Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

रेमडेसिविर की अनावश्यक मांग एवं उपयोग, रायपुर सीएचएमओ ने दी कार्रवाई की चेतावनी

23/04/2021
रायपुर पूरब टाइम्स।  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बार-बार कह रहे हैं कि रेमडेसिविर इंजेक्शन केवल अस्पतालों को सप्लाई किया जा रहा है। बावजूद इसके निजी अस्पतालों की पर्ची लेकर मरीजों के परिजन दवा की दुकानों पर भटक रहे हैं। शिकायत है कि निजी अस्पताल ऐसे मरीजों को OPD में रेमडेसिविर की इंजेक्शन लगा रहे हैं जो अस्पताल में भर्ती भी नहीं हैं। रायपुर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सीएचएमओ  ने ऐसे अस्पताल संचालकों को कार्रवाई की चेतावनी दी है।

कोरोना का इलाज कर रहे निजी अस्पताल संचालकों को भेजे पत्र में सीएचएमओ  डॉक्टर मीरा बघेल ने कहा है कि निजी चिकित्सालयों में कोविड-19 उपचार में इजेक्शन रेमडेसिविर की अनावश्यक मांग एवं उपयोग की बात संज्ञान में आई है। यह भी पता चला है कि कोविड-19 मरीजों को OPD में बुलाकर रेमडेसिविर लगाया रहा है। कई मरीजों के रिश्तेदारों को रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए पर्ची लिखकर भेजा जा रहा है। वे लंबी कतारों में खड़े रहते हैं।

ऐसे मरीज जिनका सेचुरेशन 94-95% है, उन्हें भी इंजेक्शन के लिए पर्ची लिखकर भेजा जा रहा है। सीएचएमओ  ने पूछा है कि क्या ऐसे मरीजों को रेमडिसिविर की आवश्यकता है? सीएचएमओ  ने अस्पताल संचालकों से पूछा है कि क्या अस्पताल की पर्ची पर प्रिसक्रिप्शन डॉक्टर द्वारा लिखा जा रहा अथवा कोई भी कर्मचारी वह दवा लिख दे रहा है। सीएचएमओ  ने कहा है, आपके अस्पताल से ऐसी शिकायत आने पर उसकी मान्यता निरस्त कर दी जाएगी।
पर्ची पर पूरी डीटेल मांगी - इस पत्र में सीएचएमओ  ने लिखा कि अगर अस्पताल के पास इंजेक्शन नहीं है तो डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन (हॉस्पिटल पर्ची) में डोज नंबर, मरीज का ऑक्सीजन लेवल का लिखा जाना अनिवार्य होगा। उस पर दवा लिखने वाले डॉक्टर का नाम, सील और कोरोना की जांच रिपोर्ट अवश्य भेजी जाए।
रेमडेसिविर का डाटा रखने का निर्देश- सीएचएमओ  डॉ. मीरा बघेल ने कहा है, रेमडेसिविर इंजेक्शन लगवाने वाले मरीजों का डाटा अवश्य रखा जाए। ऐसा इंजेक्शन का ऑडिट करने के लिए कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी आवश्यकता पड़ने पर इंजेक्शन का मिलान करेंगे।