा के पार्षदों को लेकर परिणाम बदलने की कवायद में जुटे रायपुर। रायपुर नगर निगम के महापौर चुनाव के लिए निगम प्रशासन ने अधिसूचना जारी कर दी है। छह जनवरी को महापौर और सभापति पद के लिए नामांकन होगा और उसी दिन वोटिंग के बाद मतगणना भी हो जाएगी। छह जनवरी को नगर निगम के सभाकक्ष में जिला निर्वाचन अधिकारी एस भारतीदासन पार्षदों को सुबह साढ़े दस बजे शपथ दिलाएंगे। साढ़े 12 बजे से महापौर और सभापति पद के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू होगी। शाम चार से पांच बजे तक मतदान होगा। पांच बजे के बाद मतगणना और परिणाम की घोषणा होगी। निर्वाचन कार्यक्रम की घोषणा के बाद कांग्रेस और भाजपा ने महापौर और अध्यक्ष पद के दावेदारों के लिए रायशुमारी तेज कर दी है। इस बीच, बदले राजनीतिक समीकरण में निर्दलीय पार्षद भी महापौर पद के लिए ताल ठोंकते नजर आ रहे हैं। निर्वाचन आयोग के अधिकारियों की मानें तो कांग्रेस और भाजपा के साथ अगर निर्दलीय भी नामांकन दाखिल करते हैं तो बहुमत के आधार पर निर्णय होगा। निर्दलीयों को साधने महापौर दावेदार होटलों और घरों में कर रहे मुलाकात : कांग्रेस के सभी महापौर दावेदार निर्दलीयों को साधने में जुट गए हैं। प्रमुख दावेदार प्रमोद दुबे और एजाज ढेबर अलग-अलग तरह से सभी सातों निर्दलीयों को अपने पक्ष में करने की कोशिश कर रहे हैं। संगठन ने समर्थन जुटाने की जिम्मेदारी इन्हीं दावेदारों को सौंप दिया है। एक दावेदार ने एमजी रोड में पार्टी के कुछ पार्षदों को बुलाकर उनसे महापौर और सभापति को लेकर चर्चा की। एक प्रमुख प्रत्याशी भी निर्दलीयों के घर-घर जाकर मुलाकात कर रहे हैं। इन प्रमुख दावेदारों के अलावा कुछ अन्य दावेदार विधायकों को साधने में लगे हैं। प्रदेश भर के पार्षदों का राजधानी में जमावड़ा : नगर निगम, नगर पंचायत का चुनाव संपन्न होने के बाद प्रदेश भर के विभिन्न जिलों से निर्वाचित पार्षदों का राजधानी रायपुर के बड़े से लेकर छोटे होटलों में जमावड़ा लगा हुआ है। पिछले चार-पांच दिनों से लगातार होटलों में कांग्रेस, भाजपा के साथ जीते हुए निर्दलीय पार्षद आकर ठहर रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये अपने-अपने स्तर पर जुगाड़ लगा रहे हैं। कांग्रेस और भाजपा के बड़े नेताओं से सुबह-शाम मिलने के साथ ही निगम में मेयर, सभापति, नगर पालिका और नगर पंचायत में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष आदि के जुगाड़ लगाने चक्कर काट रहे है। राजधानी में राजनांदगांव, बिलासपुर, कवर्धा, बेमेतरा, बालोद, महासमुंद, अंबिकापुर, रायगढ़, कोरिया, जशपुर, बलरामपुर, सूरजपुर, कोरबा, जगदलपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर समेत अन्य जगहों से निर्वाचित कांग्रेस, भाजपा के साथ निर्दलीय पार्षद पद की लाबिंग में होटलों में रुके हुए हैं। बिलासपुर में बागी के समर्थन से कांग्रेस मजबूत : बिलासपुर में बागी होकर चुनाव लडऩे वाली कांग्रेस नेत्री के पार्टी को समर्थन देने के बाद अब बिलासपुर में भी कांग्रेस का मेयर बनना लगभग तय हो गया है। लेकिन कोरबा का पेंच अभी भी फंसा हुआ है। कांग्रेस नेताओं को उम्मीद है कि वे वहां पर भी अपना महापौर बनाने में सफल हो जाएंगेे। शनिवार को राजीव भवन में बिलासपुर की बागी होकर चुनाव लड़कर पार्षद बनीं संध्या तिवारी ने कांग्रेस प्रवेश कर लिया। इसके साथ ही कांग्रेस पार्षदों की संख्या 36 हो गई है। इससे 70 वार्डों वाले बिलासपुर में कांग्रेस का महापौर बनने का रास्ता साफ हो गया है। निर्दलीय पार्षद संध्या तिवारी ने महामंत्री अटल श्रीवास्तव के साथ मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से मुलाकात कर कांग्रेस को समर्थन दिया। चुनाव से पहले संध्या ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। इसी तरह शनिवार को चिरमिरी के निर्वाचित सभी 25 पार्षदों ने सीएम भूपेश बघेल से मुलाकात की। इनमें महापौर की दावेदार बबीता सिंह और एक पार्षद नहीं थे। कोरबा में फंसा पेंच, माकपा ने कहा- कांग्रेस को नि:शर्त समर्थन नहीं कोरबा. कोरबा नगर निगम में महापौर को लेकर पेंच फंस गया है. यहां किसी भी दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है. नगर निगम में महापौर बनाने के लिए निर्दलीय और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की जरूरत पड़ेगी. शनिवार को मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कांग्रेस को निशर्त समर्थन नहीं देंगे. कांग्रेस पहले जनता के मुद्दों को लेकर अपनी रूख स्पष्ट करें, तब उनको समर्थन देंगे। गौरतलब है कि निगम में माकपा के दो पार्षद चुनकर आये हैं, जिनके समर्थन की जरूरत कांग्रेस को निगम सरकार बनाने के लिए पड़ेगी. इस प्रकार माकपा ने तटस्थ रवैया अपनाते हुए गेंद कांग्रेस के पाले में ही डाल दी है । कोरबा नगर निगम में कुल 67 सीट है. जिसमें भाजपा 31 और कांग्रेस 29 सीटों पर जीत हासिल की है. वहीं 5 निर्दलीय प्रत्याशी जीतकर आए हैं. बहुमत के लिए 34 पार्षदों की जरूरत हैं।

नई दिल्ली। भारतीय नागरिकों की रक्षा और मदद के लिए तैयार रहने वाली सेना ने मदद की एक और नई मिसाल कायम की है.शनिवार को एक ऐसा वाकया हुआ जिसे शायद ही कोई भूल पाए. दरअसल, रेल पटरी पर दौड़ती हावड़ा एक्सप्रेस में एक गर्भवती महिला को अचानक प्रसव पीड़ा हुई, जिसकी मदद में फौरन सेना की दो डॉक्टर आगे आईं और उसकी डिलीवरी कराई. दोनों महिला डॉक्टर उसी ट्रेन में सफर कर रही थीं. सेना की दो महिला डॉक्टर्स ने ट्रेन में एक गर्भवती महिला की समय से पहले डिलीवरी कराई. जिसके बाद वहां मौजूद लोगों ने दोनों डॉक्टर्स की सराहना की.दरअसल हावड़ा ट्रेन में एक गर्भवती महिला को अचानक प्रसव पीड़ा शुरु हो गई. इत्तेफाक से उसी ट्रेन में भारतीय सेना के 172 मिलिट्री हॉस्पिटल की दो महिला डॉक्टर्स कैप्टन ललिता और कैप्टन अमरदीप ने महिला की डिलीवरी करवाई. डिलीवरी के बाद मां और बच्चा दोनों स्वस्थ बताए जा रहे हैं.बताया जा रहा है कि खराब मौसम की वजह से ट्रेन धीमी रफ्तार से चल रही थी और अगला स्टेशन भी दूरी पर था. मौके की नजाकत को देखते हुए सेना की दोनों डॉक्टर्स ने अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए महिला की डिलीवरी करवाई. डिलीवरी के बाद दोनों डॉक्टर्स ने सोशल मीडिया पर इससे जुड़ी तस्वीर को भी शेयर किया.भारतीय सेना के एडीजी पाआई ने अपने आधिकारिक टि्वटर हैंडल पर इससे जुड़ा पोस्ट शेयर किया है. ट्वीट में एडीजी पाआई ने कहा है, मां और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. बता दें, हावड़ा एक्स्प्रेस सुपरफास्ट ट्रेन है जो बंगाल के हावड़ा से गुजरात में अहमदाबाद तक जाती है. सेना के इन दोनों डॉक्टरों के काम की चर्चा सोशल मीडिया पर खूब हो रही है. एडीजी पीआई का ट्वीट भी काफी वायरल हो रहा है।

रायपुर। मंत्री कवासी लखमा के CAA और NRC को काला कानून बताए जाने पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पटलवार किया है. उन्होंने कहा कि असम समझौता राजीव गांधी ने किया था, उसको काला कानून बोलते हैं. मनमोहन सिंह इसको आगे बढ़ाए, उसको काला कानून बोलते हैं, इस तरह अपने प्रधानमंत्रियों के बारे में तो अपशब्द ना बोले. कम से कम NRC के बारे में पढ़ लें, समझ लें, फिर कोई बात करें.डॉ. रमन सिंह ने कहा कि जिस NRC को वे काला कानून बता रहे हैं वह बतौर प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने असम में आसू के किया था, जिसे मनमोहन सिंह आगे लेकर गए. यह समझौता राजीव गांधी के समय 1984 में केंद्र सरकार, असम की सरकार और असम के छात्र संगठन आसू के समझौता हुआ था. उसी समझौते को आगे बढ़ाने काम हो रहा है. NRC से कांग्रेस के दो-दो प्रधानमंत्री जुड़े रहे. यह कोई पूरे देश का कानून नहीं है, सिर्फ असम के लिए एक रजिस्टर बनाने की बात हुई थी. असम के लोग, वहां के एनजीओ सुप्रीम कोर्ट गए, जहां से मिले निर्देश के बाद रजिस्टर बनाने का काम शुरू हुआ.डॉ. सिंह ने बताया कि 2018 में फाइनल रजिस्टर सुप्रीम कोर्ट के निर्देश और गाइडलाइंस के आधार पर तैयार हुआ. इसका क्रियान्वयन करने का काम असम में हुआ. यह सिर्फ असम का कानून है, क्योंकि 1971 में बांग्लादेश के जन्म के साथ असम में बड़ी संख्या में बांग्लादेशियों की संख्या बढ़ी. इससे राज्य में असमानता पैदा हो गई. यह असमानता जाति के आधार पर नहीं बल्कि भाषा के आधार पर थी. इसलिए असमी और बांग्लादेशियों के लिए यह रजिस्टर बना है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मंत्री जी को ये मालूम होना चाहिए कि उनके प्रधानमंत्री काला कानून पर हस्ताक्षर करते हैं.।

जशपुर! जशपुर में अब घर के भीतर भी महिलाए सुरक्षित नहीं हैं. आरोपियों ने घर के भीतर घुसकर महिला के साथ धक्का-मुक्की की घटना को अंजाम दिया है. पीड़ित की शिकायत के बाद सिटी कोतवाली पुलिस ने धक्का-मुक्की करने वाले सभी पांच युवकों को गिरफ्तार कर लिया है.पुलिस ने बताया कि गुरुवार की रात लगभग 9:30 बजे सारूडीह उपस्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ नर्स अपने पति व बच्चे के साथ उप स्वास्थ्य केन्द्र में थी. इसी दौरान मेघनाथ नायक,छोटू नायक, योगेश नायक, राहुल एवं रोहित मेन गेट का दरवाजा खटखटाने लगे. नर्स को लगा कि कोई मरीजदवाई लेने के लिये उपस्वास्थ्य केन्द्र आया होगा. जैसै ही नर्स दरवाजा खोली, वैसे ही सभी पांच आरोपी नर्स के साथ धक्का-मुक्का करने लगे.आवाज सुनकर नर्स का पति जब बीच-बचाव करने लगा तो उसे भी हमलावरों ने उप स्वास्थ्य केन्द्र से बाहर निकलकर लाठी-डंडो से पिटाई कर दी. हमलावरों के पिटाई से नर्स के पति ओम तिवारी के सिर में आठ टांके लगे हैं. इतना ही नहीं हमलावरों ने गले मे पहने सोने के चैन को भी छीन कर फरार हो गए.घायल नर्स के पति को शासकीय देवशरण चिकित्सालय मे भर्ती कराया गया. नर्स के रिपोर्ट पर सिटी कोतवाली पुलिस सभी पांच आरोपियों के खिलाफ धारा 452 , 294,506,323, 395, 147, 149 के तहत कार्रवाई की है. आपको बता दें कि सभी आरोपी सारूडीह उप स्वास्थ्य केन्द्र से लगे बरटोली मोहल्ले के रहने वाले हैं.!

रायपुर। प्रदेश के आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (NRC) को आदिवासियों के गले का फंदा बताया है. उन्होंने कहा कि आदिवासियों से पूछेंगे तो कहां से रिकॉर्ड मिलेगा. आदिवासी इलाकों में तो स्कूल ही नहीं. इन्होंने (आदिवासियों) तो सपने में भी नहीं सोचा था कि इस तरह का कानून आएगा.सर्किट हाउस में आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय आदिवासी शोध दिवस में आदिवासियों की स्मिता को बचाये रखने पर हो रही चर्चा में आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने अपने उद्बोधन में CAA और NRC पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत सरकार का कानून यह काला कानून है. इसके खिलाफ आदिवासियों को लड़ना चाहिए. चाहे अंग्रेज का हुकुमत हो आदिवासी सिर्फ जंगल में रहते हैं. इस प्रकार के जीने वाले प्रमाण पत्र कहां से लाएंगे.लखमा ने इस दौरान नक्सलवाद पर चर्चा करते हुए कहा कि नक्सल को गोली से नहीं बातों से विकास से समझाएंगे. 15 सालों में बीजेपी ने आदिवासियों को पीछे धकेल दिया था, आग के हवाले किया था।.आदिवासियों को जेल से छुड़ाने का काम किया जा रहा है. भाजपा ने सलवा जुडूम के माध्यम से घर जलाने का काम किया, जिसे आदिवासी कभी माफ नहीं करेंगे. छत्तीसगढ़ में आदिवासी नुकसान में थे.उन्होंने कहा कि सबसे पहले छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को पूरे हिंदुस्तान खासकर बस्तर और सरगुजा के आदिवासियों की तरफ से बधाई. पहली बार गांधी परिवार ने आदिवासियों के साथ नृत्य किया. मुख्यमंत्री ने आदिवासी दिवस पर छुट्टी दी. स्कूल के बच्चों को अंडा देने वाले हिंदुस्तान के पहले मुख्यमंत्री भुपेश बघेल हैं. 72 साल में आदिवासी को प्राथमिकता देने वाले भूपेश बघेल पहले मुख्यमंत्री हैं. कार्यक्रम में संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत के अलावा देश के विभिन्न राज्यों के साथ नेपाल से बुद्धिजीवी शामिल हुए  हैं।

राजनांदगांव। राजनांदगांव शहर से 17 किमी दूर मनगट्टा वनचेतना केन्द्र के समीप शेर दिखा. बाघ के पद चिन्हों की पहचान कर वन अमला अब शेर की तलाश में जुटा है. उसे पकड़कर उसे सुरक्षित स्थान पर छोड़ने की तैयारी है जानकारी के अनुसार, चौकीदार व एक ग्रामीण ने मनगट्टा में रात 2.30 बजे के आसपास शेर को देखा और उसकी सूचना वन विभाग दी गई. वन विभाग ने सुबह पद चिन्हों को मार्क कर कंफर्म किया कि यहां शेर घूम रहा है. अधिकारी का कहना है कि यहां दो रास्तों से शेर मनगट्टा आ सकता है. पहला रास्ता बाघ नदी होते हुए मनघटा या फिर भोरमदेव होते हुए मनगट्टा पहुंचा होगा. लेकिन हम अभी यह कंफर्म नहीं कर सकते कि यहां कहां से आया है।उन्होंने बताया कि जैसे ही वन विभाग को पता चला हमने तीन टीम बनाकर बाघ के पीछे लगा दी है, और हमारा पहला प्रयास यहां है कि जिस जगह यह देखा गया है. शाम-रात तक वहीं सुरक्षित रखें. पहले कोशिश यह कर रहे हैं कि यह शेर बाड़ के अंदर आ जाए, और किसी जान-माल की हानि ना हो. उसके बाद हम यदि शेर को निकालने की स्थिति में नहीं दिखे तो रायपुर से विशेषज्ञ डॉक्टर व पिंजरे सहित पूरी टीम को यहां बुलाया है. हमारी कोशिश रहेगी कि हम शेर को पिंजरे में कैद कर ले और सुरक्षित जगह ले जाकर उसे छोड़ दें बहरहाल शेर वन अमले की पकड़ में आए या न आए, शेर के आने से क्षेत्र के लोगों में उत्सुकता के साथ दहशत की भी स्थिति है. लोग यही उम्मीद कर रहे हैं कि शेर से उनका आमना-सामना न हो।