Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

राहगीरों के जान के लिए खतरा बने सड़को पर बैठे मवेशी दुर्घटनाओं को न्योता दे रहा है लेकिन निगम अमला लापता

25/06/2021

सड़कों पर बैठे पशु राहगीरों के लिए खतरा बं गए है 

दुर्ग-भिलाई फॉरलेंन की सड़कों पर घूमते आवारा मवेशी वाहन चालकों व राहगीरों के लिए खतरा बने हुए हैं। यह समस्या शहर की मुख्य सड़कों के साथ ही शहर के भीतरी इलाकों की सबको पर भी बनी हुई है बरसात के कारण सड़कों पर मवेशियों का जमावड़ा बढ़ गया है। मेनरोड, सब्जी बाजार, राष्ट्रीय राजमार्ग समेत कई स्थानों पर पर मवेशियों का जमावड़ा राहगीरों के लिए खतरा बन गया है। इससे दुर्घटना की संभावना बनी हुई है। 

पशुओं को खुला छोड़ देने वालों के विरूद्ध कोई कार्यवाहीं क्यों नहीं कर रहा है निगम प्रशासन 

पूरब टाइम्स ने गुरुवार सुबह को शहर की सड़कों की पड़ताल की, तो नेशनल हाईवे पर मवेशियों का जमावड़ा नजर आया। इधर निगम का मवेशी धर-पकड़ अभियान ठंडे बस्ते में चला गया है। सड़क से मवेशियो को हटाने के लिए निगम प्रशासन द्वारा मुनादी कराई जाती है, लेकिन कार्रवाई सख्ती से नहीं होने के कारण मवेशियों को लोग खुला छोड़ देते हैं। डेयरी संचालक, मालिकों द्वारा मवेशियों को खुले में छोड़ दिया जाता है, जो बाजार-हाट, दुकानों के सामने और सड़कों पर भोजन तलाशते हैं।

दुर्घटनाओं का नियंत्रण करने के आदेश का क्यों नहीं हो रहा पालन:

सड़कों पर मवेशियों के जमावड़े से लगातार बढ़ रही दुर्घटनाओं को देखते हुए न्यायालय के साथ - साथ शासन ने आदेश दिया था कि आवारा मवेशियों को पकड़कर काजी हाउस में डाला जाए, लेकिन निगम प्रशासन की लापरवाही की वजह से इस आदेश पर भी कोई पहल नहीं की जा रही है। इन मवेशियों की वजह से आए दिन कोई न कोई सड़क दुर्घटना हो रही है।

सड़क पर पशुओं को छोड़ने वालों के विरूद्ध दो चार दिन चलाई जाती है मुहीम फिर बंद कर दिया जाता है

शहर में यातायात व्यवस्था बनाने के लिए निगम प्रशासन द्वारा कुछ महीने पहले अभियान चलाकर आवारा मवेशियों को पकड़ा गया था। जिम्मेदार अधिकारियों ने दो-चार दिन तक अभियान चलाया, इसके बाद आवारा मवेशियों को पकड़ने के लिए कोई मुहिम नहीं चलाई जा रही है। शहर के नेशनल हाइवे,बाफना टोल प्लाज़ा,नेहरू नगर,राजेंद्र पार्क,पटेल चौक समेत अन्य चौक-चौराहों पर मवेशियों का जमावड़ा देखने को मिलता है।