Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

जीवन मंत्र: सहज बुद्धि से निर्णय लेकर अपने जीवन को बेहतर व सफल बनाएं

09/12/2019
कई सालों पहले मैं एक #आर्किटेक्ट एवं #ईंजीनियरिंग की फर्म चलाता था . उसमें प्लानिंग व डिज़ाइन सेक्शन में कुछ लोग इंजीनियरिंग ग्रज्युएट होते थे तो कुछ #नचुरल टैलेंटेड. उनमें से एक ने एक दिन मुझसे पूछा कि आप सफलता के लिये किसी ज़्यादा #महत्व देते हैं , #पढ़ाई या टै#लेंट ? कुछ देर तक मैं सोच में पड़ गया . मुझे समझ आया कि पढ़ाई एक निश्चित स्तर की सफलता की गारंटी होती है और टैलेंट भी आदमी की सफलता की राह आसान कर देता है परंतु उसी व्यक्ति की सफलता निश्चित होती है जो वस्तुस्थिति का तुरंत अवलोकन कर #व्यवहारिक #बुद्धि से #तत्काल निर्णय ले लेता है अर्थात जिसे  तुरंत भांपने व उसके अनुसार  बुद्धि का तत्काल उपयोग करना आता हो . मेरे कहने का मतलब है जिसका ऑब्सर्वेशन #अच्छा हो व तुरंत कॉमन सेंस का उपयोग करता हो. वर्षों बाद मुझे अपनी ही वह बात याद आ गई और मैं उसे फिर से प्रस्तुत करने की कोशिश कर रहा हूं . एक बार #एमबीए के प्रतिभागियों का इंटरव्यू चल रहा था . एक प्रतिभागी का नंबर आया तो प्रश्नकर्ता ने पूछा कि या तो तुम चार सरल #सवालों के #जवाब दो या एक कठिन सवाल का जवाब दे दो . प्रतिभागी ने तुरंत कहा , आप कठिन सवालपूछ लें . प्रश्नकर्ता ने पूछा , बताओ पहले मुर्गी आयी या #अंडा ? प्रतिभागी तपाक से बोला , #मुर्गी . प्रश्नकर्ता ने पूछा,विस्तार से बताएं? प्रतिभागी ने कहा, दूसरा कठिन सवाल मत पूछिए . और अपनी तात्कालिक बुद्धि के कारण वहचयनित हो गया. जीवन में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि हमारे पास क्या नहीं है परन्तु हमारे पास जो है ,उसके साथ हम निर्णय लेकर क्या बेहतरी ला सकते हैं . यही सफलता का मूलमंत्र भी है. आजकल लोगों के जीने काअंदाज़ बेहद पेचीदा हो गया है. वे सरलतम परेशानी आने पर भी उसपर इतना ज़ोर देते हैं कि वह जटिल लगने लगती है.हर #गतिविधि में जीतने की चाह ने #अंदर के इंसान को यांत्रिक खिलाड़ी बना दिया है. जबकि सहजता से स्वीकार की हुई हर असफलता आदमी की काबिलियत बढ़ा देता है और सही मौका आने पर स्प्रिंग एक्शन की तरह वह कई गुना तेज़ी से #ऊंचाई हासिल कर सकता  है . किसी भी परिस्थिति का गहनता से #अवलोकन करना और सहज बुद्धि से निर्णय लेना सफल होनेका पहला सूत्र है (ऑब्जरवेशन एवं कॉमन सेन्स ). आज के दौर के सफलतम उद्यमी रतन टाटा ने कहा है कि मैं सहीनिर्णय लेने पर भरोसा नहीं करता बल्कि मैं सहज बुद्धि से निर्णय लेता हूँ और उन्हें सही साबित करने के लिए मेहनतकरता हूँ . हम सब #निर्णय लें फिर उससे बेहतरी लाने का पूरा प्रयास करें. इसी कामना के साथ यह अंक समर्पित....