Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

इलाज करने का अजीबोगरीब तरीका, मरीज के शरीर पर ही लगा देते हैं आग

09/09/2021
पूरब टाइम्स। आज के समय में विज्ञान ने बहुत ज्यादा तरक्की कर ली है और उन खतरनाक बीमारियों का इलाज भी निकाल लिया है, जो कभी जानलेवा साबित होती थीं। इसी बीच इलाज करने के कई ऐसा मामले भी सामने आते हैं, जो साइंस और टेक्नोलॉजी के इस दौर में बहुत अजीबोगरीब लगते हैं, लेकिन लोग उन तरीकों को आज भी कारगर मानते हैं।
भारत का पड़ोसी देश चीन जो अपनी टेक्नोलॉजी के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। किसी भी चीज का डुप्लीकेट बनाने में चीन सबसे आगे रहता है, लेकिन आज हम चीन की किसी टेक्नोलॉजी के बारे में आपको नहीं बता रहे हैं, बल्कि हम चीन में बीमारी का इलाज करने के एक बेहद अजीबोगरीब तरीके के बारे में बता रहे हैं, जो सभी को हैरान कर रहा है। इस अजीबोगरीब तरीके में मरीज की बॉडी पर अल्कोहल छिड़कते हैं और आग लगा देते हैं।

इस अजीबोगरीब इलाज के तरीके को बांझपन, बदहजमी, कैंसर, तनाव और डिप्रेशन दूर करने के लिए अपनाया जाता है। लोगों का कहना है कि ये इलाज की तरकीब बहुत ज्यादा कारगर है, इसलिए पिछले 100 सालों से अपनाई जा रही है। आग लगाकर इलाज करने की इस अजीबोगरीब तरकीब को फायर थेरेपी कहते हैं। सोशल मीडिया पर भी इस अजीबोगरीब इलाज के तरीके के वीडियो वायरल होते रहते हैं।

इस तरकीब में बीमार इंसान की कमर पर जड़ी बूटियों से बनाकर एक लेप लगाया जाता है। लेप लगाने के बाद उसे तौलिए से ढक कर उस पर पानी और अल्कोहल छिड़कते हैं। अल्कोहल छिड़कने के बाद उस पर आग लगा दी जाती है। कहते हैं कि जड़ी बूटियों का लेप और आग की गर्मी से बीमारी में राहत मिलती है।चीन में इलाज की इस तरकीब को सदियों से अपनाया जा रहा है। इसमें शरीर में ठंड और गर्मी के बीच एक तालमेल बिठाया जाता है, जिससे शरीर को ऊपर से गर्म किया जाता है ताकि अंदर की ठंडक खत्म की जा सके।