Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



लगातार अनुपस्थित रहने, सरपंच का फर्जी हस्ताक्षर कर वेतन आहरण करने तथा पदीय कर्तव्यों के निर्वहन में स्वेच्छाचारिता तथा घोर लापरवाही बरतने के कारण छत्तीसगढ़ पंचायत सेवा (अनुशासन तथा अपील) नियम 1999 के नियम 4 (1) के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।

मार्च माह के शनिवार अवकाश के दिनों में भी पंजीयन कार्य होगा। रजिस्ट्री कार्य का समय सुबह 10.30 बजे से शाम 6 बजे तक किया जाएगा। इस व्यवस्था के तहत ऑनलाईन टोकन लेने वाले लोगों को भी इस समय तक रजिस्ट्री कराने के लिए टोकन लेने की व्यवस्था की गई है।

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों से कोरोना संक्रमण से बचाव के उपायों का कड़ाई से पालन करने और पात्रतानुसार टीकाकरण के कार्य में सहयोग की अपील की है। उन्होंने कहा है कि कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई की सफलता के लिए यह जरूरी है कि पात्रतानुसार सभी लोग टीका लगवाएं। बघेल ने कहा है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सभी लोग मास्क लगाएं, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, सेनेटाईजर का उपयोग करें और साबुन से बार-बार हाथ धोएं। 
मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोरोना से बचाव के लिए सभी लोग पात्रतानुसार टीकाकरण में सहयोग करें। टीका लगाने और लगवाने का काम आपके बिना पूरा नहीं होगा। टीका लगाने के बाद भी मास्क, सुरक्षित दूरी तथा हाथों को साबुन से बार-बार धोने जैसे उपाय करते रहें। मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य सरकार के साथ समाज के सभी वर्गों के सहयोग से ही छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण को रोकने में हम अब तक काफी हद तक सफल हुए हैं। उम्मीद है कि भविष्य में भी सभी के सहयोग से हम कोरोना को रोकने में सफल होंगे।

रायपुर। असम विधानसभा चुनाव में पार्टी की जीत सुनिश्चित करने आला कमान ने छत्तीसगढ़ कांग्रेस के दिग्गज मंत्रियों-नेताओं को जिम्मेदारी सौपी है। मुख्यमंत्री बघेल, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभा रहे है, वहीं अब बूथ वर्किंग के साथ पूरी गतिविधियों की मॉनिटरिंग छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ नेता व पदाधिकारी करेंगे। सभी सीटों के लिए वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदारी बांटी गई है। 
इस दौरान कई जनसभाओं को संबोधित करेंगे। मुख्यमंत्री बघेल के निर्देश पर आज मंत्री अकबर असम पहुंचेंगे, जहां वे अगले एक सप्ताह तक कैंप कर सकते है। उनका चुनावी सभा व जनसंपर्क का कार्यक्रम तय किया जा रहा है। असम में कांग्रेस का फोकस मुख्यतः अल्पसंख्यक बाहुल्य सीटों तथा मुस्लिम प्रभाव रखने वाली सीटों पर रहेगा। ज्ञातव्य है कि असम में मुस्लिम समुदाय की 38 प्रतिशत आबादी समीकरण को प्रभावित करती है।

रायपुर। वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मोहम्मद अकबर ने आज राजधानी के शंकर नगर स्थित अपने निवास कार्यालय से आज व्यावसायिक तथा गैर-व्यावसायिक स्नातक कोर्स हेतु छात्रवृत्ति अथवा अनुदान प्रदाय योजना के तहत 907 छात्र-छात्राओं के बैंक खाते में 45 लाख 30 हजार रूपए का ऑनलाइन भुगतान किया। यह राशि तेंदूपत्ता संग्राहक परिवारों के बच्चों को शिक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ द्वारा लागू योजना के तहत प्रदाय की गई। इस अवसर पर प्रमुख सचिव वन एवं जलवायु परिवर्तन मनोज पिंगुआ, प्र्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन बल प्रमुख राकेश चतुर्वेदी, प्रबंध संचालक राज्य लघु वनोपज संघ संजय शुक्ला, अपर प्रबंध संचालक एस.एस. बजाज, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक जयसिंह म्हस्के, मुख्य वन संरक्षक जे.आर. नायक सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

इस अवसर पर वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री अकबर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में तेंदूपत्ता संग्राहक परिवारों के हितों का पूरा-पूरा ध्यान रखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य में तेंदूपत्ता संग्राहण दर की राशि बढ़ाने से जहां एक ओर संग्राहकों की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है तथा रोजगार के साधन उपलब्ध हुए हैं। वहीं दूसरी ओर विभिन्न योजनाओं के माध्यम से तेंदूपत्ता संग्राहक परिवारों को मेघावी छात्र तथा छात्राओं को आगे की पढ़ाई के लिए भरपूर प्रोत्साहन भी दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य में इसके तहत तेंदूपत्ता संग्राहक परिवारों के मेघावी छात्र-छात्राओं को पुरस्कार, प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति तथा व्यावसायिक कोर्स हेतु छात्रवृत्ति और गैर व्यावसायिक स्नातक कोर्स हेतु अनुदान प्रदाय करने की योजना लागू है।

गौरतलब है कि व्यावसायिक कोर्स हेतु छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत प्रत्येक प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति में प्रत्येक वर्ष एक विद्यार्थी जिसने किसी भी व्यावसायिक कोर्स जैसे - इंजीनियरिंग, मेडिकल, विधि, एम.बी.ए. तथा नर्सिंग में प्रवेश लिया हो तथा जिस कोर्स के प्रवेश हेतु न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता कक्षा 12वीं हो, उसका चयन इस छात्रवृत्ति के लिए किया जाता है। इसके तहत प्रथम वर्ष में 10 हजार रूपए एवं द्वितीय वर्ष तथा पश्चातवर्ती वर्षाें में 5 हजार रूपए प्रतिवर्ष अधिकतम कुल 4 वर्षाें तक राशि 25 हजार रूपए की छात्रवृत्ति उपलब्ध कराई जाती है।

इसी तरह गैर-व्यावसायिक स्नातक कोर्स हेतु अनुदान योजना के तहत प्रत्येक प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति क्षेत्र के अंतर्गत प्रत्येक वर्ष एक छात्र व एक छात्रा जिसने किसी भी राज्य शासन-केन्द्र शासन द्वारा मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्था में किसी गैर-व्यावसायिक स्नातक कोर्स जैसे बी.ए., बी.काम, बी.एस.सी. आदि स्नातक कोर्स में प्रवेश लिया हो, उसको कोर्स के प्रथम वर्ष में 5 हजार रूपए, द्वितीय वर्ष में 4 हजार रूपए एवं तृतीय वर्ष में 3 हजार रूपए अर्थात् तीन वर्षाें में कुल 12 हजार रूपए की अनुदान राशि उपलब्ध कराई जाती है।


राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक की विशेष पहल पर यह व्हाट्सएप कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। इससे महिलओं को राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रम, प्रचार-प्रसार तथा महिलाओं के सशक्तिकरण एवं अपने अधिकारों को प्राप्त करने जाने में अधिक सक्षम बनाने तथा उत्पीड़न संबंधी मामलों एवं अपराधों के रोकथाम हेतु सहायता मिलेगी।

रायपुर। नवा रायपुर के क्रिकेट स्टेडियम में मैच देखकर आए दो लोग कोरोना संक्रमित हुए हैं। इन मरीजों को होम आइसोलेशन पर रखकर इलाज किया जा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक स्टेडियम से लौटे संक्रमितों की संख्या बढ़ भी सकती है। हर दिन स्टेडियम में लापरवाही के नजारे सामने आ रहे हैं। नवा रायपुर के क्रिकेट स्टेडियम के हालात से जोड़कर देखें तो हर दिन यहां भीड़ है और यहां लापरवाही हो रही है।
रायपुर जिले के चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ मीरा बघेल ने बताया कहा- हां मैच देखकर आए दो लोग कोरोना संक्रमित हुए हैं। रायपुर शहर के पॉश इलाकों के घरों में रहने वाले कुछ ऐसे भी लोग हैं जो पिछले दिनों अपने परिवार के फंक्शन या समारोह में गए थे। कुछ लोगों की ट्रैवल हिस्ट्री भी है जो बाहर के शहरों से आए हैं। एक परिवार में तो बच्चे से लेकर बूढ़े तक 5 लोग संक्रमित हैं। हालांकि अच्छी बात ये है कि किसी को भी गंभीर रूप से वायरस ने नहीं जकड़ा सभी जल्दी ठीक हो रहे हैं। मगर सावधानी जरूरी है।
रविवार को स्टेडियम में श्रीलंका और इंग्लैंड के बीच मुकाबला था। मैच देखने अच्छी खासी तादाद में लोग पहुंचे थे। शुरूआत में तो सबकुछ ठीक ही चल रहा था, मगर जैसे भीड़ बढ़ी आयोजकों और प्रशासन की तरफ से लापरवाही दिखने लगी। मैच के एंट्री प्वाइंट पर लोगों को हाथों को सैनिटाइज करने के लिए एक स्टैंड और शरीर का तापमान जांचने के लिए मशीन रखी है। इस पर लोगों की जांच किए बिना ही सैंकड़ों लोगों को एंट्री दे दी गई।
रविवार रात तक की स्थिति में रायपुर से 133 नए कोरोना मरीज मिले हैं। 1 संक्रमित शख्स की मौत हुई है। पूरे प्रदेश में 475 नए मरीज मिले। रविवार को ही 129 लोगों को ठीक होने के बाद छुट्‌टी मिल गई। बीते शनिवार को रायपुर में 206 नए कोरोना संक्रमित मिले, 2 लोगों की मौत हुई। शुक्रवार को 121 नए मरीज मिले थे, 1 शख्स की मौत हुई थी । गुरुवार को 155 मरीज मिले थे और 1 संक्रमित की मौत हो गई थी। पिछले 4 दिनों में अकेले रायपुर शहर में 615 नए कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। छत्तीसगढ़ में अब तक 317329 लोगों को कोरोना हो चुका है। ताजा आंकड़ों को देखें तो 4006 मरीज एक्टिव हैं, 3890 लोगों की मौत हो चुकी है।
रायपुर में रोड सेफ्टी क्रिकेट टूर्नामेंट मशहूर क्रिकेटर सुनील गावस्कर की कंपनी प्रोफेशनल मैनेजमेंट ग्रुप करवा रही है। इसके प्रवक्ता जॉनथन काले ने बताया कि हमनें सीट्स पर एक सीट छोड़कर बैठने के लिए मार्किंग करवाई। लोग अगर सोशन डिस्टेंस के नियम को फॉलो नहीं कर रहे तो पुलिस को ये देखना होगा। यह पूछे जाने पर कि कुछ ब्लॉक को खाली रखकर क्यों लोगों को चुनिंदा ब्लॉक में ठूंसा जा रहा है तो इस पर काले ने कहा कि फ्री सिटिंग है लोग बैठ सकते हैं। लोगों को बिना सैनिटाइज या जांच के एंट्री देने पर काले ने कहा कि आप मुझे वीडियो दिखाइए, मैं व्यवस्था देखता हूं।
रायपुर नगर निगम ने बीते शनिवार और रविवार के दिन शहर के अलग-अलग चौराहों पर मास्क चेकिंग टीम रवाना की। इनमें महिलाएं होती हैं। अग्रसेन चौक, संतोषी नगर चौक, गोल बाजार थाने के सामने, शंकर नगर, कोतवाली थाने के पास राहगीरों के मास्क की जांच की गई। जिसने मास्क नहीं पहना था उसे रोका गया और जुर्माना लगाया गया। पिछले दो दिनों में नगर निगम के 10 जोन दफ्तरों से होने वाली जांच में 624 लोगों पर कार्रवाई की गई। इनसे 48 हजार रुपए का जुर्माना वसूला गया है। नगर निगम के अफसरों ने बताया कि ये कार्रवाई जारी रहेगी।
सार्वजनिक जगहों पर थूकना बैन कर दिया गया है। सार्वजनिक स्थलों, कार्यालयों, अस्पतालों, नर्सिंग होम, बाजार, फैक्ट्री भीड़-भाड़ वाली जगहों, गलियों वगैरह में आने- जाने वाले लोग या गाड़ियों पर गुजरने वाले लोगों के चेहरों पर मास्क या फेस कवर होना चाहिए। फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करना भी अनिवार्य होगा। ऐसा नहीं होने पर लापरवाह लोगों का पर फाइन किया जाएगा। अगर किसी दुकान, दफ्तर, संस्थान में में भीड़ का सही तरीके से मैनेजमेंट नहीं होता तो वहां के संचालक इसके लिए जिम्मेदार माने जाएंगे।

मास्क ना पहनने पर 100 रुपए, होम क्वॉरेंटाइन के दिशा निर्देशों के उल्लंघन करने पर 1000 रुपए, सार्वजनिक जगहों पर थूकते पाए जाने पर 100 और दुकान, व्यवसायिक संस्थानों के मालिकों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग फिजिकल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन किए जाने की स्थिति में 200 का फाइन देना होगा। इसके अलावा प्रशासन इन लोगों पर एफआईआर भी दर्ज कर सकता है।@GI@

रायपुर। छत्तीसगढ़ की विभिन्न क्षेत्रों की सम्मानित विभूतियों ने रविवार को नवा रायपुर के शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में रोड़ सेफ्टी टी-20 वर्ल्ड क्रिकेट सीरिज के अंतर्गत श्रीलंका लीजेंड्स और इंग्लैंड लीजेंट्स के बीच खेले गए क्रिकेट मैच का आनंद लिया। पद्मश्री सम्मान से सम्मानित  ममता चंद्राकर, भारती बंधु, अनुज शर्मा, अनूप रंजन पांडेय और मदन सिंह चौहान सहित अनेक विभूतियां ने मैच देखा। मुख्यमंत्री बघेल के निर्देश पर इसके लिए विशेष प्रबंध किए गए थे। 
मुख्यमंत्री के निर्देश पर 15 मार्च को साउथ अफ्रीका लीजेंड्स और बांग्लादेश लीजेंड्स के बीच खेले जाने वाले मैच के लिए मंत्रालय, संचालनालय एवं सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के अधिकारियों और कर्मचारियों को फ्री पास दिए जाएंगे। इसी तरह कोविड वॉरियर्स और सफाई कर्मचारियों को 16 मार्च को इंग्लैण्ड लीजेंड्स और वेस्टइंडीज लीजेंड्स के बीच खेले जाने वाले मैच के लिए सशस्त्र सेवा के जवानों के साथ निःशुल्क पास प्रदान किए जाएंगे। 

रायपुर। इस समय राज्य में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) द्वारा उत्पादित टीके कोविशील्ड का इस्तेमाल किया जा रहा है। केंद्र के को-वैक्सिन पर से चिकित्सीय परीक्षण के रूप में इस्तेमाल का टैग हटाए जाने के बाद छत्तीसगढ़ सरकार राज्य में इसके इस्तेमाल को मंजूरी देने पर विचार कर रही है। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव ने रविवार को यह जानकारी दी सिंह देव ने इस साल जनवरी में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से कोवैक्सिन के तीसरे चरण का परीक्षण पूरा होने तथा इसके परिणाम आने तक प्रदेश में इसकी आपूर्ति रोकने का आग्रह किया था। इस टीके को भारत बायोटेक ने विकसित किया है। इस समय राज्य में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) द्वारा उत्पादित टीके कोविशील्ड का इस्तेमाल किया जा रहा है।


सिंह देव ने कहा की केंद्र सरकार द्वारा चिकित्सीय परीक्षण के रूप में इस्तेमाल का ठप्पा हटाए जाने के बाद हम कोवैक्सिन को राज्य में उन लोगों को लगाने की अनुमति देने पर विचार कर रहे हैं जो इसका विकल्प चुनते हैं। भले तीसरे चरण के परीक्षण के नतीजों का प्रकाशन अभी बाकी है। उन्होंने कहा कि कोवैक्सिन के आंकड़े (दूसरे चरण के चिकित्सीय परीक्षण) लांसेट संक्रामक रोग जर्नल में प्रकाशित हुए हैं जिसमें संकेत किया गया है कि टीके की सुरक्षा पर सवाल नहीं है बस इसके प्रभाव का सवाल लंबित है।सिंह देव ने कहा, हालांकि, जब केंद्र ने चिकित्सीय परीक्षण के तौर पर इस्तेमाल की श्रेणी से इसे हटा दिया है तब कई लोग ऐसे हैं जो इसे लेना चाहते हैं।


उन्होंने कहा, एकमात्र मुद्दा है जो मैं उठाने की कोशिश कर रहा हूं, वह है कि प्रक्रिया का पालन होना चाहिए। यह आपात स्थिति है इसलिए टीके 10 महीने में बनाए गए, नहीं तो आम तौर पर इन्हें विकसित करने में 10 से 15 साल का समय लगता है। सिंह देव ने कहा, लेकिन इन 10 महीनों में भी अन्य कंपनियों ने प्रक्रिया पूरी की. भी कंपनियों को टीका देने की अनुमति देने से पहले प्रक्रिया पूरी करनी चाहिए। अन्यथा परीक्षण चरणों का क्या औचित्य रह जाएगा।स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, हमें अपने स्वदेशी टीके पर गर्व है लेकिन मेरा मानना है कि इसे आम लोगों को लगाने से पहले अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रक्रिया का पालन करना चाहिए। हमारी प्राथमिक चिंता हमारे नागरिकों की सेहत है और किसी भी टीके का प्रभाव साबित होने के बाद ही अनुमति दी जानी चाहिए।


वहीं, राज्य सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 2020 के लिखित परीक्षा परिणाम के आधार पर राज्य सेवा (मुख्य) परीक्षा 2020 के लिए विज्ञापित पदों का 15 गुणा अभ्यर्थियों का चिह्नांकन किया जाना था। लेकिन वर्गवार, उपवर्गवार अंतिम चिह्नांकित अभ्यर्थियों के समान प्राप्तांकों की पुनरावृत्ति होने के कारण कुल 2,763 अभ्यर्थी चिह्नांकित किए। इधर मुख्य परीक्षा के लिए चिह्नांकित अभ्यर्थियों को अब आनलाइन आवेदन करना होगा।

गरियाबंद। गरियाबंद जिले के फिंगेश्वर शहर की गलियों में जंगली हाथी दल को घूमते देख लोगों में भगदड़ मची गई। बताया जा रहा है कि दो हाथी शहर में स्वछंद विचरण कर रहे हैं। दोनों हाथी करीब दो घंटे तक फिंगेश्वर शहर में घूमते रहे और धान खरीदी केंद्र में जमकर उत्पात मचाया। ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार पिछले कई दिनों से दोनों हाथी क्षेत्र में जमाए हुए हैं ये हाथी डेरा, खुरसा गांव के पास विचरण कर रहे हैं। 

हाथियों ने धान खरीदी केंद्र की दीवार और गेट तोड़ दिया। वहां रखी धान की बोरियों को भी नुकसान पहुंचाया है। धान संग्रहण केंद्र में उत्पात मचाने के बाद दल शहर से होते हुए सरकड़ा, बिडोरा गांव की ओर बढ़ गए। फिलहाल हाथियों की लोकेशन खुरसा गांव के आसपास बताई जा रही है। राहत की बात ये है कि अभी तक हाथियों ने कोई बड़ा नुकसान नहीं किया है। 

वन विभाग ने जारी की चेतावनी, अकेले जंगल में जाने से मना किया फिंगेश्वर वन परिक्षेत्र प्रभारी ने बताया कि दो हाथियों का दल क्षेत्र में विचरण कर रहा है।दोनों हाथी सूखा नदी के रास्ते बिडोरा और सरकड़ा गांव की तरफ निकल गए। ग्रामीणों के शोर शराबा करने के कारण हाथी दोबरा वापस आए और खुरसा की ओर निकले हैं। फिलहाल हाथी फिलहाल यही डेरा जमाए हुए हैं। हाथियों की गतिविधियों पर नजर बनाए हुए हैं। लोगों को भी सचेत किया गया है। अकेले जंगल में जाने से मना किया जा रहा है।

इस परीक्षा में तृतीय लिंग समुदाय के 13 उम्मीदवारों का पुलिस आरक्षक पद पर चयन हुआ है और दो उम्मीदवार वेंटिंग लिस्ट में हैं। रायपुर जिले से 8, धमतरी से एक, राजनांदगांव से 2, बिलासपुर से एक, कोरबा से एक, अंबिकापुर से एक तृतीय लिंग के परीक्षार्थी का चयन पुलिस आरक्षक हेतु किया गया है।

रायपुर। चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्रीज चुनाव 2021 के प्रचार अभियान के क्रम में आज जय व्यापार पैनल की टीम ने सुबह 11 बजे से तेलीबांधा से जनसम्पर्क प्रांरभ करते हुए शारदा चैक, एम.जी.रोड़, गुरूनानक चौक, जनक बाड़ा, नहरपारा एवं अरिहंत काम्पलेक्स के व्यापारियों से मुलाकात कर जय व्यापार पैनल को विजयी बनाने की अपील की। प्रदेश अध्यक्ष प्रत्याशी अमर पारवानी एवं कोषाध्यक्ष प्रत्याशी उत्तम गोलछा के नेतृत्व में रायपुर जिला से उपाध्यक्ष एवं मंत्री प्रत्याशियों ने व्यापारियों से भेंट करते हुए चुनाव में उनसे समर्थन मांगा। इस दौरान सभी व्यापारियों ने स्वस्फूर्त होकर अपना समर्थन देते हुए इस बार जय व्यापार के नारे लगाए। 

सभी व्यापारियों ने यह स्वीकारा कि जय व्यापार पैनल की टीम सदैव की व्यापारी हित में समर्पित होकर कार्य करती आ रही है और आज चेम्बर को ऐसे ही सशक्त प्रत्याशियों की आवश्यकता है। प्रदेश अध्यक्ष प्रत्याशी अमर पारवानी ने इस दौरान सभी व्यापारियों से शत प्रतिशत मतदान करने की अपील की। जय व्यापार पैनल के मुख्य चुनाव संचालक नरेन्द्र दुग्गड, सह संचालक जितेंद्र दोशी एवं मांगेलाल मालू ने संयुक्त रूप से जानकारी देते हुए बताया कि चेम्बर चुनाव में जय व्यापार पैनल मजबूती के साथ मैदान में है और प्रदेश के व्यापारियों का हमें जोरदार समर्थन मिल रहा है। प्रदेश के व्यापारियों का जोरदार समर्थन हमारी जीत का प्रमाण है। 

व्यापारी वर्ग जय व्यापार पैनल द्वारा व्यापारी हित में किये गये कार्यों और पैनल की कार्यशैली से प्रभावित है। नरेन्द्र दुग्गड़ ने बताया कि सभी जिलों में हमारे उपाध्यक्ष एवं मंत्री प्रत्याशी भी प्रचार अभियान में जुटे हुए हैं और पैनल के सदस्यों द्वारा व्यापारी हित में किये गये कार्यों और भावी योजनाओं को व्यापारियों तक पहुंचा रहे हैं। उन्होंने बताया कि आज पैनल की टीम ने तेलीबांधा, शारदा चैक, एम.जी.रोड़, गुरूनानक चैक, जनक बाड़ा, नहरपारा एवं अरिहंत काम्पलेक्स के व्यापारियों ने उनका भव्य स्वागत करते हुए अपनी शुभकामनाएं दी।

पैनल से प्रदेश अध्यक्ष प्रत्याशी अमर पारवानी ने उपस्थित सभी व्यापारियों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के सभी व्यापारी अब परिवर्तन चाहते हैं। व्यापारी अब ये चाहते हैं कि चेम्बर की कमान ऐसे प्रत्याशी के हाथों में हो जो उनके हित के लिए संघर्ष करे और उनकी बात सुने। श्री पारवानी ने कहा कि हमने व्यापारी हित से बढ़कर कभी कुछ भी नहीं माना। हमारे लिए प्रदेश के लिए 6 लाख व्यापारी साथी हमारे अपने हैं जिनके हित के लिए प्रयास करना हमारा परम कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि मुझे बहुत खुशी है कि प्रदेश के सभी व्यापारियों ने हमारी टीम के द्वारा किये गये कार्यों को सराहते हुए हमें अपना समर्थन दिया है। 


कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए स्वास्थ्य और महिला एवं बाल विकास विभाग को आपसी तालमेल एवं मिल जुलकर काम करने को कहा है. उन्होंने कहा कि महिलाओं एवं बच्चों को सुपोषित एवं स्वस्थ बनाये रखना दोनों विभाग की संयुक्त जिम्मेदारी है. लिहाजा ग्रामीण स्तर पर आपसी समन्वय के साथ काम करने की सख्त जरूरत है. कलेक्टर ने आज जिला पंचायत के सभाकक्ष में महिला एवं बाल विकास विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग के काम-काज की समीक्षा के लिए आयोजित बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। 


उन्होंने दो पालियों में दोनों विभाग के जिलास्तरीय, विकासखण्ड एवं सेक्टर स्तर के अधिकारियों की बैठक में योजनाओं की विस्तृत समीक्षा की है. बैठक में जिला पंचायत सीईओ डाॅ. फरिहा आलम सिद्धिकी, संयुक्त कलेक्टर एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रभारी टेकचन्द्र अग्रवाल, सीएमएचओ डाॅ.खेमराज सोनवानी, जिला कार्यक्रम अधिकारी एल.आर.कच्छप, सिविल सर्जन डाॅ.राजेश अवस्थी उपस्थित थे। 

कलेक्टर जैन ने कहा कि ग्रामीण महिलाओं में कुपोषण एक बड़ी समस्या है. इसे दूर करना हमारी जिम्मेदारी है. उन्होंने अगले दो महीने में इसका विस्तृत सर्वे कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने कहा है. रिपोर्ट में इसे दूर करने के लिए प्रभावी डाईट चार्ट भी सुझाएं ताकि मुख्यमंत्री सुपोषण चैपाल के जरिये उन्हें सुपोषित किया जा सके. पहले चरण में अभियान के अंतर्गत अच्छे परिणाम आए है। 

कलेक्टर ने कहा कि कुपोषण के विरूद्ध चैतरफा हमले की जरूरत है. जिला पुनर्वास केन्द्र (एनआरसी) का भी भरपूर उपयोग किया जाएगा. कोरोना काल में ये केन्द्र अधिकांश खाली हो गई थी. फिलहाल पलारी एवं कसडोल में एनआरसी केन्द्र संचालित हैं. दोनों केन्द्र मिलाकर मात्र 20 बेड की सुविधा है. कलेक्टर ने प्रत्येक विकासखण्ड के लिए अलग से एनआरसी केन्द्र खोलने के लिए प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजने के निर्देश दिए. अधिकारियों ने बताया कि जिले में फिलहाल 5 हजार 852 बच्चे गंभीर रूप से कुपोषित पाये गए है। 

बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी एल.आर कच्छप ने बताया कि 289 आंगनबाड़ी केन्द्रों के लिए शौचालय निर्माण की स्वीकृति मिली है. प्रति शौचालय 30 हजार रूपये की राशि स्वीकृत की गई है. ग्राम पंचायत के जरिये इनका निर्माण कराया जाएगा. कलेक्टर ने कहा कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत प्रथम प्रसव पर महिलाओं को तीन किश्तों में 5 हजार रूपये की राशि प्रदान की जाती है. मुख्य रूप से यह शिशुवती माताओं के संतुलित भोजन के लिए होता है. उन्होंने कहा कि मैदानी कार्यकर्ता एवं मितानीन देखें कि इनका सही इस्तेमाल होने चाहिए.

उन्होंने सेक्टर एवं ग्रामीण स्तर तक स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग के योजनाओं की गहन समीक्षा की. बेहतर काम करने वाले कर्मचारियों को शाबाशी देने के साथ लापरवाह किस्म के कर्मचारियों को फटकार भी लगाई. उन्होंने लापरवाह किस्म के अधिकारी-कर्मचारियों को 15 दिवस में अपने काम में सुधार लाने की सख्त हिदायत भी दी. कलेक्टर ने गर्भवती माताओं के शतप्रतिशत पंजीयन एवं संस्थागत प्रसव पर जोर दिया. मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि जिले में 2 लाख से ज्यादा कोरोना की जांच हो चुकी है. इनमें 9845 पाॅजीटिव प्रकरण सामने आये है। 

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पिछले 10 महीने में 141 किसानों ने आत्महत्या की है। विधानसभा में आज विपक्ष के नेता धरमलाल कौशिक ने राज्य में पिछले साल अप्रैल से इस वर्ष एक फरवरी तक किसानों की आत्महत्या और इसके कारणों को लेकर सवाल किया। जिसके जवाब में छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया कि राज्य में पिछले 10 महीने में 141 किसानों ने आत्महत्या की है।

कृषि मंत्री रवींद्र चौबे के जवाब के बाद भाजपा ने प्रत्येक मामले की जांच करने और मृतक किसानों के परिजनों को मुआवजा देने की मांग की। चौबे ने बताया कि कोंडागांव जिले के किसान धनीराम मरकाम की आत्महत्या के प्रकरण में अभिलेख दुरूस्ती और फसल गिरादावरी में त्रुटि पाए जाने पर पटवारी डोंगर नाग को निलंबित किया गया है। मंत्री के जवाब के बाद कौशिक ने कहा पिछले 10 महीनों के दौरान बड़ी संख्या में किसानों ने आत्महत्या की है और मंत्री बता रहे हैं कि केवल एक ही प्रकरण में पटवारी को निलंबित किया गया है।

उन्होंने कहा कि किसान आत्महत्या के सभी प्रकरणों की जांच होनी चाहिए तथा जांच के बाद मृतकों के परिजन को मुआवजा देना चाहिए। मंत्री चौबे ने कहा कि किसानों की आत्महत्या राजनीति करने का विषय नहीं है, लेकिन दुर्भाग्य है कि भाजपा इस मामले में राजनीति करना चाहती है। उन्होंने कहा कि राज्य में भाजपा के शासन के दौरान भी किसानों ने आत्महत्या की है लेकिन तब भी ऐसे मामलों में मुआवजा देने के बारे में नहीं सोचा गया। 

इस दौरान कांग्रेस के विधायकों ने पिछली सरकार के दौरान किसान आत्महत्या की घटनाओं का उल्लेख किया और कहा कि तब मृत किसानों के परिजनों को मुआवजा नहीं दिया गया था। इसके बाद किसान आत्महत्या को लेकर सरकार और विपक्षी दल के सदस्यों के बीच नोक- झोंक शुरू हो गई। वहीं, भाजपा ने मृत किसानों के परिजनों को मुआवजा देने की मांग की। बाद में सरकार के जवाब से असंतुष्ट भाजपा विधायकों ने सदन से बहिर्गमन किया।


रायपुर। छत्तीसगढ़ कोष, लेखा एवं पेंशन विभाग के संयुक्त संचालक राजेश श्रीवास्तव का शव नागपुर के एक लॉज में मिला है। सूचना मिलने के बाद पुलिस और परिजन नागपुर के लिए रवाना हो गये हैं। वे एक मार्च को नवा रायपुर स्थित संचालनालय इंद्रावती भवन परिसर से गायब हो गये थे। परिजनों का कहना है कि वे डिप्रेशन और शुगर के मरीज थे। पिछले 8 महीने से वेतन नहीं मिलने से परेशान रहते थे।

बताया जा रहा है कि नागपुर के सीताबर्डी थाना स्थित पूजा लॉज के 104 नंबर कमरे में राजेश श्रीवास्तव का शव मिला है। उन्होंने काफी देर तक दरवाजा नहीं खोला तो लॉज के कर्मचारियों ने दरवाजा खोलकर देखा। वे बिस्तर पर ही मृत पाये गये। लॉज प्रबंधन की सूचना पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने मर्ग कायम पर शव की शिनाख्त के बाद पोस्टमार्टम कराया।

उनकी शिनाख्त के लिए उनकी मोबाइल और लॉज के रजिस्टर में दर्ज नाम-पते का इस्तेमाल किया गया। नागपुर पुलिस ने रायपुर पुलिस से संपर्क कर शव मिलने की जानकारी और यहां दर्ज गुमशुदगी का मामला साझा किया। संयुक्त संचालक की मौत कैसे हुई यह अभी पहेली बना हुआ है। पुलिस अब उनकी मौत की गुत्थी सुलझाने की कोशिश में है। इसके लिए पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार होगा।

रायपुर। राजधानी के कुछ इलाकों में 4 मार्च जल आपूर्ति बाधित रहेगी । सुबह की नियमित सप्लाई के बाद बिजली बंद होने के कारण शाम को घरों तक पानी नहीं पहुंच पाएगा। नगर निगम रायपुर के जलकार्य विभाग अध्यक्ष सतनाम सिंह पनाग ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि विद्युत विभाग को ओर से 11 केव्ही लाइन के रावणभाठा उपकेन्द्र के फीडरों में गर्मी के पूर्व आवश्यक संधारण किया जाएगा। 

इसके कारण प्लांट से भरने वाली टंकिया बैरनबाजार, मोतीबाग, संजय नगर, देवेन्द्रनगर, महापौर निवास टैंक क्रमांक 4 के ओव्हरहेड टैंक से 4 मार्च को सुबह ही नियमित जलापूर्ति होगी। बिजली बंद होने के कारण जलागारो में जल का भराव न होने के कारण 4 मार्च को शाम पानी सप्लाई प्रभावित रहेगी। 5 मार्च को सुबह नियमित शुरू होगी। उन्होंने बताया कि शहर के अन्य जलागारों व पावरपंपों से सप्लाई यथावत रहेगी।

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के पुलिस अधिकारियों को आय से अधिक संपत्ति के मामले में हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है। मुकेश गुप्ता और राजनेश सिंह समेत अन्य अधिकारियों ने आय से अधिक मामले पर दर्ज एफआईआर पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है। जस्टिस सामंत की सिंगल बेंच ने यह आदेश जारी किया है।गौरतलब है कि जल संसाधन विभाग के ई.ई. के घर ईओडब्लू ने छापेमार कार्रवाई की थी।