Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

सीरम इंस्टीट्यूट ने कराया वैक्सीन के दूसरे और तीसरे फेज के परीक्षण के लिए रजिस्ट्रेशन

20/08/2020
नई दिल्ली। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया  ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रा ज़ेनेका के वैक्सीन कोविशिल्ड के दूसरे और तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल के लिए क्लिनिकल ट्रायबल रजिस्ट्री ऑफ़ इंडिया के साथ रजिस्ट्रेशन कराया है। यह ट्रायल देश के करीब 1600 स्वस्थ इंसानों पर किया जाएगा।
दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) उन 17 साइट्स में से एक है, जिन्हें ट्रायल आयोजित करने के लिए चयनित किया गया है। इन जगहों पर वैक्सीन की सुरक्षा और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया की जांच की जाती है। इसमें सभी भारतीय ही शामिल होते हैँ। अध्ययन 7 महीने की अवधि के लिए योजनाबद्ध है और सीटीआरआई में पहले नामांकन की तारीख 24 अगस्त होगी।

सीरम इंस्टीट्यूट जो वैश्विक स्तर पर उत्पादित और बेची जाने वाली खुराक की संख्या के हिसाब से दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी है, उसने एस्ट्राजेनेका के साथ पार्टनरशिप की है ताकि एस्ट्राजेनेका ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का उत्पादन किया जा सके। तीन अगस्त को भारत के ड्रग्स कंट्रोलर ने देश में कोरोना वैक्सीन के दूसरे और तीसरे ​​परीक्षणों के लिए SII को स्वीकृति प्रदान की।परीक्षण देश भर में 17 अस्पतालों में आयोजित किया जाएगा, और डॉ. प्रसाद कुलकर्णी इसके प्रमुख अन्वेषक होंगे जो इस प्रक्रिया का नेतृत्व करेंगे।
                              17 अस्पतालों में होगा ट्रायल
इन परीक्षणों का संचालन करने वाले अस्पतालों में आंध्र मेडिकल कॉलेज-विशाखापत्तनम, जेएसएस एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन एंड रिसर्च-मैसूर, सेठ जीएस मेडिकल कॉलेज और केईएम अस्पताल-मुंबई, केईएम हॉस्पिटल रिसर्च सेंटर-वडू, बीजे मेडिकल कॉलेज और सैसल्स जनरल हॉस्पिटल, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स)-जोधपुर, राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज-पटना, सामुदायिक चिकित्सा संस्थान-मद्रास, पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च- चंडीगढ़, भारती विद्यापीठ डीम्ड यूनिवर्सिटी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल- पुणे, जहांगीर अस्पताल- पुणे, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान- नई दिल्ली, आईसीएमआर- क्षेत्रीय चिकित्सा अनुसंधान केंद्र, गोरखपुर, श्री रामचंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ हायर एजुकेशन एंड रिसर्च- चेन्नई, टीएन मेडिकल कॉलेज और बीवाईएल नायर अस्पताल- मुंबई , महात्मा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान, सेवाग्राम, गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज-नागपुर शामिल हैं।

हालांकि, अस्पताल अनुसंधान केंद्र आचार समिति- पुणे को छोड़कर बाकी 16 अस्पतालों के लिए आचार समिति की मंजूरी अभी भी प्रक्रियाधीन है। भारत में किसी भी परीक्षण को शुरू करने के लिए संस्थान आचार समिति की मंजूरी ले पड़ती है।