Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

राजनांदगांव: सड़कों की मरम्मत के लिए दीवार पर चस्पा किया ज्ञापन

17/06/2021
राजनांदगांव। शहर के गौरव पथ सहित विभिन्ना सड़कों के गड्ढों की मरम्मत को लेकर भाजपा पार्षदों ने महापौर के नाम बुधवार को ज्ञापन सौंपा। करीब डेढ़ दशक पहले बनाए गए गौरव पथ की मरम्मत के बहाने कांग्रेस व भाजपा, दोनों दलों के पार्षद सक्रियता दिखा रहे हैं। पहले भी कई बार मामला उठा, लेकिन कभी फाइल गुम होना या फिर जल जाना बताकर मामले को रफा-दफा कर दिया गया। ऐसे में अब यह मामला किस हद तक जाता है, यह देखने वाली बात होगी।

लगभग 15 वर्ष पूर्व निर्मित शहर के गौरव पथ सहित अन्य सड़कों की मरम्मत को लेकर भारतीय जनता पार्टी के पार्षदों ने नगर निगम के सामने खड़े होकर महापौर और निगम प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वहीं सड़कों के गड्ढों की मरम्मत को लेकर ज्ञापन देने एकत्रित हुए। भाजपा पार्षदों से ज्ञापन लेने जब महापौर हेमा देशमुख नगर निगम नहीं पहुंची तब आक्रोशित पार्षदों ने महापौर कार्यालय की दीवार पर ही ज्ञापन चस्पा कर दिया। गौरव पथ की जर्जर स्थिति को लेकर भारतीय जनता पार्टी के पूर्व नगर निगम अध्यक्ष एवं पार्षद शिव वर्मा ने कहा कि गौरव पथ निर्माण कार्य के बाद उसका मेंटेनेंस ठेकेदार द्वारा किया जाना है, नगर निगम में ठेकेदार की बयाने की राशि भी जमा है, इसके बाद भी गौरव पथ की मरम्मत नहीं करायी जी रहा है।

शहर के गौरव पथ की सड़क जर्जर हो चुकी है, वहीं इस मामले को लेकर मंगलवार को कांग्रेस के पार्षद ऋषि शास्त्री ने सड़क की मरम्मत कराने के मामले में नगर निगम आयुक्त को ज्ञापन सौंपा था। इसके बाद भाजपा ने बुधवार को अपने प्रदर्शन के दौरान कहा कि कांग्रेस की महापौर होने के बाद भी कांग्रेस के पार्षद गौरव पथ की मरम्मत को लेकर आयुक्त को ज्ञापन सौंपा है, जबकि इस सड़क का मरम्मत ठेकेदार से कराया जाना चाहिए।

किसके कार्यकाल में हुआ यह भी देखे भाजपाई

इस मामले को लेकर महापौर हेमा देशमुख ने कहा कि गौरव पथ की गुणवत्ता को लेकर पहले भी सवाल उठे हैं और गौरव पथ का निर्माण किसके कार्यकाल में हुआ यह भी भाजपा को देखना चाहिए। महापौर ने कहा कि पीडब्ल्यूडी द्वारा गौरव पथ का निर्माण कराया गया है। पीडब्ल्यूडी को मरम्मत के लिए कहा जाएगा। वहीं महापौर ने गौरव पथ की गुणवत्ता की जांच को लेकर कमेटी गठित करने की बात भी कही है।

फाइल गुम, फिर जलना बता दिया

गौरव पथ के निर्माण के बाद इसकी गुणवत्ता को लेकर कई बार सवाल भी उठे और गौरव पथ की जांच भी हुई। इसके बाद गौरव पथ निर्माण से संबंधित पूरी फाइल ही गुम हो गई। इस फाइल को लगभग 6-8 वर्ष पूर्व नगर निगम कार्यालय में हुई आगजनी में जल जाना बताया गया। वहीं अब एक बार फिर गौरव पथ की जर्जर स्थिति के बाद इसकी गुणवत्ता को लेकर सवाल उठने लगे हैं।