Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



रायपुर। होली शांतिपूर्ण ढंग से मनाने के लिए आरपीएफ ने कमर कस ली है। यात्री सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए रायपुर रेलवे मंडल में रेलवे सुरक्षा बल के जवानों और अधिकारियों की छुट्टी होली तक रद कर दी गई है। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के मुख्यालय से यह आदेश जारी हुआ है। इससे बहुत जरूरी होने पर ही किसी सुरक्षा जवान को छुट्टी मिलेगी। इससे सुरक्षा जवान दूर रहने वाले परिजनों से भी होली में नहीं मिल पाएंगे और प्लेटफॉर्म या ट्रेन ड्यूटी करते होली मनाएंगे। ट्रेनों में अतिरिक्त फोर्स चलाई गई है तो वहीं स्टाफ की छुट्टियां भी निरस्त कर दी गई हैं। आरपीएफ के अधिकारी का कहना है कि होली में ट्रेनों में होने वाली भीड़ को देखते हुए होली तक सभी की छुट्टी निरस्त कर दी गई है। ज्ञात हो कि रायपुर रेलवे स्टेशन से एक दिन में तकरीबन 112 ट्रेनें तथा करीब 70 हजार यात्री एक दिन में सफर करते हैं। रंगों का पर्व होली इस बार 10 मार्च को पड़ रही है। त्योहार पर ट्रेनों में भीड़ बढ़ जाती है। खासकर बाहर से कमाने खाने के चक्कर में आने वालों को त्यौहार पर अपने घरों की ओर लौटना होता है। 

इसके चलते लंबी दूरी की गाड़ियों में बड़ी संख्या में मुसाफिरों की भीड़ उमड़ती है। ऐसे में अव्यवस्था का माहौल उत्पन्ना हो जाता है। इसके चलते आरपीएफ रायपुर मंडल ने सुरक्षा व्यवस्था के कड़े बंदोबस्त कर लिए हैं। रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारी ने बताया कि रायपुर रेलवे मंडल में कुल 394 कर्मचारी और अधिकारी हैं। रेलवे प्रशासन ने ट्रेनों और स्टेशनों पर गस्त बढ़ा दी है। कंट्रोल रूम में भी एक्सपर्ट बैठा दिए गए हैं, जिससे वह स्टेशन पर होने वाली पल-पल की गतिविधियों पर नजर रख सकें। इसके साथ ही सुरक्षा व्यवस्था चुरुस्त-दुरुस्त रखने के लिए किसकी ड्यूटी कहां रहेगी, इसकी भी सूची बनाई जा चुकी है। इसके लिए ट्रेनों में अतिरिक्त स्कार्ट भी चलाया गया है, जो यात्रियों पर नजर रखेगा। खासकर महिला बोगियों में भी सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त रहेगी। आरपीएफ के सभी थाना प्रभारियों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वह पोस्ट पर गाड़ियों को चेक करे। महिला बोगियों पर भी विशेष नजर रखें।

रायपुर।  रायपुर पुलिस सड़कों पर लगातार चालानी कार्रवाई के बाद ट्रैफिक नियमों के प्रति लोगों को जागरूक करने बुधवार से ट्रैफिक नियम तोड़इया, चेत जावव भइया, आवत हंव अभियान शुरू किया है। इस अनोखे अभियान में ग्रामीण वेशभूषा में हाथ में डंडा लिए ट्रैफिक सियान ने विभिन्ना चौराहों पर बिना हेलमेट,बिना सीट बेल्ट बांधकर चलने वाले वाहन चालकों को रोककर न केवल समझाइश दी बल्कि यह भी संदेश दिया कि घर में आपका कोई इंतजार कर रहा है, इसलिए सड़क पर सुरक्षित चलने ट्रैफिक नियमों का पालन करे। 

जागरूकता अभियान के बीच यातायात नियमों का पालन न करने वाले दर्जनों वाहन चालक भी पकड़े गए। हालांकि अधिकांश दोपहिया वाहन चालक हेलमेट लगाए देखे जा रहे हैं। इससे सड़क हादसे में होने वाली मौतें कम होगी। ट्रैफिक सियान की मदद से वाहन चालकों को ट्रैफिक नियमों का पालन कराने शहर के प्रमुख चौराहे पर शुरू किए गए नई पहल को देखकर कई वाहन चालक रुककर यह नजारा देखने लगे। छत्तीसगढ़ी वेशभूषा और ठेठ छत्तीगढ़िया भाषा में सियान ने बिना हेलमेट वाहन चलाते कई वाहन चालको को रोककर न केवल समझाइश दी। बल्कि संदेश दिया कि जब सभी लोग अपनी जान की सुरक्षा के लिए हेलमेट पहन रहे है तो फिर आप क्यों ऐसा कर रहे है।

बिलासपुर।  बिलासपुर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन की वेबसाइट को पाकिस्तानी आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन ने हैक कर लिया। जिस दौरान यह घटना हुई उस समय रोज के केसों की कॉज लिस्ट की जांच की जा रही थी। तभी अचानक वेबसाइट पर मैसेज आना शुरू हो गया। इसको लेकर बार एसोसिएशन अध्यक्ष सीके केशरवानी की ओर से रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।  बार एसोसिएशन के सचिव राकेश पांडेय ने बताया कि मंगलवार शाम करीब 7.30 बजे बार की वेबसाइट http//hcgacg.com को आतंकी संगठन ने हैक कर लिया था। 

जिस समय यह घटना हुई वे रोज के अपलोड होने वाले केसों की कॉज लिस्ट को चेक कर रहे थे। इसी दौरान अचानक से मैसेज आना शुरू हो गया। इसके बाद उन्होंने इसकी जानकारी अन्य पदाधिकारियों को दी।  करीब 15 मिनट बाद वेबसाइट ठीक हो गई थी। इस दौरान एसोसिएशन ने वेबसाइट को रिस्टोर करने की लगातार कोशिश की। कुछ देर के बाद हैकर्स ने वेबसाइट को छोड़ दिया। फिलहाल सभी डेटा खंगाले जा रहे हैं

धमतरी। नगर पंचायत आमदी निवासी ठेकेदार कुमार साहू की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। पिता के निधन के बाद भी बेटी ने उनकी इच्छा के अनुसार 10वीं की परीक्षा दी। परीक्षा देकर घर लौटने के बाद दो अन्य छोटी बहनों के साथ पिता की अर्थी को कंधा देकर अंतिम यात्रा निकाली। मुखाग्नि दी। बेटी स्कूल ड्रेस में थी। जिसने भी देखा, उसकी आंखें नम हो गईं। सोमवार की रात आमदी नगर पंचायत कार्यालय के सामने सड़क हादसे में कुमार साहू (35) पिता प्रभुराम साहू की मौत हो गई थी। वे अपने दोस्त रोहित (35) पिता रेखराम के साथ पोटियाडीह से वसूली कर रात करीब 8 बजे घर लौट रहे थे। 
आमदी बाजार चौक के पास सड़क पर फैले बिल्डिंग मटेरियल से उनकी बाइक फिसल गई, जिससे कुमार और रोहित सिर के बल सड़क पर गिरे। कुमार के सिर पर गंभीर चोट आने पर उनकी मौके पर ही मौत हो गई। पिता की इच्छा थी बेटी परीक्षा दे पिता की मौत की खबर के बाद भी उनकी इच्छानुसार किरण साहू ने हृदय को मजबूत करके 10वीं की परीक्षा दी। परीक्षा देने के बाद वह दोपहर 12 बजे घर आई। तब अंतिम यात्रा निकाली गई। मृतक कुमार की 3 बेटी हैं। छोटी दामिनी 7 वीं और अमिता चौथी कक्षा में पढ़ती है।

रायपुर।  इस बार लोग बाजार में चाइनीज पिचकारी छूने से डर रहे हैं, विग लगाकर देखने से डर रहे हैं. बाजार में होली का सामान तो खरीदने लोग आ रहे हैं, लेकिन जैसे ही पता चलता है कि यह माल चाइना  से आया है और उन्होंने छू दिया है तो वह सबसे पहले हाथ तक धो ले रहे हैं, लेकिन लोगों की इस दहशत से घरेलू उद्योग को उछाल मिल रहा है. जी हां यह है होली पर कोरोना की दहशत, जिसका असर सबसे बड़े त्योहारों में से एक होली पर भी देखने को मिल रहा है. छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ने भले ही अपनी एडवायजरी जारी करके बता दिया है कि राज्य में कोरोना वायरस का कोई असर नहीं है, लेकिन आम लोगों में यह दहशत बरकरार है. इसका असर होली के बाजारों पर भी दिखाई दे रहा है. कोरोना की दहशत के चलते ना केवल इस बार होली के सामान महंगे हैं. बल्कि सालों बाद यह स्थिति आई है कि दुकानदार और खरीददार दोनों ही चायनीज सामान के बदले देश में ही बने उत्पाद खरीदना पसंद कर रहे हैं.

तो लोग धो रहे हाथ राजनांदगांव के छूरा से रायपुर में होली का सामान लेने आए व्यापारी शीतल तारक और संतोष तारक कहते हैं होली का सामान खरीदने थोक बाजार आए हैं, ताकि यहां से लेजाकर छूरा में बेच सकें. दोनों का कहना है कि पिछले साल तक वो खुद चायनीज पिचकारी, विग, रंग और सामान लेकर जाते थे, इसमें जहां मारजिन भी होती थी वहीं लोगों को काफी सस्ते में वैरायटी भी मिल जाती थी, लेकिन इस बार गांव में कोरोना की इतनी दहशत है कि मांस मटन की दुकान सब ठप्प है. लोग चाइना से आया कोई सामान भी छूना नहीं चाहते. गलती से यदि कोई पुरानी चाइनिज पिचकारी या अन्य सामान छू लेते हैं तो तुरंत हाथ धोने लगते हैं. हमें भी डर है और उन्हें भी डर है कि कहीं इसी के जरिए वायरस से संपर्क हो गया तो इसलिए महंगा होने के बाद भी देशी हीं आईटम खरीद रहे हैं.

रायपुर।  छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को अपना दूसरा बजट पेश किया। पिछली बार की तरह इस बजट में भी किसानों का खास ध्यान रखा गया है। बजट में सरकार की ओर से सबसे बड़ी खुशखबरी शिक्षकों को मिली है। दो साल की नौकरी पूरी कर चुके 16 हजार शिक्षकों के संविलियन की घोषणा की गई है। वहीं इस बार युवाओं, स्वास्थ्य और पर्यटन पर ज्यादा फोकस है। पर्यटन के बजट में 70 फीसदी का इजाफा किया गया है। आईआईटी-आईआईएम और एम्स में राज्य के युवाओं के शिक्षा का खर्च उठाने की घोषणा भी बजट में है।  बजट की शुरुआत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया, सर्वे भद्राणि पश्चयन्तु श्लोक के साथ की। उन्होंने कहा कि आधुनिकता और परंपरा के साम्य हमारे विकास का बुनियादी मॉडल है। उन्होंने कहा कि बजट में किसानों और युवाओं का खास ध्यान रखा गया है। मुख्यमंत्री ने 102907 करोड़ का बजट पेश किया, जो कि पिछली बार से 7 हजार करोड़ ज्यादा का है। मुख्यमंत्री बने बताया कि राज्य सरकार ने 17.34 लाख किसानों को कर्ज माफ किया है। आर्थिक सर्वेक्षण के मुताबिक 2018-19 में राज्य के सकल घरेलू उत्पाद में 7.06 की वृद्धि संभावित है।



जगदलपुर। बेरोजगार छात्र छात्राओं की संख्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। युवाओं के लिए कोई भी सरकार सोचती तक नहीं। गीदम नाका, तेतर कुटी की रहने वाली मिनी ओलक भीख मांग कर परिवार चलाने को लाचार है। घर में माता पिता बीमार है, बड़ी बहन और उनका एक बच्चा भी इनके साथ ही रहता है। दो भाइयों को नौकरी नहीं मिलने से दोनों भाई ने फांसी लगाकर मौत को गले लगा चुके हैं। इस छात्रा ने नौकरी की गुहार कई बार लगाई मगर इस पढ़ी लिखी छात्रा की कोई सुनता ही नहीं छात्रा को नौकरी के लिए कॉल लेटर भी आया था मगर अब तक नौकरी नहीं मिलने से परेशान यह छात्रा भीख मांग कर परिवार चलाने को मजबूर है। अब इस छात्रा ने सरकार से गुहार लगाई है कि उसे छोटी-मोटी नौकरी मिल जाए तो वह कभी भी भीख नहीं मांगेगी। अब देखना होगा इस छात्रा की कौन सुनता है। छात्रा को इस सरकार से काफी उम्मीद है। 

रायपुर। प्रदेश में इन दिनों किसानों के धान की सरकारी खरीदी का समय चल रहा है और इसी बीच पिछले एक हफ्ते से राज्य में मौसम के हालात बिगड़े हुए है। धान खरीदी की अंतिम तिथि फिलहाल सरकार ने 15 फरवरी तय की है, लेकिन मंडियों में बारिश की वजह से खरीदी प्रभावित हो रही है और किसान काफी परेशान है। आज शाम राजधानी रायपुर में केबिनेट की एक बैठक होने वाली है। अनुमान लगाया जा रहा है कि आज की बैठक में सरकार धान खरीदी की तिथि बढ़ाने की घोषणा कर सकती है। प्रदेश में इन दिनों कई इलाकों में बारिश हो रही है। रायपुर, धमतरी, सरगुजा, बिलासपुर, कोरिया, कोरबा सहित राज्य के अधिकांश जिले बारिश से प्रभावित हैं। अन्य जिलों में भी बदली ने हालात बिगाड़ दिए हैं। 

ऐसे में कई जगहों पर धान खरीदी नहीं हो पा रही है। किसानों को जिस तिथि के टोकन मिले हैं, उन्हें अगले दिन फिर से धान बेचने के लिए मंडी आना पड़ रहा है। इसे देखते हुए किसान भी मंडियों के बाहर धान खरीदी की तिथि बढ़ाने की मांग रक रहे हैं। राज्य के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने नईदुनिया से चर्चा में कहा कि किसानों की समस्या को देखते हुए प्रदेश में धान खरीदी की तिथि बढ़ाई जाने की जरूरत महसूस हो रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री से इस बारे में चर्चा की है। आज केबिनेट की बैठक में इस पर कुछ फैसला हो सकता है। मंत्री भगत ने शनिवार को धान खरीदी केंद्रों का जायजा भी लिया और वहां पहुंचे किसानों से बातचीत की।


रायपुर। प्रदेश में पहली बार 8 राज्यों के पुलिस अफसरों के साथ पीएचक्यू में बैठक हुई. बैठक में डीजीपी डीएम अवस्थी ने कहा कि पुलिस मॉर्डनाइजेशन के लिए स्किम प्लान तय किया जा रहा है. ये बैठक हमेशा दिल्ली में होती आई है. 20 सालों में पहली बार छत्तीसगढ़ में रखी गई. केंद्रीय गृह मंत्रालय के एडिशनल सेक्रेटरी विवेक भारद्वाज से हमने रिक्वेस्ट किया था कि छत्तीसगढ़ में बैठक रखी जाए. ऐसी बैठकों से राज्यों के बीच बेहतर समन्वय भी बनता है. विभिन्न राज्यों की पुलिस का मॉर्डनाइजेशन प्लान है, उसका अनुमोदन किया जाएगा. डीजीपी अवस्थी ने आगे कहा कि बैठक में बनने वाले प्लान को केन्द्रीय गृह मंत्रालय को भेजा जाएगा. प्लान भेजकर बजट डिमांड की जाती है. सिक्युरिटी, इंटेलिजेंस, इंफ्रास्ट्रक्चर जैसी जरुरतों के लिए जो भी डिमांड हम करते हैं, उसे केंद्रीय गृह मंत्रालय एप्रूव करता है. नई टेक्नोलॉजी को लेकर भी बात की जाती है. इस बैठक में डीजीपी डीएम अवस्थी और एडीजी योजना प्रबंधन आर. के विज ने पुलिस आधुनिकीकरण को लेकर अफसरों से चर्चा की. छत्तीसगढ़ के गृह एवं पुलिस विभाग के अफसरों के अलावा मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गोवा, राजस्थान, ओडिशा, तेलंगाना और झारखंड के पुलिस अफसर बैठक में मौजूद रहे.

रायपुर।  रायपुर के अपह्रत कारोबारी प्रवीण सोमानी बमुश्किल छत्तीसगढ़ पुलिस की सूझबूझ से सुरक्षित अपने घर लौट गए है। इस ऑपरेशन को पुलिस ने काफी सूझबूझ और तकनीकी तौर पर सुनियोजित रणनीति के तहत अंजाम दिया। यह पहला मौका है जब देश के कुख्यात अपहरण गिरोह के कब्जे से बगैर फिरौती दिए पुलिस ने ना केवल पीड़ित उद्योगपति को छुड़ाया बल्कि बिहार के चंदन सोनार गिरोह के दो अपहरणकर्ताओं को धर दबोचा । पुलिस के मुताबिक अभी गिरोह के कई और सदस्य उसके हत्थे चढ़ेंगे। इस कारोबारी को छुड़ाने के लिए छत्तीसगढ़ पुलिस ने उत्तरप्रदेश और बिहार पुलिस की मदद से सर्च ऑपरेशन को कामयाबी के साथ संचालित किया। उसने पहले छत्तीसगढ़ के बिलासपुर से लेकर उत्तरप्रदेश के प्रतापगढ़ तक लगभग 15 सौ किलोमीटर से अधिक दूरी तक नेशनल हाइवे और राज्य मार्गों के सीसीटीवी फुटेज को खंगाला। इसके बाद बिहार तक पहुंच गई। बिहार एसटीएफ के सहयोग से छत्तीसगढ़ पुलिस ने अपहरणकर्ताओं के ठिकाने में दबिश दी।  उत्तर प्रदेश के फ़ैजाबाद और सुल्तानपुर के बीच एक झोपड़ीनुमा मकान में छापेमारी के बाद पीड़ित कारोबारी को पुलिस ने अपने कब्जे में लिया। बताया जाता है कि इस अपरहण की इस घटना को तीन गिरोह ने मिलकर अंजाम दिया था। इसमें मुख्य भूमिका बिहार के पप्पू चौधरी और चंदन सोनार गिरोह की है। 

 इस गिरोह में उड़ीसा,बिहार, उत्तर प्रदेश और गुजरात के नामी गिरामी अपराधी शामिल है। रायपुर लौटने के बाद जहां पीड़ित उद्योगपति सोमानी को उसके परिजनों को सौंप दिया गया है वही गिरोह के अनिल चौधरी और मुन्ना नायक से पूछताछ जारी है। बताया जाता है कि नशीला इंजेक्शन लगाकर इस कारोबारी को झोपडी में छिपाकर रखा गया था । किडनैपर के पास अवैध हथियार भी थे। जोखिम नजर आने पर वो अपने बचाव में कारोबारी की जान भी ले सकते थे। लेकिन छत्तीसगढ़ पुलिस के पेशवर रुख ने ऐसी नौबत ही आने नहीं दी।| उसने किडनैपर की हर एक चाल को भेदते हुए उनके अरमानों पर पानी फेर दिया राजधानी रायपुर के कारोबारी प्रवीण सोमानी को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से सकुशल छुड़ाने के बाद डीजीपी डीएम अवस्थी ने आधी रात चौकाने वाला खुलासा किया। उन्होंने बताया कि प्रवीण सोमानी की सकुशल घर वापसी हो गई है। उनके मुताबिक चंदन सोनार गिरोह इस अपहरण में संलिप्त था। ये गिरोह पूरे भारत के कई राज्यों में कई बड़े अपहरण कांड को अंजाम देता है। उनके मुताबिक काफी धैर्य के साथ पुलिस ने इस ऑपरेशन में कारोबारी सोमानी को सकुशल अपहरणकर्ताओं के चंगुल से छुड़ाया है। उन्होंने बताया कि 5 राज्यों में इस गैंग की तलाश की गई। इसमें उत्तर प्रदेश, बिहार, उड़ीसा, हरियाणा, गुजरात में  इस गिरोह के लोगों से पूछताछ की गई। इस दौरान पता चला को व्यापारी को पटना में रखा गया है। गैंग का मुख्य सरगना पप्पू है। 
उन्होंने बताया कि पुलिस की सक्रियता देखकर किडनैपर इस कारोबारी को अपने साथ लेकर लोकेशन बदलते रहे। सूचना के बाद अपहरणकर्ताओं ने जहां पर व्यापारी को रखा था वहां पर छापेमारी में गिरोह का मुख्य सरगना भाग निकला था। इस मामले में एसएसपी आरिफ शेख ने बताया कि व्यापारी की किडनैपिंग से पहले अपहरणकर्ताओं ने गूगल से सर्च कर उसके बारे में जानकारी प्राप्त की थी। इनका लोकल मददगार अनिल चौधरी था, जो रायपुर के दोन्देकला का निवासी है। उन्होंने बताया कि तमाम परिस्थिजन्य सबूतों ध्यान में रखते हुए पुलिसी ने इस मामले में जांच शुरू की। उनके मुताबिक आरोपियो ने कई दिनों तक इस व्यापारी की रेकी की थी। अपहरण के वक्त रायपुर के सिलतरा इलाके के पास आरोपियों ने अपने आप को ईड़ी का अधिकारी बताकर व्यापारी को अपने कब्जे में ले लिया |फिर गाड़ियां बदलते हुए रायपुर से कटनी और फिर इलाहाबाद ले गए। उन्होंने बताया कि यही से किडनैपर ने सोमानी के परिजनों को कॉल कर 50 करोड़ की फिरौती की मांग की थी। 

उन्होंने बताया कि इस वारदात में टोटल 10 लोग शामिल थे। गिरोह का मुख्य सरगना पप्पू चौधरी अभी फरार है। उनके मुताबिक आरोपियों ने अपहरण के बाद सोमानी को मेन्टल टॉर्चर काफी किया था। यहां तक कि बीच बीच के व्यापारी को नींद का इंजेक्शन भी लगाया जाता था। गौरतलब है कि इस कारोबारी को किडनैपर ने रायपुर के औद्योगिक इलाके सिलतरा से 8 जनवरी को अपने कब्जे में लिया था। इसके उपरांत किडनैपर गिरोह पुलिस की गतिविधियों पर नजर रखते हुए पीड़ित कारोबारी को अपने साथ लेकर नए नए ठिकानों में शरण लेता रहा। इस पूरे ऑपरेशन में रायपुर रेंज के आईजी आनंद छाबड़ा ,एसएसपी आरिफ शेख, एडिशनल एसपी क्राइम पंकज शर्मा, एडिशनल एसपी तारकेश्वर पटेल, सीएसपी अभिषेक माहेश्वरी, सीएसपी आजाद नसर सिद्धिकी, सहित अन्य थानों के प्रभारी और पुलिसकर्मी शामिल थे। इस ऑपरेशन की कामयाबी को देखते हुए डीजीपी डीएम अवस्थी ने पूरी टीम को पुरुस्कृत करने की घोषणा की है।

मस्तूरी। जिस घर में कुछ दिनों बाद खुशियां आने वाली थी. वहां अब मातम पसर गया है. जवान बेटी की मौत के बाद माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल है. दरअसल बिलासपुर जिले के मस्तूरी ग्राम पंचायत के कोनी में शादी टूटने की वजह से एक युवती की हार्ट अटैक आने से मौत हो गई है. इस हादसे का जिम्मेदार परिजन लड़के पक्ष वालों को मान रहे और उनके खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराने की बात कह रहे हैं. जानकारी के मुताबिक 23 वर्षीय स्वाति साहू की शादी बिलासपुर के समीप हिर्री माइस में लगा था. लकड़ी के परिजन शुक्रवार को शादी का लग्न रखने जाने वाले थे, कि लड़के पक्ष का फोन आया और उन्होंने लड़की की उम्र ज्यादा बताते हुए शादी करने से इंकार कर दिया।  जिससे लड़की सदमे में आ गई और शनिवार सुबह हार्ट अटैक आ गया. उसे आनन-फानन में 112 पर कॉल कर मस्तूरी स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।  मृतक युवती के पिता शिव कुमार साहू का कहना है कि लड़के वाले जब से लड़की को देख कर गए थे, तब से फोन पर लड़की और लड़के की बातचीत होती थी. लेकिन अचानक रिश्ता टूटने के कारण लड़की की सदमे के कारण हार्ट अटैक आने से मौत हो गई. उन्होंने लड़के पक्ष वाले को दोषी मानते हुए मस्तूरी थाना में उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाने की बात कही है। 

रायपुर। महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री अनिला भेंड़िया एवं राज्यसभा सांसद छाया वर्मा के निर्देश पर आज राजधानी में राजातालाब के वन कॉलोनी स्थित उनके बंगले की बाहरी दीवार यातायात को सुगम बनाने और शहर की सुंदरता के लिए ढहा दी गई। जनता की सुविधा को देखते हुए मंत्री तथा राज्यसभा सांसद ने अपने पुराने भवन की बाहरी दीवाल को 25 फीट तक तोड़ने हेतु जिला प्रशासन को निर्देशित किया। मंत्री भेंड़िया और कलेक्टर रायपुर भारतीदासन की उपस्थिति में आज दीवार को तोड़ा गया। रायपुर शहर को व्यवस्थित करने इससे पहले भी मुख्य सचिव आर पी मंडल, अपर मुख्य सचिव अमिताभ जैन सचिव अलरमेल मंगई ने भी अपने बंगले के सामने की दीवार को ढहा दिया था।

मंत्री भेंड़िया ने कहा कि आम जनता की सुविधा सर्वोपरि है। राजधानी में यातायात के बढ़ते दबाव,राजधानी की सुंदरता के विस्तार और पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य से उन्होंने अपने बंगले की दीवार को तोड़ने का निर्णय लिया है। अब सड़क के चौड़ा हो जाने से राहगीरों को आने जाने में सुविधा होगी। शहर को सुंदर बनाना हमारी जिम्मेदारी है,क्योंकि शहर भी अपना ही घर है। इसके साथ ही उन्होंने आम जनता के हित में अन्य लोगों से भी सहयोग करने की अपील की है,जिससे राजधानी रायपुर को सुगम और व्यवस्थित स्वरूप दिया जा सके। इस अवसर पर लोक निर्माण, समाज कल्याण तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

रायपुर।  शहर के आदिवासी विकास विभाग के तहत संचालित पोस्ट मैट्रिक हॉस्टल रैगिंग के मामले सामने आए हैं। पहली घटना डीडी नगर स्थित हॉस्टल में हुई, दूसरी गुरुवार को शहर के पेंशनबाड़ा के हॉस्टल में। डीडी नगर के मामले में हॉस्टल के अधीक्षक महेंद्र कुमार बघेल को सस्पेंड कर दिया गया। पेंशन बाड़ा के मामले में पुलिस छात्रों की शिकायत दर्ज की है। जूनियर छात्रों ने सीनियर पर आरोप लगाया है कि वे रात में आकर उनसे मारपीट करते हैं। नमस्ते नहीं करने या बात नहीं मानने पर भी पीटते हैं। सिटी कोतवाली थाने में जूनियरों ने इसकी शिकायत की है। हॉस्टल के अफसर इस घटना के बाद कुछ कहने से बच रहे हैं। पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने छात्रों से बात-चीत की उन्हें उचित कार्रवाई का भरोसा भी दिलाया गया। इन घटनाओं में छात्र बुरी तरह चोटिल हुए हैं। प्रशासनिक अधिकारियों की टीम को छात्रों ने अपने चोट के निशान भी दिखाए। डीडीनगर में रैगिंग की बात सामने आने के बाद इसकी जांच कलेक्टर खुद अपनी देखरेख में करवा रहे हैं। पेंशनबाड़ा के जूनियर छात्रों ने बताया कि वे छत्तीसगढ़ कॉलेज में फर्स्ट ईयर के छात्र हैं। जिन सीनियरों पर आरोप लगाया गया है उनमें से भी अधिकांश छत्तीसगढ़ कॉलेज में ही पढ़ते हैं। अगस्त महीने से सीनियर लगातार परेशान कर रहे हैं। कई छात्र हॉस्टल छोड़कर जा चुके हैं। हॉस्टल के वार्डन पी. सेनानी ने कहा कि हॉस्टल में रहने वाले छात्रों ने मारपीट या रैगिंग को लेकर मुझसे शिकायत नहीं की। यह सूचना मिली है कि कुछ छात्रों ने थाने जाकर मारपीट की शिकायत की है। छात्रों से घटना की जानकारी ली जा रही है। 

 बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के मरवाही सदन में उनके एक कर्मचारी ने फांसी लगाकर आत्महत्या करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. मामले की सूचना पर सिविल लाइन टीआई सहित एसपी और तमाम आला अधिकारी मौके पर पहुंचे. मृतक का नाम संतोष कौशिक उर्फ मनुवा है. घटना दोपहर 3 बजे के आसपास की बताई जा रही है. मरवाही सदन में एंबुलेंस रखने के लिए बनाए गए शेड के एंगल में फांसी पर झूलती उसका शव मिला. बताया जा रहा है कि मनुवा मरवाही सदन में खानसामा का कार्य करता था. मौके पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्ट मार्टम के लिए भेजवा दिया है. पीएम रिपोर्ट और पुलिस की जांच के बाद ही मौत की वजह सामने आ सकेगी।.

रायपुर। यदि स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के पत्र को वाणिज्यिक कर (जीएसटी) विभाग के सचिव ने मान लिया और लागू कर दिया तो छत्तीसगढ़ में तम्बाकूयुक्त सामान मिलने बंद हो जाएंगे। दरअसल, छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने प्रदेश में तम्बाकुयुक्त गुटखा, पान मसाला एवं गुड़ाखू पर प्रतिबंध लगाने के लिए वाणिज्यिक कर (जीएसटी) विभाग के सचिव को पत्र लिखा है। उन्होंने लिखे पत्र में कहा है कि प्रदेश में तम्बाकुयुक्त गुटखा, पान मसाला एवं गुड़ाखू की बाजार में अवैध बिक्री हो रही है। इसे खाकर बड़ी संख्या में लोग दंत रोगों, कैंसर एवं अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं। शासन के स्वास्थ्य बजट पर भी इसका असर पड़ रहा है। जानकारी मिली है कि सिंहदेव ने अपने पत्र में लिखा है – कई परीक्षणों से यह भी पुष्टि हुई है कि पान मसालों में अधिक मात्रा में मैग्नीशियम कॉर्बोनेट पाई गई है, जो सेहत के लिए बहुत हानिकारक है। इसलिए प्रदेश में तम्बाकुयुक्त गुटखा, पान मसाला एवं गुड़ाखू पर तत्काल प्रतिबंध लगाने पर विचार किया जाना चाहिए। उन्होंने पत्र में खास तौर पर इस बात का उल्लेख किया है कि विधानसभा में भी इस पर चर्चा हुई थी और स्वयं विधानसभा अध्यक्ष ने तम्बाकू और गुटखा को प्रतिबंधित या नियंत्रित करने कहा था।

रायपुर। राजधानी रायपुर के जिला कोर्ट परिसर में बने टॉयलेट के टाइल्स सोमवार को वकीलों ने तोड़ दिए। टॉयलेट में भगवा रंग के टाइल्स लगाए गए थे। वकीलों ने इस दौरान नारेबाजी की और इसको लेकर नाराजागी जताई। इस संबंध में जिला न्यायाधीश डीजे से भी मुलाकात की। इसके बाद डीजे ने टाइल्स बदलने के निर्देश दिए हैं। वकीलों ने दोबारा से भगवा रंग की टाइल्स नहीं लगाने को लेकर चेतावनी भी दी है। दरअसल, यह सारा विवाद सोशल मीडिया पर तस्वीरें वायरल होने के बाद बढ़ा।  कचहरी के पिछले हिस्से में होने के कारण कम होता था टॉयलेट का उपयोग जिला कचहरी परिसर के भीतर शास्त्री चौक से पंडरी जाने वाली सड़क के किनारे दो साल पहले आम  लोगों के लिए यूरिनल बनाया गया। चूंकि यह कचहरी के पिछले हिस्से में है, इसलिए उपयोग कम होता था। 

कुछ दिन पहले इसके टाइल्स के रंग पर कुछ लोगों ने गौर किया और यह उन्हें नागवार गुजरा। इसका सोशल मीडिया में विरोध होने लगा। तस्वीर रोजाना वायरल होती रही और धीरे-धीरे रंग बदलने की मांग शुरू हो गई। सोशल मीडिया की इस मुहिम ने सोमवार को रंग दिखा दिया।  राजधानी के बार एसोसिशन ने रंग की वजह से टाइल्स बदलने की मांग करते हुए जिला न्यायाधीश डीजे से मुलाकात की। बार के चेयरमैन आशीष सोनी ने बताया कि डीजे ने टाइल्स बदलने के निर्देश दे दिए। इसके बाद एसोसिएशन के अधिवक्ता हथौड़े लेकर पहुंचे और सांकेतिक रूप से थोड़ा-थोड़ा हिस्सा तोड़ दिया। साथ ही, लोगों से अपील भी की जाने लगी कि जब तक रंग नहीं बदलता, यूरिनल का इस्तेमाल नहीं करना है।

राजनादगांव।  नाबालिग का बालात्कार करने और उसके बच्चे  को नाली में फेंकने वाले अधेड़ आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। घटना राजनांदगांव के स्टेशन पारा इलाके की नाली में मिले नवजात की वजह से खुल पाई। बीते दिसंबर माह में बच्चा नाली में मिला था, उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई थी। इस  मामले की छानबीन में पुलिस को नाबालिग से दुष्कर्म की बात भी पता चली।  इन प्रकरणों में स्टेशन पारा के ही रहने वाले संजय कश्यप को पकड़ा गया है। गिरफ्तारी के बाद आरोपी को न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। वहां से न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने 10 माह पूर्व एक अवयस्क बालिका को जादू दिखाने के नाम पर अपने साथ लेकर गया था। आरोपी ने  बापूटोला के पास कार रोककर बच्ची का बलात्कार किया। घटना के बारे में किसी को न बताने को लेकर बच्ची को धमकी दी, बाद में कुछ और मौके पाकर आरोपी ने फिर दुष्कर्म किया।  नाबालिग इससे गर्भवती हो गई। बच्ची के परिजनों को झांसें में लेकर आरोपी इस मामले को दबाता रहा। जब बच्ची ने बच्चे को जन्म दिया तो उसे नाली में फेंकवा दिया। क्षेत्र की अन्य महिलाओं ने बच्चे को देखा और मामले की शिकायत पुलिस से की। पुलिस ने जांच में संजय को इस घटना में शामिल पाया। 

बीजापुर।  छत्तीसगढ़ के बीजापुर में एक युवक की हत्या कर उसका शव सड़क पर फेंक दिया गया है। सोमवार सुबह ग्रामीणों ने शव देखा तो पुलिस को सूचना दी। युवक के शव के हाथ-पैर टॉवल से बंधे हुए हैं और मुंह पर कपड़ा बंधा है। आशंका है कि रविवार देर रात नक्सलियों ने हत्या कर शव को फेंका है। युवक की धारदार हथियार से वार कर हत्या की गई है। अभी तक युवक की शिनाख्त नहीं हाे सकी है। वारदात गंगालूर थाना क्षेत्र की है। इस घटना की पुष्टि एसपी दिव्यांग पटेल ने की है। नक्सली वारदात की आशंका से क्षेत्र में सर्चिंग जारी जानकारी के मुताबिक, गंगालूर थाना क्षेत्र के बददेपारा-पुसनार मार्ग पर सोमवार को एक युवक का शव पड़ा हुआ था। उसके हाथ और पैर बंधे हुए थे और मुंह को भी कपड़े से बांधा गया था। स्थानीय ग्रामीण सुबह निकले तो उन्होंने  सड़क पर पड़ा हुआ शव देखा। इस पर पुलिस को सूचना दी गई। 

पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर अस्पताल भिजवा दिया है। आशंका जताई जा रही है कि नक्सलियों ने युवक की हत्या करने के बाद शव को वहां फेंका होगा। इसकी आशंका के चलते जवान लगातार इलाके की सर्चिंग कर रहे हैं।  पंचायत चुनाव के विरोध में नक्सली लगातार कर रहे हैं वारदात प्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का नक्सली लगातार विरोध कर रहे हैं। इसको लेकर जहां उन्होंने पहले बैनर और पोस्टर लगाए अब वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। इससे पहले भी गुरुवार को नक्सलियों ने बीजापुर में 10 गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया था। वहीं शुक्रवार को सुकमा-बीजापुर की सीमा पर भी नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग कर दी थी, जिसमें डीआरजी के दो जवान घायल हो गए थे। लगातार ऐसी वारदातों को अंजाम देकर नक्सली दहशत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। 

महासमुंद। सरायपाली थाना क्षेत्र के ग्राम आंवलाचक्का में एक बड़े भाई ने पैतृक संपत्ति के विवाद के चलते अपने छोटे भाई की सुपारी दे डाली। गांव के ही युवक और भाई के मित्र बंसत चौहान 34 वर्ष पिता साधुराम को 81 हजार रुपये में हत्या की सुपारी दी थी। गांव में फिल्मी अंदाज में हुए हत्या का महासमुंद एसपी जितेंद्र शुक्ला ने खुलासा करते हुए सिलसिलेवार जानकारी दी। शुक्ला ने बताया कि हत्या की वारदात को अंजाम देेने के बाद आरोपितों ने पुलिस और मृतक के परिजनों को चकमा देने का प्रयास किया। घर के बाहर पत्र छोड़कर पुलिस को भ्रमित करते रहे। आरोपी द्वारा छोड़े गए पत्र के आधार पर ही पुलिस आरोपियों तक पहुंची। गत सोमवार 6 जनवरी को मृतक ठंडाराम यादव पिता भगत राम यादव की पत्नी शोभा यादव ने थाना में पति के चार जनवरी से गायब होने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। ठंडाराम की बाइक सीजी 06 जीडी 7617 जली हुई अवस्था में जमदरहा के जंगल में मिली थी। इससे हत्या की आशंका जताई थी। इस पर पुलिस ने जांच प्रारंभ किया। इसी बीच 7 जनवरी को ठंडाराम यादव के घर के बाहर एक धमकी भरा पत्र मिला, जिसमें सात लाख रुपये की फिरौती की मांग की गई थी। पत्र में संपर्क मोबाइल नंबर नौ अंकों का लिखा गया था। इससे पुलिस आरोपियों तक नहीं पहुंच सकी। इसी बीच 10 जनवरी को दूसरा पत्र मिला, जिसमें ठंडाराम की ओर से अपने परिजनों और गांव वालों को यह जानकारी दी गई थी कि एक लड़की से उसे प्रेम हो गया है, वह गर्भवती है। पैसे की जरूरत है। गाड़ी बेचना चाहता है, कागजात में गलती है, जिसके कारण उसे जला रहा है। वह बहुत दूर जा रहा है, उसे कोई न खोजे और न ही पुलिस के पास जाएं, ऐसा पत्र में लिखा गया था। इस पत्र के मिलने से घटनाक्रम की दिशा बदल जाती है।

 जिस ठंडाराम को पुलिस ढूंढ रही थी वह अपने जीवित होने का प्रमाण दे रहा था। इस पत्र पर गौर करते हुए पुलिस ने तय किया कि घर के बाहर पत्र मिल रहा है।  इसका आशय है कि गांव का कोई व्यक्ति ठंडाराम के इस कथित पत्र को घर के बाहर तक पहुंचाने में मदद कर रहा है। पुलिस ने मृतक के पड़ोसी और उसके साथी बसंत चौहान से जब जानकारी ली तो उसकी गतिविधियां संदिग्ध लगी। इस पर पुलिस आरोपी बसंत चौहान के घर कुछ कोरे पन्ने मांगने गई कि कुछ लिखना है। इस पर पुलिस के हाथ वह कापी हाथ लग गई, जिससे पन्ना निकालकर पत्र लिखा जा रहा था। इस अहम सुराग से पुलिस ने फिल्मी स्टाइल में अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाई। संदेह के आधार पर बसंत से जब पूछताछ की गई तो वह टूट गया और ठंडाराम यादव के भाई 40 वर्षीय बाबूलाल यादव पिता भगतराम यादव द्वारा सुपारी देकर हत्या कराने की बात कबूल किया। पुलिस को दिए बयान में आरोपी बसंत ने बताया कि इस हत्याकांड में उसका साला भंवरपुर निवासी शीतल चौहान 22 वर्ष पिता रायधर चौहान भी शामिल है। घटना के दिन चार जनवरी को फोन से ठंडाराम को मोटर पंप ले जाने की बात कहकर भंवरपुर के पास छालबंद नाला के पास बुलाया। ठंडाराम के पहुंचने पर बसंत चौहान और शीतल चौहान बहला-फुसलाकर मोहन चौहान के खेत के पास ले गए और मृतक को जमीन पर गिराकर पास रखे कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ हमला कर उसे मौत के घाट उतार दिया। हत्या में प्रयुक्त हथियार को बरामद कर लिया गया है। चारों आरोपी बाबूलाल यादव पिता भगतराम यादव, विजय यादव पिता बाबूलाल यादव, बसंत चौहान पिता साधु राम, शीतल चौहान पिता रायधर चौहान को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपितों को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से जेल भेज दिया गया है।