Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

आखिर ये पत्थर अपने आप कैसे खिसकते हैं? रिसर्च के बाद भी वैज्ञानिक रहस्य से पर्दा नहीं उठ सके

12/09/2021
पूरब टाइम्स। पृथ्वी पर ऐसी कई रहस्यमय जगह हैं, जिनके किस्से कहानियों को आप लोगों ने जरूर सुना होगा। वैज्ञानिक लाख जतन करने के बाद भी इनकी पहेलियों को अब तक सुलझा नहीं पाए हैं। अपने अनोखे और विचित्र पहलुओं को लेकर अक्सर ये स्थान सुर्खियों में रहते हैं। इसी कड़ी में आज हम बात करने वाले हैं अमेरिका के डेथ वैली की। कहा जाता है कि इस रहस्यमय स्थान पर भारी भरकम पत्थर सैकड़ों फीट तक अपने आप खिसककर चलते हैं। आखिर ये पत्थर अपने आप कैसे खिसकते हैं? इसे लेकर कई रिसर्च इस जगह पर हुई हैं, उसके बाद भी इसके रहस्य से पर्दा नहीं उठ सका है। इन्हीं कारणों से देश विदेश से कई पर्यटक इस रहस्यमय जगह को देखने के लिए आते हैं। ये स्थान कैलिफोर्निया के दक्षिण पूर्व में स्थित नेवादा राज्य के पास में स्थित है। ये रहस्यमय स्थान 225 किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है। 

गौरतलब बात ये है कि इन पत्थरों को आज तक किसी ने चलते हुए नहीं देखा है। ये पत्थर खिसकने के बाद एक लंबी रेखा अपने पीछे छोड़ते हैं। उन्हीं रेखाओं के निशानों के बाद ही इन पत्थरों के खिसकने के बारे में पता चलता है।
इन पत्थरों को खिसकने की वजह को लेकर वैज्ञानिकों की अलग अलग थ्योरीज हैं। साल 1972 में इस रहस्य से पर्दा उठाने के लिए वैज्ञानिकों का एक दल इस जगह पर आया। उन्होंने इन पत्थरों के ऊपर करीब 7 सालों तक अध्ययन किया। वैज्ञानिकों ने उस दौरान 317 किलोग्राम के एक पत्थर का विशेष रूप से अध्ययन किया। उनके इस रिसर्च के दौरान वह पत्थर जरा भी नहीं हिला।  

वहीं कुछ सालों के बाद जैसे ही वैज्ञानिक दोबारा उस पत्थर का पता लगाने के लिए वापस वहां पर पहुंचे, तो वो करीब 1 किलोमीटर दूर मिला। इसे देखने के बाद कई वैज्ञानिक हैरान थे। कई दूसरे वैज्ञानिकों के मुताबिक ये पत्थर तेज हवाओं के कारण खिसकते हैं। हालांकि इन पत्थरों के खिसकने की वजह को लेकर रिसर्चर्स एकमत नहीं हैं। 

कुछ लोगों का कहना है कि इन पत्थरों को पारलौकिक शक्तियां खिसकाती हैं। वहीं स्पेन की कम्प्लूटेंस यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स का कहना है कि ऐसा यहां की मिट्टी में मौजूद माइक्रोब्स के कारण होता है। ये माइक्रोब्स मिट्टी को चिकना बना देते हैं। इस कारण पत्थर मिट्टी पर खिसकते हैं। गौरतलब बात है कि इन पत्थरों के रहस्यमय ढंग से खिसकने को लेकर कोई ठोस निष्कर्ष अब तक नहीं निकला है। आखिर ये पत्थर अपनी जगह से क्यों खिसकते हैं? ये आज भी एक रहस्य का विषय बना हुआ है।