Poorabtimes

जिसे सब छुपाते है उसे हम छापते है



Detail

कोरोना के बीच बच्‍चों पर हो रहा एक दूसरी जानलेवा बीमारी का हमला

15/05/2020
नई दिल्‍ली। पूरी दुनिया जहां अभी तक जानलेवा कोरोना वायरस से निजात नहीं पा सकी है कि वहीं कुछ देशों में एक और जानलेवा वायरस के बच्‍चों पर हो रहे हमले ने डॉक्‍टरों को परेशान कर दिया है। अमेरिका समेत ब्रिटेन में ऐसे करीब 200 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं जिनमें बच्‍चों के अंदर इस तरह की जानलेवा बीमारी का पता लगा है। अमेरिका में इसकी वजह से अब तक पांच बच्‍चों की जान तक चली गई है। वहीं ब्रिटेन में भी एक 14 वर्षीय किशोर की जान इसकी वजह से चली गई है। केले अमेरिका में ही ऐसे करीब 102 मामले सामने आ चुके हैं।
                अमेरिका दुनिया में कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित देश
आपको बता दें कि अमेरिका दुनिया में कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित देश है। इसके मरीज ही नहीं बल्कि इससे होने वाली मौतों के मामले में भी अमेरिका पहले नंबर पर है। यहां पर कोरोना की दवा बनाने को लेकर डॉक्‍टर रात-दिन एक किए हुए हैं। इसके अलावा कुछ दवाइयों का क्‍लीनिकल ट्रायल भी शुरू कर दिया गया है लेकिन इनका रिजल्‍ट आने और इन्‍हें आम लोगों तक पहुंचने में डेढ़ वर्ष तक का समय लग सकता है। ऐसे में डॉक्‍टरों के सामने बच्‍चों को ही रही जानलेवा बीमारी से हर कोई परेशान है।
                                    सावधान रहें पेरेंट्स
यॉर्क के गवर्नर कुओमो के मुताबिक देश के 14 राज्‍यों में डॉक्‍टर बच्‍चों में हो रही ऐसी बीमारी की जांच करने में जुटे हैं जिसका संबंध कोरोना वायरस से हो सकता है। उन्‍होंने पेरेंट्स को भी इस बीमारी के प्रति सजग रहने और कोई भी लक्षण दिखाई देने पर तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करने की अपील भी की है।
                                कावासाकी डिजीज के लक्षण 
आपको बता दें कि इस तरह के मामले की शुरुआत कुछ समय पहले कनाडा से हुई थी। वहां पर कोरोना से पीड़ित बच्‍चों में इस तरह के लक्षण सामने आए थे जो इंफ्लेमेटरी डिजीज या कावासाकी डिजीज शॉक सिंड्रोम से मिलते जुलते हैं। डॉक्‍टरों के मुताबिक ये काफी गंभीर बीमारी होती है। इसमें बच्‍चों के शरीर पर लाल रंग के चकत्‍ते उभर आते हैं और आंखें लाल हो जाती हैं। इसके अलावा पेट में तेज दर्द के साथ बुखार, गले की ग्‍लैंड्स में सूजन और होंठों के सूखकर फट जाने जैसे लक्षण भी इसमें शामिल हैं। 
                            16 वर्ष तक के बच्‍चों में लक्षण 
यूं तो ये बीमारी 5 वर्ष या इससे कम बच्‍चों को अपनी चपेट मे लेती है। लेकिन वर्तमान में इस तरह के लक्षण 16 वर्ष के किशोरों में सामने आ रहे हैं। सीबीएस न्‍यूज ने डॉक्‍टरों के हवाले से लिखा है कि वायरल इंफेक्‍शन होने पर भी ये बीमारी बच्‍चों को घेर सकती है। कुओमो के मुताबिक उनके मुताबिक अमेरिका के दूसरे राज्‍यों में भी इसको लेकर कवायद शुरू हो गई है ताकि इससे लड़ने के लिए एक राष्ट्रीय मानदंड तैयार किए जा सकें।
                                   क्‍या होता है इंटुबैशन
अमेरिका में अब तक सामने आ चुके ऐसे मरीजों में से करीब 71 फीसद को आइसीयू, 19 फीसद को इंटुबैशन में रखा गया है। इस प्रक्रिया में मरीज के शरीर में एक नली डाली जाती है। इसका मकसद मरीज को दवाई देने के लिए शरीर के अंदर हवा का मार्ग साफ करना होता है। इस नली को डालने से पहले मरीज को एनेसथीसिया दिया जाता है जिससे मरीज को इस दौरान होने वाली पीड़ा महसूस नहीं होती। ये प्रक्रिया अकसर गंभीर रोगियों को बचाने के लिए अपनाई जाती है।