Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



पूरब टाइम्स, रायपुर।  राजधानी रायपुर में कोरोना वायरस पाॅजिटिव एक और मरीज सामने आया है. छत्तीसगढ़ में अब तक कुल तीन कोरोना पाॅजिटिव मरीज के मामले सामने आ गए हैं. स्वास्थ्य महकमे के उच्च पदस्थ अधिकारियों के साथ एम्स डायरेक्टर ने इसकी पुष्टि कर दी है. बताया जा रहा है कि कोरोना पाॅजिटिव मरीज रायपुर के सुभाष स्टेडियम के पास रहता है.

 हाल ही में वह लंदन दौरे से लौटा था. विदेश से आने वाले सभी पैसेंजर्स के सैम्पल लिए गए थे. जांच रिपोर्ट में कोरोना पाॅजिटिव पाया गया. फिलहाल उसे एम्स में क्वारंटाइन में रखा गया है. इधर कोरोना पाॅजिटिव दो और मरीज के सामने आने के बाद स्वास्थ्य महकमे के तमाम अधिकारियों की लगातार बैठक चल रही है. बैठक में संक्रमण के फैलाव को लेकर ज्यादा से ज्यादा सतर्कता बरतने पर चर्चा चल रही है.

पूरब टाइम्स।  छत्तीसगढ़ में कोरोना का दूसरा पॉजीटिव मरीज मिल गया है। राजनांदगांव जिले का रहने वाला युवक हाल ही में थाईलैंड से लौटा था। बुधवार को कलेक्टर जवसयप्रकाश मौर्य ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि युवक कोरोना वायरस पॉजीटिव है। कोरोना पॉजीटिव की पुष्टि होने के बाद राजनांदगांव के भरकापारा को सील करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। बतां दें कि इसके पहले रायपुर की युवती कोरोना पॉजीटिव मिली थी।

क्वारनटाइन में था युवक विदेश से लौटने के बाद प्रशासन ने युवक को क्वारनटाइन में रखा था। राजनांदगांव कलेक्टर ने बताया कि युवक का सैंपल जांच के लिए भेजा गया था। जिसमें रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। जिले के 62 लोग अभी भी क्वारनटाइन में है। स्वास्थ्य और प्रशासनिक अमला मिलकर लगातार इनकी निगरानी कर रहा है। राजनांदगांव जिले में लगभग सौ से ज्यादा लोग विदेश से लौटे हैं। जिनकी लगातार मॉनीटरिंग पुलिस और प्रशासन कर रहा है।

रायपुर।  देशभर में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच छत्तीसगढ़ में 49 लोगों के कोरोना टेस्ट रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। राज्य में कड़ी निगरानी के बीच प्रसार की जाँच करने के लिए पूरे राज्य में नज़र बनाए रखा जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में अब तक केवल एक COVID-19 मामला सामने आया है।  18 मार्च को एक 24 साल की महिला में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए जाने के बाद उसका इलाज अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में इलाज (एम्स) रायपुर में अच्छी तरह से चल रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार ने निगरानी को और कड़ा कर दिया गया है और वायरस के खिलाफ नियंत्रण के उपाय किए जा रहे हैं।  उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में 183 नमूनों में से सोमवार को जांच में केवल एक पॉजिटिव मामला सामने आया है।गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में 31 मार्च तक लॉकडाउन कर दिया गया है। 

रायपुर।  राज्यपाल अनुसुईया उइके ने आज रामकृष्ण केयर हास्पिटल रायपुर में सुकमा नक्सली मुठभेड़ में घायल हुए जवानों से मुलाकात की और कुशलक्षेम पूछा और हौसला अफजाई की. राज्यपाल ने कहा कि मैं आप लोगों की बहादुरी को सेल्यूट करती हूं. जिस साहस से आपने नक्सलियों का सामना किया और उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया, उसकी प्रशंसा के लिए कोई भी शब्द कम है.


उन्होंने कहा कि आप जल्दी स्वस्थ हों, आप लोगों के इलाज में किसी भी प्रकार की कमी नहीं होने दी जाएगी. उन्होंने घायल जवानों के बेहतर इलाज के निर्देश दिए और उनके जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना की. उन्होंने इस घटना में शहीद हुए जवानों के परिवारजनों को भी प्रणाम करते हुए उनके प्रति संवेदना व्यक्त की. राज्यपाल उइके ने चिकित्सकों और अस्पताल के कर्मचारियों की जवानों के बेहतर देखभाल के लिए सराहना की.

रायपुर।  रेलवे  ने देशभर के रेलवे स्टेशन  पर टिकट कैंसलेशन काउंटर सोमवार 23 मार्च से 31 मार्च तक बंद  रखने का फैसला किया है। बता दें कि कोरोना  वायरस से फैल रहे संक्रमण की रोकथाम के लिए रेल मंत्रालय की ओर से 22 मार्च से 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनों को बंद रखा गया है। इसके मद्देजनर रेलवे की ओर से इन तारीखों के बीच रेल टिकट बुक करा चुके यात्रियों को टिकट कैंसलेशन पर उनके टिकट के पूरे पैसे वापस किए जा रहे हैं। साथ ही यात्रियों को यात्रा के दिन से 90 दिन तक टिकट कैंसलेशन की सुविधा भी दी गई है। जबकि पहले यह सुविधा यात्रा की तारीख से 45 दिन तक के लिए ही थी। 

जिसके चलते लोग अपने टिकट कैंसिल करने के लिए रायपुर समेत अन्य स्टेशन के टिकट कैंसलेशन काउंटर पर बड़ी संख्या में पहुंचने लगेे थे। इससे कोरोना संक्रमण फैलने के खतरे को भांपते हुए अब रेलवे ने सोमवार दोपहर 3 बजे से देशभर के सभी रेलवे स्टेशन पर टिकट कैंसलेशन काउंटर 31 मार्च तक बंद करने फैसला लिया है। इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं। सीनियर डीसीएम, रायपुर रेल मंडल, तन्मय मखोपाध्याय ने इसकी जानकारी दी है।

रायपुर।  कर्फ्यू के दौरान तीन युवक शहर में घूमने निकल गये। पुलिस ने बाइक सवार तीन युवकों के खिलाफ पुलिस ने रविवार दोपहर आदेश के उल्लंघन का केस दर्ज कर लिया है। आरोपियों को जब पुलिस ने रोका तो बहस करने लगे। इसके बाद भागने की कोशिश भी की, इसमें एक युवक को चोट भी आई है। 


दो युवक भाग निकले। पुलिस उनकी तलाश कर रही है। जानकारी के मुताबिक कुंदरापारा का दिनेश तांड़ी घर से घूमने निकला था। पुलिस ने रोका तो उसने बच्ची के अस्पताल में होने का बहाना किया।  मगर यह बात झूठ निकली। अब आरोपी को जेल भेज दिया गया है। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की शहर में सफलता को देख सरकार ने देर शाम 31 मार्च तक प्रदेश में पूर्णबंदी की घोषणा कर दी। सोमवार को लोगों ने इसे गंभीरता ने नहीं लिया, अपने-अपने काम पर जाते नजर आए।


इसके अलावा क्लब भी 31 मार्च तक बंद रखने के निर्देश सरकार ने जारी किए हैं. राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी कलेक्टरों को शराब की दुकानें व बार बंद कराने के निर्देश दिए हैं. शराब दुकानो को बंद करने का निर्णय इसलिए लिया गया है कि शराब दुकानों में सबसे ज्यादा भीड़-भाड़ रहती है. इससे कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने की आशंका ज्यादा रहती है. इसको देखते हुए ही राज्य सरकार ने शराब की दुकानों को बंद करने का निर्णय लिया है.


रायपुर।  छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश के शहरी इलाकों में 31 मार्च तक लॉकडाउन के निर्देश दिए हैं. सरकार के इस निर्देश को लेकर सख्ती भी शुरू कर दी गई है. पुलिस सड़क पर उतर गई है और आने जाने वालों से पूछताछ कर रही है. इतना ही नहीं गैर जरूरी कारणों से आवाजाही करने वालों को वापस भेजा जा रहा है. कोरोना वायरस (COVID 19) के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सकरार ने बीते रविवार को लॉकडाउन का ऐलान किया है.

 राजधानी रायपुर में लॉकडाउन को लेकर सोमवार से पुलिस ने सख्ती शुरू की है. राजधानी के सभी प्रमुख चौक-चौराहों पर पुलिस ने बेरीगेट्स लगा दिए हैं. आने-जाने वाले सभी को रोक कर पुलिस पूछताछ कर रही है. अतिआवश्यक कारण नहीं होने पर लोगों को आगे नहीं जाने दिया जा रहा है. सरकार ने लॉकडाउन का आवश्यक रूप से पालन करने के निर्देश पुलिस और प्रशासन को दिए हैं.

रायपुर। कोरोना वायरल को लेकर तमाम तरह के संदेश सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं. अनेक तरह के अफवाह भी फैलाए जा रहे हैं. कुछ लोग तो ऐसे भी हैं जो पीड़ितों की तस्वीरें तक वायरल कर दे रहे हैं. यही नहीं बहुत ऐसे भी हैं जो पूरी तरह से झूठ फैलाने में लगे हैैं. वाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम जैसी सोशल साइट्स में कुछ शरारती तत्वों ने तो जिन्हें कोरोना का संक्रमण नहीं उनके नाम भी वायरल कर दिए हैं 

रायपुर।  छत्तीसगढ़  में कोरोना वायरस से संक्रमित एक पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद प्रशासनिक तौर पर सतर्कता और बढ़ गई है. राजधानी रायपुर में नगर निगम क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है. 19 मार्च से आगामी आदेश तक रायपुर में धारा 144 लागू की गई है. 


रायपुर।  देश के अलग-अलग राज्यों में तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस (कोविड-19) ने छत्तीसगढ़ में दस्तक दे दी है. राजधानी रायपुर में कोरोना वायरस से संक्रमण का पहला मामला सामने आया है.  23 वर्षीया युवती कुछ दिन पहले ही परिवार सहित विदेश यात्रा से लौटी थी। युवती को निगरानी में रखा गया है। वहीं उसके परिवार को भी आइसोलेट करने की प्रक्रिया जारी है। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद परिवार से मिलने-जुलने वालों को लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर से जानकारी जुटाई जा रही है। वहीं युवती का सैंपल फिर से जांच के लिए पुणे भेजा जाएगा। 

जानकारी के मुताबिक, रायपुर निवासी एक युवती कुछ दिन पहले परिवार के साथ लंदन से भारत पहुंची थी। यहां इंदौरा एयरपोर्ट से 15 मार्च को रायपुर आई। इसके बाद तबीयत बिगड़ने पर 17 मार्च को एम्स दिखाने पहुंची तो स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसका सैंपल लिया और जांच के लिए भिजवाया। 18 मार्च को रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद युवती को बुधवार देर रात एम्स में भर्ती किया गया। जहां उसे आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। इसके साथ ही फ्लाइट में साथ आए यात्रियों के बारे में भी जानकारी एकत्र की जा रही है। 

रायपुर।  देश भर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस की महामारी के चलते राज्य सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है. सरकार ने डोंगरगढ़ स्थित मां बम्लेश्वरी देवी दर्शन पर प्रतिबंध और मेला को स्थगित कर दिया गया है. यहां डोंगरगढ़ स्टेशन पर ट्रेनें भी नहीं रूकेंगी. इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने जिला अस्पताल में 60 बिस्तर का नया अस्पताल भी तैयार किया है. प्रदेश में कोरोना से निपटने के लिए विभाग ने तैयारी पूरी कर ली है.


राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ में हर साल लगने वाला मेला को स्थगित कर दिया गया है. मां बम्लेश्वरी देवी के दर्शन पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है. रोप-वे संचालन भी बंद कर दिया गया है. इसके साथ ही स्पेशल ट्रेनों के संचालन और ट्रेनों के स्टॉपेज नहीं करने का निर्णय लिया गया है. यह निर्णय से श्रद्धालुओं को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा, लेकिन कोरोना वायरस से निपटने के लिए यह निर्णय जरूरी है.



वहीं कोरोना वायरस के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग ने जिला अस्पताल में 60 बिस्तर का एक नया अस्पताल बनाकर तैयार किया है. हालांकि छत्तीसगढ़ में अभी तक कोरोना से एक भी व्यक्ति पीड़िता नहीं है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक 450 मरीजों की इलाज करने की व्यवस्था है. साथ ही 1500 संदिग्ध मरीजों को रखने की व्यवस्था भी है और क्षमता के अनुसार इस पर बढ़ोत्तरी भी की जा रही है. इसलिए प्रदेशवासियों को सतर्कता बरतने की जरुरत है. यदि कोरोना एक भी व्यक्ति में फैला, तो स्थिति को संभालना मुश्किल हो जाएगा.

रायपुर। आबकारी विभाग ने नई गाइड लाइन जारी की है. बार खोलने के लिए सरकार ने आधे घंटे की राहत देते हुए 10.30 बजे की बजाए अब 11 बजे तक खोलने की अनुमति प्रदान की है. वहीं थ्री स्टार से ऊपर के रेस्टोरेंट बार रात 12 बजे तक खुले रहेंगे. इसके अलावा हाइवे के किनारे के बार पर लगी रोक भी हटाई गई है. नई गाइड लाइन में समय पर पाबंदी कम किए जाने के बाद बार और क्लब के लिए लाइसेंस फीस बढ़ाई गई है.  क्लब के लिए फीस को 11 लाख रुपए से बढ़ाकर 20 लाख रुपए किया गया है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बार खोले जाने की समय सीमा को बढ़ाए जाने पर कहा कि आबकारी विभाग ने गाइड लाइन कुछ सोच-समझ कर जारी किया होगा. नियम के विपरित अगर किसी भी अधिकारी ने काम किया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

रायपुर।  होली के पर्व पर बिहान स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने कवर्धा के भोरमदेव मंदिर में चढ़े फूलों और मुख्यमंत्री निवास से प्राप्त गुलदस्तों से हर्बल गुलाल तैयार कर लोगों को हर्बल रंग से होली खेलने की सौगात दी है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से आज यहां उनके निवास कार्यालय में रायपुर जिले के सेरीखेड़ी महिला स्व-सहायता समूह और कबीरधाम जिले के जय गंगा मईया महिला स्व-सहायता समूह के प्रतिनिधि मंडल ने मुलाकात की और मुख्यमंत्री को उन्होंने फूलों से निर्मित हर्बल गुलाल भेंट किया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने महिला समूहों को हर्बल गुलाल के निर्माण के लिए संचालित गतिविधियों पर अपनी बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने इन महिला समूहों के अभिनव पहल की खूब सराहना की। महिला समूहों द्वारा मंदिरों में चढ़े और मुख्यमंत्री निवास से मिले फूलों का बेहतरीन ढंग से उपयोग कर हर्बल गुलाल बनाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने इस अवसर पर कहा – मुझे यह जानकर हार्दिक प्रसन्नता हुई है कि महिलाओं ने मंदिरों से पूजा के बाद निकलने वाले फूलों का सदुपयोग गुलाल बनाने में किया है। इसी तरह शादी विवाह, अन्य कार्यक्रम के साथ मुख्यमंत्री निवास के निकलने वाले फूलों का उपयोग भी हर्बल गुलाल बनाने में किया जा रहा है। इसके लिए इन सभी महिलाओं को साधुवाद देता हूं। रायपुर जिले के सेरीखेड़ी की महिलाओं ने अभी तक 8 क्विंटल गुलाल बनाया है। केवल यही नहीं बुके और गुलदस्तों के पन्नियों और रेपर का उपयोग इन महिलाओं ने साबुन को पैक करने में कर रही है तथा फूलों और बुके के अन्य डिंडियो आदि का उपयोग वे जैविक खाद बनाने में कर रही है।

इसी तरह कबीरधाम जिले की जय गंगा मईया महिला स्व-सहायता समूह द्वारा छत्तीसगढ़ के खजुराहो के नाम से विख्यात श्री भोरमदेव मंदिर में श्रद्धालुओं द्वारा चढ़ाए गए फूलों से हर्बल गुलाल बनाया जा रहा है। इनके द्वारा अब तक तैयार 4 क्विंटल गुलाल को बाजार में बिक्रय कर 52 हजार रूपए की आय अर्जित कर ली गई है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने जय गंगा मईया महिला स्व-सहायता समूह द्वारा 9 अलग-अलग रंगों में तैयार किए जा रहे हर्बल गुलाल को भी सराहनीय बताया। श्री भोरमदेव मंदिर में श्रद्धालुओं द्वारा प्रतिदिन लगभग 200 से 300 किलो फूल चढ़ाया जाता है, जो सप्ताह के अंत में 400 से 500 किलो तक हो जाता है। उमंग और उल्लास के त्यौहार होली में अब लोगों को हर्बल गुलाल सहजता से सस्ते कीमत पर उपलब्ध होगा। गौरतलब है कि हर्बल गुलाल का स्वास्थ्य पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है, बल्कि यह ठण्डक प्रदान करता है। इसके आंखों में चले जाने से कोई जलन नहीं होता है। इसके अलावा त्वचा तथा बालों को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है। हल्दी, गेंदा, गुलाब, चुकन्दर, पालक, अनार जैसे प्राकृतिक पुष्प तथा फलों से बने जैविक अथवा हर्बल गुलाल स्वास्थ्य के लाभकारी है।

भिलाई। हाथ में इकतारा लिए जोशभरे स्वरों के साथ झूमते और सुरों में खोते हुए एक महिला. ठेठ पारंपरिक वेशभूषा और परंपरागत आभूषण. माथे पर बड़ी सी गोल बिंदी. कमर पर अदा के साथ रखा हुआ दूसरा हाथ. इन विशेषताओं के अलावा जोश जगाते स्वरों के साथ तान छेडते हुए वह जब गाती है तो देश-विदेश के श्रोता मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। जी हां, यहां छत्तीसगढ़ की गौरव पद्मश्री और पद्मभूषण विख्यात पंडवानी गायिका तीजनबाई का जिक्र हो रहा है। जिक्र भी क्यों न हो वह इसलिए कि तीजनबाई समूचे छत्तीसगढ़ राज्य को गर्व करने का एक और मौका फिल्म के जरिए दिलाने जा रही हैं।

खबर यह है कि भिलाई निवासी तीजनबाई के जीवन पर आधारित एक फिल्म बनने जा रही है। फिल्म में पंडवानी गायिका के जीवन का संघर्ष और अंतरराष्ट्रीय स्तर की गायिका बनने तक के सफर को सिनेमाई पर्दे पर दिखाया जाएगा। दरअसल, बॉलीवुड अभिनेता नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी मशहूर पंडवानी लोक गायिका तीजनबाई की जिंदगी पर बायोपिक फिल्म बनाने जा रहे हैं। अपने प्रोडक्शन हाउस के बैनर तले इस फिल्म का निर्देशन उनकी पत्नी आलिया सिद्दीकी करेंगी। फिल्म को लेकर पद्मश्री तीजनबाई से बातचीत हो चुकी है।

दंतेवाड़ा। छत्तीसगढ़ का दंतेवाड़ा नक्सलियों का गढ़ कहा जाता है। यहां काम करना सुरक्षाकर्मियों के लिए खतरे से खाली नहीं होता। फिर भी 8 महीने की गर्भवती सुनैना पटेल यहां तैनात हैं. और उन्होंने छुट्टी लेने से इनकार कर दिया है। गर्भवती होने पर महिलाओं को आराम की आवश्यकता होती है। एक तरफ जहां डॉक्टर बेड रेस्ट की सलाह देते हैं, वहीं कमांडर सुनैना पटेल आठ महीने की गर्भवती होने के बाद भी ड्यूटी पर हैं। एक बार पट्रोलिंग के दौरान ही गर्भ गिर जाने के बावजूद सुनैना पीछे नहीं हटी हैं और ड्यूटी कर रही हैं। सुनैना पटेल खतरनाक कहे जाने वाले दंतेवाड़ा के जंगलों में नक्सलियों के खिलाफ जंग लड़ रही हैं। अपने इस फैसले से सुनैना पटेल ने लाखों-करोड़ों महिलाओं और लड़कियों को हर परिस्थिति में मजबूती से डटे रहने और कुछ बड़ा करने का हौसला दिया है। आठ महीने का गर्व लेकिन कर्तव्य और बहादुरी का शानदार उदाहरण पेश कर रही हैं सुनैना पटेल। 

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों के लड़ने के लिए बने डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड में दंतेश्वरी फाइटर के रूप में तैनात हैं सुनैना पटेल। आठ महीने के गर्भ के साथ भी सुनैना घने जंगलों में पट्रोलिंग करती हैं। पट्रोलिंग के दौरान उनकी पीठ पर भारी भरकम बैग और हाथ में वजनदार राइफल भी होती है। अपनी ड्यूटी के बारे में सुनैना पटेल बताती हैं कि वह जब दो महीने की गर्भवती थीं, तब उन्होंने यहां जॉइन किया। सुनैना पटेल ने कभी भी ड्यूटी करने से इनकार नहीं किया। अब आठ महीने की गर्भवती होने पर भी जो काम सुनैना पटेल को मिलता है, वह बखूबी उसे निभाती हैं। दंतेवाड़ा के एसपी अभिषेक पल्लव कहते हैं कि इससे पहले एक बार पट्रोलिंग करते समय ही सुनैना का गर्भ गिर गिया था। आज भी वह छुट्टी लेने से इनकार कर देती हैं। उन्होंने कई महिलाओं को प्रेरित किया है। जब से उन्होंने कमांडर के रूप में चार्ज लिया है, तब से महिला कमांडो की संख्या बढ़कर दोगुनी हो गई है।

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल होली के किसी भी सरकारी या निजी कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे। सीएम के दफ्तर की तरफ से कहा गया है कि कोरोना वायरस के संबंध में केन्द्र सरकार द्वारा जारी की गई एडवाइजरी के चलते मुख्यमंत्री होली मिलन के किसी भी कार्यक्रम में शामिल नही होंगे। केंद्रीय मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि राज्य सरकार अन्य लोगों से भीड़-भाड़़ वाले इलाके और सार्वजनिक सभाओं से दूर रहने की अपील करे। रायपुर के एडीएम विनीत बंदनवार ने आम लोगों के कार्यक्रम को लेकर कहा कि प्रायवेट कार्यक्रमों पर रोक नहीं है, मगर लोगों को एहतियात बरतने की बात हम बता रहे हैं।  बायोमैट्रिक पर रोक कोरोनावायरस के कारण राज्य सरकार के कर्मचारियों को 31 मार्च तक बायोमेट्रिक अटेंडेंस से छूट दी गई है। 

बायोमैट्रिक सिस्टम जिसमें अंगुलियों को रखकर फिंगर प्रिंट को स्कैन किया जाता है। इससे इंफेक्शन का खतरा होता है, लिहाजा राज्य सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग ने इस संबंध में सभी विभागों को निर्देश जारी कर दिए है। पोल्ट्री उत्पाद से खतरा नहीं राज्य सरकार ने पोल्ट्री उत्पाद को लेकर भी अपना पक्ष रखा है। कोरोनावायरस के चिकन या अंडे के माध्यम से फैलने अफवाह  है। सरकार के मुताबिक इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। अब तक पोल्ट्री में कोरोनावायरस की अभी तक कोई घटना रिपोर्ट नहीं हुई है। कृषि विभाग ने आम लोगों से अपील की है कि चिकन व अंडे के उपयोग को लेकर संशय न रखे। डब्ल्यूएचओ की अनुशंसा के मुताबिक चिकन व अंडे खाने से कोई खतरा नहीं है।

कांकेर। कांकेर जिले के नरहरपुर विकासखंड के बादल गांव में शनिवार सुबह लोगों ने एक गौर बायसन को मैदान में घास चरते देखा। आगे बढ़ने से पहले बता दें कि गौर बायसन छत्तीसगढ़ का राजकीय पशु है जो कि विलुप्ति की कगार पर है। इस दुर्लभ प्रजाति के बायसन को बहुत से लोग वन भैंसा भी समझ रहे थे। बायसन को देखने के लिए वहां ग्रामीणों की भीड़ इकठ्ठा होने लगी। लोगों ने इतने बड़े आकार के मवेशी को कभी आस-पास नहीं देखा था। वन विभाग के अमले को भी इसकी सूचना दी गई है। मौके पर वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी पहुंचे हैं। बायसन को वापस सीतानदी वन अभयारण्य क्षेत्र में सुरक्षित स्थल पर भेजने का प्रयास किया जा रहा है।  स्थानीय लोगों ने बताया कि पिछले कुछ समय से जिले के अलग अलग गांवों में गौर बायसन लोगों ने देखे हैं। बहुत से लोगों का कहना है कि यह वनभैंसा है, लेकिन जो तस्वीरें सामने आई हैं, वह गौर बायसन की हैं। 

अम्बिकापुर। दोहरे हत्याकांड के मामले में सजा काट रहे एक कैदी ने केंद्रीय जेल के बैरक में गुरुवार की रात लगभग 11 बजे फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वहीं एक अन्य बीमार कैदी की उपचार के दौरान जिला अस्पताल अंबिकापुर में मौत हो गई। एक ही दिन में दो कैदियों की अलग-अलग घटनाओं में हुई मौत से अंबिकापुर जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया है। सजायाफ्ता कैदी रामायण साहू की मौत मामले में प्रथम दृष्टया दोषी पाए जाने पर जेल प्रबंधन ने एक हवलदार और एक प्रहरी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। मृतक बलरामपुर जिले के रघुनाथनगर का रहने वाला था। सात अप्रैल 2019 को उसे रामानुजगंज जेल से अम्बिकापुर केंद्रीय जेल में शिफ्ट किया गया था। मिली जानकारी के अनुसार रामायण साहू दोहरे हत्याकांड का आजीवन कारावास काट रहा था। वह मानसिक रूप से बीमार था। 

इस वजह से उसे जेल में अलग से सेल में रखा गया था। 5 मार्च को रात में बिजली बंद हुई। अंधेरे का फायदा उठाकर उसने कंबल फाड़कर खिड़की के राड में फांसी लगा ली। बिजली सप्लाई शुरू हुई तो जेल प्रहरी सेल का नजारा देखकर दंग रह गए। आनन-फानन में उसे अस्पताल ले जाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। एक अन्य घटना में जिला जेल अंबिकापुर में हत्या और मारपीट के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे शोभनराम कोरवा पिता बोधराम ने उपचार के दौरान कल 5 मार्च की रात करीब 8 बजे जिला अस्पताल में दम तोड़ दिया। बताया गया है कि वह एनीमिया पीड़ित था। उसे 27 फरवरी को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। खून की कमी होने की वजह से चिकित्सक उसे बचा नहीं सके और अस्पताल में उसकी मौत हो गई।