Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

वैज्ञानिकों के शोध के अनुसार रोजाना डाइट में ऑयली फिश लेने से जीवनकाल 5 साल लंबा होता है

21/07/2021
पूरब टाइम्स। अच्छी सेहत के लिए हमारे भोजन का पोषक तत्वों से भरपूर होना बेहद जरूरी है। वहीं अगर हमारा आहार ही पोष्टिक नहीं है तो शरीर में कई तरह की नई बीमारियां जन्म ले लेती हैं। हाल ही में हुए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि अगर आहार में ओमेगा-3 ऑयल की कमी हो तो यह स्मोकिंग से ज्यादा जीवन पर खराब प्रभाव डालता है।

दरअसल,  वैज्ञानिकों ने बताया कि स्मोकिंग से आपके जीवन के 4 साल कम हो जाते हैं और वहीं अगर बॉडी में फैटी एसिड (साल्मन और मैकेरल जैसी मछलियां) की कमी हो तो जीवन 5 साल तक कम हो जाता है। 

बाॅडी के लिए क्यों जरूर है  फैटी एसिड
एक स्टडी के मुताबिक, ऑयली मछली में पाया जाने वाला ऑयल हार्ट के लिए अच्छा होता है और खून के थक्के बनने से रोकता है। बॉडी में 8 फीसदी ओमेगा-3 ऑयल का लेवल सबसे ठीक है, सामान्य तौर पर यह लेवल 8 से 4 प्रतिशत के बीच में होना चाहिए।

ओमेगा -3 को आहार में लेने से जीवनकाल 5 साल होता है लंबा
एक विशेषज्ञ द्वारा बताया गया है कि यह दिलचस्प है कि जापान में, जहां औसत ओमेगा -3 इंडेक्स आठ प्रतिशत से ज्यादा है, अपेक्षित जीवन काल संयुक्त राज्य अमेरिका की तुलना में लगभग पांच वर्ष लंबा है, जहां औसत ओमेगा -3 इंडेक्स लगभग पांच फीसदी है, इसलिए ओमेगा -3 इंडेक्स को बदलने वाले आहार को रोजाना डाइट में शामिल करने से जीवन लंबा हो सकता है। 

अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि फैटी एसिड की जांच से मानक जोखिम कारकों के समान मृत्यु दर का अनुमान लगाया जा सकता है। फैटी एसिड रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा चार रेड ब्लड सेल में फैटी एसिड की सांद्रता यानि कि Concentrations में दी गई जानकारी उतनी ही उपयोगी थी जितनी कि कुल मृत्यु दर की संभावना के सम्बन्ध में लिपिड लेवल, ब्लड प्रेशर, स्मोकिंग और मधुमेह की स्थिति में।

शोधकर्ताओं के अनुसार, ओमेगा -3 को रिस्क फैक्टर की तरह ही महत्वपूर्ण माना जाना चाहिए। इस रिस्क फैक्टर को आहार, तंबाकू, शराब और शारीरिक निष्क्रियता जैसे कारकों को बदलकर कम किया जा सकता है। अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि जीवनशैली के विकल्प उन लोगों की पहचान करने में मदद करते हैं जोकि रिस्क में हैं, इसके अलावा यह यह खराब स्वास्थ्य को रोकने एवं मृत्यु में देरी और इलाज कैसे करना है इसका आकलन करने में भी मददगार हो सकता है।