Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

16 जून से प्रदेश में स्कूल खोले जाने को लेकर सुगबुगाहट शुरू,शिक्षा मंत्री बोले- परिस्थितियां ठीक रही तो लगेंगी क्लासेस

07/06/2021
रायपुर। छत्तीसगढ़ में पिछले एक साल से बंद पड़े स्कूल अब खोले जा सकते हैं। इसे लेकर प्रदेश की सरकार विचार बना रही है। सोमवार को स्कूल खोले जाने के मुद्दे पर मीडिया से बात करते हुए शिक्षा मंत्री प्रेम साय सिंह टेकाम ने कहा कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो 16 जून के बाद स्कूल खोले जा सकते हैं। हम इस पर विचार कर रहे हैं। शिक्षा मंत्री ने स्कूलों को खोलने और वहां हर हाल में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करवाने की प्लानिंग करने अफसरों को कहा है।

16 जून से पहले प्रदेश सरकार की एक अहम बैठक हो सकती है जिसमें यह तय होगा कि अगर प्रदेश में स्कूल खुलते हैं तो किस तरह की गाइडलाइन होगी। शिक्षा मंत्री से दरअसल पत्रकारों ने पूछा था कि कोरोना संक्रमण घट रहा है तो क्या स्कूल खुलने की उम्मीद है। इस सवाल के जवाब में प्रेम साय टेकाम ने कहा कि आशा तो रखनी ही चाहिए आशा के बल पर तो आकाश टिका है। हम स्कूल खोलने पर काम कर रहे हैं।

     बड़ी क्लास के बच्चों को बुलाया जा सकता है
इस साल फरवरी के महीने में स्कूल खुले थे। तब 9वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स को बुलाया गया था। इन स्टूडेंट्स के बचे हुए सिलेबस को पूरा करवाया गया था, परीक्षा की तैयारी करवाई गई थी। इस बार भी अफसर इसी तरह से शुरूआत में बड़ी क्लास के बच्चों को स्कूल बुलाने पर मंथन कर रहे हैं। कोरोना की तीसरी लहर को भी प्रदेश में डर का माहौल है इस बीच शिक्षा विभाग काफी फूंक-फूंककर कदम रख रहा है।

     फीस माफी की मांग फिर से तेज
पिछले साल स्कूल प्रबंधन और पालकों के बीच चला रहा फीस विवाद अब भी जारी है। स्कूल शुरू किए जाने की वजह से अब ये बहस फिर शुरू हो गई है कि बंद पड़े स्कूलों में पूरी फीस वसूलने के मामले में सरकार को फैसला करे। YMS यूथ फाउंडेशन के महेंद्र सिंह होरा ने बताया कि शिक्षा मंत्री को प्राइवेट स्कूलों की फीस में रियायत देने या फीस माफ करने के को लेकर कोई स्थिति साफ करनी चाहिए। विधायक विकाय उपाध्याय ने निजी स्कूलों द्वारा मनमाने फीस वसूली किए जाने के मामले में शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव आलोक शुक्ला से मुलाकात की है। उन्होंने निजी स्कूलों की फीस मामले में नोडल अधिकारी नियुक्त करने की मांग की है।