Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

छत्तीसगढ़ स्टेट पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड कोहका जोन भिलाई के प्राधिकारी क्या मुख्यमंत्री को विषम राजनीतिक मुद्दों का सामना करवाना चाहते है क्या ?

24/10/2020
छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई के कार्यालय पर उंगलियां क्यों उठने लगी हैं ?  यह कोई सुनियोजित मामला है क्या ?
क्या कारण है कि छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन  भिलाई का कार्यालय विवादों को जन्म देता दिखता है ?
जब सामाजिक अंकेक्षण कराया जायेगा तो छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई के कार्यालय की स्थिति क्या होगी ?

पूरब टाइम्स  भिलाई . पिछले दिनों छत्तीसगढ़ स्टेट पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड कोहका जोन भिलाई ने कतिपय लोगों के यहां छापा मारकर  उन लोगों पर आवासीय उपभोग के लिये कनेक्शन लेकर व्यवसायिक उपयोग करने का केस बनाया और उन पर भारी पेनाल्टी भी लगाई . विसंगति वाली बात यह है कि सीएसपीडीसीएल ( सीएसईबी का एक उपक्रम) के अधिकारियों ने अनेक अवैध विद्युत कनेक्शन व अनेक बड़े उपक्रमों को छोड़ कर  दोना पत्तल बनाने वाली एकल महिला को निशाना बनाया  जिससे अन्य महिला स्व सहायता समूहों की कार्यस्थलों पर हड़कम्प मचा हुआ है  . इसे विसंगति ही कहेंगे कि जिन भवनों में  नगर निगम व टाउन प्लानिंग विभाग ने आवासीय प्रयोजन के लिये उपयोग करने की अनुमति दी थी  वहां सीएसपीडीसीएल व्यवसायिक कनेक्शन देकर  अविधिक व्यवसायिक कृत्यों को बढ़ावा दे रहा है. नेहरू नगर , सुपेला व अन्य इतने कितने ही क्षेत्रों में खुद शुतुर्मुर्ग बना यह विभाग अचानक कैसे सक्रिय हुआ ? वह भी महिला के दोना पत्तल बनाने के स्थल पर . यह स्व सहायता महिला समूहों के लिये च्तावनी है या व्यक्तिगत खुन्नस निकाली गई है. एक तरफ प्रदेश सरकार महिलाओं के उत्थान के लिये तमाम प्रयास कर रही है वहं दूसरी तरफ सीएसपीडीसीएल द्वारा इस तरह की कार्यवाहियां , सरकार की नीयत पर भी शंका उत्पन्न कर रही है . पूरब टाइम्स की एक रिपोर्ट .....


आवासीय प्रयोजन के भवनों में व्यवसायिक प्रयोजन का विद्युत कनेशन देने की कार्यवाही करने वाले अधिकारी न्यायलयीन कार्यवाही में अपना पक्ष कैसे रखेंगे ?

आवासीय भवनों में व्यवसायिक गतिविधि करने वाले भवन स्वामी इन दिनों छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई के कार्यालय की भूमिका से भयभीत होकर स्थानीय प्रशासन और नेताओं तक इस मामले को पहुंचा रहे है . विशेषकर जो लोग कोहका भिलाई के कार्यालय से प्रताडि़त हो रहे हैं  उनके अनुसार विद्युत कंपनी का यह कार्यालय ऐसे मामलों में प्रकरण स्थापित करवा रहा है जिसके लिए बहुत बड़ी संख्या में लोग दोषी है . लेकिन कुछ ही लोगों को निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि आवासीय भवन का व्यवसायिक प्रयोजन करने वालों की इस क्षेत्र में बहुत बड़ी संख्या है . बावजूद इसके जिनके विरूद्ध कार्यवाही हो रही है  उनकी अनुपातिक संख्या बहुत कम है . और उनका चयन किस आधार पर हो रहा है ? यह अनुत्तरित प्रश्न है .

क्या अब महिला स्व सहायता समूहों की व्यवसायिक गतिविधियों के लिए व्यवसायिक विद्युत कनेक्शन लेने को मजबूर होंगी उद्यमी महिलाएं ?

विगत दिनों छ.ग.पावर.डी.कंपनी.ली. कोहका जोन भिलाई कार्यालय ने एक ऐसी महिला को अप्रत्यक्ष लक्ष्य बनाकर कार्यवाही की जो अपने रिश्तेदार के परिवार के साथ एक ही आवास परिसर में रहकर दोना- पत्तल का व्यवसाय करके अपने परिवार का गुजर बसर करती है . बताया जा रहा है कि इस महिला का परिवार पूरी तरीके से इस महिला के कमाई पर गुजर बसर करता है . बावजूद इसके इस महिला को आश्रय देने वाले परिवार पर अस्थाई अर्थदंड लगाया गया और प्रकरण कायम किया गया.  इसके बाद , सभी महिला उद्यमी और स्व सहायता समूहों से जुड़ी महिलाएं जो आर्थिक गतिविधि अपने निवास से करती है  उनको अर्थदंड का सामना करने का भय सताने लगा है  . अब यह मामला तूल पकड़ाया दिख रहा है क्योंकि इससे महिला समूह और उद्यमी महिलाएं सीधे प्रभावित होने वाली हैं .

छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई के कार्यालय के क्षेत्र में आने वाले ऐसे कितने उपभोक्ता है  जिनके विरूद्ध जांच कार्यवाही की गई है ?

छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई कार्यालय के अन्तर्गत ऐसी बहुत सी दुकान और कार्यालय है जो आवासीय प्रयोजन की भूमि पर संचालित की जा रही है और जिनको नगर पालिक निगम ने आवासीय प्रयोजन की भवन अनुज्ञा दी है . लेकिन ऐसे आवासीय भवनों में छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई के अधिकारियों ने व्यवसायिक प्रयोजन का विद्युत कनेक्शन दिया गया है . उल्लेखनीय है कि छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई के अधिकारियों को यह पुख्ता तौर पर जानकारी है कि उसके कार्य क्षेत्र में व्यवसायिक प्रयोजन के भूखंड कौन से है क्योंकि विद्युत वितरण व्यवस्था में टाउन प्लानिंग विभाग का अनुदेश सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है . इसलिए जब यह विधिक पहलू न्यायलयीन कार्यवाही में कोई व्यथित पक्षकार उठाएगा तो अर्थदंड अधिरोपित करने वाले अधिकारी का पक्ष क्या होगा इसे सभी जानना चाहते हैं ?


ऐसी कौन - कौन सी जानकारी है जिसे  छ.ग.पावर.डी.कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई के कार्यालय ने नियमानुसार उजागर नहीं किया है ?

सुचना का अधिकार अधिनियम 2005 की धारा 4 के विधि निर्देश का पालन छ.ग.पावर.डी. कंपनी.लि. कोहका जोन भिलाई का कार्यालय कितना करता है इ? सकी जानकारी लेने के लिए इस कार्यालय में आवेदन किया गया है . उल्लेखनीय है कि जब इस आवेदन पर विद्युत विभाग जानकारी देगा तो यह भी स्पष्ट हो जाएगा कि आवासीय भवनों में व्यवसायिक गतिविधि के विद्युत कनेक्शन देने के क्या प्रावधान है और विधिक कार्यवाही में न्यायालय के समक्ष पक्षकार अपना पक्ष इसी के आधार पर प्रस्तुत कर पाएंगे लेकिन वर्तमान स्थिति यह है कि कोहका जोन कार्यालय द्वारा सूचना अधिकार अधिनियम की धारा 4 की जानकारी तक सर्वसाधारण की पहुंच स्थापित करने के लिए क्या कर रहा है  यह अस्पष्ट है ?