Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



रायपुर। छत्तीसगढ़ में एक बार फिर मौसम ने अपना मिजाज बदला है। उत्तर छत्तीसगढ़ के सरगुजा संभाग के कई जिलों में देर रात से बारिश हो रही है, जिसके चलते धान खरीदी केंद्रों में खुले में पड़े हजारों क्विंटल धान भीग गया है। सरगुजा के अलावा लोरमी, पेंड्रा इलाके में बारिश हो रही है। इधर राजधानी रायपुर में भी सुबह-सुबह हल्की बारिश हुई।

जिसके चलते लोगों को ठंड का एहसास हुआ। मौसम विशेषज्ञों की माने तो दक्षिण भारत से आ रही नमी के चलते प्रदेश के मौसम का मिजाज बदला है, जिसके चलते उत्तर और मध्य छत्तीसगढ़ में हल्की बारिश के आसार है। मराठवाड़ा और मध्य महाराष्ट्र में बने सिस्टम का भी प्रभाव प्रदेश में देखने को मिल रहा है। प्रदेश में कल तक बादल रहने की संभावना है। वहीं बादल हटने के बाद प्रदेश में ठंड बढ़ेगी।

नई दिल्ली। बजट सत्र की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि बजट सत्र 2021 हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के सपनों को पूरा करने का एक सुनहरा अवसर है। उन्होंने कहा कि इस दशक का आज पहला सत्र प्रारंभ हो रहा है। भारत के उज्जवल भविष्य के लिए ये दशक बहुत ही महत्वपूर्ण है। आजादी के दिवानों ने जो सपने देखे थे उन्हें सिद्ध करने का स्वर्णिम अवसर अब देश के पास आया है। प्रधानमंत्री ने ये बातें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण से पहले मीडिया को संबोधित करते हुए कही।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार लोगों की उम्मीदों को पूरा करने के लिए हर कदम उठाएगी और सभी सांसद अपनी ऊर्जा इस लक्ष्य में लगाएंगे। उन्होंने कहा, मुझे विश्वास है कि जिस आशा और अपेक्षा के साथ देश ने हमें संसद में भेजा है, हम संसद के इस पवित्र स्थान का भरपूर उपयोग करते हुए। लोकतंत्र की सभी मर्यादाओं का पालन करते हुए जन आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए अपने योगदान में पीछे नहीं रहेंगे। भारत के इतिहास में साल 2020 में पहली बार हुआ कि हमें अलग-अलग पैकेज के रूप में चार-पांच मिनी बजट देने पड़े। इसलिए मुझे विश्वास है कि ये बजट भी उसी श्रृंखला में देखा जाएगा।
पीएम मोदी ने आगे कहा कि उनका मानना है कि संसद का पूर्ण उपयोग करके लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने की दिशा में सांसद अपने योगदान में पीछे नहीं रहेंगे। बता दें कि संसद का बजट सत्र दो चरणों में आयोजित किया जाएगा। सत्र का पहला चरण 15 फरवरी को समाप्त होगा। सत्र का दूसरा चरण 8 मार्च से 8 अप्रैल तक आयोजित किया जाएगा। राज्यसभा की कार्यवाही सुबह 9 बजे से दोपहर 2 बजे तक चलेगी और लोकसभा की कार्यवाही शाम 4 बजे से 9 बजे तक चलेगी। शून्यकाल और प्रश्नकाल भी आयोजित होंगे।

जगदलपुर। शुक्रवार सुबह सीआरपीएफ कैंप में एक जवान ने अपने साथियों पर सर्विस राइफल से फायरिंग कर दी। इसमें एक जवान की मौत हो गई, जबकि एक की हालत गंभीर है। उसे जगदलपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। जहां से रायपुर रेफर करने की तैयारी चल रही है। बताया जा रहा है कि आपसी विवाद के चलते फायरिंग की गई। पुलिस ने आरोपी जवान को गिरफ्तार कर लिया है। मामला केशलूर क्षेत्र का है।

जानकारी के मुताबिक, शहर सीमा से लगे केशलूर के पास सीआरपीएफ 241वीं बटालियन का कैंप है। कैंप में शुक्रवार सुबह जवान गिरीश कुमार का अपने साथी जवानों से किसी बात को लेकर विवाद हो गया। बात इतनी ज्यादा बढ़ी कि गिरीश ने अपनी सर्विस राइफल से फायरिंग कर दी। बताया जा रहा है कि करीब 20 राउंड गोलियां चलाई गई हैं। गोली लगने से जवान प्रमोद की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि एक अन्य जवान संतोष गंभीर रूप से घायल हो गया।
फायरिंग में कुछ और जवानों के भी घायल होने की बात सामने आ रही है। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। पुलिस ने आरोपी जवान को गिरफ्तार कर लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है। विवाद का कारण अभी स्पष्ट नहीं है। परपा थाना प्रभारी ने बताया कि कैंप के अंदर फायरिंग की घटना हुई है। फिलहाल मामले की जांच चल रही है। अभी इतनी ही जानकारी सामने आ सकी है। सीआरपीएफ के अफसर भी मौके पर पहुंच गए हैं।

राजनांदगांव। गणतंत्र दिवस के अवसर पर परिवहन, आवास एवं पर्यावरण, वन, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री मोहम्मद अकबर ने सर्वेश्वरदास स्कूल मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में कारोना वारियर्स के रूप में प्रदीप शर्मा एवं फनेन्द्र जैन को प्रशस्ति पत्र एवं प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया।

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध लोक पर्व छेरछेरा पुन्नी पर्व परम्परा के अनुरूप आज सवेरे जिला मुख्यालय कांकेर के पुराने बस स्टेण्ड में मुख्य मार्ग की दुकानों और घरों में जाकर छेरछेरा पुन्नी का दान मांगा। महिलाओं ने तिलक लगाकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया और उन्हें चावल, लड्डू, फल भेंट किए। छेरछेरा पर्व पर मुख्यमंत्री को धान से तौला गया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सभी लोगों को छेरछेरा पर्व की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि नई फसल के घर आने की खुशी में महादान का यह उत्सव पौष मास की पूर्णिमा को छेरछेरा पुन्नी तिहार के रूप में मनाया जाता है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि छेरछेरा पुन्नी पर बच्चों, युवाओं, किसानों, मजदूरों और महिलाओं की टोली घर-घर जाकर छेरछेरा पुन्नी का दान मांगते हैं। इस पर्व में समानता का भाव प्रमुखता से उभर कर सामने आता है। धनी और गरीब व्यक्ति एक दूसरे के घर दान मांगने जाते हैं और दान में एकत्र धान, राशि और सामग्री गांवों में रचनात्मक कार्यों में लगाई जाती है।

उन्होंने कहा कि छेरछेरा के महादान की परम्परा की यह भावना है कि किसानों द्वारा उत्पादित फसल केवल उसके लिए नहीं अपितु समाज के अभावग्रस्त और जरूरतमंद लोगों, कामगारों और पशु-पक्षियों के लिए भी काम आती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष अनेक चुनौतियों के बावजूद राज्य सरकार द्वारा अब तक 89 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इस वर्ष धान खरीदी का एक नया रिकार्ड बनेगा। 

मुख्यमंत्री और अतिथियों ने लोगों को शुभकामनाएं देते हुए ‘छेरछेरा, कोठी के धान ल हेरहेरा‘ का घोष किया। इस अवसर पर ग्रामोद्योग और कांकेर जिले के प्रभारी मंत्री गुरू रूद्र कुमार, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, विधानसभा उपाध्यक्ष मनोज मण्डावी, संसदीय सचिव शिशुपाल सोरी, विधायक मोहन मरकाम और संतराम नेताम तथा मुख्यमंत्री के सलाहकार राजेश तिवारी भी उपस्थित थे।

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 28 जनवरी को कांकेर और दुर्ग जिले के दौरे पर रहेंगे। वे कांकेर में जिलेवासियों को लगभग 342 करोड़ रूपए की राशि के विकास कार्यों की सौगात देंगे। निर्धारित दौरा कार्यक्रम के तहत मुख्यमंत्री श्री बघेल 28 जनवरी को दोपहर 12 बजे शासकीय नरहरदेव उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल कांकेर का अवलोकन करेंगे।


मुख्यमंत्री इसके पश्चात दोपहर 1.50 बजे गोविन्दपुर स्कूल ग्राउण्ड हेलीपेड कांकेर से हेलीकाॅप्टर द्वारा दुर्ग जिले के पाटन के लिए प्रस्थान कर 2.20 बजे दुर्ग जिले के पाटन पहुंचेंगे। मुख्यमंत्री  बघेल पाटन के सतनाम भवन में दोपहर 2.25 बजे से आयोजित तहसील स्तरीय गुरू घासीदास जयंती एवं लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल होंगे। इसके पश्चात वे अपरान्ह 3.15 बजे पाटन से हेलीकाॅप्टर द्वारा प्रस्थान कर 3: 35 बजे रायपुर लौट आएंगे।

रायपुर। राजधानी रायपुर में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह 18 जनवरी से 17 फरवरी 2021 तक मनाया जा रहा हैं। बुधवार को तीसरे दिन एसएसपी अजय यादव ने हेलमेट जागरूकता रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली में यातायात पुलिस के जवान शामिल हुए। रास्ते भर जागरूकता का संदेश दिया। लोगों को सुरक्षित वाहन चलाने के लिए प्रेरित किया। स्मार्ट रायपुर में स्मार्ट यातायात व्यवस्था बनाने में सहयोग मांगा।

सड़क सुरक्षा माह के तीसरे दिन बुधवार को सुबह नौ बजे मरीन ड्राइव तेलीबांधा तालाब से हेलमेट रैली निकाली गई। यह हेलमेट बाइक रैली मरीन ड्राइव से प्रारंभ होकर आनंद नगर ढाल, केनाल चौक से बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, शास्त्री चौक, एसआरपी चौक होते हुए वापस मरीन ड्राइव में समाप्त हुई। इस मौके पर सारागांव में ट्रैफिक चौपाल का आयोजन भी किया गया।

यातायात पुलिस ने शहर के सभी नागरिकों एवं समस्त वाहन चालकों से अपील की है कि यातायात पुलिस रायपुर द्वारा चलाए जा रहे राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह 2021 के सफल आयोजन में पुलिस का सहयोग करें। वाहन हमेशा निर्धारित गति सीमा में ही चलाएं और यातायात नियमों का पालन करें। शहर की यातायात को सुगम सुव्यवस्थित एवं नियंत्रित बनाना हम सबकी जिम्मेदारी है
शहर के जय स्तंभ चौक एवं मरीन ड्राइव तेलीबांधा तालाब में नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया गया। नुक्कड़ नाटक के कलाकारों द्वारा यातायात संबंधी नाटक एवं गीत-संगीत के माध्यम से वाहन चालकों को नियमों का पालन करने के लिए समझाइश दी। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यातायात एमआर मंडावी, उप पुलिस अधीक्षक यातायात सतीश कुमार ठाकुर, सदानंद सिंह विंध्यराज, कामता सिंह दीवान एवं यातायात प्रशिक्षक टीके लाल भोई ने चालकों को यातायात नियमों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।@GI@



सभी 24 विषयों के लिए पदों और इंटरव्यु के लिए चयनित उम्मीदवारों की संख्या दी गई है। कुछ विषयों का मामला उच्च न्यायालय में पेंडिंग होने की वजह से उनके नतीजे जारी नहीं किए गए हैं। बता दें कि कुल 1384 पदों के लिए लिखित परीक्षा 5 एवं 8 नवंबर को आयोजित की गई थी। छत्तीसगढ़ के शासकीय महाविद्यालयों में बड़ी संख्या में व्याख्यताओं के पद खाली हैं।





देश में आज से कोरोना वैक्सीन की शुरुआत की गई. टीकाकरण अभियान शुरू करते हुए पीएम मोदी ने देश को संबोधित किया एम्स रायपुर में आज सुबह सबसे पहले यहां के डायरेक्टर डॉ नितिन नागरकर को कोरोना टीका लगाया गया। दूसरे नंबर पर सफाई कर्मी  मलखान जांगड़े को टीका लगाया गया। डायरेक्टर ने निगरानी कक्ष में टीकाकरण करवाने वाले जांगड़े से पूछा कैसे लग रहा है? 



रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने निवास कार्यालय में छत्तीसगढ़ कॉउन्सिल ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी द्वारा बनाये गए पोस्टर का विमोचन किया। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, प्रभारी मुख्य सचिव सुब्रत साहू,प्रमुख सचिव विज्ञान एवँ प्रौद्योगिकी डॉ. मनिंदर कौर द्विवेदी, कॉउन्सिल के महानिदेशक मुदित कुमार सिंह भी उपस्थित थे। 


संस्थान के द्वारा बच्चों को विज्ञान एवँ प्रौद्योगिकी के प्रति आकर्षित करने के लिए प्रदेश भर के स्कूलों, महाविद्यालयों और पंचायत केंद्रों के माध्यम से इन पोस्टरों का वितरण किया जाएगा। सिंह ने बताया कि छत्तीसगढ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी रीजनल साइंस सेंटर, राजधानी दिल्ली के नेशनल साइंस सेंटर की तर्ज पर स्थापित की गयी है।


दरअसल अक्टूबर 2018 में कुत्ते के काटने से 38 वर्षीय गेंदलाल गोंड की मौत हो गई थी। गेंदलाल के पिता भैयालाल गोंड ने अपने बेटे की मौत पर मुआवजा के लिए हाईकोर्ट में अपील किया था। जून 2019 में दोनों पक्षों में सुनवाई के बाद हाईकोर्ट की एकल बेंच ने आवेदक भैयालाल गोंड के पक्ष में फैसला सुनाया था और राज्य सरकार को मुआवजा के तौर पर 10 लाख रुपये देने निर्देशित किया था।

लेकिन सिंगल बेंच के फैसले को छतीसगढ़ शासन ने हाईकोर्ट की डबल बेंच में अपील की। जिस पर सुनवाई के दौरान शासन के पक्ष को विधिअनुरुप पाते हुए सिंगल बेंच के फैसले पर रोक लगा दी है। जिससे अब पीड़ित परिवार को मिलने वाले 10 लाख रुपए मुआवजा नहीं मिलेगा। इस प्रकरण में छतीसगढ़ शासन की ओर से महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा और उप महाधिवक्ता सुदीप अग्रवाल ने की है।

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्यपाल अनुसुइया उइके ने आज मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर बालको मेडिकल सेंटर मेंडायलिसिस मशीन का उद्घाटन किया, जो अस्पताल द्वारा प्रदान किए गए उपकरणों और सेवाओं की सूची में जुडी नवीनतम सुविधा है। मकर संक्रांति शुभ उत्तरायण काल की शुरुआत का प्रतीकहै, और इस पवित्र दिन पर, राज्यपाल ने कहा की उन्हें बालको मेडिकल सेंटर में जो सुविधाएं कैंसर के मरीज़ों को मिलती देखी, वह उन्होंने आसपास के दूसरे राज्यों में भी नहीं देखी।

उन्होंने कहा की यहां उन्होंने मरीज़ों को देखा है जो कैंसर के अंतिम पड़ाव पर है, और उनका इलाज भी संभव हो पा रहा है । माननीय राज्यपाल ने बालको मेडिकल सेंटर के प्रबंधकों को उनके द्वारा किये जाने वाले सामाजिक कार्यों और छत्तीसगढ़ राज्य में इतनी अच्छी कैंसर देखभाल लोगों को देने के लिए सराहा। अपनी यात्रा के दौरान, उन्होंने अस्पताल के अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे और सुविधाओं की सराहना की और कहा कि बालको मेडिकल सेंटर वास्तव में छत्तीसगढ़ के वंचित समुदायों के लिए एक वरदान है, जो अब अपने राज्य में विश्व-स्तर के कैंसर के उपचार का लाभ उठा सकते हैं।

माननीय राज्यपाल ने आधुनिक, व्यापक और उच्चगुणवत्ता वाली चिकित्सा देखभाल की सराहना की जो यह अस्पताल एक सस्ती कीमत पर प्रदान करता है। बाद में उन्होंने कैंसर से पीड़ित रोगियों औरबच्चों के साथ बातचीत की जिनका इलाज आयुष्मान भारत और डॉक्टर खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना जैसी विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत बालको मेडिकल सेंटर में किया जा रहा है।उन्होंने अस्पताल के कर्मचारियों के साथ भी बातचीत की, उनकी कड़ी मेहनत और समर्पण की सराहना की और उन्हें प्रोत्साहित किया कि वेहर दिन ऐसे ही दयालु देखभाल प्रदान करते रहें।

कवर्धा। प्रदेश के परिवहन, आवास एवं पर्यावरण, वन, विधि विधायी कार्य विभाग के मंत्री मोहम्मद अकबर ने आज प्रदेश को शिक्षा के क्षेत्र में एक नई दिशा देने वाली छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा प्रारंभ की जा रही अंग्रेजी माध्यम के स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल भवन निर्माण का भूमिपूजन किया। इस अवसर नगर पालिका अध्यक्ष ऋषि शर्मा, कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा, जिला पंचायत सीईओ विजय दयाराम, डीएफओ दिलराज प्रभाकर, कन्हैया अग्रवाल, कलीम खान, उपाध्यक्ष जमील खान, भीखम कोसले, मोहित महेश्वरी, नरेन्द्र देवांगन, चुनवा खान, अशोक सिंह, सुनील साहू, दलजीत पाहुजा, राजकुमार तिवारी, गंगोत्री योगी सहित पार्षदगण एवं शिक्षक-शिक्षिका उपस्थित थे। 

कबीरधाम जिले के जिला मुख्यालय कवर्धा में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम का यह पहला स्कूल खुलने जा रहा है। राज्य शासन द्वारा इस स्कूल के भवन निर्माण के लिए 2 करोड़ 48 लाख रूपए की मंजूरी दी गई है। इस स्कूल में दाखिला लेने वाले सभी विद्यार्थियों को बेहतर शैक्षणिक सुविधा देने सर्व सुविधा युक्त प्रयोगशाला कक्ष, पुस्तकालय, ओपन जिम, बच्चों की खेलने की सुविधा, ऑडिटोरियम, शौचालय, साइकल स्टैंड, स्वच्छ पानी पीने की उत्तम व्यवस्था सहित अन्य सुविधाएं होगी। बेहतर और उत्कृष्ट शिक्षा को ध्यान में रखते हुए विद्यार्थियों को स्मार्ट क्लास प्रोजेक्टर के साथ अध्यापन कराया जाएगा। 

वर्तमान मे अंग्रेजी माध्यम स्कूल में कक्षा पहली में 81, दूसरी में 96, तीसरी में 104, चौथी में 43, पांचवी में 41, छठवीं में 41, सातवी में 51, आठवी में 50, नवमी में 50, दसवी में 36, ग्यारहवी में 91 कुल इस तरह स्वामी आत्मानंद के इस स्कूल में 682 विद्यार्थी अध्यनरत है। कोवडि-19 कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए विद्यार्थियों को छत्तीसगढ़ सरकार की पढ़ई तुहंर दुआर कार्यक्रम के तहत ऑनलाईन पढ़ाई, टेस्ट परीक्षा, एसाईमेंट तथा विभिन्न प्रकार के शैक्षणिक गतिविधियां और प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि शिक्षा हर समाज और देश की प्रगति का प्रतिबिम्ब है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सकारात्मक सोच से छत्तीसगढ़ सरकार ने उन परिवारों के सपनों को साकार करने का बीड़ा उठाया है, जो कमजोर आर्थिक स्थिति की वजह से अपने बच्चों को महंगे अंग्रेजी निजी स्कूलों में शिक्षा दिलाने में समर्थ नहीं थे। छत्तीसगढ़ शासन ने गरीब परिवारों के प्रतिभाशाली बच्चों के बेहतर शिक्षा के प्रबंध में एक और कड़ी को शामिल कर लिया है। यह कड़ी अंग्रेजी मीडियम के सरकारी स्कूल हैं, जहां बच्चों को मुफ्त में राष्ट्रीय स्तर की शिक्षा अंग्रेजी माध्यम से दिए जाने की पहल शुरू कर दी गई है। 

छत्तीसगढ़ जैसे हिंदी भाषी राज्य के छात्रों की प्रतिभा निखारने और उन्हें राष्ट्रीय स्तर की सभी प्रकार की प्रतियोगिताओं के काबिल बनाने के उद्देश्य से अंग्रेजी मीडियम में अध्ययन-अध्यापन को बढ़ावा देने के लिए स्वामी आत्मानंद के नाम से इंग्लिश मीडियम के स्कूल की शुरूआत की गई है। प्रथम चरण राज्य में 52 इंग्लिश मीडियम स्कूल राज्य के सभी जिला मुख्यालयों में शुरू कर दिए गए हैं। आगामी शिक्षा सत्र से 100 और नए इंग्लिश मीडियम स्कूल ब्लाक मुख्यालयों में खोले जाएंगे।

रायपुर। कोरोना काल में मकर संक्रांति पर पहले जैसी रौनक तो कहीं नहीं नजर आ रही है। बावजूद इसके भी खारुन नदी पर महादेव घाट में मकर संक्रांति पर रौनक रही। यहां पहुंचे श्रद्धालुओं ने स्नान, दर्शन और दान का पुण्यलाभ उठाया। सूर्य के मकर राशि में आने से मकर संक्रांति पर्व मनाया जा रहा है। इस बार मकर राशि में सूर्य के साथ चंद्रमा, बुध, गुरु और शनि भी हैं। इन पांच ग्रहों का योग पिछले 200 साल में नहीं बना। साथ ही पांच राजयोग बन रहे हैं। इनमें सूर्य का उत्तरायण होना बहुत शुभ माना जा रहा है। 

मकर संक्रांति पर मंगल, शनि, बृहस्पति और चंद्रमा से रुचक, शश, गजकेसरी, दान और पर्वत नाम के राजयोग बन रहे हैं। इनमें तीर्थ स्नान, पूजा और दान करने से बहुत पुण्य मिलता है। इसके लिए सुबह 8:29 से शाम को सूर्यास्त तक पुण्यकाल रहेगा। मकर संक्रांति धार्मिक पर्व होने के साथ ही एक खगोलीय घटना भी है। जिससे धरती के उत्तरी गोलाद्र्ध में सूर्य के आने से दिन बड़े और रातें छोटी होने लगती हैं। मकर संक्रांति से ही सूर्य उत्तरायण हो जाता है यानी उत्तरी गोलार्ध में सूर्य 24 डिग्री आगे बढ़ चुका होता है।

इस कारण धरती पर सूर्य का ज्यादा असर पडऩे लगता है। इससे दिन के घंटे बढऩे लगते हैं। ज्योतिष ग्रंथों में मकर एक राशि है और एक काल्पनिक रेखा भी है। जो भूमध्य रेखा से करीब साढ़े 23 डिग्री उत्तर की और काल्पनिक रूप से मौजूद है। जब सूर्य धनु से मकर राशि में आता है तो उसकी किरणें मकर रेखा पर सीधे गिरती हैं। इसलिए भारतीय उप महाद्वीप में दिन बड़े और रातें छोटी होने लगती हैं। जिससे सूरज की किरणों से इन जगहों के लोगों में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है और पेड़-पौधे भी जल्दी विकास करते हैं। ये ही वजह है कि इस मौसम में अनाज और धान उगता है।

रायपुर। कोरोना महामारी से निपटने के लिए राहत का टीका रायपुर पहुंचा है। आज एयर कार्गो की विमान में कोरोना वैक्सीन की पहली खेप रायपुर हवाई अड्डे पर लैंड हुई है। बता दें कि छत्तीसगढ़ में पहले चरण में 2 लाख 67 हजार फ्रंटलाइन वर्कर्स को यह टीका लगाया जाना है। इसके लिए पूरे राज्य में 99 वैक्सीनेशन केन्द्र चिंहाकिंत किए हैं। इस संबंध में जानकारी देने के लिए आज राष्टीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डाॅ प्रियंका शुक्ला ने मीडिया प्रतिनिधियों से संवाद किया और वैक्सीनेशन सेे संबंधित जानकारी साझा की।@GI@

उन्होने बताया कि वैक्सीनेशन केन्द्र राज्य के मेडिकल कालेजों,जिला अस्पतालों, कुछ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों और निजी अस्पतालों में स्थापित किए गए हैं। उन्होने बताया कि कोविन एप में राज्य के सभी हेल्थ केयर वर्कर का डाटा रजिस्टर कर लिया गया है। रजिस्टेशन के लिए कोई भी फोटो युक्त पहचान पत्र की आवश्यकता होगी। पात्र लाभार्थियों को उनके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर वैक्सीनेशन की जगह ,समय और तारीख का संदेश भेजा जाएगा।@GI@)

वैक्सीन लगाने के बाद व्यक्ति को आधे घंटे तक निरीक्षण कक्ष में रखा जाएगा और तबीयत खराब लगने पर तुरंत उपचार की व्यवस्था की जाएगी। वैक्सीन लगाने वाले वैक्सीनेटर को भी समुचित प्रशिक्षण दिया गया है। एक वैक्सीनेटर एक दिन में 100 लोगों को टीका लगाएगा। वैक्सीन की पहली खुराक के 28 दिनों के अंदर दूसरी खुराक लेना होगा। इसके दो सप्ताह के अंदर आम तौर पर एंटीबाडी का सुरक्षात्मक स्तर विकसित होता है। वैैैक्सीन लगाने के बाद भी कोविड अनुरूप व्यवहार करना आवश्यक होगा जिससे कोरोना के खतरे को कम किया जा सकेगा।@GI@