Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



पूरब टाइम्स रायपुर। केंद्र सरकार द्वारा जारी सूची में राजधानी रायपुर सहित पूरे  जिले को रेड जोन में रखने के निर्णय का विरोध करते हुए कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि राजधानी रायपुर में स्थिति एम्स का एक स्वास्थ्य अधिकारी करोना पॉजिटिव पाया गया है। इलाज करने वाले चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों के संक्रमण से प्रभावित होने की घटनाएं सिर्फ रायपुर ही नहीं पूरे देश में और विश्व में अनेक स्थानों पर सामने आई हैं। स्वास्थ्य कर्मियों और पुलिस और प्रशासन के जिन लोगों के द्वारा करोना के खिलाफ इस जंग में अग्रिम पंक्ति से लड़ाई लड़ी जा रही है उनका कांग्रेस और छत्तीसगढ़ की जनता बेहद सम्मान करती है। इस स्वास्थ्य अधिकारी के भी शीघ्र स्वस्थ होने के लिए पूरी छत्तीसगढ़ सरकार कांग्रेस पार्टी और छत्तीसगढ़ की जनता ईश्वर से प्रार्थना कर रही है।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से चर्चा कर रायपुर को रेडजोन की जगह ग्रीन जोन में रखने की पहल का स्वागत करते हुये प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि राजधानी रायपुर के एम्स में पूरे प्रदेश से करोना के मरीजों को लाया गया है और वे Pस्वस्थ भी हुए हैं।  एम्स रायपुर में करोना के मरीज होने या उन मरीजों से स्वास्थ्य अधिकारी के संक्रमित होने के आधार पर रायपुर को रेड जोन में डालने का केंद्र सरकार का निर्णय सही नहीं है। रायपुर छत्तीसगढ़ की राजधानी और रायपुर को रेड जोन में डालने का अर्थ छत्तीसगढ़ की सारी प्रशासनिक राजनीतिक और व्यवसायिक गतिविधियों का शून्य हो जाना है। रायपुर में राज्य का पहला करो ना संक्रमित मरीज 17 मार्च को मिला था और देश में लाक डाउन लागू होने के बहुत पहले 18 मार्च से रायपुर शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है और रायपुर शहर की प्रबुद्ध जनता ने स्वयं पहल करके सारे चिकित्सा मानदंडों का 18 मार्च से ही पालन किया है। यह कहा जा सकता है कि रायपुर देश के 1 सप्ताह पहले  से 18 मार्च से लाक डाउन में है।
प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने मांग की है कि केंद्र सरकार अपने ही स्वास्थ्य विभाग के सचिव के पत्र में दिए गए मानदंडों के अनुसार बीरगांव नगर निगम और शेष रायपुर जिले को तत्काल ग्रीन जोन घोषित करे। प्रदेश कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने यह भी मांग की है कि क्योंकि 17 मार्च के बाद रायपुर में एक भी करो ना का मामला नहीं आया है और जो एकमात्र मामला एम्स के स्वास्थ्य अधिकारी का है उसे रायपुर शहर के लोगों से जोड़ना उचित नहीं है। केंद्र सरकार के इस निर्णय के पीछे स्वास्थ्य के मानदंड नहीं बल्कि राजनीति ही कारण है।

पूरब टाइम्स रायपुर। लॉकडाउन के बीच प्रदेश में 4 मई से सरकारी दफ्तरों में काम शुरू होगा। आधे कर्मचारियों के साथ ही कामकाज की व्यवस्था की गई है। इस दौरान जरूरी फाइलों पर तत्काल काम किया जाएगा। लॉकडाउन के सारे नियमों का पालन किया जाएगा। इसी को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सभी शासकीय दफ्तरों को सैनिटाइजेशन करने के निर्देश दिए हैं। 
वहीं आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि प्रदेश की जनता शराब दुकानें खोलने पर जोर दे रही है, इसलिए इस पर फैसला रविवार को किया जाएगा। लॉकडाउन के बाद कुछ दिन से जरूरी कार्यालयों में कामकाज चल रहे हैं, लेकिन सभी तरह के काम पटरी पर नहीं आ पाए थे। 4 मई से लॉकडाउन-थ्री शुरू होने के साथ ही मंत्रालय, संचालनालय समेत सभी शासकीय कार्यालयों को खोलने की तैयारी के साथ ही कर्मचारियों को भी इसकी सूचना दे दी है। कर्मचारियों को यह भी कहा गया है कि कोरोना  संक्रमण से बचाव के लिए जारी किए गए सभी गाइडलाइनों का पालन काम के दौरान करना होगा। सभी को मॉस्क लगाना अनिवार्य और दफ्तरों के गेट पर सैनिटाइजर रखना होगा।  वहीं कार्यालय आने वाले सभी अधिकारी-कर्मचारियों को फिजिकल डिस्टेंसिंग मेंटेन करते हुए काम करना है।  मंत्रालय और संचालनालय के अधिकांश अधिकारी-कर्मचारी शासकीय बसों में आवाजाही करते हैं। 

मुंगेली। मुंगेली में बिना कारण घूम रहे नगर पालिका कर्मचारी को पुलिस ने पीटा तो उसने शनिवार सुबह पानी की सप्लाई ही बंद करा दी। यह कर्मचारी ड्यूटी नहीं हाेने पर भी ईयरफोन लगाए घूमने निकला था। इसके चलते तीन दिन के टोटल लॉकडाउन के दूसरे दिन घरों में पानी नहीं आया तो परेशानी बढ़ गई। हालांकि, बाद में कर्मचारियों को समझाइश देकर आधे घंटे बाद सप्लाई चालू कराई गई। 

दरअसल, संविदा पर नियुक्त एक कर्मचारी शुक्रवार शाम को बाहर निकला था। पुलिस ने उसे पड़ाव चौक पर रोक लिया। आरोप है कि परिचय देने के बावजूद पुलिस ने उसकी पिटाई की। पुलिस का कहना है कि कर्मचारी कान में ईयरफोन लगाकर गाना सुनते हुए घूम रहा था। उसकी ड्यूटी भी नहीं थी। परिचय देने की जगह वह धमकी देने लगा। पुलिसकर्मी का हाथ पकड़ लिया, इस पर सिपाही ने उसे थप्पड़ मारा। 

इसके बाद पिटाई से नाराज सभी नगर पालिका कर्मियों ने काम नहीं करने का फैसला लिया। इसके कारण शनिवार सुबह पूरे शहर में पानी सप्लाई ठप कर दी गई। जानकारी मिलने के बाद नगर पालिका के अधिकारी भी समझाने पहुंचे। साथ ही कर्मचारी और पुलिस के बीच हुए विवाद का कारण बताया। इसके बाद कर्मचारियों ने काम दोबारा शुरू किया और आधे घंटे बाद पानी की सप्लाई शुरू कर दी। 

रायपुर। छत्तीसगढ़ की सबसे बड़ी नदी महानदी को रेत माफिया की नजर लग गई है। एकओर चहुंओर लॉकडाउन हैं वहीं दूसरी ओर रेत माफिया रातोंरात मशीन से रेत का उत्खनन कर महानदी को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इससे सरकार को राजस्व की क्षति होने के साथ ही महानदी के तटों का फैलाव होने से नदी में बारिश के दिनों में बाढ़ आने का खतरा बढ़ गया है। इसकी जानकारी मिली तो एसडीएम आधी रात बाद फिल्मी स्टाइल में ही छापामारी करने निकल पड़े।

महानदी के तट पर आरंग क्षेत्र में 10 बड़े डंपर हाइवा वाहन और एक लोडर जेसीबी मशीन जब्त की गई है। जानकार सूत्रों का दावा है कि प्रदेश में सत्तारूढ़ दल के नेताओं और कार्यकर्ताओं के प्रश्रय में ही रेत की धड़ल्ले से चोरी हो रही है। इससे प्रशासन भी राजनीतिक दबाव में कार्रवाई करने से बचता है। मिली जानकारी के अनुसार रायपुर जिले के आरंग क्षेत्र में रातोंरात रेत उत्खनन और परिवहन की शिकायतें लगातार मिल रही है। इसे रंगे हाथों पकड़ने एसडीएम ने फिल्मी स्टाइल में देर रात बाइक से छापामार कार्रवाई की। आरंग एसडीएम विनायक शर्मा ने रात करीब 1 बजे महानदी के किनारे ग्राम चिखली के हल्दीडीह रेतघाट में खुद बाइक चलाते हुए पहुंचे।

साथ में कुछ अन्य राजस्व अधिकारी और पुलिस के जवान भी थे। देर रात अफसरों को मौके पर पहुंचे देखकर रेतघाट में अफरा-तफरी मच गई। एसडीएम ने मौके से 10 हाइवा वाहन और 1 जेसीबी मशीन को जब्त किया है। इसके बाद मंदिरहसौद क्षेत्र में रेत का अवैध परिवहन कर रहे 16 हाइवा को पकड़ा गया। आधी रात किए गए उनके इस कार्रवाई से रेत माफियाओं में हड़कंप मच गया है। एसडीएम विनायक शर्मा ने बताया कि आरंग के महानदी किनारे रेतघाटों में रात को अवैध उत्खनन और परिवहन की शिकायत निरंतर मिल रही थी, जिस पर उन्होंने रंगे हाथ पकड़ने की योजना बनाई। रात करीब 1 बजे बाइक से हल्दीडीह रेतघाट पहुंचे और जेसीबी मशीन से हाइवा में रेत लोड करते मौके पर जब्ती बनाई। खनिज विभाग को आगे की कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिया गया है।

मुंबई। ब्वॉय फ्रेंड से बात करने से मना करने पर एक युवती ने अपने प्रेमी के साथ अपनी जान दे दी. ये पूरा मामला उत्तर प्रदेश के भदोही का है जहां ट्रेन से कटकर दोनो की मौत हो गई। पुलिस के मुताबिक युवक-युवती जौनपुर जिले के हीरापट्टी के रहने वाले हैं दोनों शुक्रवार दोपहर से ही गायब थे. शनिवार सुबह प्रेमी युगल की लाश चौरी थाना क्षेत्र के कन्धिया फाटक के रेलवे ट्रैक के पास मिली।

पूरब टाइम्स रायपुर। केंद्र सरकार की ओर से तीसरे लॉकडाउन के दौरान बढ़ाई जा रही छूट को देखते हुए राज्य में भी तैयारी शुरू कर दी गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बिलासपुर में बैठक कर बाजारों को अल्टरनेट खोलने के निर्देश दिए हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि राज्य के ग्रीन जोन के लिए यही सिस्टम अपनाया जा सकता है। वहीं, शराब दुकानें भी सोमवार से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खुल सकती हैं। इसको लेकर राज्य सरकार रविवार को फैसला लेगी। बस्तर में इसके लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की नियुक्ति भी कर दी गई है। आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि भारत सरकार की गाइडलाइन उल्टी-पुल्टी आती है। प्रदेश में शराब दुकानें खोलने को लेकर त्राहि मची हुई है। जनता लगातार शराब दुकानें खोलने की मांग कर रही है। जल्द ही शराब दुकान खोली जाएंगी।

पूरब  टाइम्स रायपुर। लॅाकडाउन के दौरान महिला स्व-सहायता समूहों के द्वारा विभिन्न रोजगार परक कार्य करके रोजगार का सृृजन किया जा रहा है। बेमेतरा जिले की स्वसहायता समूह की महिलाएं इस कोरोना संकट काल में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मास्क बना रहीं है। यह मास्क कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। महिलाओं ने बड़ी मात्रा में माॅस्क बनाए है। जिसे वे लोगों को विक्रय कर रोजगार सृजन कर रहीं है। उल्लेखनीय है कि बेमेतरा जिले की 1283 महिला सदस्यों के 138 महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा अब तक 2 लाख 40 हजार 223 मास्क का विक्रय किया गया है। जिससे राशि 28 लाख 96 हजार 936 रू. की आय महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा अर्जित की गई है। 
 बेमेतरा जिले की महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा 2160 मास्क का निःशुल्क वितरण ग्राम पंचायत स्तर पर किया गया है। महिला स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित लगभग 1 लाख 50 हजार रू. के साबुन एवं फिनाइल का विक्रय जिले के शासकीय कार्यालयों में किया गया है। महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा रंगोली, दिवाल लेखन आदि के माध्यम से कोरोना वायरस से बचाव हेतु लोगों को जागरूक किया जा रहा है। कलेक्टर श्री शिव अनंत तायल ने जिले के सभी विभाग प्रमुखों को पत्र जारी कर राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) के अंतर्गत महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा तैयार उत्पाद किये जा रहे सामग्री का उपयोग करने के निर्देश दिए है। 

पूरब टाइम्स रायपुर। राजधानी में महामारी संकट के साथ  पीलिया के लक्षण पाए जाने के लिए कांग्रेस ने पूर्व रमन सरकार में कद्दावर मंत्री कहलाने  वाले बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत को जिम्मेदार ठहराया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि ये राजधानी का दुर्भाग्य है कि पूर्व के रमन सरकार में कद्दावर मंत्री कहलाने वाले बृजमोहन अग्रवाल और राजेश मूणत एवं वर्तमान सांसद पूर्व महापौर सुनील सोनी के रहते रायपुर नगर निगम मूलभूत समस्याओं को दूर करने संसाधनों  की कमी से जूझता रहा है। दोनों पूर्व मंत्री राजधानी की समस्याओं को लेकर कभी जागरूक संवेदनशील नहीं दिखते। रायपुर की सूरत और सीरत बिगाड़ने के लिए जितना जिम्मेदार राजेश मूणत है उतना ही बृजमोहन अग्रवाल भी है। पूर्व की रमन सरकार के 15 साल का रिकॉर्ड  देखेंगे तो  राजधानी रायपुर में हर साल पीलिया की बीमारी ने पैर पसारा है। कांग्रेस विपक्ष में रहते हुए हमेशा पीलिया, मलेरिया, टाइफाइड, बढ़ते प्रदूषण के कारण दमा, अस्थमा जैसी बीमारियों से आम जनता को बचाने लगातार पूर्ववर्ती सरकार को आगाह करते रही है। लेकिन विकास कार्यों के नाम से कमीशनखोरी, भ्रष्टाचार में मशगूल रमन सरकार आम जनता को स्वच्छ हवा, साफ़ पानी जैसे मूलभूत सुविधाएं देने में असफल रही है।
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि रमन सरकार के दौरान दोनों मंत्रियों ने मात्र कमीशनखोरी करने के नियत से राजधानी में विकास कार्यों के नाम से गरीबों के मकान दुकान को तोड़ने का काम किया। सरकारी खजाना में भ्रष्टाचार करने अनुपयोगी निर्माण कार्य करवाएं। पूर्व की रमन सरकार ने रायपुर नगर निगम के कांग्रेस के परिषद के द्वारा आम जनता के स्वास्थ्य के लिए स्वच्छ पेयजल और साफ-सफाई के लिए बनाए गए योजनाओं पर अड़ंगा लगाने का काम किया। नगर निगम को अफसरशाही तंत्र के हवाले कर जनता के चुने हुए जनप्रतिनिधियों के आवाज को दबाने का, कुचलने का काम किया। एमआईसी के प्रस्ताव को दरकिनारे कर नगर निगम के अधिकारों का हनन किया। मनमानी तरीके से निगम क्षेत्र में कई ऐसी योजनाएं लाई गई जो राजधानी के लिए आज नुकसानदेह साबित हो रही है। आम जनता की गाढ़ी कमाई को कमीशन खोरी के जरिए लूटने वाले भाजपा के नेताओ को सत्ता जाने के बाद अब राजधानीवासियों की चिंता हो रही है। असल में यह भाजपा नेताओं की मजबूरी है ये राजधानी वासियों की चिंता नहीं बल्कि ये राजधानीवासियों की चिंता करने के नाम से मात्र राजनीति रोटी सेक रहे हैं।

पूरब टाइम्स रायपुर । प्रवासी मजदूरों छात्रों और छत्तीसगढ़ के बाहर फंसे हुए यात्रियों के लिये स्पेशल ट्रेन चलाये जाने का स्वागत करते हुए कांग्रेस ने टिकट का पैसा मजदूरों से लेने का विरोध किया। लॉक डाउन के कारण राज्यों में आर्थिक गतिविधियां नहीं होने के कारण राज्य सरकारों की स्थिति है जर्जर राज्य सरकारें  टिकट का खर्च वहन करने की स्थिति में नहीं है।   प्रधानमंत्री मोदी को मजदूरों छात्रों और मजबूरी में बाहर फंसे यात्रियों की केयर करनी चाहिये।  मजदूरों छात्रों और बाहर फंसे हुए यात्रियों के टिकट का पैसा पीएम केयर फंड से दिए जाने की मांग की । मजदूरों छात्रों और छत्तीसगढ़ के बाहर फंसे हुए यात्रियों के लिये स्पेशल ट्रेन चलाये जाने का स्वागत करते हुए प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष  शैलेश नितिन त्रिवेदी ने टिकट का पैसा पीएम केयर फंड से दिए जाने की मांग की है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष  शैलेश नितिन त्रिवेदी ने  कहां है कि विशेष ट्रेन चलाई जाने के गृह मंत्रालय के आदेश में यह कहा गया है कि यात्रियों को टिकट लेना होगा। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष  शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहां है कि मार्च से बाहर के प्रदेशों में लॉक डाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों के पास राशन के लिए खाने के लिए दैनिक जीवन में उपयोगी वस्तुओं के लिए पैसा नहीं हैं । टिकट का पैसा कहां से लाएंगे ? छात्रों और महीनों से बाहर फंसे यात्रियों से भी यह अपेक्षा नहीं की जानी चाहिए कि वे अब टिकट का पैसा दे । टिकट का पैसा कहां से लाएंगे ?

पूरब टाइम्स  रायपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के उद्देश्य से बस्तर जिले के कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ. अय्याज तम्बोली ने जिले में दो मई को सवेरे 6 बजे से रात्रि 12 बजे तक कर्फ्यू लगाए जाने का आदेश पारित किया है। कर्फ्यू अवधि के दौरान मेडिकल, अस्पताल सेवायें, एम्बुलेंस सेवा, बैंकिग सेवा, समाचार पत्र, दुग्ध वितरण एवं प्रेस-मीडिया के संचालन को छूट दी गई है। इसके अलावा स्थानीय निकाय की सेवाएं, पेयजल आपूर्ति, साफ-सफाई, विद्युत व्यवस्था, दूरसंचार सेवा, पोस्ट आफिस, जिला कोषालय के संचालन को भी छूट दी गयी है। कलेक्टर ने कहा है कि आदेश का उल्लंघन करने वालों पर विधि के अन्तर्गत सख्त कार्यवाही की जाएगी।

पूरब टाइम्स रायपुर। मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने आज शाम केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. हर्ष वर्धन से दूरभाष पर चर्चा की और रायपुर को रेड जोन से हटाने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. हर्ष वर्धन को बताया कि रायपुर जिले में कोविड-19 संक्रमित केवल एक मरीज है वो भी एम्स का नर्सिंग स्टाॅफ है। इसके अलावा जिले में अन्य कोई भी मरीज नही है। मुख्यमंत्री के आग्रह पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन ने इस संबंध में जल्द ही विचार करने का आश्वासन मुख्यमंत्री  बघेल को दिया है। चर्चा में उन्होंने रायपुर के संबंध में और भी जानकारी मांगी है। मुख्यमंत्री  बघेल ने अपर मुख्य सचिव  सुब्रत साहू को रायपुर के संबंध में पूरी स्थिति स्पष्ट करते हुए आवश्यक जानकारी केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव को शीघ्र उपलब्ध कराने के निर्देश दिए है।





रायपुर। राजधानी पुलिस ने दो दिन पहले एक नया अभियान लॉन्च किया। इसे नाम दिया गया है चुप्पी तोड़। इसके तहत घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं की मदद की जाएगी। पुलिस के पास अब ना सिर्फ महिलाओं के फोन आए, बल्कि कुछ पुरुषों ने भी महिलाओं से प्रताड़ित होने की शिकायत की। रायपुर के एसएसपी आरिफ शेख के मुताबिक शहर के अलग-अलग हिस्सों से 2 पुरुषों ने फोन पर महिलाओं की शिकायत की। संबंधित महिलाओं पर भी करवाई की गई।

दो दिनों में पुलिस के पास कुल 7 शिकायतें आईं। सभी मामलों में पुलिस लोगों के घर पहुंची और मामले को सुलझाने का प्रयास किया। 22 पीड़िताओं को खुद पुलिस ने फोन किया और खैर-खबर ली। घरेलू हिंसा से पीड़ितों की मदद के लिए 4 अलग-लग टीमों का गठन किया गया है। पीड़ित इन नंबरों 0771-4247110, 94791-90167 पर कॉल और 94791-91250 पर वॉट्सएप मैसेज के जरिए अपनी शिकायतें दर्ज करा सकते हैं।

पूरब टाइम्स रायपुर।  नोवेल कोरोना वायरस ( कोविड-19) के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु लागू तालाबंदी (लाॅकडाउन) की विषम परिस्थिति मे भी राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान से जुडे़ स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा जीवन रक्षक मेडिकल किट यथा मास्क, सेनेटाइजर, हैण्ड- ग्लब्स, साबुन आदि सामाग्री तैयार और वितरण कर कोरोना वायरस के संक्रमण से जन सामान्य को बचाने का सार्थक प्रयास किया जा रहा है। इसी कड़ी में मुंगेली जिले की 39 स्व-सहायता समूह की  महिलाओं द्वारा अब तक 33 हजार 673 नग रियूजेबल काटन के कपडे़ के मास्क और दो स्व-सहायता समूह के 6 महिलाओं के द्वारा पांच सौ हाथ के ग्लब्स का निर्माण कर पुलिस विभाग एवं पुलिस पेट्रोलिंग टीम, कलेक्टोरेट, जिला पंचायत, जनपद पंचायत एवं नगर पालिका तथा नगर पंचायतों के अधिकारी-कर्मचारियों और जरूरतमंद लोगों को किफायती दर पर उपलब्ध कराया गया । जिसकी सराहना करते हुए आम लोगों द्वारा इसे नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु उपयोगी और सार्थक बताया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि 39 स्व-सहायता समूह की  महिलाओं द्वारा प्रतिदिन 200-300 मास्क एवं दो स्व-सहायता समूह की 6 महिलाओं द्वारा प्रतिदिन 30-40 ग्लब्स का निर्माण किया जा रहा है। जो सुरक्षा की दृष्टिकोण से उपयोगी है।
प्रायः यह देखा गया है कि पीवीसी एवं फ्लेक्स बनाने वाले उत्पाद हर समय वेस्ट की तरह देखे जाते है। लेकिन राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान की स्व-सहायता समूह द्वारा प्रकृति को सुरक्षित रखने के लिए इस अनुपयोगी वस्तु से वाटरप्रूफ जूते का कवर बूट तैयार किया जा रहा है। जिसका उपयोग स्वच्छता कर्मचारियों के द्वारा वृहद रूप से इस्तेमाल किया जा रहा है। इसी तरह उनके द्वारा पी.पी पालीथीन शूट का भी निर्माण किया गया है। जिसका उपयोग आपातकलीन स्थिति में सुरक्षा हेतु  एम्बुलेस वाहन चालकों के द्वारा विशेष रूप से किया जा रहा है। इसी तरह दैनिक उपयोग मे आने वाले सामानो की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान के अंतर्गत स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने स्वयं के द्वारा उत्पादित सामाग्री को रिटेल बाजार, सुपर मार्केट में रखा गया है। ताकि बडे़ कम्पनियों द्वारा उत्पादित सामाग्री का तुलनात्मक मूल्य (काॅॅम्पेटेटिव प्राईज) मे आ सके । लाॅकडाउन मे किसी को भी घर से बाहर निकलना नहीं होता, जिस कारण लोग बैंक एवं एटीएम तक नहीं पहुंच सकते, ऐसी स्थिति से निपटने हेतु स्व-सहायता समूह की महिलाओं  ने बैंक सखी/डीजी-पे के रूप में कार्य कर रही है । उन्होंने जिम्मेदारी लेकर सोशल डिस्टेसिंग एवं शासन के नियमों का पालन करते हुए ग्रामीणों को अब तक 58 लाख 50 हजार 514 रूपये की राशि का वितरण किया । वैश्विक महामारी के इस संकट काल मे मुंगेली जिले की स्व-सहायता समूह की महिलाओं का यह काम सच मे प्रेरणा दायक है। साथ ही इस विपत्ति से आगे निकलने के लिए हमे प्रेरित करती है।

पूरब  टाइम्स रायपुर। करोना संकट और लाॅकडाउन के दौरान भी अपनी उपज को आॅनलाइन वाजिब दाम पर विक्रय कर छत्तीसगढ़ के किसानों ने यह जता दिया है कि वह अब उन्नत खेती के साथ-साथ हाईटेक सुविधा का भी इस्तेमाल करने लगे हैं। दुर्ग जिले के चार कृषक उत्पाद संगठनों ने लाॅकडाउन के इस दौर में ई-पोर्टल के माध्यम से घर बैठे-बैठे गेहूं और सरसों की वाजिब मूल्य पर आॅनलाइन बिक्री कर यह साबित कर दिया है कि संकट की घड़ी में भी समझदारी से समस्या का समाधान निकाला जा सकता है।
कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लाॅकडाउन के दौरान दुर्ग जिले के चार कृषक संगठनों- दुर्ग, धमधा, पाटन तथा महामाया कृषक उत्पादक संगठन ने ई-पोर्टल के माध्यम से 85 क्विंटल गेहूं और 15 क्विंटल सरसों की आॅनलाइन सफल बिक्री की है। प्रबंध संचालक छत्तीसगढ़ राज्य कृषि विपणन (मण्डी) बोर्ड ने बताया कि लाॅकडाउन के दौरान कृषक संगठन अपनी फसल गेहॅू तथा सरसों का विक्रय नहीं कर पा रहे थे, उनके द्वारा उपज के विक्रय हेतु मदद चाहे जाने पर कृषि उपज मंडी समिति राजनांदगांव द्वारा उनके संगठन के कार्य स्थल से गेहॅू तथा सरसों के नमूने एकत्रित कर भारत सरकार के मापदण्ड अनुसार एसेईंग कर ई-पोर्टल पर अपलोड किया गया। राजनांदगांव मंडी क्षेत्र के व्यापारियों द्वारा किसानों के गेहूॅ और सरसों को खरीदने के लिए आॅनलाईन बिडिंग की गई, जिसमें उच्चतम दर राजनांदगांव के थोक व्यापारी वर्धमान मार्केटिंग से प्राप्त होने तथा कृषक उत्पादक संगठनों द्वारा विक्रय की सहमति दिये जाने पर नियमानुसार ई-पोर्टल के माध्यम से 85 क्विंटल गेहूं तथा 15 क्विंटल सरसों ऑनलाईन विक्रय की प्रक्रिया पूरी की गई। क्रेता द्वारा कृषक उत्पादक संगठनों के संग्रहण केंद्रों से गेहूं और सरसों की तौल कराकर परिवहन एवं कृषकों को मूल्य का भुगतान किया गया।

पूरब टाइम्स रायपुर। अभिनेता ऋषि कपूर अब हमारे बीच नहीं रहे। ऋषि की मौत की खबर ने उनके प्रशंसकों को अंदर तक झकझोर दिया है। रायपुर के रहने वाले युवा कवि और उद्यमी दर्शन सांखला की यादें भी ऋषि से जुड़ी हैं। एक टीवी शो के सेट पर दोनों की मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात के दौरान ऋषि ने दर्शन को एक बहुत बड़ी सीख भी दी थी, जिसे दर्शन आज भी आत्मसात करने की कोशिश में लगे हैं।
ऋषि कपूर के साथ अपनी एक तस्वीर दिखाते हुए रायपुर निवासी दर्शन सांखला बताते हैं कि मुंबई में मेरे मित्र संजय महाले जो कि एक इवेंट ऑर्गेनाइज हैं उनके माध्यम से मेरी ऋषि से साल 2017 में मुलाकात हुई थी। इस कार्यक्रम का नाम था ऋषि कपूर नाइट। इस कार्यक्रम के सेट पर मैं बैक स्टेज में ऋषि जी के साथ ही बैठा था। इस शो में कई बड़े गायक कलाकार भी मौजूद थे।
बैक स्टेज पर बैठे हुए ऋषि जी ने मुझसे मेरा नाम पूछा और पूछे कि मैं क्या करता हूं। मैंने उन्हें बताया कि मैं एक उद्यमी हूं और फिल्में बनाना चाहता हूं। उन्होंने मुझे कहा कि कभी भी पैसे के लिए फिल्में मत बनाना। अच्छी कहानियों पर काम करना जो समाज के लिए, लोगों के लिए महत्व रखती हों। फिल्में समाज में क्रांति लाने का प्रभावशाली माध्यम होती हैं, यह बात उन्होंने मुझे इस बातचीत के दौरान महसूस कराई।

पूरब  टाइम्स रायपुर।  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर 22 मार्च से लागू तालाबंदी के कारण राज्य के सामने आ रही वित्तीय कठिनाईयों की ओर उनका ध्यान आकर्षित किया है।  बघेल ने प्रदेश में जरूरतमंद लोगों को राहत देने सहित राज्य के कामकाज के संचालन और विकास गतिविधियों के लिए अधिक आर्थिक संसाधन जुटाने के उद्देश्य से राज्य को इस वर्ष उधार की सीमा जीएसडीपी के 6 प्रतिशत तक शिथिल करने और राज्य का वित्तीय घाटा भी इस वर्ष अपवाद के रूप में जीएसडीपी का 5 प्रतिशत के बराबर रखने की सहमति प्रदान करने का अनुरोध किया। 
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को पत्र में लिखा है कि कोरोना वायरस रोग 19 महामारी के प्रसार को रोकने के प्रभावी कदम के रूप में 22 मार्च 2020 से छत्तीसगढ़ सहित देश में की गई सम्पूर्ण तालाबंदी के कारण सभी आर्थिक गतिविधियां बंद है, जिससे राज्य के राजस्व में हानि हुई है। संपूर्ण तालाबंदी ने समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को सबसे अधिक प्रभावित किया है, जिनमें विशेषकर दैनिक आय अर्जित करने वाले, श्रमिक, छोटे दुकानदार एवं अधिकांश ग्रामीण परिवार शामिल है। यह फसलों की कटाई का भी समय है, जिनमें किसानों को फसल काटने तथा उसे बेचकर जीवन यापन में कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। छत्तीसगढ़ में समाज के इन वर्गाें की जनसंख्या अधिक है, अतः उन्हें केन्द्र सरकार द्वारा राहत प्रदान करने के लिए की गई पहल के अलावा राज्य द्वारा कई प्रकार के सामाजिक एवं आर्थिक उपायों के माध्यम से उचित राहत प्रदान करना एक कठिन कार्य है। 
 बघेल ने लिखा है कि राज्य के सभी विभागों को वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बजट आवंटन जारी किया जा चुका है एवं मूलभूत आवश्यकताओं के लिए व्यय हेतु आर्थिक संसाधनों की आवश्यकता है। वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा राज्य को इस वित्तीय वर्ष के प्रथम 9 माह के लिए राज्य की शुद्ध उधार सीमा के 50 प्रतिशत के बराबर 5375 करोड़ रूपए के बाजार ऋण की सहमति प्रदान की गई है। जो कि इस अवधि में व्यय की पूर्ति के लिए अपर्याप्त है। चूंकि इस वर्ष राज्य की राजस्व प्राप्तियों में कमी की आशंका है, अतः राज्य की शुद्ध उधार सीमा तथा राजकोषीय उत्तरदायित्व एवं बजट प्रबंधन अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार निर्धारित वित्तीय घाटे की सीमा (राज्य के सकल घरेलू उत्पाद का 3 प्रतिशत) में शिथिलीकरण आवश्यक है। छत्तीसगढ़ राज्य गठन के समय से ही वित्तीय अनुशासन का कड़ाई से पालन करने वाला राज्य रहा है तथा वर्तमान में यह सबसे कम ऋण भार (जीएसडीपी का 19.2 प्रतिशत) तथा सबसे कम ब्याज भुगतान (कुल राजस्व प्राप्तियों का 7.4 प्रतिशत) करने वाला राज्य है। 

पूरब टाइम्स रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य के सभी अधिकारी-कर्मचारी संघों द्वारा कोरोना वायरस (कोविड-19) से उत्पन्न संकट की घड़ी में आगे आकर जरूरतमंदों की सहायता के लिए गत माह स्वेच्छा से मुख्यमंत्री सहायता कोष में अपने एक दिन का वेतन दिया गया है, जबकि कई राज्यों में कोरोना संकट को देखते हुए राज्य सरकारों द्वारा अधिकारी-कर्मचारियों के वेतन से अनिवार्य कटौती की गई है।  मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने राज्य के अधिकारी-कर्मचारियों से अपील की है कि संकट की इस घड़ी में जरूरतमंदों की सहायता के लिए पिछले माह की तरह स्वेच्छा से इस माह भी अपने वेतन से भी एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में प्रदान करें।



दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने 29 अप्रैल के एक दिन में लगभग 104 टन की सामग्री लोडिंग की, जिसमें रायपुर मंडल का 69 टन सामग्री भेजने का योगदान रहा और 107 टन सामग्री अनलोडिंग की यह एक रिकॉर्ड है. इस माह 29 अप्रैल तक कुल लगभग 1010 टन पार्सल लदान किया हैं, जिसमें रायपुर रेल मंडल ने रायपुर एवं दुर्ग स्टेशन से लगभग 675 टन पार्सल को गंतव्य स्थलों तक पहुंचाया है।